My post

कुंडलिनी योगसाधना की सर्वश्रेष्ठता सिद्ध करने के लिए ही शिवपुराण में शिव-केतकी की कथा के रूपक का वर्णन आता है

दोस्तों, आओ थोड़ा कुंडलिनी ध्यान कर लेते हैं। पिछली पोस्ट में मैंने जो शिव-केतकी की कथा कही थी, वह पुराणों में लिखित रूपकों का एक उत्कृष्ट उदाहरण है। पुराण ऐसे रूपकों से भरे हुए हैं। रूपकों की सहायता से प्रस्तुत विषय अच्छी तरह से समझ में आ जाता है, और अच्छी तरह से याद रहता है। अधिकांश आध्यात्मिक ज्ञान मन की सीमा से बाहर होता है, और प्रत्यक्ष अनुभव की वस्तु है। इसलिए उसे रूपकों में ढालकर मन के दायरे में लाया जाता है। 

पूर्वोक्त प्रकाशमान स्तंभ के ओर-छोर की खोज करने के लिए ब्रह्मा ऊपर की ओर और भगवान विष्णु नीचे की ओर भागे थे

पूर्वोक्त कथा में हमने विष्णु को ऊपर की ओर तथा ब्रह्मा को नीचे की ओर जाते दिखाया था। पर वास्तविकता इसके विपरीत थी। वैसे इससे कोई ज्यादा फर्क नहीं पड़ता। रूपकों को हम किसी भी तरफ को ढाल सकते हैं। सत्य का अनुभव तो वही रहता है। रूपक सत्य को नहीं बदल सकते। रूपकों का अपना कोई गणित नहीं होता। रूपक तो केवल सत्य को समझाने के लिए बनाए गए होते हैं। रूपक की इस विपरीत स्थिति में हम सत्य के अनुभव को निम्नलिखित तरीक़े से ढाल सकते हैं। ब्रह्मा प्रकार के लोग क्योंकि अंधाधुंध निर्माण कार्य करवाते हैं, इसलिए वे अपने सकाम कर्मों के फलस्वरूप विभिन्न उच्च लोकों को प्राप्त करते हैं। वे सहस्रार रूपी परम लोक को प्राप्त नहीं करते, क्योंकि वे जगत के प्रति आसक्त होते हैं। इसलिए वे कुंडलिनी योगसाधना नहीं कर पाते। यदि करते हैं, तो वह शीघ्र फलदायी नहीं होती। बाकि तो पूर्वोक्त रूपक में सब ठीक है। इसी तरह, विष्णु प्रकार के लोग नम्रता के, गहन अन्वेषण के, और ज्ञान चिंतन के प्रतीक होते हैं। वे नीचे के लोकों में रहने वाले दीन दुखी लोगों की सेवा में जुट जाते हैं। उनमें भी जगत के पालन और रक्षण का अहंकार आ जाता है। फिर भी वे अपनी झूठी शेखी नहीं बघारते, और न ही अपने प्रभाव का ज्यादा ढिंढोरा पीटते हैं। इसलिए उन्हें नीचे के लोकों या चक्रों में जाने वाला बताया गया है। इसी कारण से उनकी भी कुंडलिनी योग साधना आसानी से सफल नहीं होती। बाकि तो रूपक में सब ठीक ही है। असली तांत्रिक कुंडलिनी योगी तो भगवान शिव की तरह मस्तमौले होते हैं। उन्हें दुनियादारी का कोई फिक्र-फाका नहीं होता। वे अपनी कुंडलिनी के साथ मस्त और आनन्दमग्न होते हैं। वे तांत्रिक साधना से बढ़ाई गई अपनी एनर्जी को दुनियादारी में बर्बाद न करके उससे अपनी कुंडलिनी को जागृत करते हैं। वे ज्यादा पाने की चाहत में नहीं भागते। जो उन्हें मिल जाता है, उसी में संतुष्ट हो जाते हैं। भगवान शिव के पास भी एक बाघम्बर, एक मृगचर्म, एक त्रिशूल, एक सर्प, एक बैल और पार्वती माता के सिवाय कुछ नहीं होता। वे इन्हीं में खुश रहते हुए गहन व आनन्दमयी ध्यान साधना में डूबे रहते हैं।

केतकी का पुष्प ऐसे लोगों का प्रतीक है, जो भगवान के साथ रहकर भी उसे नहीं पहचानते

कथा में आता है कि केतकी का सफेद पुष्प भगवान शिव के मस्तक से नीचे गिरा था, पर वह भी उस ज्योति स्तंभ का आदि-अंत नहीं जानता था। केतकी की तरह साफ-सुथरी छवि वाले लोग भी उन पुजारियों की तरह हैं, जो लगातार मन्दिरों में रहकर भी भगवान को नहीं जानते। आम जनता उन पर विश्वास करती है, इसलिए ब्रह्मा प्रकार के लोग इस बात का नाजायज फायदा उठाते हैं। वे पैसे के दम पर उनसे अपना गुणगान करवाते हैं, और जतवाते हैं कि वे सबकुछ अर्थात भगवान को जानते हैं। बाकी तो रूपक में सब वैसा ही है।

Kundalini yoga meditation is proved supreme through the description of the metaphor of the legend of Shiva-Ketaki flower in the Shiv Purana in the best way

Friends, let’s meditate Kundalini a little bit. The Shiva-Ketaki story I had told in the previous post is a classic example of metaphors written in the Puranas. The Puranas are full of such metaphors. The subject presented with the help of metaphors is well understood, and well remembered. Most spiritual knowledge is outside the limits of the mind, and is the object of direct experience. Therefore, it is brought into the realm of mind by metaphors.

Brahma ran upwards and Lord Vishnu ran downwards to search for the ends of the aforesaid light pillar

In the aforesaid story we showed Vishnu moving upwards and Brahma going downwards. But the reality was the opposite. Well it doesn’t matter much. We can adapt metaphors to either side. The experience of truth remains the same. Metaphors cannot change the truth. Metaphors have no mathematics of their own. Metaphors are only made to explain the truth. In this contrasting position of metaphor we can mold the experience of truth in the following way. People of Brahma type because they get indiscriminate construction work done, so they get different higher realms as a result of their deeds. They do not attain the ultimate world like Sahasrara chakra, because they are enamored of the world. Therefore, they are unable to do Kundalini Yogasadhana. If they do, it is not quick fruitful. The rest is all right in the metaphor aforesaid. Similarly, Vishnu types symbolize humility, deep exploration, and contemplation of knowledge. They engage in the service of the oppressed people living in the lower realms. In them also comes the ego of nourishing and protecting the world. Yet they do not boast about their false bravado, nor do they beat their influence too much. Therefore he is said to be going into the lower worlds or lower chakras. For this reason, his Kundalini Yoga practice also does not succeed easily. The rest is all right in the metaphor.The real Tantric Kundalini Yogis are just like Lord Shiva. They have no concern about worldliness. They are blissful and joyful with their Kundalini. They awaken their Kundalini by not wasting their energy enhanced by tantric practice in the world. They do not run into wanting to get more. They get satisfied in what they get. Lord Shiva also has nothing except a tiger skin, a tiger carpet, a trident, a snake, a bull and Parvati Mata. He remains immersed in deep and joyful meditation while remaining happy in those things what he has naturally.

The flower of Ketaki is a symbol of people who do not recognize God even when they are with him

It is mentioned in the story that the white flower of Ketaki fell from the forehead of Lord Shiva, but he also did not know the beginning and end of that piller flame. People with a clean image like Ketaki are also like priests, who do not know God even after constantly staying in temples. The general public believes in them, so people of Brahma type take this advantage illegally. They make them sing their praises on the basis of money, and show that they know everything, that is, God. The rest is the same in the metaphor.

Kundalini is the main theme of Hindu Puranas: the story of Shiva and Ketki flower

Friends, in the previous post I had told about a story of Shivpuran (a Hindu spiritual and metaphorical mythology), which is the basis of the mystery of Tantra Shastra. It is called the story of Ketki flower. In this post I will explain that story in depth.

What is story of Ketki flower

According to Shivpuran, once there was a quarrel between Lord Brahma and Lord Vishnu. Lord Brahma said that he has created the whole world, so he is the greatest. On the other hand, Lord Vishnu started saying that he is the one who maintains and protects the whole world, so he is the greatest. When their quarrel caused uproar, an astrological column appeared between them. There was a voice from sky that the one who will first find its ends, is the biggest. Lord Vishnu walked upwards, and Lord Brahma went downwards. But both could not find the end of it and returned empty handed. Vishnu narrated the true story of his failure to Brahma, but Brahma started lying to Lord Vishnu. Brahma said that he came back after touching its end. Brahma presented the white flower of Ketaki as a witness. Then Lord Shiva appeared there, angry with this lie. He said that he is the eldest and no one other than him has known its beginning and end. Angered by Ketki’s lies, Shiva cursed him that he would never be included in their worship. Together, Brahma was also cursed that he would not have a temple anywhere, nor would he be worshiped.

Tantric Mystery of Shiva-Ketaki Story

Brahma and Ketki flowers symbolize tantric subject

In fact the above narrative is metaphoric, and is pointing towards the excellency of Kundalini yoga over all. Brahma is the symbol of those who are damaging nature by indiscriminate construction work. Businessmen, politicians and fake religious leaders who use egoism are that type people. People who perform religious rituals like Rajoguni Yajna etc. are also included in this. Arrogance arises in them, and they start thinking of themselves as the greatest. They have no shortage of funds, so they buy people and journalists with respectable and clean image in the society. The white flower of Ketaki is a symbol of such people. They make such people sing their full glory, and ignore the real God and become God themselves. That is why insidious people with such clean and white image could not please Lord Shiva. To make them happy, one has to be naive like a child. That is why Shiva is also called Bholenath or Bhole Baba. Tantriks are also naive. The above people with Brahma-like image also do not get true respect from people. Out of fear of his influence, people give him false respect. Just as Lord Brahma searches for the lower end of the pillar, similarly that type people have more inclination towards the bottom, that is, Tamoguna. Tamogun may express as uncontrolled consumption of alcohol, meat, etc. They are Rajoguni just like Brahma. Rajoguna is more inclined towards Tamogun. They reach to the very lower realms or chakras, but they do not reach the lowest world, that is, the Muladhar Chakra. This simply means that they do not wake up Kundalini on the Muladhara Chakra. If the Kundalini is awakened even on the mooladhara chakra, it goes straight up to Sahasrara, penetrating all the chakras or realms, and awakens there too. But only tantric people can do this, not ordinary people.

Lord Narayana is the symbol of public servants and donators

Some people of the society are directly connected to the service of the public. Among them, servants and donators are the main ones. People who perform sattvic rituals etc. are also included in these. People doing many types of mental meditation practices are also like this. Although they are naive, they still cannot find the end of the astrological pillar. They move upwards on the pillar, because they are Sattvaguni. There are no defects of mind inside them. Ego is also less in them. They go to very high abodes or chakras, but do not reach the highest abode or sahasrara. This means that they too cannot awaken Kundalini. Then Shiva said that he only knows this. Together he said that he is the biggest. It simply means that only the tantric devotees of Shiva are able to awaken their Kundalini.

Jyotirmaya or luminous Pillar is symbol of Sushumna channel and different abodes of different chakras

In fact, the whole world is inhabited inside our own human body, according to “Yatpinde Tatbrahmande”. The same has been proved scientifically in the book in Hindi “shareervigyan darshan – ek adhunik Kundalini Tantra (ek yogi ki premkatha)”. The various upper and lower abodes which are said in the story are the chakras located in the backbone of our body. The light pillar is the spinal cord. It is also in the form of a shining sensation. It passes from Muladhara Chakra i.e. the lowest abode to Sahasrar Chakra i.e. the highest lok or abode. Many types of abodes i.e. Chakra come in between. Its short form is Linga or lingam or Vajra. That is the most important part of that pillar, because the light emanating column is produced there.

कुंडलिनी ही हिंदू पुराणों की सर्वप्रमुख विषयवस्तु है: शिव व केतकी के फूल की कहानी

दोस्तों, पिछली पोस्ट में मैंने शिवपुराण की एक कथा के बारे में बताया था, जो कि तंत्रशास्त्र के रहस्य का आधारबिंदु है। उसे केतकी के फूल की कहानी कहते हैं। इस पोस्ट में मैं उस कहानी की गहराई से व्याख्या करूँगा।

क्या है केतकी के फूल की कहानी

शिवपुराण के अनुसार एक बार भगवान ब्रह्मा और भगवान विष्णु के बीच में झगड़ा हो गया था। भगवान ब्रह्मा कहने लगे कि उन्होंने सारे संसार का निर्माण किया है, इसलिए वे ही सबसे बड़े हैं। दूसरी ओर, भगवान विष्णु कहने लगे कि वे ही सारे संसार का पालन और रक्षण करते हैं, इसलिए वे ही सबसे बड़े हैं। जब उनके झगड़े से चारों ओर उथल-पुथल मच गयी, तब उन दोनों के बीच में एक ज्योतिर्मय स्तंभ प्रकट हुआ। आकाशवाणी से आवाज हुई कि जो सबसे पहले इसके ओर-छोर का पता लगाएगा, वही सबसे बड़ा है। भगवान विष्णु ऊपर की तरफ चल पड़े, और भगवान ब्रह्मा नीचे की ओर। परंतु दोनों ही उसके छोर का पता नहीं लगा पाए और खाली हाथ वापिस लौट आए। विष्णु ने अपनी असफलता की सच्ची कहानी ब्रह्मा को बयान कर दी, परंतु ब्रह्मा भगवान विष्णु से झूठ बोलने लगे। ब्रह्मा ने कहा कि वे उसके छोर को छूकर वापिस आए थे। ब्रह्मा ने केतकी के सफेद फूल को साक्षी के रूप में प्रस्तुत किया। तभी इस झूठ से नाराज होकर भगवान शिव वहाँ प्रकट हो गए। उन्होंने कहा कि वे ही सबसे बड़े हैं तथा उनके सिवाय कोई दूसरा इसके आदि-अंत को नहीं जान सका है। केतकी के झूठ से नाराज होकर शिव ने उसको शाप दिया कि वह कभी उनकी पूजा में शामिल नहीं किया जाएगा। साथ में, ब्रह्मा को भी शाप दिया कि कहीं भी उनका मंदिर नहीं होगा, और न ही उनकी पूजा की जाएगी।

शिव-केतकी की कहानी का तांत्रिक रहस्य

ब्रह्मा और केतकी के फूल किसके प्रतीक हैं

वास्तव में उपरोक्त कथा मैटाफोरिक है, और कुंडलिनी योग की सर्वश्रेष्ठता की ओर इशारा कर रही है। ब्रह्मा उन लोगों का प्रतीक है, जो अंधाधुंध निर्माणकार्य से प्रकृति को नुकसान पहुंचा रहे हैं। अहंकार का सहारा लेने वाले बिजनेसमैन, नेता और नकली धर्मगुरु इसी प्रकार के लोग होते हैं। रजोगुणी यज्ञ आदि धार्मिक अनुष्ठान करवाने वाले लोग भी इनमें शामिल हैं। उनके अंदर अहंकार पैदा हो जाता है, और वे अपने आप को सबसे बड़ा समझने लगते हैं। उनके पास धन की कोई कमी नहीं होती, इसलिए वे समाज के प्रतिष्ठित व साफ-सुथरी छवि वाले लोगों को और पत्रकारों को खरीद लेते हैं। केतकी का सफेद फूल ऐसे ही लोगों का परिचायक है। वे ऐसे लोगों से अपना भरपूर गुणगान करवाते हैं, और असली भगवान को अनदेखा करके खुद भगवान बन बैठते हैं। इसीलिए ऐसी साफ सुथरी व सफेद छवि वाले कपटी लोग भगवान शिव को प्रसन्न नहीं कर पाते। उन्हें प्रसन्न करने के लिए तो बच्चे की तरह भोले बनना पड़ता है। तभी तो शिव को भोलेनाथ या भोले बाबा भी कहते हैं। तांत्रिक भी भोले ही होते हैं। ब्रह्मा जैसी छवि वाले उपरोक्त लोग भी लोगों से सच्चा सम्मान नहीं प्राप्त कर पाते। उनके प्रभाव के डर से ही लोग उन्हें झूठा सम्मान देते हैं। जैसे भगवान ब्रह्मा स्तंभ का निचला छोर ढूंढते हैं, वैसे ही उनकी तरह के लोगों का झुकाव भी नीचे अर्थात तमोगुण की तरफ ज्यादा होता है। तमोगुण मदिरा, माँस आदि के अनियंत्रित उपभोग के रूप में हो सकता है। वे ब्रह्मा की तरह ही रजोगुणी होते हैं। रजोगुण का झुकाव तमोगुण की तरफ ज्यादा होता है। वे बहुत नीचे के लोकों या चक्रों तक पहुंच जाते हैं, पर सबसे नीचे के लोक अर्थात मूलाधार चक्र तक नहीं पहुंच पाते। इसका सीधा सा अर्थ है कि वे मूलाधार चक्र पर कुंडलिनी को जगा नहीं पाते। यदि मूलाधार चक्र पर भी कुंडलिनी जागृत हो जाए, तो वह सभी चक्रों या लोकों को भेदते हुए सीधी सहस्रार में चली जाती है, और वहाँ भी जागृत हो जाती है। पर ऐसा तांत्रिक लोग ही कर सकते हैं, साधारण लोग नहीं।

भगवान नारायण सेवादारों व दानवीरों के प्रतीक हैं

समाज के कुछ लोग जनता की सेवा से सीधे जुड़े होते हैं। उनमें सेवादार और दानवीर मुख्य होते हैं। सात्विक धर्म-कर्म आदि करने वाले लोग भी इनमें शामिल हैं। अनेक प्रकार की मानसिक साधनाएं करने वाले लोग भी ऐसे ही होते हैं। हालाँकि वे भोले होते हैं, पर फिर भी वे ज्योतिर्मय स्तंभ का छोर नहीं ढूंढ पाते। वे स्तंभ पर ऊपर की ओर जाते हैं, क्योंकि वे सत्त्वगुणी होते हैं। उनके अंदर मन के दोष नहीं होते। अहंकार भी उनमें कम होता है। वे काफी ऊपर के लोकों या चक्रों तक चले जाते हैं, पर सर्वोच्च लोक या सहस्रार तक नहीं पहुंच पाते। इसका अर्थ है कि वे भी कुंडलिनी को जागृत नहीं कर पाते। फिर शिव ने कहा कि वे ही इसे जानते हैं। साथ में कहा कि इसलिए वे ही सबसे बड़े हैं। इसका सीधा सा अर्थ है कि शिवभक्त तांत्रिक ही अपनी कुंडलिनी को जागृत कर पाते हैं।

ज्योतिर्मय स्तंभ सुषुम्ना नाड़ी का और विभिन्न लोक विभिन्न चक्रों के प्रतीक हैं

वास्तव में सारा संसार हमारे अपने मनुष्य शरीर में बसा हुआ है, “यतपिण्डे तत्ब्रह्मांडे” के अनुसार। ऐसा ही “शरीरविज्ञान दर्शन- एक आधुनिक कुंडलिनी तंत्र (एक योगी की प्रेमकथा)” पुस्तक में भी वैज्ञानिक रूप से सिद्ध किया गया है। जो कथा में विभिन्न ऊपरी और निचले लोक कहे गए हैं, वे हमारे शरीर की रीढ़ की हड्डी में स्थित चक्र ही हैं। जो प्रकाशमय स्तम्भ है, वह सुषुम्ना नाड़ी है। वह भी चमकदार संवेदना के रूप में होती है। वह मूलाधार चक्र से अर्थात सबसे निचले लोक से सहस्रार चक्र अर्थात सबसे ऊपर के लोक तक गुजरती है। बीच में अनेक प्रकार के लोक अर्थात चक्र आते हैं। उसका लघु रूप लिंग या वज्र है। वही उस स्तंभ का सबसे प्रमुख भाग होता है, क्योंकि वहीँ से प्रकाशमय संवेदना स्तंभ उत्पन्न होता है।

Kundalini awakening needs Linga to be considered superior to idol as per Lord Shiva

It is to certify that we all under this website don’t endorse or oppose any religion. We only promote scientific and humane study of religion. This website is tantric in nature and should not be misunderstood or misinterpreted. Practicing its methods without proper knowledge and qualification may prove harmful for which the website doesn’t hold any responsibility.

This explains the so-called supreme tantric nature of Lord Shiva. He considers his linga as his formless form and his idol as form full form. The linga is a short form of a huge pillar that connects the dark underworlds to the superior cosmic worlds. Brahma and Vishnu could not find its beginning and ending. Similarly, linga also connects Muladhara with Sahasrara. The whole mystery of sexual tantra is hidden in this story of Shiv Purana. If a direct focus is placed on the idol of Shiva or the image of Shiva in the mind, it will not be very effective. But if the image of Shiva on the Vajra is meditated, then it will reach directly into the brain or Sahasrara, and in comparison there it will remain very effective and permanent. The image of Shiva is the symbol of Kundalini here. Anything else like pictures or sensations can be there in the form of Kundalini. By the way, Lord Shiva has asked to worship both his linga and idol together, but has considered linga as the more superior form. From this, it becomes clear that Kundalini can merely develop from various eternal religious traditions, but Tantra has to be supported for its awakening. This is because if the human form and shape of Shiva is not known, then how will one be able to meditate on it over the lingam. The human form of Shiva is known only by its idol. That is why Shivalingam is also placed with idols in most of the temples. Similarly, a real Tantric is not an opponent of Sanatan religious traditions, but a collaborator.

Please, feel free to like and share this post. Follow this blog to get regular Kundalini updates.

कुंडलिनी जागरण के लिए भगवान शिव लिंग को मूर्ति से अधिक श्रेष्ठ मानते हैं

यह प्रमाणित किया जाता है कि इस वेबसाईट के अंतर्गत हम सभी किसी भी धर्म का समर्थन या विरोध नहीं करते हैं। हम केवल धर्म के वैज्ञानिक और मानवीय अध्ययन को बढ़ावा देते हैं। यह वैबसाइट तांत्रिक प्रकार की है, इसलिए इसके प्रति गलतफहमी नहीं पैदा होनी चाहिए। पूरी जानकारी व गुणवत्ता के अभाव में इस वेबसाईट में दर्शाई गई तांत्रिक साधनाएं हानिकारक भी हो सकती हैं, जिनके लिए वैबसाइट जिम्मेदार नहीं है।

इससे भगवान शिव की तथाकथित तन्त्रेश्वरता स्पष्ट जाती है। वे अपने लिंग को अपना निर्गुण रूप और अपनी मूर्ति को सगुण रूप मानते हैं। लिंग उस विराट स्तंभ का लघु रूप है, जो अधोलोकों को ऊर्ध्वलोकों से जोड़ता है। ब्रह्मा और विष्णु इसका आदि-अंत नहीं ढूंढ सके थे। इसी तरह लिंग भी मूलाधार को सहस्रार से जोड़ता है। यौनतंत्र का सारा रहस्य शिवपुराण के इसी कथानक में छिपा है। यदि शिव की मूर्ति पर या मस्तिष्क में बने शिव के चित्र पर सीधा ध्यान लगाया जाएगा, तो वह ज्यादा प्रभावी नहीं होगा। परंतु यदि वज्र पर शिव के चित्र का ध्यान किया जाएगा, तो वह वहाँ से सीधा मस्तिष्क या सहस्रार में पहुंचेगा, और तुलनात्मक रूप में वहाँ बहुत ज्यादा प्रभावी व स्थायी बना रहेगा। शिव का चित्र यहां कुंडलिनी का प्रतीक है। कुंडलिनी के रूप में अन्य कुछ भी चित्र या संवेदना हो सकती है। वैसे तो भगवान शिव ने अपने लिंग और मूर्ति, दोनों की एकसाथ आराधना करने को कहा है, परन्तु अधिक श्रेष्ठ लिंग को माना है। इससे यह स्पष्ट हो जाता है कि विभिन्न सनातन धार्मिक परंपराओं से कुंडलिनी का विकास ही हो पाता है, परंतु उसके जागरण के लिए तंत्र का सहारा लेना ही पड़ता है। ऐसा इसीलिए है, क्योंकि यदि शिव के मानवीय रूप-आकार का पता ही नहीं होगा, तो लिंग पर भी उसका ध्यान कैसे हो पाएगा। शिव के मानवीय रूपाकार का पता तो उसकी मूर्ति से ही चलता है। इसीलिए अधिकांश मंदिरों में मूर्तियों के साथ शिवलिंग भी जरूर होता है। इसी तरह एक असली तांत्रिक सनातन धार्मिक परंपराओं का विरोधी नहीं, अपितु सहयोगी होता है।

कृपया, इस पोस्ट को लाईक और शेयर करने के लिए मुक्त महसूस करें। नियमित कुंडलिनी अपडेट प्राप्त करने के लिए इस ब्लॉग को फॉलो करें।

कुंडलिनी और मन्दिर का परस्पर सहयोगात्मक संबंध

दोस्तों, इसी हफ्ते मुझे एक नया कुंडलिनी अनुभव मिला। नया तो इसे नहीं भी कह सकते हैं, नए रूप में कह सकते हैं। कुंडलिनी तंत्र और सनातन धर्म के बीच में बहुत अधिक सहयोगात्मक रिश्ता है। इस पोस्ट में हम इसी पर चर्चा करेंगे। 

मंदिर में कुंडलिनी को ऊर्ध्वात्मक गति मिलती है

एक-दो दिन से मैं कुछ मन की बेचैनी और चंचलता महसूस कर रहा था। मेरे फ्रंट स्वाधिष्ठान चक्र पर एक दबाव जैसा बना हुआ था।ऐसा1लग रहा था कि कुंडलिनी वहां पर अटकी हुई थी। योग से थोड़ा रिलीफ मिल जाता था, फिर भी दबाव बना हुआ था। मैं एक बड़े समारोह के लिए एक बड़े मंदिर की बगल में स्थित दुकान पर फूलों के गुलदस्तों की बुकिंग कराने के लिए गया। जब वापिस आया तो अपनी बाइक वहीँ भूल आया। बाइक की याद मुझे मन्दिर के पास आई। मैं यह सोचकर मंदिर के अंदर प्रविष्ट हुआ कि भगवान का वही आदेश था। मंदिर के दरवाजों पर ताले लगे हुए थे। इसलिए मैं बाहर के लंबे-चौड़े संगमरमर से बने खुले आंगन में टहलने लगा। वहाँ पर मुझे मस्तिष्क में कुंडलिनी का स्मरण हो आया। उसी के साथ स्वाधिष्ठान का कुंडलिनी-दबाव भी ऊपर चढ़ते हुए महसूस हुआ। वहाँ पर कुछ लोग उरे-परे आ-जा रहे थे। मैं उनके रास्ते से हटकर एकांत में एक शीशे की दीवार के साथ बने संकरे प्लेटफार्म पर बैठ गया। मेरा शरीर खुद ही ऐसी पोजीशन बनाने की कोशिश कर रहा था, जिससे स्वाधिष्ठान चक्र की कुंडलिनी पर ऊपर की तरफ खिंचाव लगता। मैंने अपनी पीठ का फन फैलाए हुए नाग के रूप में ध्यान किया। मेरी कुंडलिनी वज्र से शुरु होकर रियर अनाहत चक्र तक एक संवेदनात्मक नस या चैनल के रूप में आ रही थी। बैकवार्ड फ्लो मैडिटेशन तकनीक भी इसमें मेरी मदद कर रही थी। मस्तिष्क के विचारों को मैं कुंडलिनी के रूप में आगे से होकर फ्रंट अनाहत चक्र तक पहुंचता हुआ महसूस कर रहा था। इससे अनाहत चक्र पर ऊपर का प्राण और नीचे का प्राण (अपान) आपस में टकरा कर चमकती कुंडलिनी को प्रकट कर रहे थे। तभी मेरी बाहर गई पत्नी का फोन भी आया, जो शायद अदृश्य टेलीपैथी से ही हुआ होगा। उससे मुझे और अधिक बल मिला। उससे फ्रंट स्वाधिष्ठान चक्र का दबाव समाप्त हो गया। मेरी साँसें तेज व गहरी चलने लगीं। वे साँसे मुझे बहुत सुकून दे रही थीं। कुंडलिनी से संबंधित सारी प्राण शक्ति मेरे अनाहत चक्र को मिली। उससे मेरा हृदय प्रफुल्लित हो गया, और मैं तरोताजा होकर बाइक पर वापिस घर लौट आया, और खुशी-खुशी अपने कामों में जुट गया। बड़े-बड़े मंदिरों को बनाने के पीछे एक नया कुंडलिनी-रहस्य उजागर हो गया था।

स्वाधिष्ठान चक्र पर दबाव बनने का मुख्य कारण सीमेन रिटेंशन होता है

ऐसा यौनसंबंध से परहेज करने से भी हो सकता है, पॉर्न देखने से भी हो सकता है, और अपूर्ण तांत्रिक यौनयोग से भी। इसलिए उचित योगसाधना से इस दबाव को ऊपर चढ़ाते रहना चाहिए। मस्तिष्क तक इसे पहुंचाने से यदि सिरदर्द या मस्तिष्क में दबाव लगे, तो पूर्वोक्त ढंग से अनाहत चक्र तक ही इसे चढ़ाना चाहिए।

Kundalini and temple having mutual cooperative relationship

Friends, I got a new Kundalini experience this week. The new may not be said even, you can say it in a new form. There is a very collaborative relationship between Kundalini Tantra and Sanatana Dharma. We will discuss this in this post.

Kundalini gets upward movement in the temple

For a day or two, I was feeling little restless and lightheaded. There was a pressure on my front Swadhisthana Chakra. It seemed that my Kundalini was stuck there. Yoga provided little relief, yet the pressure remained. I went to a shop next to a big temple to book bouquets of flowers for a big ceremony. When I came back, I forgot my bike there. I remembered the bike near the temple. I entered inside the temple thinking that it was God’s order. There were locks on the doors of the temple. So I took a walk in an open and wide courtyard outside main temple rooms made of marble. There I remembered Kundalini in my brain. At the same time, the Kundalini pressure of Swadhisthan was also felt ascending. There were some people coming and going there. I moved out of their way in seclusion and sat on a narrow platform with a glass wall. My body itself was trying to create a position that would put upward stretch on the Kundalini of the Swadhisthana Chakra. I meditated on the divine and multihooded form of a serpent laid on my back up to brain spreading its hood. Starting from vajra, my kundalini coming as a sensory vein or channel to the rear Anahata Chakra. Backward flow method of meditation also helped in it. I felt the thoughts of the brain reaching the front Anahata Chakra through the front channel as Kundalini. Due to this, the upper prana and the lower prana (apana) collided with each other on the Anahata Chakra, revealing the glowing Kundalini there. Then I also got a call from my wife who was out from some time, which may have happened by invisible telepathy. It gave me more strength.With this, the pressure of the front Swadhisthana Chakra ended. My breath started moving fast and deep. That breath was very relaxing and enjoying. All the life energy called as prana related to Kundalini was got by my Anahata Chakra. That made my heart delighted, and I was refreshened up, therefore returned home on the bike, and happily got busy with my work. A new Kundalini-mystery was revealed behind the construction of big temples.

Semen retention is the main reason for pressure on the swadhishthan chakra

This can happen by avoiding sexual intercourse, viewing porn, and also with imperfect tantric sex. Therefore, with proper yogasadhana, this pressure should be kept rising up the spinal column. If there is a headache or pressure in the brain with its reaching to the brain, then this pressure should be carried up to the Anahata Chakra only in the aforesaid manner.

Kundalini could be well connected with humanity through Islam religion

Friends, the recent terrorist incidents in Paris in France and Vienna in Austria in the name of Islam are very unfortunate. And yet another incident happened that in Pakistan, where a watchman killed his bank manager in the name of religion and there he was warmly welcomed for this work. In addition, the management of the main Sikh gurdwara or Sikh shrine in Kartarpur has been withdrawn from the Sikhs and given to the ISI. The world knows that Pakistan’s intelligence agency ISI runs organizations of Islamic terrorists. Countless temples have been torn down in Pakistan, Afghanistan and Bangladesh, and ancient carvings have been endangered. Minorities continue to be persecuted there on a daily basis. India has been a victim of such incidents for centuries. Today we will discuss the fact that how Islam could become a religion connecting Kundalini with humanity, but missed due to its only mistake of bigotry.

The real purpose of denial of idolatry was to increase the love of man towards man

Islam could have been the religion of humanity. This is because in Islam it is only asked to meditate on Allah, not on the idol etc. Yet idol worship and other Hindu traditions have their own separate scientific philosophy, which cannot be ignored. Likewise, there are other religions too. Advaita or non duality is meditated on its own with the attention on Allah. With this the Kundalini settles in the mind itself. It is natural then that in the form of Kundalini, only a human will be remembered, not an idol or an animal. The same image of the beloved man then becomes Kundalini. It increases human love. But due to bigotry, this humanity is destroyed again. Now the one who will fall in love, if he is killed because of bigotry, then how that love. Therefore, due to the fear of this possible violence, no real love can be made with a human being. Real Islam will come only when there is a complete stop on bigotry and violence. This happens in the Kundalini tantra. In it, the living guru or deity etc. is loved. Kundalini of his form settles in the mind.

Many religions peacefully oppose Hindu Sanatan traditions

There are many religions even in India, which do not follow many of the eternal traditions of Hindus. This is their own point of view and there is no objection as well, as they do not impose such leftist beliefs on anyone. Islam also has the right to follow its own tradition, without violating the religious freedom of others. But Islam becomes staunch and violent to get its recognition. A forest that is not diverse seems like a desert.

The inclusion of violence in Islam was a compulsion of the Middle Ages

At the time of the creation of Islam, violence was emphasized in it. This seems to be because the people of that time were too illiterate and wild. It was almost impossible to explain to them. The means of education to explain it were not like today. Therefore it was necessary to create fear, because the wave of fear itself spreads far and wide, as a radical means of education. This was especially so in Arab countries. In a country with a decent, favourable and friendly environment like India, education and understanding dominated from the very beginning. Religious fundamentalism and violence from Arabia came through the Muslim invaders to India. Even in today’s modern world, that centuries-old tradition remains the same. It is necessary to modify it. Like social reform, religious reform should also continue with time. All religions except Islam have reformed. Muslims should understand this together, and keep going with modernity, shoulder to shoulder with other religious communities.

कुंडलिनी को मानवता से जोड़ने वाला धर्म बन सकता था इस्लाम

दोस्तों, अभी हाल ही में फ्रांस के पेरिस और ऑस्ट्रिया के विएना में इस्लाम के नाम पर जो आतंकवादी घटनाएं हुईं, वे बहुत दुर्भाग्यपूर्ण हैं। और अभी एक घटना और आ गई कि पाकिस्तान में एक चौकीदार ने धर्म के नाम पर अपने बैंक मैनेजर की हत्या कर दी और वहाँ उसका इस काम के लिए गर्मजोशी से स्वागत किया गया। साथ में, करतारपुर में स्थित सिखों के प्रमुख गुरुद्वारे का प्रबंधन सिखों से वापिस लेकर आईएसआई को दे दिया है। दुनिया जानती है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई इस्लामिक आतंकवादियों के संगठनों को चलाती है।पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में अनगिनत मंदिर तोड़ दिए गए हैं, और प्राचीन नक्काशियां लुप्तप्राय कर दी गई हैं। वहाँ पर आए दिन अल्पसंख्यकों पर अत्याचार होते ही रहते हैं। भारत ऐसी घटनाओं का सदियों से भुक्तभोगी रहा है। आज हम इस तथ्य की विवेचना करेंगे कि इस्लाम कैसे कुंडलिनी को मानवता के साथ जोड़ने वाला धर्म बन सकता था, पर अपनी एकमात्र गलती कट्टरता के कारण चूक गया।

मूर्ति-पूजा के खंडन का असली मकसद इंसान का इंसान के प्रति प्रेम बढ़ाना था

इस्लाम मानवता का धर्म हो सकता था। ऐसा इसलिए, क्योंकि इस्लाम में केवल अल्लाह का ध्यान करने को कहा गया है, किसी मूर्ति वगैरह का ध्यान नहीं। फिर भी मूर्ति पूजा औऱ अन्य हिन्दू परम्पराओं का अपना अलग वैज्ञानिक दर्शन है, जिसकी अवहेलना नहीं की जा सकती। इसी तरह अन्य धर्मों का भी है। अल्लाह के ध्यान से अद्वैत का ध्यान खुद ही हो जाता है। उससे मन में कुंडलिनी स्वयं ही बस जाती है। स्वाभाविक है कि कुंडलिनी के रूप में किसी मनुष्य का ही स्मरण होगा, किसी मूर्ति या जानवर का नहीं। प्रियतम मनुष्य की वही छवि फिर कुंडलिनी बन जाती है। उससे मानवतापूर्ण प्रेम बढ़ता है। परंतु कट्टरता के कारण इस मानवता पर पानी फिर जाता है। अब जिससे प्रेम होगा, यदि कट्टरता के कारण उसे मारा गया, तो कैसा प्रेम। इसलिए इसी संभावित हिंसा के भय से किसी मनुष्य से असली प्रेम हो ही नहीं पाता। असली इस्लाम तो तब आएगा, जब उसमें कट्टरता और हिंसा पर पूर्ण विराम लगेगा। ऐसा कुंडलिनी तंत्र में होता है। उसमें जीवित गुरु या देवता आदि से प्रेम किया जाता है। उन्हीं के रूप की कुंडलिनी मन में बस जाती है। 

बहुत से धर्म शांतिपूर्ण ढंग से हिन्दू सनातन परम्पराओं का विरोध करते हैं

भारत में भी ऐसे बहुत से धर्म हैं, जो हिंदुओं की बहुत सी सनातन परम्पराओं को नहीं मानते। यह उनका अपना दृष्टिकोण है और उसमें कोई आपत्ति भी नहीं है, क्योंकि वे ऐसी वामपंथी मान्यता किसी के ऊपर थोपते नहीं हैं। इस्लाम को भी अपनी निजी परम्परा पर चलने का पूरा अधिकार है, औरों की धार्मिक स्वतंत्रता का हनन किए बगैर। पर इस्लाम अपनी मान्यता मनवाने के लिए कट्टर और हिंसक बन जाता है। जो वन विविधतापूर्ण न हो, वह सूना-सूना सा लगता है।

इस्लाम में हिंसा को शामिल करना मध्य युग की मजबूरी थी

इस्लाम के निर्माण के समय उसमें हिंसा पर जोर दिया गया। ऐसा इसलिए लगता है क्योंकि उस समय के लोग अनपढ़ और जंगली होते थे। उन्हें समझाना लगभग असंभव सा ही होता था। समझाने के लिए शिक्षा के साधन भी आज की तरह नहीं थे। इसलिए भय को बनाना जरूरी था, क्योंकि भय की लहर खुद ही बहुत दूर तक फैल जाती है, शिक्षा के कट्टरतापूर्ण साधन के रूप में। खासकर अरब देशों में तो ऐसा ही था। भारत जैसे सभ्य और अनुकूल परिवेश वाले देश में तो प्रारम्भ से ही शिक्षा और समझ का बोलबाला था। अरब से धार्मिक कट्टरता और हिंसा की प्रथा को मुस्लिम आक्रमणकारी भारत में लेकर आए। आज के आधुनिक संसार में भी वह सदियों पुरानी परंपरा वैसी ही बनी हुई है। उसको संशोधित करना जरूरी है। समाज सुधार की तरह समय के साथ धर्म सुधार भी होता रहना चाहिए। इस्लाम को छोड़कर सभी धर्मों में सुधार हुए हैं। मुसलमानों को मिलकर यह बात समझनी चाहिए, और दूसरे धार्मिक समुदायों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर आधुनिकता के साथ आगे बढ़ते रहना चाहिए।