वेबसाईट का निर्माण, प्रबंधन व विकास, भाग-7; Website creation, management and development, part-7

वेबसाईट का निर्माण, प्रबंधन व विकास, भाग-7 (please browse down or click here to view this post in English)

डुप्लीकेट कंटेंट के लिए गूगल पेनल्टी लगा सकता है। यदि वेब पर कोई कंटेंट कोपी-पेस्ट किया गया / बिलकुल एक जैसा हो, तो उसे डुप्लीकेट कंटेंट कहा जाता है। इससे बचने का उपाय है कि पसंद किए गए कंटेंट का लिंक ही अपनी वेबसाईट में डालें, कंटेंट नहीं। इससे पाठक कंटेंट तक सुरक्षित रूप से पहुँच जाते हैं। इसी तरह, कभी भी किसी पब्लिश्ड पोस्ट को डिलीट न करें। पोस्ट को डिलीट करने से ब्रोकन लिंक बन जाता है, जिससे वेबसाईट डिफेम हो जाती है। ब्रोकन लिंक वह है, जिस पर क्लिक करने से पेज नहीं खुलता। इससे बचने का तरीका यह है कि पब्लिश की गई पोस्ट के यूआरएल से छेड़छाड़ न करें। इसी तरह अतिथि-लेखक को भी यह स्पष्ट कर दें कि उनका लेख वापिस नहीं होगा, और न ही वे वेब पर उसे अन्य स्थान पर डाल सकते हैं, डुप्लीकेट कंटेंट से बचने के लिए। संभवतः वे उसे फेसबुक पर अपने मित्रों तक सीमित तो रख ही सकते हैं। नई पोस्ट पब्लिश करने के बाद कुछ दिनों तक वेबसाईट पर ट्रेफिक बढ़ जाती है, व पोस्ट के शेयर भी बढ़ जाते हैं। फिर एकदम से ट्रेफिक डाऊन आ जाती है, और शेयर भी रुक जाते हैं। यह गूगल व फेसबुक के रेंकिंग अलोगरिथम के कारण होता है। वेबसाईट पर अधिक परिवर्तन किए जाने पर गूगल अपने सर्च इंजन से एकदम से व थोड़े समय के लिए ट्रेफिक को बढ़ा देता है। वह पाठकों का रिस्पोंस टेस्ट कर रहा होता है, ताकि वेबसाईट को रेंकिंग दी जा सके।

अपने वेबसाईट प्लान के एक्सपायर होने से 1-2 महीने पहले ही रिचार्ज कर लें। यदि आखिरी समय पर रिचार्ज में दिक्कत आने से डोमेन एक्सपायर हो जाए, तो बहुत दिक्कतें आती हैं। वैसे वेबसाईट का पर्सनल प्लान प्रीमियम प्लान से बेहतर होता है, क्योंकि उसमें वेबसाईट साधारण होती है, जिससे उसमें कम कन्फ्यूजन होता है, वह जल्दी से लोड हो जाती है, और उस पर ट्रेफिक भी बढ़ जाती है। फेसबुक पर भी गूगल की तरह ही रेंकिंग अलोगरिथम चलती है। जिस पोस्ट को जितने अधिक रिएक्शन (शेयर, लाईक, कमेन्ट) मिलते हैं, वह उतनी ही फैलती है। शुरू में ओरगेनिक ट्रेफिक (बिना पेमेंट/एड/बूस्ट की) कम होती है, पर धीरे-2 बढ़ जाती है, यदि पोस्ट में दम हो, तो। पोस्ट को लिखने के बाद एक दिन के लिए 40 रुपए न्यूनतम डालकर, उसका बूस्ट करके देख लेना चाहिए। यदि उसे अच्छा रिएक्शन मिले, तो बूस्ट को बढ़ाया जा सकता है, अन्यथा पैसा खर्च करने से कोई विशेष लाभ नहीं। वैसे असफल मामलों में वियू तो मिल जाते हैं, पर रिएक्शन नहीं मिलते। रिएक्शन ही तो पोस्ट को पंख लगाते हैं। कई बार केवल एकमात्र अच्छी पोस्ट भी वेबसाईट को चार चाँद लगा देती है। सफल बूस्ट के बाद ऑर्गेनिक ट्रेफिक भी बढ़ जाती है। अच्छी पोस्ट तो बिना बूस्ट के भी फैल जाती है, पर बहुत ज्यादा समय ले सकती है।

यदि आपने इस लेख/पोस्ट को पसंद किया तो कृपया इसे शेयर करें, इस वार्तालाप/ब्लॉग को अनुसृत/फॉलो करें, व साथ में अपना विद्युतसंवाद पता/ई-मेल एड्रेस भी दर्ज करें, ताकि इस ब्लॉग के सभी नए लेख एकदम से सीधे आपतक पहुंच सकें। कमेन्ट सैक्शन में अपनी राय जाहिर करना न भूलें।

Website creation, management and development, part-7

 

Google can penalize duplicate content. If any content on the web is copy-pasted / is exactly the same, then it is called duplicate content. The only way to avoid this is to insert a link to the liked content on your website, not copying the content. This allows readers to access content safely. Similarly, never delete a published post. Deleting a post creates a Broken Link, which causes the Website defamed. Broken link is that, clicking on which page does not open. The way to avoid this is not to tamper with the post URL of published post. Similarly, make the guest-writers clear that their article will not be returned, nor can they place it on another place on the Web, to avoid duplicate content. Maybe they can keep it limited to Facebook friends. After publishing a new post, traffic increases on the website for a few days, and post shares also increase. Then suddenly traffic goes down, and the shares also stop. This is due to Google’s and Facebook’s ranking algorithm. When more changes are made to the website, Google extends traffic from its search engine for a short time. Google is testing the readers’ responses so that the website can be ranked.

Recharge your website plan 1-2 months prior to expiry. If the domain expires at the last minute due to a problem with recharge, then there are many problems. The personal plan of the website is better than the premium plan, because the website is simple, thereby it has less confusion, and it loads quickly, and also increases traffic on it. Like Google, Ranking algorithm runs on Facebook too. The more reactions (shares, likes, comments) the post gets, the more it spreads. Initially, organic traffic (without payment / ad / boost) is low, but gradually increases, if the post is wonderful.  After publishing the post, test it by putting a minimum of 40 rupees for one day. That way, it should be test-boosted and looked after. If that gets a good reaction, boost can be increased; otherwise, the money spent does not have any special advantage. Well, in the case of failed cases, the views are found enough, but the reaction is not found. Reactions put wings to the post. Many times, only a single good post lets the website enjoy the stardom. After successful boost, organic traffic also increases. Good post can also spread without boost, but it can take a lot of time.

If you liked this post then please share it, and follow this blog while providing your e-mail address, so that all new posts of this blog could reach to you immediately via your e-mail. Do not forget to express your opinion in the comments section.

Published by

demystifyingkundalini by Premyogi vajra- प्रेमयोगी वज्र-कृत कुण्डलिनी-रहस्योद्घाटन

I am as natural as air and water. I take in hand whatever is there to work hard and make a merry. I am fond of Yoga, Tantra, Music and Cinema. मैं हवा और पानी की तरह प्राकृतिक हूं। मैं कड़ी मेहनत करने और रंगरलियाँ मनाने के लिए जो कुछ भी काम देखता हूँ, उसे हाथ में ले लेता हूं। मुझे योग, तंत्र, संगीत और सिनेमा का शौक है।

One thought on “वेबसाईट का निर्माण, प्रबंधन व विकास, भाग-7; Website creation, management and development, part-7”

  1. Just learning about interlinking rather than putting everything into two different categories. Also don’t have the same tags and categories.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s