My post

Kundalini Yoga having a big role of Beard and Mustache ~ A Spiritual Joked satire

Laughing Buddha

I was telling in a previous post that when my Kundalini shakti rose above the mooladhara for awakening, at that time there was a group of women singing a ceremonial dance. My medium sized beard had grown due to intense Kundalini yoga practice for a month. A few white hairs growing in a bunch of black hair looked good like a saintly man in the crowd of the world. That’s why many women were looking at me with innocence, love and wonder. There were other people out there with growing and matching beards, who were giving me special love, respect and belonging. This shows that only bearded people identify the real beard. Who knows the diamond, jeweler? There is nothing to laugh about because it is not a joke but a fact. Anyway, women are very impressed and attracted by the grown beard. If Kundalini yoga practice is also associated with it and that too of tantric type, then what to say. This also gave enough strength to awaken my dormant Kundalini Shakti. A real beard is the one that grows on its own under the influence of sadhana, which does not have to be grown, and which does not have to apply much cosmetics to make it fashionable. With the power of sadhna, such a glow is created in the eyes that all other cosmetics start fading in front of it. There is so much light in the heart that it does not feel like paying attention to the light of the face. Again and again the fake beauty of the face is not noticed, for this only the man’s beard starts growing on its own. There is no need to do anything. Many men deliberately grow beards to be more attractive and especially to attract women. They don’t even know the name of sadhna. Some women are attracted to them from surface, but are not influenced by them from the heart. But a woman who has a keen eye and a passion for meditation, she understands a clean shaven man as better than them. Because at least the clean shaven man is not deceiving, and that poor man is at least working with fake beauty. Those who say, something is better than nothing. Now my shaving kit lying in the box must be getting bored. Earlier I used to go to the barber shop to get my hair trimmed. once in a week. On the face, he used to keep the trim setting mostly at one or sometimes at zero. Most of the times two number was set on the mustache. Now I have got my trimmer. I keep the length of beard and mustache of my own free will. One day, brother it became wonderful. It happened that I had made the beard with the setting of number two. Started turning the trimmer’s regulator wheel to number three so that the mustache would have been a bit bigger. But what, the wheel turned upside down. At that time, as the evening went on, there was less light and I was also in a bit of a hurry. Now there it doesn’t fill the stomach of this sinful mind. Gone are the days when one had to walk for many hours to reach the barber shop. There too, there used to be a long line of people decorated with colorful forests on their faces. Almost an entire day was wasted in the affair of a beard. Nowadays this trimmer in the form of a god has covered the work of hours in minutes, yet this mind needs to be fast. In those days, the entire earning of a day was used to clean the garden grown on the face, but today this miser mind is not ready to put a good bulb above the bathroom mirror. Garden, I am speaking with the hope that perhaps the Kundalini fruit may ripen in this, because most of the Yogi Babas are seen to me as bearded. The length setting was reduced to one instead of three. A quarter of the mustache was cleared in a jiffy. Trimmers are not scissors, which give us a chance to recover. Had I kept a half of short mustache, people would not know which mental illness would have teased me thinking it to be a mental illness. Therefore, in compulsion, the entire mustache had to be cleaned and the beard too. Good luck to this corona facemask which saved my health the next day, otherwise people would have definitely dropped it by taunting. Now the era of razor blades seems to be a bygone era in front of stylish trimmer machines available in the market. Anyway, according to medical science, clean shaven mouth is more dirty. When such a mouth was inspected with a microscope, then forests of colorful colonies of germs were found in it. A razor scratch on the mouth causes the internal cells of the body to come out to serve as a feed for germs, just as insects buried in the soil by digging a plow in the field come out to become food for birds. When the face cleaned with the trimmer was seen, then from outside it looked like a forest, but from inside it was completely dazzling. That’s why we also advise you to keep a good trimmer and become a Kundalini yogi.

Seeing me, many people became jatadhari or hairy. But it is not known whether they became a kundalini yogi along with it or whether they became a yogi with a mere face. If they had become a real yogi too, they would have taken stock of my heart along with my face. But what is this, from far beyond, they stole my beard recipe, went Kundalini yoga to take oil. Yes, remembered from the oil. Some allege that the mustache drinks a lot of oil. This made me feel that it is necessary to clarify the situation here, so that the poor innocent mustache does not get maligned just like that. In fact, they do not drink oil on their own accord or for their luxury, but Shani Dev, with his divine inconceivable power, makes them drink oil for himself. Therefore, Kundalini Yoga may or may not have happened to those beard-refugee people, but Shani Dev must have been pleased with the oil in their beard. Friends, you already know that black color and mustard oil are very dear to Shani Dev. Therefore, if there is a wrath of Saturn, then do not think about it here and there. Irrigate the bush with mustard oil. The more black, dense and formidable it makes the evergreen bush, the more revered Shani Dev will swell happy like a balloon. And you will also know that as bad as angry Shani Dev is, he is equally good when he is happy. Well, what I was saying is that now it has become common to see people with hair instead of smooth ones. What’s more, the competition to imitate was such that even small children started scratching their little mouths with Papa’s razor, in the hope that they might grow their hair too. I became such an icon piece, who started the fashion of the grown beard that whenever I was troubled by the dryness or itching of the face and so shortened my hair, the people I met would say that you have become weak these days. Not weak, very weak. The fault of the trimmer, and the blame on health. What is the relation of hair with health? Now only those people should know which such channel emerges from the hair, which is directly connected to health. What’s more, even those who knew me as a clean shaven man, seeing my beard, would say that you have become weak. It is now the subject of a great and mysterious investigation as to how the change in the hair of the face leads to deterioration of health. Health also falls in the eyes of only those people, who see a change in the face. Deterioration of health is not seen by himself and other people. No one talks about mustache. Don’t know why people start talking about mustache as to touch the sore. But the truth is that the one who has never laughed in life, he should also leave the fountain of laughter showing glowing teeth with the talk of mustache. They don’t blame the hair trimmer directly. Everyone knows that if you blame the trimmer or the hair, it will lead to gender discrimination. This shows how grown-up people have become today, as well as strong advocates of gender equality.

Brother, even if we do, what should we do? If you shave your beard, then out of the gang of bearded people, and if you grow a beard, then out of the gang of smooth people. Between devil and deep sea. Believe it or not, the solution to this problem is an electronic trimmer. By applying it, a person can live here and there equally. If you turn it on your face at number two, then the bearded ones are happy and the smooth ones are also happy. If you put a trimmer on number two, then the life Jhinga-Lala. The Buddhist middle way is the best. If you want more effect then keep a fake beard-mustache, and mix like salt in sugar everywhere. But the identity of the personality is mostly associated with the hair of the face. Personality identification went on grazing the grass. Don’t worry about it at all. We just want to play the harp of fun. Anyway, as far as the judgmental view is concerned, then it is harmful to the soul by being looking for the holes and peaks. Just watch everything superficially, you will become a great spiritual master with just a little bit of fun. You will get sweet balls in both of your hands.

It is said that the soul resides in the hair. A man loves the hair of his face the most. I maintains friendly relations with doctors, as they are akin to hair surgeons going deep of everything. That’s popular saying in Hindi, removing skin of hair. Who can understand hair better than them? They tell that even people who are counting their breaths of life on ventilators do not get their mustache cleaned. They often cause physical obstruction to the work of the ventilator. Maya-mind does not die, only the body dies; Hope-craving isn’t erased, Das Kabir said ‘n praised. A man can tolerate everything, but can never tolerate the insult of the hair on his face. That is why the beloved person is also addressed as nose of hair. Of course that’s is hair of the nose, but it is the neighbor of the mustache. And what is that neighborhood, where the heart is not found. Similarly, when “the straw in the thief’s beard”, it is said, the man cannot live without turning his hand on the beard, even if he should be hanged for theft. If you don’t believe it, try it out. How can a truly bearded man tolerate a tiny speck on his beloved beard? What’s more, in Sikhism, hair is considered the most important symbol of religious importance. There, it is also permissible to use a dagger to protect the hair. You must have heard the story of Mahabharata, haven’t you? In it, the Pandavas, on the advice of Lord Krishna, completely shave off Ashwatthama by not giving him death sentence. Along with this, they also take out the gem from his forehead. Brother, that gem is nothing but Kundalini, which went on moving on its own with the hair. She resides on the command chakra located on the forehead. Ashwatthama considered it more humiliating than his death, and then did you not see how he later fired the Brahmastra in retaliation, thereby scorching Parikshit in Uttara’s womb, who was saved by Lord Krishna. While a she famous leader threatened her complete shaving to prevent a foreign-origin woman from becoming the Prime Minister, on the other hand, a world-winning player got her complete shave done to please her Kuldevi goddess. Similarly, to Lord Venkateswara, hair is offered at Tirupati Balaji temple. It is believed that Lord Venkateswara pays off the debt of god Kubera from the cost of these hairs. Kuber is the richest god of the universe. This means that then the loan amount must have been huge. So then, can Lord Venkateswara not ask for gold and silver from the devotees, why only hair? Because he knows that hair is the most precious thing in the universe. He very well knows that all the biodata of a man is hidden inside the hair. You can check this by asking companies like Google and Facebook, what is the cost of data. You will get the answer. Even after having so much important matter, where is the scientific research done properly on the inconceivable power of hair so far? I feel that till date the least understood and most important thing is hair. So friends, the matter gets stuck here that it is not a good thing to be careless in the matter of beard and mustache.

Similar deep attachment of a person to Kundalini is also there. Or else, the entire Kundalini secret is hidden in the hair itself. That is why it is customary to shed hair at holy places of pilgrimage. Once I was in enemy territory and there went to the barber to get my hair cleaned. Understand, this was a research project of mine. I was a native scientist. It is a different matter that no one pays attention to these pure indigenous discoveries of mine. What was it then, after that the people there became my dear and I their dear. I was stunned to see the miraculous power of hair. The mysterious tricks of hair have not been researched properly yet, brother. I have full faith that the solution to all the problems will be found in the hair itself. Our ancient sages used to be very advanced scientists. Neither asafetida nor alum was used, and research was so deep, that even today’s big laboratories could not dare to touch. Just look at the tantric tricks. How the tantriks of far reach, with just one hair of a man,  can control the whole man. Women become more victims of such hair tricks, because they love their hair the most. All modern science fails in front of this small trick of hair. This is just a small example. Stay with us, and stay tuned, what happens next.

Just as a person’s rapid transformation takes place by awakening the Kundalini, so also by cutting the mustache. That is why in the olden days people used to cut their mustache to get rid of their sins. Since then there have been sayings about saving your mustache. For example, keeping the mustache high, not allowing the moustache to be cut off, having a question about the moustache, not embarrassing the moustache, keeping the mustache ashamed, ashamed of the moustache, etc. It is also true, a well-maintained mustache comes in handy in bad times like golden jewellery. I too was once saved by a loving-handed mustache. What happened was that I had become completely depressed and disillusioned with my past life. Then a guru-like experienced person who met me by the grace of some mustache-free god, advised me to clean the mustache. He himself was also fond of his routinely renewed face. Actually he was the professor of colorful mood of my college time. College girls used to love him very much. On one occasion, the attachment had grown to such an extent that some of the girl students were feared to be molested. God knows what the matter must have been. He was well aware of the smack inflicted on me because of the mustache. You know that in college life, only smooth faces speak volumes. Those with mustaches are called Baba means sage over there. Even if they think that it is real baba, then it will not even matter. Now Baba means Bhangi or cannabis consuming, Crazy, Loser in Love affair and don’t know what and what. It hurts even thinking about it. And whatever you can run the horse of wisdom, run in the field of negative words, you will see only Baba synonymous with everything. Baba if you are careless, Baba if you drink cannabis, Baba if you drink country liquor, Baba if you chew a bone, Baba if you go for a walk with sweeties, Baba if you beat anyone. Stop-stop, only a hint to the wise is enough. If you call the real Baba Baba, you will get tongs. Baba, as if the word found in dowry, affixed with whatever you wish. Where is the unity among the real babas, who can file a petition in the court. It is said that the lion walks alone, the sheep and goats walk in the herd. Here the real caste-class cannot be called by the real name, and there wherever you look, Baba-Baba-Baba. Baba for repentance, no baba no. Girls, as I have come to know, say ‘O my Baba’ to boyfriend. Baba to children, it sounds little matching for both of them are clean. And now a new trend has started, My cuty Baba. Baba’s fame is that once my wife-goddess lovingly told me Baba, in an instant my little kid went laughing and laughing. I asked my kid, o my baba, why are you laughing so much. So he pointed at me with a finger laughing and said, Baa-baa Black Sheep. How much intelligent are today’s children. Baba type Universal word not seen ever. Sometimes the master or Ustad used to be called to the skilled man who was of far reach. Today people name cannabis consuming truck driver as Ustad. Once, what did I say to a native engineer, Ustad in praise, he sent me a defamation notice the very next day. Hi Ram, these words are indigenous cannon balls. The word Guru is considered a very holy alphabet. But it is also used a lot during the construction of a hijra or genderless. There the expert person who destroy the city of Cupid is also called Guru. If someone comes by doing a wrong thing, then first of all these words are welcomed, great Guru. Now it is the time to save the dignity of the sacred words. If courts can be opened in the middle of the night to save the traitor, then why not to save these words. Whereas these words are the biggest patriots because they protect our eternal culture. I have told my wise friends in clear words that either they should not read my spiritual articles, or they should not call me Guru and Baba even in dreams. A naughty friend used to tease me by calling me Sharif means gentle again and again. This word has also got distorted likewise. I warned him while telling the truth that even if he go to Pakistan and speak Sharif to Nawaz Sharif, but he should never call me Sharif. After that, he called me Nice, an English word. Yes, so what was the basic discourse I was giving that now how he all-rounder clean guru did not recognize his worthy disciple, so in the very first meeting, that uninvited guru gave me love, pride, smile and warmth and told me as the most dear or true disciple. At first, he was also little afraid, may be due to my nightmarish mustaches. He had also said to me later on that I was dangerous. Then I had explained him that my mustaches were dangerous looking, not my heart. He, the bush-cleaned-intelligent understood the fact immediately. Then only he mixed up properly. After long mix up he came to know that actually I had no mustaches on my heart. What was I saying that one or two mustache-cleaned and 1-2 mustached people were also doing working strolls beside him, taking a few turns here and there. I was stunned to see so many beautiful and strong feelings towards myself in him, that too together. At the same time, I also started to consider myself lucky that he did not call me a disfigured or mustached disciple. He did that emotion-expression so fast that by the time I could take my eyes off his very smoothy  face and I could say something to him, he had left from there. At that time, I thought that he might be doing a joke, but now I understand that it was not a joke, but his true mustache-cut blessing. He himself seemed tormented by an undeclared alliance of mustacheds and non-mustacheds. Later on, he had also complained seriously that his students used to tease him showing barren lands on their faces. Perhaps for this reason, many times he used to decorate his mustache on the table. He may have accidentally looked at my college-time allegiance to tantric guru-devotion. He seemed to have the blessings of Bhole Shankar and Kamadeva together. At that time, the era of keeping a sleek and fashionable face of his life was going on. Therefore, I thought it most appropriate to take initiation from him for the mustache-piercing ceremony. Cutting my mustache on the advice of those Gurudevs brought me tremendous transformation and during that critical period he handled me like a Kundalini guru takes care of his disciple in the delicate phase of Kundalini transformation. By cutting off my mustache and becoming a smooth face, I felt as if the refresh button of my life had been pressed. As if the past life has also come off with a mustache, and I have taken a new birth. Mundan or shaving Science is now embracing something. Even in Kumbh fair, people who come to become Naga Sadhus are completely shaved on their heads and faces, so that they can never return to their previous lives. Similarly, Buddhist monks stay one step ahead of them. They always keep a complete shave, so that the common people can never come in contact with them, and can not disturb their sadhana. Now where did the hair-loving people go to the Mundak meetings? Some types of Muslim brothers follow a different recipe to look different from the infidels. They clean the mustache, but they keep the beard big. So some have a beard like a goat. God save. Somewhere people make pictures and strange designs and maps etc. on the beard. Brother, their natural art will also have to be praised. No paint, no canvas, just a good pair of scissors are needed. Some people have bee-like mini whiskers, just below the nose, like Charlie Chaplin. This gives them a new sense of excitement. Even with such a mustache, it is feared that the mischievous people do not keep slapping on the face by making a false excuse to drive away the bee.

Some people have long, pointed and sharp mustaches on both sides to demonstrate bravery, such as the Jabanj Fighter Pilot Abhinandan. It was also heard that because of the fear of his mustache, Pakistan had to release him within twenty four hours. Some people dye the beard and mustache red with henna or artificial chemicals to make themselves special, while some darken them black. Only the poor common man has to live inside the skin of the herd with remorse, because if he starts becoming special, what will he eat? It can be guessed from this mood of the people that in ancient times there must have been a mustache architecture or vastushastra. Then it may have been burnt by jihadists in the Middle Ages. In it, they must have seen the disgrace of their debauched mustache. How could the pride of a clean mustache, which gives an unbearable message of peace to a peaceful person, be accepted as arrogance. Quit. Prima facie it seems that with such perverted mustache-science, countless religious places of Hindus have been destroyed, and innumerable religious texts have been handed over to fire. So brothers, I was narrating the incident related to shaving my mustache, how the life of that time present day, past college and unemployment, which was depressing, had gone into the recycling bin, and with childhood, the life of school time had come out of the waste of the recycling bin to the desktop of my brain. It felt like the same old window in my brain was reinstalled with the updated version. Same idea of old life, but in a unique slow motion and with full beauty. Friends, I made a lot of progress in that period. The outer atmosphere of my progress must have already been made, only the inner atmosphere was staggering, which was handled by my smooth face. When my condition became stable, then I again started growing crops on my face. In the days of snowfall, the grain will be available only when the crop has already been collected. Friends, if I begin to unveil all the secrets of the mustache, then a complete mustache text will become a Purana. Hi, what a strange thing this writing is, isn’t it? Hands get tired, but the mind does not get tired. And if it is an exciting subject like a mustache, then there is no question that the mind should get tired. Experienced elderly people say that women do not return from marriage and men from battle. Similarly, the writing of the author of a heart-wrenching subject like a mustache never comes back from the paper. So keep reading patiently, so that at the end of the article you too can find yourself becoming a mustache expert. In fact, after removing the mustache, my age-old suppressed Kundalini started shining like a gold ring buried inside a dense bush, after removing it. It is also a matter of research whether the darkness of the mustache covers up the bright Kundalini. The biggest advantage of cleaning my mustache was that I was able to recognize my Kundalini very well. Then I didn’t look back. Wherever she took me, I kept going there, and she continued to do me good in every way. In front of the Kundalini, as if I had become naked like a child. There isn’t much difference between blowing a mustache and being bare. I had surrendered myself to her. By working hard with the support of Kundalini, I set many records of success. Kundalini was in feminine form, that’s why Kundalini is addressed as a woman. This game of love and marriage and child birth that continues in the material world, exactly the same continues in the subtle world of the mind. then seeing the female Kundalini, the male guru pulled by her beauty also reached there, broadcasting a mustache-smile, and with a melody. The two married, romanced, had children, and then both grew old and became indifferent to each other. Those my subtle parents were leaving me. I was starting to feel a little sad. That’s when I started practicing Kundalini yoga and by pulling the mustache of my mustached master (Kundalini) woke him up again as kundalini awakening. Then I heaved a sigh of relief and started growing home farming again. But even today I am afraid of the big bushes. The old shock that hasn’t gone completely out of my mind. Don’t know why it feels like darkness beneath it. Will everyone feel or only me? Will everyone’s Kundalini shine with its cleaning, or was it only mine. All this can be known only through shared mustache research and experience. That’s why I keep pruning them in such a way that air and light can go to their root. But I think it is also a matter of mind. At the time of awakening of Kundalini, my whole face was covered with a bush, although it was of medium size, but it was dense enough. At that time there was light everywhere. It is clear from this that everything depends on the space, time and mentality. That’s why one should do as it pleases, but one should always strive for Kundalini. If the weak Kundalini-light is covered by a moustache as a tiny herb by a dense bush, then it also keeps the strong kundalini safe as the funerary cobra hissing, protecting it from the eyes of the world. That’s why I said that one should read the language of the times, and should always respect the benevolent mustache. According to the time, a man himself does not walk, and blames the head of the mustache. The man himself has misused the mustache the most. It is not known how many immoral things he has done with the power of the mustache. The immeasurable power of a mustache can be gauged from the fact that the enthusiasm increases manifold just by throwing a loving hand on them. Oh dear, I have also remembered the name given by the mustache experts for this act, to give taav or warm up to the mustache. This is a very mysterious name. You can’t even imagine that taav means heat or warmth here. Just as a wrestler, soaked in the heat of the massage, stands up while carrying a thong, so also the mustache. Due to some of the above mentioned main reasons, the respect of mustache has fallen so much today that first of all the parents and kins of girls ask whether the boy is with mustache or not. Once a mustache had a special status in the society. Today, the situation is that the mustache has to be pacified by reciting this lullaby-song, don’t cry—~ my mustache, shut up——- not only your question. Happens in bad times, happens in bad condition; Oh cuty, the same thing happened with you; Don’t cry—–~~~~—–. Friends, this trend should be changed, and we should come together to save the innocent. More to say, the bandits have also had a heavy hand in the defamation of the mustache. The writers and poets of our society have also associated the mustache with the bandits. It is nowhere to be read that a scholar with big and big mustaches. What’s more, the ladies have not been far behind. They too often has the same dialogue in a frightening posture, with big eyes to put the kids to sleep, big mustache-la-la-la—–. Now what can I say more than this, to save the moustache standing on the verge of extinction, is it necessary to return their lost respect or not.? By the way, a thick beard does not come on my face. Due to this, air and light itself continuously reaches its roots. It is possible that behind my evergreen Kundalini, this half-headed type of mustache is behind. Regarding this, my wife often says that you look like a girl with a beard. That’s why many times it comes to my mind that why not uproot this sign of impotence from the root itself. But then I also think that if the field is allowed to remain barren in the midst of heavy rains, then what will be eaten during the summer. If you take off all your clothes in winter, what will you take off in summer?
Friends, I also realized that a mixture of beard and mustache is more philosophical than an empty mustache. It is said that the face is the mirror of the mind. By becoming beautiful inside the mirror, the person standing in front of it becomes beautiful himself. That is why by keeping the vision of non-dualism on the face, Advaita itself prevails in the mind. Keeping the main land barren and keeping a bush in a small rocky bed at the foot of the hill does not seem like a sensible thing to do. So in view of this problem, I started sowing the whole area. But then a new problem arose. After the outright harvesting of the crop, the entire land seemed barren and bare. If someone falls straight from the sky to the ground and does not get even dates to land, then you can understand his agony and pain. Together, duality or simply say that the shocks of change felt like cold-hot shock. And brother, this wretched duality is the biggest disease of the mind. So friends, there was only one middle way to avoid both the problems. The crop of the bed should not be cut from the ground, but should be cut from a little above. What happened is that even after harvesting, there was little greenery left. Due to this, the light of the eyes of the people also remained untouched, and duality or change was also stopped a lot. There is another philosophical twist here. In fact, Advaita is created out of duality. Therefore, for the one who is a philosopher-mason of far reach, the formidable mustache that creates duality is no less than a mine that spews bricks of gold. By masoning them, he prepares non-dual palaces of the highest order by sticking with them cement-mortar mixture as mix of mind’s defects like lust, anger etc. What is the significance of Kuber’s Alkapuri in front of these advaita Nagari or nonduality townships? Yes, these mustache created nondual palaces have been called Alkapuri. Anyway, Kuber’s mustache is also said to be very beautiful and so his mondal alkapuri township. I had once created a tri-populist Advaita-Nagri or nondual town in the same way. At that time, big masons used to come to me walking on knees from far and wide to gain knowledge.

Due to the strange mentality born of the hairstyle, a man likes to mingle only with a man with hair like him. As a result of this perverted mentality, the Taliban had issued a decree for everyone to have a beard throughout Afghanistan. But they want woman to be at least hairy, no matter how long they themselves may have. But in the case of a woman, her sexual interest is attached. It takes a toll on her hairstyle. Similarly, no matter how hairy your children are, everyone looks good. In this too, there is an indirect sexual interest. It is clear from this that both hairstyle and sexuality are the most powerful expressions. The tantrik understands the importance of both of them very well, so they keep both of them in care. Now it is understood that why great tantriks like Lord Shiva are Jatadhari or too hairy and Mastmaula or fully relaxed.

Many times I feel that if my beard had not grown at the time of Kundalini awakening, then I would not have had Kundalini awakening. Being clean shaven, I kept on hovering around the women playing songs with my smooth face, just as once Narada Muni was hovering with his monkey face in the whole swayamvar or marriage assembly, making eye contact with everyone. With that, I would not get a chance to meet the friend from whom I was lost in the memory of Kundalini. Also, if a woman, seeing a nameless Chiknu or clean faced like herself, tightened her heart-pricking taunt even only the gesture, then the question of awakening would not have arisen. Had Narada, who was stunned by the taunt not even raised the cot of Lord Vishnu by saying that he was a hypocrite, on reaching his home Vaikunth, kundalini awakening went to sow wheat, or to chase monkeys to drive away? Yes, so what was I saying that instead of getting lost in the Kundalini due to that remark, my heart would start getting lost in repentance. There is nothing worse in this world than the displeasure of a woman and the blasphemy of a woman. A man can forget everything, but a man can never forget her angry smooth face full of ridicule. Even if the man who is wounded by the woman’s displeasure can find the Kundalini awakening, even then God sends him back to apologize by falling at the feet of that angry woman, only then the unseen main gate of his unseen palace opens for him. Otherwise one has to be content to see that unseen palace from far outside. There is no guarantee that the woman will agree. It depends on her and on your purity of your mind. Many times a woman kills a man with another shooting word who came to apologize for some other slander. With this, he can not live anywhere, like a washerman’s dog, neither in the house nor in the ghat or river bed. He again turns back and reaches to see the unseen God standing at a distance. God gives him a little call, and then sends him back to calm the woman’s smooth face. Sometimes the poor man becomes a ball between the woman and God. This cycle continues until some other kind and compassionate woman holds the unfortunate man. Those who say that it is iron that cuts iron. Actually, God sends that second woman by motivating her with his divine power. So follow my advice, keep looking for a good woman to help God with something. In the case of a woman, even God cannot take direct action. Because of the fear of his wife, he makes the mustache disappear from all his idols and paintings, otherwise why would a impartial gentleman like him would show disfavor with moustaches. He too can settle the matter only by sending a woman. God is also the poor truth in this matter. He does not even walk in front of a woman. The flame of the angry smooth face of the woman starts touching even her untouched palace. Even if he does, what will he do? If he is strict with the woman, then his wife, the goddess sitting next to him, gets angry and goes away, rebuking. Why should he himself become a victim to save his devotee from the flame of smooth face? I feel sorry for smooth people thinking that they are not smooth just to avoid the wrath of the woman. Seeing one’s smooth face, the woman would have felt pity for him. The smooth face reminds the woman of the child. Anyway, women are most kind to children. But this trick doesn’t last long. If by mistake even two hairs grow on the face, then she repays all the previous troubles along with the interest. Therefore, I say with a strong voice that before making a smooth face like a woman, one should also understand the responsibilities to be performed by a woman. If this is not done, then the soul of the poor peace-loving bearded man will wander among the angry smooth faces, and he will not find peace even after his death. Thorns look good when withered, but flowers always look good when they are in bloom. The blossoming flower if not on the face, atleast it should be on the heart. That’s why I say that not only on the face, but also on the heart, a beard as Kundalini should grow. With this, when a woman’s love reaches the heart riding on the arrow of Cupid, then it will directly touch the Kundalini, due to which Kundalini can be awakened by mistake. Otherwise, it will be as it once happened in an international mustache competition. In that the great mustache that was declared the winner, say Shiromani or the poor mustache king, started saying with a spontaneous expression that he was enjoying being declared the winner, like a rhinoceros rolling in the mud again and again. One who reads this mustache stotra with devotion, the immense grace of mustache will remain on him throughout his life, and after this life he will get the moustache-abode. Now please do not copy-paste this divine mustache code anywhere, otherwise there can be a wrath of some taav-warmed mustache.😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂~Premyogi {satirist~Bhishm}😄😥🙏

कुन्डलिनी योग में दाढ़ी-मूँछ की भूमिका~ एक आध्यात्मिक हास्यात्मक व्यंग्य

Laughing Buddha

मैं एक पिछली पोस्ट में बता रहा था कि जब मेरी कुन्डलिनी शक्ति जागरण के लिए मूलाधार से ऊपर उठी, उस समय वहाँ महिलाओँ का समूह सामारोहिक नाच गाना कर रहा था। एक महीने से चले आ रहे तीव्र कुन्डलिनी योगाभ्यास से मेरी मध्यम आकार की दाढ़ी उग आई थी। काले बालों के झुंड में उगे कुछेक सफेद बाल दुनिया की भीड़ में साधु पुरुष जैसे भले जान पड़ते थे। इसलिए कई औरतें मुझे भोलेपन, प्यार व अचम्भे से निहार रही थीं। वहाँ पर बढ़ी हुई और मैचिंग दाढ़ी वाले कुछ दूसरे लोग भी थे, जो मुझे विशेष प्यार, आदर और अपनापन दे रहे थे। इससे जाहिर होता है कि दाढ़ी वाले लोग ही असली दाढ़ी की पहचान रखते हैं। हीरे को कौन पहचाने, जौहरी। इसमें हंसने वाली कोई बात नहीं, क्योंकि यह जोक नहीं सच्चाई है। वैसे भी औरतें बढ़ी हुई दाढ़ी से बड़ी प्रभावित और आकर्षित होती हैं। यदि उसके साथ कुन्डलिनी योगाभ्यास भी जुड़ा हो और वह भी तांत्रिक प्रकार का, तब तो कहने ही क्या। इससे भी मेरी सुषुप्त कुन्डलिनी शक्ति को जागने के लिए पर्याप्त बल मिला। असली दाढ़ी वही होती है जो साधना के प्रभाव से खुद उग आए, जिसे उगा के न करना पड़े, और जिसे फैशनेबल बनाने के लिए ज्यादा सौंदर्य प्रसाधन भी न लगाना पड़े। साधना के बल से आंखों में ऐसी चमक पैदा हो जाती है कि बाकि सभी सौंदर्य प्रसाधन उसके आगे फीके पड़ने लगते हैं। दिल में इतना नूर छा जाता है कि चेहरे के नूर पर ध्यान देने का मन ही नहीं करता। बार-बार चेहरे के नकली नूर की तरफ ध्यान न जाए, इसके लिए ही तो आदमी की दाढ़ी अपने आप बढ़ने लगती है। कुछ करने की जरूरत ही नहीं पड़ती। कई लोग ज्यादा आकर्षक बनने के लिए और खासकर महिलाओं को आकर्षित करने के लिए जानबूझ कर दाढ़ी बढ़ाते हैं। साधना का तो वे नाम भी नहीं जानते। कुछ महिलाएं ऊपर ऊपर से तो उनसे आकर्षित होती हैं, पर दिल से उनसे प्रभावित नहीँ होती। पर जो महिला गहरी नजर और साधना का शौक रखती हो, वह तो उससे बेहतर क्लीन शेव आदमी को समझती है। क्योंकि क्लीनशेव पुरुष कम से कम धोखा तो नहीं कर रहा होता है, और बेचारा कम से कम नकली नूर से ही तो काम चला रहा होता है। ये जो कहते हैं न कि समथिंग इज बैटर दैन नथिंग। अब तो मेरी शेविंग किट डब्बे में पड़ी बोर हो रही होगी। पहले मैं नाई की दुकान जाया करता था हेयर ट्रिम करवाने। हफ्ते में एकबार। फेस पर कभी जीरो पर ज्यादातर नंबर एक की ट्रिम सेटिंग रखवाता था। मूछों पर ज्यादातर दो नम्बर की सेटिंग रखवाता था। अब तो मैंने अपना ट्रिमर ले लिया है। अपनी मर्जी से दाढ़ी और मूंछों की लंबाई रखता हूँ। एक दिन तो भाई गजब हो गया। हुआ यह कि दाढ़ी तो मैंने दो नम्बर की सेटिंग से बना ली थी। ट्रिमर के रेगुलेटर व्हील को तीन नंबर की तरफ घुमाने लगा ताकि मूंछें कुछ बड़ी रखता। पर यह क्या, व्हील उल्टा घूम गया। उस समय शाम गहरा जाने से वहाँ रौशनी भी कम थी और मैं भी कुछ ज्यादा ही जल्दी में था। अब इस पापी मन का पेट भरे तब न। वो भी दिन थे जब कई घंटों चल कर नाई की दुकान में पहुंचना पड़ता था। वहाँ भी रंगबिरंगे जंगलों को अपने मुंह पे सजाए लोगों की लंबी लाइन लगी होती थी। एक दाढ़ी के चक्कर में लगभग पूरा दिन बर्बाद हो जाता था। आजकल देवस्वरूप इस ट्रिमर ने घण्टों का काम मिनटों में समेट लिया है, फिर भी चाहिए इस मन को जल्दी। उस जमाने में एकदिन की पूरी कमाई मुंह पर उगे बगीचे की सफाई में लग जाती थी, पर आज यह कंजूस मन बाथरूम मिरर के ऊपर एक अच्छा सा बल्ब लगाने को राजी नहीँ। बगीचा इस आस से बोल रहा हूँ कि शायद कुंडलिनी फल इसीमें पकता हो, क्योंकि अधिकांश योगी बाबा दाढ़ी वाले ही नजर आते हैं मुझे। तीन की बजाय लैंथ सेटिंग एक हो गई थी। एक चौथाई मूँछ एक झटके में साफ हो गई। ट्रिमर कोई कैंची थोड़े ही है, जो संभलने का मौका दे। अधकटी मूँछ रखता तो लोग पता नहीं कौन सी मानसिक बीमारी समझ कर मुझे चिढ़ाते। इसलिए मजबूरी में पूरी मूँछ ही साफ करनी पड़ी और दाढ़ी भी। भला हो इस कोरोना फेसमास्क का जिसने अगली दिन मेरी सेहत को बचा लिया, वरना ताना दे देकर लोग जरूर गिरा देते। अब मार्केट में उपलब्ध स्टाईलिश ट्रिमर मशीनों के आगे रेजर ब्लेड वाला युग बीता हुआ युग लगता है। वैसे भी चिकित्सा विज्ञान के अनुसार क्लीनशेव मुंह ज्यादा गंदा होता है। जब सूक्ष्मदर्शी यंत्र से ऐसे मुंह का निरीक्षण किया गया तब कीटाणुओं की रंगबिरंगी कॉलोनियों के जंगल उसमें पाए गए। मुँह पर रेजर की खरोंच से शरीर के अन्दरूनी सेल्स कीटाणुओं की खुराक बनने के लिए इस तरह से बाहर निकलते रहते हैं, जैसे कि खेत में हल की खुदाई से मिट्टी में दबे कीड़े मकोड़े पक्षियों की खुराक बनने के लिए बाहर निकलते हैं। जब ट्रिमर से साफ किया गया मुँह देखा गया, तब बाहर से तो वह जंगल की तरह लग रहा था, पर अंदर से एकदम चकाचक। इसलिए हम आपको भी यही सलाह देते हैं कि एक अच्छा सा ट्रिमर रख लो और कुन्डलिनी योगी बन जाओ।

मेरे को देखकर बहुत से लोग जटाधारी बन गए। पर यह पता नहीं कि साथ में कुन्डलिनी योगी भी बने या फिर मुंहदिखाई भर के ही योगी बने। अगर योगी भी बनते तो मेरी सूरत के साथ सीरत का भी जायजा लेते। पर यह क्या, दूर-दूर और छिप-छिप के ही उन्होंने मेरी दाढ़ी का नुस्खा चुरा लिया, कुन्डलिनी योग गया तेल लेने। हाँ, तेल से याद आया। कइयों का आरोप है कि मूंछें बहुत तेल पीती हैं। इससे मुझे लगा कि यहाँ वस्तुस्थिति स्पष्ट कर देना जरूरी है, ताकि बेचारी बेकसूर मूंछें यूँ ही बदनाम न होती रहें। दरअसल वे अपनी मर्जी से या अपने ऐशो-आराम के लिए तेल नहीं पीतीं, बल्कि शनिदेव अपनी दिव्य अचिंत्य शक्ति से उनसे अपने लिए तेल पिलवाते हैं। इसलिए उन दाढ़ी-शरणागत लोगों से कुंडलिनी योगा हुआ हो या न हुआ हो, पर उनकी दाढ़ी में लगे तेल से शनिदेव जरूर प्रसन्न हुए होंगे। दोस्तो, आप तो जानते ही हो कि शनिदेव को काला रंग और सरसों का तेल बहोत प्रिय हैं। इसलिए यदि शनि का प्रकोप हो, तो इधर-उधर की जरा भी न सोचें। सरसों के तेल से सींच कर अपने सदाबहार झाड़ को जितना ज्यादा काला, घना और विकराल बनाएंगे, पूज्य शनिदेव उतने ही अधिक फूले नहीं समाएंगे। और आपको यह भी पता होगा कि नाराज शनिदेव जितने बुरे हैं, खुश होने पर उतने ही भले भी हैं। खैर मैं क्या कह रहा था कि अब चिकने चुपड़े लोगों की जगह जटाधारी लोगों का दिखना आम हो गया है। और तो और, नकल करने की होड़ ऐसी लगी कि छोटे बच्चे भी पापा के रेजर से मुँह खंरोचने लग गए, इस आस से कि शायद उनके भी बाल उग आएं। मैं बढ़ी दाढ़ी के फैशन को शुरु करने वाला ऐसा आइकन पीस बन गया कि जब कहीं मुँह की खारिश से परेशान होके मुंह के बाल छोटे करता, तो मिलने वाले लोग बोलते कि भाईसाहब आजकल आप कमजोर हो गए हैं। कमजोर नहीं, बहुत कमजोर। कसूर ट्रिमर का, और उलाहना सुने सेहत। बालों का भला सेहत से क्या रिश्ता। अब तो वे लोग ही जानें कि बालों से ऐसी कौनसी नाड़ी निकलती है, जो सीधी सेहत से जाकर जुड़ती है। और तो और, जो लोग मुझे क्लीनशेव आदमी के रूप में जानते थे, वे भी मेरी दाढ़ी को देखकर बोलते कि मियाँ आप कमजोर हो गए हैं। यह अब एक महान और रहस्यमयी खोजबीन का विषय है कि मुंह के बालों में बदलाव से सेहत कैसे गिर जाती है। सेहत भी सिर्फ उन्हीं लोगों की नजर में गिरती है, जिन्हें चेहरे में बदलाव नजर आता है। उसको खुद को और दूसरे लोगों को सेहत का गिरना जरा भी नजर नहीं आता। मूँछों की बात कोई नहीं करता। पता नहीं क्यों लोगों को मूँछों की बात करना दुखती रग को छूना लगता है। पर सच्चाई यह है कि जो जिंदगी में कभी न हँसा हो, वह भी मूँछों की बात से बतीसी चमकाते हुए हंसी का फव्वारा छोड़ दे। सीधे तौर पर हेयर ट्रिमर को कोई दोष न दे। सबको पता है कि अगर ट्रिमर या बालों को दोष दिया तो उससे लिंगभेद पैदा हो जाएगा। इससे जाहिर होता है कि आजकल के लोग कितने सयाने हो गए हैं, और साथ में लैंगिक समानता के प्रबल पक्षधर भी।

भाईसाहब हम करें भी तो आखिर क्या करें। दाढ़ी मुंडवाएँ तो डाढ़ी वाले लोगों की गैंग से बाहर, और अगर दाढ़ी बढ़ाएं, तो चिकने लोगों की गैंग से बाहर। आगे कुआँ, पीछे खाई। आप मानो न मानो, इस समस्या का हल इलेक्ट्रॉनिक ट्रिमर ही है। इसको लगाके आदमी इधर भी खप जाए और उधर भी। इसको दो नम्बर पर मुंह पर घुमा दो, तो दाढ़ी वाले भी खुश, और चिकने भी खुश। दो नम्बर पर ट्रिमर लगा डाला, तो लाइफ झिंगा-लाला। बौद्धों वाला मध्यमार्ग ही सबसे अच्छा है।  अगर ज्यादा ही असर चाहिए तो नकली दाढ़ी मूँछ रख लो, और चीनी में नमक की तरह हर जगह घुल-मिल जाओ। पर मुंह के बालों से तो व्यक्तित्व की पहचान जुड़ी होती है न। व्यक्तित्व की पहचान गई घास चरने। उसका जरा भी टेंशन नहीँ लेने का। अपुन तो बस मजे का बीन बजाना है। वैसे भी जजमेंटल बोले तो मीनमेख ढूंढते रहना आत्मा के लिए नुकसानदायक होता है। बस देखते रहिए, हंसी-मजाक में ही आप एक महान आध्यात्मिक गुरु बन जाएंगे। आपके तो दोनों हाथों में लड्डू आ जाएंगे।

कहते हैं कि बालों में आत्मा बसती है। आदमी को अपने मुंह के बाल सबसे ज्यादा अजीज होते हैं। मेरा डॉक्टर लोगों से दोस्ताना सम्बंध रहता है, क्योंकि वे बाल की खाल निकालने वाले होते हैं। भला उनसे अच्छा बालों को कौन समझ सकता है। वे बताते हैं कि वेंटिलेटर पर जिंदगी की साँसें गिन रहे लोग भी अपनी मूंछों को साफ नहीँ करवाते। वे अक्सर वेंटिलेटर के काम में भौतिक बाधा पहुंचाया करती हैं। माया मरे न मन मरे, मर-मर गए शरीर; आशा-तृष्णा न मिटे, कह गए दास कबीर। आदमी सब कुछ बर्दाश्त कर सकता है, पर अपने मुँह के बालों की बेइज्जती कभी बर्दाश्त नहीं कर सकता। तभी तो अजीज शख्स को नाक का बाल कहकर भी संबोधित किया जाता है। बेशक नाक का बाल है, पर है तो मूँछ का पड़ौसी ही। और वो पड़ौस ही क्या, जहाँ दिल न मिले। इसी तरह, जब चोर की दाढ़ी में तिनका, यह बोला जाता है, तो आदमी दाढ़ी पे हाथ घुमाए बिना रह ही नहीं पाता, बेशक उसे चोरी की सजा में फाँसी ही क्यों न हो जाए। आपको विश्वास न हो, तो आप प्रयोग करके देख लो। भला किस सच्चे दाढ़ीशुदा आदमी को अपनी प्रियतमा दाढ़ी पर एक अदना सा तिनका बर्दाश्त हो सकता है। और तो और, सिक्ख धर्म में तो केश को धार्मिक महत्त्व का सर्वप्रमुख चिन्ह माना गया है। वहाँ तो केश रक्षा के लिए कटार का चलना भी जायज है। आपने महाभारत की कथा तो सुनी ही होगी न। उसमें पांडव, भगवान श्रीकृष्ण की सलाह पर अश्वत्थामा को मृत्युदंड न देकर उसका पूर्ण मुंडन करते हैं। साथ में माथे की मणि भी निकाल लेते हैं। भाईसाहब, वह मणि और कुछ नहीं, कुंडलिनी ही तो है, जो बालों के साथ खुद ही चलती बनी। वही माथे पर स्थित आज्ञाचक्र पर निवास करती है। अश्वत्थामा ने इसे अपनी मृत्यु से भी ज्यादा अपमानजनक समझा, और फिर देखा नहीं आपने कि कैसे उसने आगे चलकर बदले की कार्यवाही करते हुए ब्रह्मास्त्र चला दिया था, जिससे उत्तरा के गर्भ में झुलसते हुए परीक्षित को कैसे भगवान श्रीकृष्ण ने बाल-बाल बचा लिया था। इधर एक मशहूर नेत्री ने विदेशी मूल की महिला को प्रधानमंत्री बनने से रोकने के लिए अपने पूर्ण मुंडन की धमकी दे डाली, तो उधर एक विश्वविजेता खिलाड़ी ने अपनी कुलदेवी को प्रसन्न करने के लिए अपना पूर्ण मुंडन करा ही डाला। इसी तरह, तिरुपति बालाजी मंदिर में भगवान वेंकटेश्वर को बाल चढ़ाए जाते हैं। मान्यता है कि भगवान वेंकटेश्वर इन बालों की कीमत से कुबेर का कर्ज उतारते हैं। कुबेर सृष्टि के सबसे धनवान देवता हैं। इसका मतलब है कि फिर कर्ज की रकम भी बहुत भारी भरकम रही होगी। तो क्या फिर भगवान वेंकटेश्वर भक्तों से सोना-चांदी नहीं माँग सकते, सिर्फ बाल ही क्यों मांगते हैं। क्योंकि उन्हें पता है कि बाल सृष्टि की सबसे कीमती वस्तु है। वे जानते हैं कि बालों के अंदर आदमी का सारा बॉयोडाटा छिपा होता है। आप गूगल और फेसबुक जैसी कम्पनियों से पूछ कर देख सकते हैं कि डाटा की कीमत क्या होती है। थारे को जवाब मिल जावेगा। इतना इम्पोर्टेन्ट मैटर होने के बाद भी बालों की अचिंत्य शक्ति पर सही ढंग से वैज्ञानिक शोध हुए ही कहाँ हैं अभी तक। मुझे तो लगता है कि आज तक की सबसे कम समझी गई और सबसे जरूरी चीज बाल ही हैं। तो दोस्तो, बात यहीं पर जाकर अटकती है कि दाढ़ी-मूँछ के मामले में लापरवाही बरतना अच्छी बात नहीं है।

कुंडलिनी से भी तो आदमी का इसी तरह का गहरा लगाव होता है। हो न हो, पूरा का पूरा कुंडलिनी रहस्य बालों में ही छुपा हो। तभी तो केशों को पवित्र तीर्थस्थानों पर बहाने का रिवाज है। एक बार मैं दुश्मन इलाके में बैठे नाई से बाल साफ करवाने चला गया। समझ लो, यह मेरा एक रिसर्च प्रोजेक्ट था। मैं एक देसी वैज्ञानिक जो ठहरा। यह अलग बात है कि मेरी इन शुद्ध देसी खोजबीनों पर कोई ध्यान नहीं देता। फिर क्या था, उसके बाद वहां के लोग मेरे अजीज और मैं उनका अजीज। बालों की चमत्कारिक शक्ति को देखकर मैं दंग रह गया। बालों के रहस्यमयी टोटकों पर अभी ढंग से रिसर्च नहीं हुई है भाई साहब। मुझे तो पूर्ण विश्वास है कि बालों में ही सभी समस्याओं का हल मिल जाए। हमारे प्राचीन ऋषि मुनि बड़े पहुंचे हुए वैज्ञानिक हुआ करते थे। न हींग लगाते थे, न फिटकरी, और रिसर्च इतनी गहरी, जिसे छूने तक की हिम्मत आज की बड़ी-बड़ी प्रयोगशालाएं न कर सके है। तांत्रिक टोटकों को ही देख लो। कैसे पहुंचे हुए तांत्रिक, आदमी के सिर्फ एक बाल से पूरे आदमी को वश में कर लेते हैं। महिलाएं ऐसे केशतंत्र का ज्यादा शिकार बनती हैं, क्योंकि उन्हें ही अपने केश सबसे प्रिय होते हैं। बालों के इस छोटे से टोटके के आगे सारा आधुनिक विज्ञान फेल।। यह तो एक छोटा सा उदाहरण है। हमारे साथ बने रहिए, और देखते रहिए, आगे-आगे क्या होता है।

आदमी का त्वरित रूपांतरण जैसे कुंडलिनी जागरण से होता है, वैसे ही मूँछ काटने से भी होता है। इसीलिए पुराने जमाने में लोग अपने पापों से छुटकारा पाने के लिए अपनी मूँछ काट दिया करते थे। तभी से अपनी मूँछ बचाने की कहावतें बनीं। उदाहरण के लिए मूँछ ऊंची रखना, मूँछ न कटने देना, मूँछ का सवाल होना, मूँछ को शर्मिंदा न करना, मूँछ की लाज रखना, मूँछ की शर्म करना आदि बहुत सीं। सच भी है, सोने के जेवर की तरह अच्छी तरह से संभालकर रखी हुई मूँछ बुरे वक्त पे काम आती है। मुझे भी एकबार प्यार-संभाल कर रखी हुई मूंछों ने ही बचाया था। हुआ यह था कि मैं अपने बीते हुए जीवन से पूरी तरह उदास और निराश हो गया था। फिर किसी दैवकृपा से मिले एक गुरु सदृश तजुर्बेदार व्यक्ति ने मुझे मूँछ साफ करने की सलाह दी थी। वे खुद भी अपने नित नए नवेले चेहरे के शौकीन थे। दरअसल वे मेरे कॉलेज टाइम के रंगीन मिजाज के प्रोफेसर ही थे। कॉलेज की लड़कियां तो उनसे बड़ा लगाव रखती थीं। एकबार तो लगाव इस हद तक बढ़ गया था कि कुछेक छात्राओं को अपने साथ छेड़छाड़ की आशंका पैदा हो गई थी। भगवान जाने क्या-क्या मामले रहे होंगे। खैर, वे मूंछों की वजह से मेरे ऊपर ढाए गए सितम से अच्छी तरह वाकिफ थे। आपको तो पता ही है कि कॉलेज लाइफ में चिकने चेहरों की ही तूती बोलती है। मूंछों वालों को तो वहाँ पर बाबा बोला जाता है। बाबा भी अगर असली समझे, तब तो बात भी बने न। अब तो बाबा का मतलब भंगी, पगला, इश्क-विश्क में हारा हुआ और पता नहीं क्या-2। घिन्न आती है सोचकर भी। और तो और जितना भी आप अकल का घोड़ा दौड़ा सकते हो नकारात्मक लफ्जों के मैदान में, दौड़ा लो, सबका पर्यायवाची बाबा ही दिखेगा आपको। लापरवाह तो बाबा, भाँग पिए तो बाबा, शराब पिए तो बाबा, हड्ड चबाए तो बाबा, लुगाई संग घूमण लागे तो बाबा, मार-कुटाई करे तो बाबा। बस-2, समझदारों को इशारा ही काफी होता है। असली बाबा को बाबा कहोगे, तो चिमटा पड़ेगा। बाबा क्या दहेज में मिला शब्द है, जिस मर्जी के साथ मन किया, चिपका दिया। असली बाबाओं में एकता ही कहाँ, जो कोर्ट में पेटिशन दायर कर सके। कहते हैं न कि शेर अकेला चलता है, झुंड में तो भेड़-बकरियां चला करती हैं। इधर असली जाति-वर्ग को असली नाम से नहीं बुला सकते, और उधर जहाँ देखो, बाबा-बाबा-बाबा। तौबा के लिए, न बाबा न। बच्चियां नूं पुचकारण लई, ओ मेरा बाबा। इह तां माड़ा जिहा जचदा वी है, किवें कि बाबा ते बच्चे दोनों ही सौखे हुंदे हन। और अब तो नया ही ट्रेंड चल पड़ा है, माई क्यूटी बाबा। बाबा की मशहूरी का आलम यह कि एकबार मेरी पत्नी देवी ने मुझे प्यार से बाबा क्या कह दिया, मेरा छोटा सा बेटा हँसता ही जाए, हंसता ही जाए। मैंने पूछा मेरे बाबा इतना क्यों हँस रहे हो। तो वह मेरी तरफ अंगुली करके हँसते हुए बोला, बा-बा ब्लैक शीप। आजकल के बच्चे भी न कितने समझदार हो गए हैं। बाबा बरगा यूनिवरसल बोल नी देख्या अड़यो। कभी उस्ताद पहुंचे हुए हुनरमंद को कहते थे। आज भंगी ट्रक ड्राइवर को बोलते हैं। एक बार मैंने एक देसी इंजीनियर को तारीफ में उस्ताद क्या बोल दिया, उसने अगले ही दिन मुझे मानहानि का नोटिस भिजवा दिया। हाय राम, ये शब्द हैं के देसी तोप के गोले। गुरु शब्द बड़ा पवित्र अल्फाज़ माना जाता है। पर एक हिजड़े के निर्माण के दौरान भी इसका बहुत प्रयोग होता है। वहाँ पर कामदेव के शहर को उजाड़ने वाले एक्सपर्ट शख्स को भी गुरु बोला जाता है। कोई गलत काम करके आए, तो सबसे पहले इन्हीं शब्दों से स्वागत होता है, वाह गुरु। अब समय आ गया है कि हम पवित्र शब्दों की मर्यादा को बचाएं। अगर देशद्रोही को बचाने के लिए आधी रात में कोर्ट खुलवाए जा सकते हैं, तो इन शब्दों को बचाने के लिए क्यों नहीं। जबकि ये शब्द तो सबसे बड़े देशप्रेमी हैं, क्योंकि ये हमारी सनातन संस्कृति की रक्षा करते हैं। मैंने तो अपने समझदार मित्रों से साफ-2 शब्दों में कहलवा दिया है कि या तो वे मेरे आध्यात्मिक लेख न पढें, या फिर मुझे सपने में भी गुरु और बाबा न बोलें। एक चालू सा दोस्त मुझे बार-2 शरीफ कहकर चिढ़ाता था। मैंने उसे खरी-2 सुनाते हुए चेता दिया कि भले ही वह पाकिस्तान जाकर नवाज शरीफ को शरीफ बोल आए, पर मुझे कभी शरीफ न बोले। उसके बाद वो मुझे नेस बोले तो अंग्रेजी का अच्छा बोलने लगा। हाँ, तो मैं क्या मूल प्रवचन दे रहा था कि अब वे हरफनमौला महोदय अपने योग्य शिष्य को कैसे न पहचानते, सो उन बिन बुलाए गुरु ने पहली ही मुलाकात में मुझे प्रेम, गर्व, मुस्कान और गर्मजोशी के साथ सबसे प्रिय या सच्चा शिष्य कुछ ऐसा कहकर संबोधित कर दिया। वो मेरी मूंछों का काला झाड़ देखकर कुछ औंच जैसे भी गए थे, पर ये तो घुल-मिल कर उन्हें बाद में पता चला था कि मेरे दिल पर तो मूंछें थीं ही नहीं। बाद में कभी बता रहे थे कि तू डेंजरस हुआ करता था। मैंने भी स्पष्टीकरण दे दिया था कि वो मेरी मूंछें डेंजरस थीं, मैं नहीं। झाड़-साफ-दिमाग तो थे ही, इसलिए एकदम से समझ गए। फिर जाके ढंग से घुल-मिल पाए, नहीं तो मुच्छड़ों और मुच्छकटों की प्रॉपर हुकिंग कहाँ। कहाँ-2 की सुनाऊँ, इन वफादार मूछों ने कहाँ-2 नहीं बचाया है मुझे। अब तो लगता है कि कुत्ते उनके घने बालों के कारण ही वफादार होते हैं। एक-दो मुच्छकटे और 1-2 मुच्छड़ लोग भी उनके अगल-बगल में, उनसे कुछ इधर-उधर की हांकते कामकाजी चहलकदमी कर रहे थे। अपने प्रति उनके अंदर इतने सारे सुंदर और मजबूत भाव, वो भी एकसाथ देखकर तो मैं दंग ही रह गया। साथ में मैं अपने को खुशकिस्मत भी समझने लगा कि उन्होंने मुझे मुच्छड़ शिष्य नहीँ कहा। वो भाव-प्राकाट्य उन्होंने इतनी तेजी से किया कि जबतक उनके एकदम चिकने चेहरे से मेरी नजर हटती और मैं उनसे कुछ कह पाता, तब तक वे वहाँ से रुखसत भी कर गए थे। उस समय तो मुझे लगा था कि शायद जोक कर रहे होंगे, पर अब समझ आ रहा है कि वह जोक नहीं, उनका सच्चा मुच्छकटा आशीर्वाद था। वे खुद मुच्छड़ों और मुच्छकटों के अघोषित गठबंधन के सताए हुए लगते थे। बाद में तो मुझे उनसे यह गम्भीर शिकायत भी सुनने को मिली कि उन्हींके शिष्यगण उन्हें अपने चेहरे का बंजर मैदान दिखाकर चिढ़ाया करते थे। शायद इसी वजह से कई बार अपनी मुच्छों को टेबल पर सजा देते थे। हो सकता है कि वे कॉलेज टाइम की मेरी तांत्रिक गुरुभक्ति की निष्ठा को संयोगवश ताड़ गए हों। उनको भोले शंकर और कामदेव का एकसाथ आशीर्वाद प्राप्त लगता था। उस समय उनकी जिंदगी का चिकना और फैशनेबल चेहरा रखने का दौर चल रहा था। इसलिए मूँछ-छेदन संस्कार की दीक्षा उनसे लेना ही मैंने सबसे उचित समझा। उन गुरुदेव की सलाह पर मूँछ काटने से मेरा जबरदस्त रूपांतरण हुआ और उस नाजुक दौर में उन्होंने मुझे ऐसे संभाला जैसे एक कुंडलिनी गुरु अपने शिष्य को कुंडलिनी रूपांतरण के नाजुक दौर में संभालता है। मूँछ काट कर चिकना चेहरा बनने से मुझे ऐसा लगा जैसे कि मेरी जिंदगी का रिफ्रेश बटन दबा हो। जैसे कि मूँछों के साथ बीती जिंदगी भी उतर गई हो, और मैंने एक नया सा जनम ले लिया हो। मुंडन साईंस अब कुछ गले उतर रही है। कुंभ में भी नागा साधु बनने आए लोगों के सिर और चेहरे का पूर्ण मुंडन करके ही उनका माईंडवाश किया जाता है, ताकि वे पिछली जिंदगी में कभी वापिस लौट ही न सके। इसी तरह, बौद्ध भिक्षु इनसे भी एक कदम आगे रहते हैं। वे हमेशा ही पूर्ण मुंडन करवाए रखते हैं, ताकि आम लोग उनके संपर्क में कभी आ ही न सके, और आकर उनकी साधना में विघ्न न डाल सके। अब केशप्रेमी लोग कहाँ जाने लगे मुंडक सभाओं में। कुछ किस्म के मुसलमान भाई तो काफिरों से अलग दिखने के लिए अलग ही नायाब नुस्खा अपनाते हैं। वे मूँछों को तो साफ कर देते हैं, पर दाढ़ी को बड़ा पालते-पोसते हैं। तो कुछेक बकरे के जैसी दाढ़ी रखते हैं। रब खैर करे। कहीँ पर लोग दाढ़ी पर चित्र-विचित्र डिसाईन और नक्शे आदि बनवाते हैं। भाई उनके नेचरल आर्ट को तो दाद देनी पड़ेगी। न रँग लगे, न कैनवास, बस एक बढ़िया सी कैंची चाहिए। कुछ लोग चार्ली चैपलिन की तरह नाक के ठीक नीचे, मधुमक्खी के जितनी मिनी मूँछ रखते हैं। इससे उन्हें नई ही उमंग का एहसास होता है। ऐसी मूँछ रखते हुए भी डर लगता है कि कहीं खुराफाती लोग मधुमक्खी को भगाने का झूठा बहाना बनाकर मुंह पर थप्पड़ ही न मारते रहे। कुछ लोग बहादुरी का प्रदर्शन करने के लिए दोनों तरफ को लम्बी, उठी हुईं और पैनी मूंछें रखते हैं, जैसे कि जाबांज फाइटर पायलट अभिनन्दन। सुनने में तो यह भी आया कि उनकी मूँछों के डर से ही पाकिस्तान को उन्हें चौबीस घंटे के अंदर रिहा करना पड़ा था। कुछ लोग अपने आप को विशिष्ट जताने के लिए दाढ़ी-मूँछ को मेहंदी या बनावटी रसायनों से लाल रँगाते हैं, तो कुछ उन्हें कज्जली काला कर देते हैं। बेचारे आम गरीब आदमी को ही मन मसोस कर झुंड की खाल के अंदर रहना पड़ता है, क्योंकि यदि वे विशेष बनने लगेंगे, तो खाएंगे क्या। लोगों के इस मिजाज से अंदाजा लगाया जा सकता है कि प्राचीन काल में मूँछों का वास्तुशास्त्र जरूर रहा होगा। फिर हो सकता है कि वह मध्ययुग में जिहादियों द्वारा जला दिया गया हो। उसमें उन्हें अपनी अय्याशीपरस्त मूँछों की तौहीन नजर आई हो। भला एक अमनपसंद शख्स को अमन का बेइंतेहा पैग़ाम देने वाली पाक-साफ मूँछों की शान में गुस्ताखी कैसे बर्दाश्त हो सकती थी। तौबा-तौबा। प्रथमद्रष्टया तो यही लगता है कि इस तरह की विकृत मूँछ-विद्या से ही हिंदुओं के अनगिनत धार्मिक स्थल नेस्तनाबूद किए गए हैं, और असंख्य धार्मिक ग्रन्थ सुपुर्दे खाक किए गए हैं। तो भाइयो मैं अपनी मूँछमुंडन से जुड़ी आपबीती बता रहा था कि कैसे उससे डिप्रेस करने वाली वर्तमान की, कॉलेज की और बेरोजगारी की जिंदगी चली गई थी रिसाइकिल बिन में, और बचपन के साथ स्कूल टाइम की जिंदगी आ गई थी रिसाइकिल बिन के कचरे से निकल कर मेरे मस्तिष्क के डेस्कटॉप पर। ऐसा लगा जैसे मेरे दिमाग की वही पुरानी विंडो अपडेटिड वर्शन के साथ रीइंस्टॉल हो गई हो। वही पुराने जीवन के ख्याल, पर अनौखे और हुस्न से भरे अंदाज में। दोस्तो, बहुत तरक्की की मैंने उस दौर में। मेरी तरक्की का बाहरी माहौल तो पहले से ही बना हुआ होगा, बस भीतरी माहौल डगमगा रहा था, जिसे मेरे चिकने चेहरे ने संभाल लिया। जब मेरी हालत स्थिर हो गई, तब मैंने फिर से चेहरे पे फसल उगाना शुरु कर दिया। बर्फबारी के दिनों में तभी तो अनाज मिलेगा न जब पहले से फसल इकट्ठी कर रखी हो। मित्रो, मूंछों के सभी रहस्यों से पर्दा उठाने लगूँ तो एक पूरा मूँछ पुराण बन जाए। हाय, ये लेखन भी भला क्या अजीब बला है न। हाथ थक जाते हैं, पर मन नहीं थकता। और अगर तो मूँछ जैसा रोमांचक विषय हो, तब तो सवाल ही पैदा नहीं होता कि मन थक जाए। तजुर्बेदार बुजुर्ग लोग कहते हैं कि महिलाएं शादी से और पुरुष रण से वापिस नहीं लौटते। इसी तरह मूँछ जैसे दिलछेड़ विषय के लेखक की लेखनी कभी कागज से वापिस नहीं लौटती। इसलिए सब्र बनाकर पढ़ते रहना, ताकि लेख के अंत में आप भी अपने को मूँछ विशेषज्ञ बना हुआ पाओ। दरअसल मूंछों को हटाने से मेरी बरसों पुरानी दबी पड़ी कुंडलिनी ऐसे चमकने लगी थी, जैसे झाड़ को हटाकर उसके अंदर दबी पड़ी सोने की अंगूठी चमकती है। यह भी एक शोध का विषय है कि क्या मूँछों का अंधेरा चमकदार कुंडलिनी को ढक कर रखता है। मूंछें साफ करने का सबसे बड़ा फायदा मुझे यही हुआ कि मैं अपनी कुंडलिनी को अच्छी तरह से पहचान पाया था। फिर मैंने पीछे मुड़कर नहीं देखा। वो मुझे जहाँ लेके जाती रही, मैं वहाँ हो आता रहा, और वह हर प्रकार से मेरा भला ही करती रही। कुंडलिनी के आगे जैसे मैं बच्चे की तरह नँगा ही हो गया था। मूँछे उड़ाने और नंगे होने के बीच में कोई ज्यादा अंतर है भी नहीँ। मैंने उसके आगे अपने आप को समर्पित कर दिया था। कुंडलिनी के सहयोग से कड़ी मेहनत करके मैंने कामयाबी के बहुत से कीर्तिमान स्थापित किए दोस्तो। कुंडलिनी स्त्रीलिंग में थी, तभी तो कुंडलिनी को एक स्त्री की तरह संबोधित किया जाता है। ये जो प्यार-व्यार और शादी-ब्याह का खेल भौतिक जगत में चलता रहता है न, बिल्कुल ऐसा ही मन के सूक्ष्म जगत में भी चलता रहता है। फिर क्या था, उस स्त्रीलिंग कुंडलिनी को देखकर पुलिंग गुरु भी पहुंच गए मूँछ-मुस्कुराहट बिखेरते हुए गाजे-बाजे के साथ। दोनों ने शादी की, रोमांस किया, बच्चे पैदा किए और फिर दोनों बुड्ढे होकर एक-दूसरे के प्रति उदासीन जैसे भी हो गए। वो मेरे सूक्ष्म माँ-बाप मुझे छोड़कर जा रहे थे। मैं कुछ उदास रहने लग गया था। तभी मैंने कुंडलिनी योग का अभ्यास शुरु किया और उन मुच्छड़ गुरु (कुंडलिनी) की मूँछ खींचकर उन्हें फिर से जगा दिया बोले तो एकदम मस्त कुंडलिनी जागरण। तब जाकर मैंने कुछ राहत की साँस ली और घर की खेती को फिर से उगाना शुरु कर दिया। पर आज भी मैं बड़े झाड़ से डरता हूँ। पुराना सदमा जो गया नहीँ मेरे दिमाग से पूरी तरह। पता नहीं क्यों अंधेरा जैसा लगता है इसके नीचे। क्या सबको लगता होगा, या मेरेको ही। इसकी सफाई से क्या सबकी कुंडलिनी चमकती होगी, या सिर्फ मेरी ही चमकी थी। यह सब साझे शोध और अनुभव से ही पता चल सकता है। इसलिए मैं इनकी इस तरह से छंटाई करता रहता हूँ, ताकि इनकी जड़ तक हवा और रौशनी जाती रहे। पर मुझे लगता है कि यह मन का वहम भी है। कुंडलिनी जागरण के समय तो मेरे पूरे चेहरे पर झाड़ पसरा हुआ था, हालाँकि वह मध्यम आकार का था, पर था तो घना झाड़ ही। उस समय तो हर जगह प्रकाश ही प्रकाश था। इससे जाहिर होता है कि सबकुछ देश, काल और मानसिकता पर निर्भर करता है। इसलिए जैसा अच्छा लगे, वैसा करना चाहिए, पर कुंडलिनी के लिए प्रयास हमेशा करते रहना चाहिए। यदि घासफूस की तरह हल्की कुंडलिनी को यह मूँछों का झाड़ दबा कर रखता है, तो फनदार कोबरा नागिन की तरह फुफकारे मारने वाली शक्तिशाली कुंडलिनी को दुनिया की नजरों से बचाते हुए संभालकर भी यही रखता है। इसीलिए तो मैंने कहा न कि वक़्त की भाषा पढ़नी आनी चाहिए, और सर्वहितकारी मूँछों का हमेशा सम्मान करना चाहिए। वक्त के अनुसार आदमी खुद चलता नहीं, और दोष मढ़ता है मूँछों के सिर। सबसे ज्यादा दुरुपयोग आदमी ने मूँछों का खुद ही किया है। मूँछों की शक्ति से पता नहीँ कितने अनैतिक काम किए हैं उसने। मूँछों की अथाह शक्ति का अंदाजा इसीसे लगाया जा सकता है कि सिर्फ इनके ऊपर प्यार भरा हाथ फेरने से ही जोश कई गुना बढ़ जाता है। ए लो जी, इस क्रिया के लिए मूँछ-विशेषज्ञों द्वारा प्रदत्त नाम भी याद आ ही गया, मूँछ पर ताव देना। बड़ा गूढ़ नाम है यह। आप सोच भी नहीं सकते कि ताव का अर्थ यहाँ ताप या गर्मी है। जैसे मालिश की गर्मी से सरोबार पहलवान अंगड़ाई लेते हुए उठ खड़ा होता है, ऐसे ही मूंछें भी। उपरोक्त कुछ मुख्य वजहों से मूँछों की इज्जत आज इस कदर गिर गई है कि लड़की वाले सबसे पहले यही पूछते हैं कि कहीं लड़का मूँछों वाला तो नहीं है। कभी मूँछ वाले का समाज में विशिष्ट रुतबा हुआ करता था। आज तो आलम यह है कि मूँछों को यह लोरी-गीत सुनाकर शांत करना पड़ता है, मत रो——-~मेरी मूछ, चुप हो जा——नहीँ तेरी पूछ। जो कुकाल में होता है, बुरे हाल में होता है; ऐ यार मेरे साथ तेरे वही तो हुआ; मत रो—–~~~~—–। दोस्तो, यह ट्रेंड बदलना चाहिए, और हमें बेकसूर को बचाने के लिए मिलकर आगे आना चाहिए। और आगे की कहें, तो डाकुओं का भी मूँछों की बदनामी में भारी हाथ रहा है। हमारे समाज के लेखकों और कवियों ने भी मूँछों को डाकुओं के साथ बहुत जोड़ा है। यह कहीं पढ़ने में नहीं आता कि बड़ी-2 मूँछों वाला विद्वान। और तो और, देवियाँ भी पीछे नहीं रही हैं। उनका भी बच्चों को सुलाने के लिए बड़ी-2 आँखों के साथ, डरावनी मुद्रा में अक्सर यही डायलॉग होता है, बड़ी-2 मूँछों वाला-ला-ला-ला—–। अब इससे ज्यादा क्या कहूं, विलुप्ति की कगार पर खड़ी मूँछों को बचाने के लिए उनकी खोई इज्जत वापिस लौटाना जरूरी है कि नहीँ। वैसे मेरे चेहरे पर घनी दाढ़ी आती ही नहीं। इससे इसकी जड़ों में हवा व रौशनी खुद ही लगातार पहुंचती रहती है। हो सकता है कि मेरी सदाबहार कुंडलिनी के पीछे इसी अधमुंडी किस्म की मूँछों का हाथ हो। इसको लेकर मेरी घरवाली बोलती रहती है कि आप दाढ़ी के साथ लड़की जैसे लगते हो। इसलिए कई बार मेरे मन में आता है कि क्यों न इस नपुंसकता की निशानी को जड़ से ही उखाड़ फेंकूँ। पर तभी यह भी सोचता हूँ कि अगर भरी बरसात के बीच खेत को बंजर रहने दिया, तो जालम गर्मी के दिनों में क्या खाएँगे। अगर सर्दियों में ही सारे कपड़े उतार दिए, तो गर्मियों में क्या उतारेंगे।

दोस्तो, मैंने यह भी महसूस किया कि खाली मूँछ की बजाय दाढ़ी-मूँछ का मिश्रण ज्यादा दार्शनिक होता है। कहते हैं न कि चेहरा मन का आइना होता है। आईने के अंदर सुंदर बनने से उसके सामने खड़ा आदमी खुद ही सुंदर बन जाता है। इसलिए चेहरे पर अद्वैत दर्शन बना कर रखने से मन में खुद ही अद्वैत छा जाता है। मुख्य भूभाग को बंजर रखना और पहाड़ी की तलहटी में बनी छोटी सी पथरीली क्यारी में झाड़ ऊगा कर रखना समझदारी का काम भी तो नहीं लगता। तो इस समस्या को देखते हुए मैंने पूरे भूभाग में बिजाई शुरु कर दी थी। पर फिर एक नई समस्या आन पड़ी थी। फसल के एकमुश्त कटान के बाद पूरा भूभाग बंजर और नँगा लगता था। कोई सीधा आसमान से जमीन पर आ गिरे और खजूर भी न मिले अटकने को, तो उसकी व्यथा-पीड़ा आप खुद भी समझ सकते हैं। साथ में, द्वैत या यूँ कह लो कि बदलाव के झटके ऐसे लगे, जैसे सर्द-गर्म के लगते हैं। और भाई ये मनहूस द्वैत तो मन का सबसे बड़ा रोग है न। तो दोस्तो, दोनों समस्याओं से बचने का एक ही मध्यमार्ग वाला तरीका बचा था। क्यारी की फसल को जमीन से न काटकर थोड़ा ऊपर-2 से काटा जाए। इससे क्या हुआ कि फसल कटान के बाद भी थोड़ी-बहुत हरियाली बची रही। उससे लोगों की आंखों का नूर भी बरबस बना रहा, और द्वैत या बदलाव पर भी काफी रोक लग गई। यहाँ एक दार्शनिक पेंच और है। दरअसल अद्वैत का निर्माण द्वैत से ही होता है। इसलिए जो सौ टके का दार्शनिक मिस्त्री है, उसके लिए तो द्वैत पैदा करने वाली विकराल मूंछें किसी सोने की ईंट उगलने वाली खदान से कम नहीं हैं। वह तो उनकी चिनाई करने से पहले उनके साथ मन के काम, क्रोध जैसे दोषों का मिक्चर सीमेंट-मोर्टार की तरह चिपकाता है, फिर उनसे अव्वल दर्जे के अद्वैत-महल तैयार कर लेता है। उसकी बसाई अद्वैत नगरी के आगे कुबेर की अलकापुरी क्या मायने रखती है। हो न हो, अलकापुरी इन्हीं मूँछ-महलों को कहा गया हो। वैसे भी कुबेर की मूंछें भी बड़ी सुंदर बताई जाती हैं। मैंने भी एकबार इसी तरह त्रिलोकलुभावन अद्वैत-नगरी का निर्माण किया था। उस समय मेरे पास बड़े-2 मिस्त्री ज्ञानप्राप्ति के लिए दूर-2 से घुटनों के बल आते थे।

इसी केशप्रेम की विचित्र मानसिकता के कारण ही आदमी अपने जैसे बालों वाले आदमी के साथ ही घुलना-मिलना पसंद करता है। इसी विकृत मानसिकता के परिणामस्वरूप ही तो तालिबानियों ने पूरे अफगानिस्तान में सभी को दाढ़ी रखने का फरमान जारी किया था। पर स्त्री उसे कम से कम बालों वाली चाहिए, खुद वह बेशक कितने ही लंबे बाल क्यों न रखता हो। पर स्त्री के मामले में उसका यौनस्वार्थ जो जुड़ा होता है। वह उसके केशस्वार्थ पर भारी पड़ जाता है। इसी तरह अपने बच्चे कैसे ही बालों वाले क्यों न हो, सभी अच्छे लगते हैं। इसमें भी अप्रत्यक्ष रूप से यौनस्वार्थ ही जुड़ा होता है। इससे साफ जाहिर होता है कि केशभाव और यौनभाव ये दोनों सबसे शक्तिशाली भाव हैं। तांत्रिक इन दोनों का महत्त्व अच्छी तरह से समझते हैं, इसलिए दोनों को संभाल कर रखते हैं। अब कुछ समझ में आ रहा है कि भगवान शिव के जैसे महान तांत्रिक जटाधारी और मस्तमौला क्यों होते हैं।

कई बार तो मुझे लगता है कि यदि कुन्डलिनी जागरण के समय मेरी दाढ़ी न बढ़ी होती, तो मुझे कुन्डलिनी जागरण ही न होता। क्लीनशेव होने से मैं अपना चिकना चुपड़ा मुंह लेकर उन गाने बजाने वाली औरतों के इर्दगिर्द इस प्रकार मंडराता ही रहता, जिस प्रकार एक बार नारद मुनि अपना बंदर का मुख लेकर पूरी स्वयंवर सभा में सबकी आंखों से आंखें मिलाते हुए मंडराते फिरे थे। उससे मुझे उस दोस्त से मिलने का मौका ही न मिलता जिससे मैं कुन्डलिनी की याद में खो गया था। साथ में अगर अपने जैसे नामर्द चिकनू को देखकर कोई औरत इशारे में भी दिल में चुभने वाला ताना कस देती, तब तो जागरण का प्रश्न ही पैदा न होता। ताने से तिलमिलाए नारद ने भी तो कपटी कहकर भगवान विष्णु की खटिया खड़ी नहीँ कर दी थी वैकुंठ में जाके, जागरण गया गेहूँ बीजणे जाँ बांदर भगाणे। हाँ, तो मैं क्या कह रहा था कि उस उलाहने से कुन्डलिनी में खोने की बजाय मेरा दिल उलाहने में खोने लगता। स्त्री की नाराजगी और स्त्री के उलाहने से भयानक चीज इस दुनिया में कुछ नहीँ है यारो। आदमी सब कुछ भूल सकता है, पर एक औरत का उलाहने से भरा नाराज चेहरा कभी नहीं भूल सकता। अगर औरत की नाराजगी से घायल दिल आदमी कुन्डलिनी जागरण क्या भगवान को भी पा ले, तो भी भगवान उसे उस नाराज औरत के चरणों में पड़कर माफी मांगने के लिए भेजते हैं, तभी अपने अनदेखे महल का अनदेखा मेन गेट उसके लिए खोलते हैं। वरना आदमी को उस अनदेखे महल को बाहर-बाहर से ही देख कर संतोष करना पड़ता है। इसकी कोई गारंटी नहीं कि औरत मान ही जाएगी। यह उस पर और आपके मन की पवित्रता पर निर्भर करता है। कई बार औरत माफी मांगने आए मर्द को कोई दूसरा ही उलाहना मार देती है। इससे वह कहीं का नहीं रहता, एक धोबी के कुत्ते की तरह, न घर का न घाट का। वह फिर से वापिस मुड़कर अनदेखे भगवान को दूर खड़े देख कर उसके पास पहुंच जाता है। भगवान उसे थोड़ा सा पुचकारते हैं, और फिर औरत के चिकने चेहरे को शांत करने के लिए वापिस रवाना कर देते हैं। कई बार तो बेचारा मर्द स्त्री और भगवान के बीच में गेंद ही बन कर रह जाता है। यह सिलसिला तब तक चलता है जब तक कोई अन्य दयालु और भाव से भरी स्त्री उस अभागे मर्द को थाम नहीं लेती। ये जो कहते हैं न कि लोहा ही लोहे को काटता है। दरअसल उस स्त्री को भगवान ही भेजता है अपनी दिव्य शक्ति से प्रेरित करके। इसलिए मेरी सलाह मानो, भगवान की कुछ मदद करने के लिए एक अच्छी औरत को भी ढूंढते रहा करो। स्त्री के मामले में डायरेक्ट एक्शन तो भगवान भी नहीं ले सकता। वह भी मामले का निपटारा एक स्त्री को भेजके ही कर सकता है। भगवान भी बेचारा सच्चा है। एक औरत के आगे उसकी भी नहीं चलती। अपनी पत्नी के डर से ही तो वह अपनी सभी मूर्तियों और चित्रों से मूंछें गायब कर देता है, नहीं तो उसके जैसा समदर्शी महानुभाव मुच्छड़ों के साथ क्यों पक्षपात करता। औरत के नाराज चिकने चेहरे की ज्वाला उसके अनछुए महल तक को छूने लगती है। वो करे भी तो क्या करे। यदि वह औरत के साथ सख्ती करे तो उसके बगल में बैठी उसकी पत्नीदेवी उलाहना मारते हुए, नाराज होकर चली जाए। वो भला अपने भक्त को चिकने चेहरे की ज्वाला से बचाने के लिए खुद क्यों उसका शिकार बने। मुझे तो चिकने लोगों पर यह सोचकर तरस आ रहा है कि कहीं वे स्त्री के कोप से बचने के लिए ही तो चिकने नहीं होते। औरत को उनका चिकना चेहरा देखकर उनपर तरस आ जाता होगा। चिकने चेहरे से औरत को बच्चे की याद जो आती है। वैसे भी औरतें बच्चों पर सबसे ज़्यादा मेहरबान होती हैं। पर ये चालाकी ज्यादा दिन नहीं चलती। गलती से अगर चेहरे पर दो बाल भी उग आए, तो वह पिछली सारी कसर सूद समेत निकालती है। इसलिए पुरजोर आवाज से कहता हूँ कि औरत के जैसा चिकना-चुपड़ा चेहरा बनाने से पहले औरत के द्वारा निभाई जाने योग्य जिम्मेदारियां भी समझ लेनी चाहिए। अगर ऐसा न किया गया तो बेचारे अमनपसंद दाढ़ीदार आदमी की आत्मा नाराज चिकने चेहरों के बीच ही भटकती रहेगी, और उसे मरने के बाद भी शांति नहीं मिलेगी। कांटे तो मुरझाए हुए ही अच्छे लगते हैं, पर फूल तो हमेशा खिले हुए ही अच्छे लगते हैं। खिला हुआ फूल चेहरे पे न सही, दिल पर ही सही। इसलिए कहता हूँ कि सिर्फ मुंह पर ही नहीं, दिल पर भी कुन्डलिनी रूपी दाढ़ी उगी होनी चाहिए। इससे जब औरत का प्यार, कामदेव के पुष्पबाण पर सवार होकर दिल तक पहुंचेगा तो वह सीधा कुन्डलिनी को लगेगा, जिससे कुन्डलिनी गलती से जागृत भी हो सकती है। नहीँ तो ऐसा होगा जैसा एकबार अंतरराष्ट्रीय मूँछ प्रतिस्पर्धा में हुआ था। उसमें विजेता घोषित किए गए दिग्गज मूँछ शिरोमणि या बेचारे मुच्छड़ महाशय कह लो, सहज उद्गार प्रकट करते हुए कहने लगे थे कि उन्हें विजेता घोषित होते हुए ऐसा मजा आ रहा था, जैसा एक गैंडे को बार-2 कीचड़ में लोटते हुए आता है। जो इस मूँछ स्तोत्र को श्रद्धापूर्वक पढ़ेगा, उसपर जीवनभर मूँछों की अपार कृपा बनी रहेगी, तथा इस जीवन के बाद उसे मूँछलोक की प्राप्ति होगी। अब कृपा करके इस दिव्य मूँछ संहिता को कहीँ कॉपी पेस्ट न करिएगा, नहीँ तो किन्हीं ताव-(प्र)चोदित मूँछों की गाज कहीँ व्यंग्यकार पर ही न गिर जाए।😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂😂~प्रेमयोगी {व्यंग्यकार~भीष्म}😄😥🙏

Kundalini as the best weapon to calm down the mind chattering

Friends, People tell their own remedies to calm the nonsense thoughts of the mind. I find Kundalini meditation the best way. Suddenly the noise of the mind becomes silent. This I have been describing continuously in many previous posts. I have named this as the collision of prana and apana on the kundalini chakras. It is like attending mental thoughts and base chakras together. In the previous post, I was telling that breath holding pranayama can prevent stroke and heart diseases. My guess turned out to be correct. I attended an online yoga meeting this week. In that research was showing, according to which breathing exercise along with full expansion of chest with inbreathing reduces blood pressure. However I find that holding the breath lowers the blood pressure much more. When I used to do empty breathing exercises, I did not realize it, but when I started doing Pranayama with breath holding, my blood pressure dropped to 70-100. The normal level is 80-120. When I asked the expert in the meeting if this could happen, he said that it is normal to fall so low, but not too much. They were telling something big that this chemical is released in the wall of blood vessel, that reaction takes place etc. I didn’t understand that much. I take care of actually important work. The biggest laboratory or proof is experience. In the field of spirituality, if science is more limited to experience, it is better. If proof is found from scientific experiment, then people can use the proof of their experience even less. I am not against scientific experiments, but if someone does not refer to his own experience to prove something, but only refers to scientific experiment, then there is less vitality in it. One who knows the importance of yoga, he will try to experience it himself without scientific experimentation and only by taking the experience of others as proof. Then I was talking about how important it is to adopt the Vedic life tradition filled with yoga in order to achieve mass awakening. One day everyone will have to wake up. How long will people keep ignoring the truth? If a pigeon trapped in a cat’s paw closes its eyes, the cat does not run away.

All the feelings of the mind are offered in the form of Prana to the God as Kundalini

God says in the Gita that surrender all your sorrows, thoughts, happiness and everything to me. This is a reference to Kundalini Yoga. God is Kundalini in it. In the collision of prana and apana, the thoughts of the brain as the prana energy is thrown on the Kundalini, which causes the Kundalini to shine. That is what it is to offer or to perform a havan. The verse of Gita also indicates the same to be offered to Prana in Apana. The brain thought of Prana is put on the Kundalini of Apana located on the lower chakras. Kundalini fire ignites from it. The Havan of Prana in Prana is also written there. In that everything in life is in the mind as prana. Kundalini in the form of God is on the heart chakra. There is prana residing in both the mind and the heart as per yoga. I had said in the previous post that Kundalini should be meditated with Jyotirlinga and Shivbindu on the chakra. Perhaps that is why those places are named chakra, because when those who meditate on the Jyotirlinga or Shivling on the chakra of the backside, then the Shivbindu appears on its counterpart on the front chakra. The chakra also means a hollow wheel.

An ideal awakening should start from Kundalini itself, and end only on Kundalini

I was also saying that if the river of energy reaches the brain from Muladhara, and at that time the Kundalini is not dominant in the brain, then the thoughts or pictures there flash with great clarity, but do not awaken. But if the energy remains there for long and with higher magnitude, then awakening also occurs. Then one feels his complete association with all things, which is called complete non-duality. But no particular picture is recognizable as primary, from which the full merger has started. It is also not recognizable because a person has not made a special mental picture in the form of Kundalini for cultivation. Meaning he is not even doing Kundalini sadhna. Of course, Kundalini becomes strong in the mind later to express spirituality, but it seems improvised and temporary to me. Permanent and real Kundalini seems to me the same, in which awakening starts in the brain and in which it seems to end. It starts with the remembrance of that Kundalini. Then, as soon as the awakening is over, Kundalini descends from the brain and appears to come on the Agya Chakra, and from there on the Anahata Chakra. Then it can be easily revolved on all the chakras. Although every type of awakening is beneficial, but I would call the awakening starting from Kundalini the best.

The flow of Kundalini energy moves alternately in the right, left and middle part of the body, like the breath flowing through the nostrils

Yogasanas are done so that somewhere the Kundalini energy gets caught. This energy is throughout the body. But sometimes it is more effective on some chakra and sometimes on another chakra. Therefore, due to the stress or bend of the joints of the whole body, it gets caught somewhere. I got a new practical experience this week. The yogasana, which is done alternately on both the left and right sides of the body, is done to uplift the energy from the left and right main nadis. Due to this the energy balances itself and comes in the middle nadi. It is difficult to transfer the energy directly through the middle nadi. The left nadi is called Ida, the right one is called Pingala and the middle one is called Sushumna. For example, when I do Shalabhasana with the left arm and right leg raised, the Kundalini energy rises above through the Ida nadi on the left. It goes through the left brain. From there I redirect it diagonally to the command chakra. Its name is command or agya chakra because it commands kundalini energy to go straight in middle channel. With this energy tries to reach Sushumna by descending down and then climbing up from Muladhara. When I do it by lifting the right arm and left leg, then energy climbs up through the pingala and goes to the right brain. Redirecting it does almost the same thing. I also keep a little awareness on the command chakra for this. From that the energy tries to come to the central line. Simultaneously, I also keep a slight mental eye on the muladhara contraction. Then I let the energy go wherever it wants to go, of its own accord. I see that she then goes there herself with great discretion, where energy is lacking. When that deficiency is filled, it goes to its opposite part, so that the energy balance is maintained. Then it comes in the middle channel. From there it starts covering both the sides of the body. These are all parts of the back and brain. It moves like the sound of water gushing through a pipe. That is why the name Nadi is also derived from the river or nadi in Sanskrit itself. Parts of the front part of the body are also covered, if I put a little attention on the tongue touching the palate. Then it descends through the forward nadi or channel and starts revolving in the channel loop.

By holding the breath, Kundalini energy rises in the back

Yogasanas are made so that the energy flowing through the nerves can be experienced, and the whole body can remain healthy by being irrigated by that flowing energy. The energy of a karma yogi continues to flow while doing work, though not as much as that flows through yoga. This was desperately needed by the dhyana yogi, because he had to sit for most of the time to meditate. By the way, it is clear that if people who are physically active also do yoga, then they will also benefit greatly. I noted something new this week. By holding the breath, the Kundalini energy was rising well above the back, and it was causing gushing in the brain. The same thing was being told in the above meeting also that while breathing, the cerebrospinal fluid rises in the spinal cord. Many scientific types of people say that the Kundalini energy goes through this. But there is doubt, because the kundalani energy rises all of a sudden, but the CSF moves slowly. Maybe when it reaches the brain, it is only then that there is a feeling of ascending energy. That is why only after doing breathing or other yoga exercises for some time does the energy feel like rising, not all of a sudden. That is why it is said to do yoga by holding the breath. However, probably for this, a long practice of doing yoga while breathing is required first. In fact, due to the formation of a pit in the rear Manipura chakra, the direction of the flow of energy is upwards in the back. Then with a little attention that energy picks up speed. Due to inhalation and exhalation, the energy keeps changing its direction continuously, due to which the energy does not get enough velocity. On inhaling it rises upwards, while exhaling it descends downwards.

biking kundalini yoga

I went to my work on a bicycle one day this week. I felt that the front pointed part of the seat of the bicycle acts as the heel of the foot in Siddhasana. When I used to slip forward, then my Kundalini energy started moving in a loop. That’s why even on a motorcycle, it is asked to sit at the very front, next to the fuel tank. This makes riding a motorcycle enjoyable due to the sharp pressure on the base. In fact, the prana was already active due to scenic beauty all around and with that the rush of pleasant thoughts in the brain. The helmet on my head made it even more active. Apana also became active due to the pressure exerted by the seat on the mooladhara. The mind or prana was already meditated upon. Meditation on apana was also there from the sensation on the base. When Apana started climbing up from the back, then Prana started coming down from the front. After completing the Kundalini cycle, the union of prana and apana also took place. This resulted in confluence and I got Kundalini benefits. I have written an earlier post on Biking Kundalini Yoga. The Muladhara Chakra works very well with the bicycle, especially the sports and light bikes. After biking, there is a shadow of joy and lightness for many days, it is due to this reason. Keep in mind that on the day of cycling, do not eat more, nor eat less. The same is said for yoga. In fact, due to over-filling of the stomach, even the breathing does not move properly, and the Kundalini energy does not move properly either. Eating less can lead to weakness. The burden should not be felt on the stomach. I have even seen that after eating in a balanced quantity, even if you eat a bread or two or four spoons of rice more, even then there is a burden on the stomach. Therefore, once you feel satiety from food, you should get up. Benefits like biking yoga can always be availed if one has mastered the control of muladhara. If we only compress the muladhara upwards, then fatigue is felt more. If we compress the Muladhara region from front to back, then the Muladhara also gets involved in it along with swadhishthan, and fatigue is also felt less. The effect will be even greater. Even if there is a contraction of any part of the lower region, it works. But keep in mind, while doing any specific brain work like driving or operating machinery, the focus should be on the brain. This will do so that the extra energy of the brain will go down, which will get rid of unnecessary thoughts and increase the efficiency. If all attention is let down, efficiency may decline. I see how scientifically the division of the indivisible prana has also been done. If the brain is more active, then by the union of prana and apana, kundalini with prana reaches the anahata chakra. That is why the field of prana is called up to the Anahata Chakra. If the area around the base chakras is more active, and the brain is a bit thoughtless, then by combining the two, the Kundalini is expressed at the navel chakra or the Swadhisthana chakra. That is why it is said that the area of Apana is from the bottom to the Manipura Chakra. Although the right of equal or samana prana has been told there, but there apana seems more dominant. Samana name has been given to prana there, because prana and apana seem to play about equal role there. Samana in Sanskrit means equal.

Muladhara Pump is the main tool of Kundalini Yoga

I also noted that with just the Muladhara pump one can easily move the Kundalini on the front and back chakras. First the Kundalini descends from the brain to the heart chakra. It remains stable there for a long time with the base pump running as per the need. Then from there it descends down to the Manipur Chakra. There too, staying still for a long time, she descends to the Swadhishthana Chakra. I felt she climb straight up through the back from there creating gushing in the brain. By the way, it is said that Kundalini turns back from the Muladhara chakra. Anyway, it remains active continuously with the Muladhara pump. By paying light attention to the Agya chakra, that gushing becomes even greater, and also comes in the central line. I think that gushing is the sound of blood running in the blood vessels. Blood vessels are also like a channel or nadi or a river. There are other thoughts also in the brain, although their power has already been applied to the Kundalini through the Muladhara Pump. Therefore they are weak. Then when the muladhara pump is applied again, that kundalini again reaches the muladhara chakra, and then climbs up through the back. Feels quite refreshing. In this way this sequence goes on for a long time. Now I’ll see what happens next. Yes, then for a while Kundalini remained active in the brain, meaning it has come to the Sahasrara Chakra. When the Sahasrara Chakra got tired, she descended from the front to the Ajna Chakra. Kundalini remained on one chakra for about 5-10 minutes. When the chakra was getting tired by constantly contracting, then Kundalini was moving on to the next chakra. I lay comfortably in a semi-dormant position on a revolving and back-extending chair. I was moving as per the need. When I was doing some other work, or getting up and walking, then Kundalini was staying on one chakra for a long time. This is because the chakra was not getting tired due to the lack of continuous contraction on the chakra. After 5 minutes the Ajna chakra loosened up, and the Kundalini descended to the Vishuddhi chakra. This time along with the front chakra, the back chakra was also acting simultaneously, it seemed that by joining a line, both the chakras had become one. The Kundalini on the chakra also seemed more pronounced. The movement of Kundalini from one chakra to another was being felt more clearly. Perhaps this happened because all the chakras were refreshed and unblocked by the first round of Kundalini. This time the Kundalini was more evident on the Vishuddhi Chakra by touching the opposite face of tongue to the palate. After about 5 minutes she descended to the Anahata Chakra. There it was shining brightly for a long time even without the Mooladhara pump. The chakra does not look to me as if there is a delimited wheel. I only know about the general chakra area and its approximate centre. Like Anahata Chakra, the area of the heart. Yes, the narrowing of that area definitely looks like a point in the center of that area, where the contraction and spasm seems to be the most and pinpointed. Perhaps this point is called the chakra. However, it is made apparent with strong and prolonged dhyana only. Kundalini shines brightly on it. Generally, Kundalini meditation is done by most of the people only in the chakra area and not on the pinpointed chakra. Just as the entire weight of one part of the chariot rests on the wheel of that part, so the strength of an entire chakra area of the body rests in the chakra of that area. By making it healthy, the whole chakra area along with its organs becomes healthy. After about 5 or 7 minutes when the anahata chakra gets tired, my stomach contracts inside and a slight gasp comes out. Simultaneously, Kundalini reaches Manipura or the navel chakra. Been there about 10 minutes. Due to its exhaustion, Kundalini power descends somewhere down. After finding it carefully, it settled on the Swadhisthana Chakra. Then she started climbing to Sahasrar through the back and descended through the front and started reaching there again. The role of the muladhar pump became more important here. With gushing she kept swinging between Sahasrara and Swadhisthana Chakra for about 5 minutes. Then she rested on the Muladhara Chakra. Then she again settled in Sahasrara. Apart from Kundalini, other light thoughts remain in the mind. But Kundalini remains more effective, and Kundalini continues to receive their power. On other chakras only Kundalini remains. After staying in Sahasrar for about 5 minutes, she started descending again. She descended in the same sequence first to the Ajna Chakra, then to the Vishuddhi Chakra. I had to get up again for some important work. This went on for about an hour and a half. I also noted one thing that while kundalini was in base chakras on its second and third round, a faint genital sensation arose with feeling of scanty fluid oozing.  Once I noted that a picture of an attached man appeared from the memory lane of the mind. He was not even getting down with the Muladhara pump. I had to apply pumps several times. Had to spend more energy than average. While coming down from mind, he delivered his energy to Kundalini and she started shining. That is why it is said that before the practice of Kundalini yoga, there should be a practice of non-attachment and non-duality in daily life for a long time. With this, the defects of the mind themselves end. This also makes yoga very easy and enjoyable. The same thing I was saying in the previous post that first of all I recommend to those who want to take yoga training, read the book of Physiology Philosophy or sharirvigyan darshan and mold it in life for a few years. When the truth comes to be known from that, then the man himself engages in Kundalini yoga with his interest. He doesn’t do it out of compulsion or fear. This makes him learn quickly and completely. Therefore, the most important factor in the success of the work is the attitude. 90% of yoga is done by this positive attitude. The remaining 10% is fulfilled by Kundalini Yoga. The same thing happened with me, that’s why I am telling. In fact, the humanistic lifestyle and attitude also does not have to change. Lifestyle and attitude have to be adopted according to the contemporary circumstances. All that has to be done is to put on the extra cloak of the Advaita or nondual outlook on your present condition. Nothing to change. You are so good as you are.

Kundalini saves from the terrible condition of Bardo

Today, a verse from the Gita sent by a friend as mentioned earlier touched my heart. I am presenting it here.
Prayankale ManasachlenBhaktya Yukto Yogabalen Chaiva.Pranamavesya right in the middle of the forehead tam param purushmupati divyam 8- 10॥That devout person, even in the last, by establishing his prana well in the middle of the forehead with the power of yoga, then remembering it with a still mind, attains that divine form to the Supreme Personality of Godhead.10. This is what I think it means, which I have described above. With attention to the thoughts of the mind, let the attention go to the agya chakra located between the eyebrows. Due to this, the prana starts moving in the central channel loop, and Kundalini takes the place of unnecessary thoughts in the brain. In central channel, Kundalini always lives with the prana. Because central channel is nondual channel, and kundalini always accompany nonduality. It is Kundalini that takes you to the Supreme Soul. I think everyone can reach God, but most people get scared of the darkness after death and soon take on a new body. However, they get good or bad bodies according to their deeds. Perhaps their will does not work in the choice of the body. But the Kundalini yogi gets support from the light of Kundalini. So he can wait for a long time to meet God. Buddhists also believe almost the same. They call the horror after death the bardo.

Kundalini also transforms DNA

I think Kundalini also transforms a man’s DNA. This happens more with Kundalini awakening. If the thoughts of the mind are brought down, they are transformed into Kundalini on all the lower chakras. Anyway, every cell of the body has a brain. Scientific experiments also point towards these things.

कुन्डलिनी ही मन के फालतू शोर को शांत करने के लिए सर्वोत्तम हथियार के रूप में

मन के बकवास विचारों की शांति के लिए कुन्डलिनी ध्यान एक सर्वोत्तम तरीका है

मित्रो, मन के बकवास विचारों को शांत करने के लिए अपने अपने नुस्खे बताते हैं लोग। मुझे तो कुंडलिनी ध्यान सबसे अच्छा तरीका लगता है। एकदम से मन का शोर शांत हो जाता है इससे। यह मैं पिछली कई पोस्टों में लगातार वर्णन करता आ रहा हूँ। इसे मैंने कुंडलिनी चक्रों पर प्राण और अपान की आपसी टक्कर का नाम दिया है। यह मानसिक विचारों और आधार चक्रों का एक साथ ध्यान करने जैसा है। पिछली पोस्ट में मैं बता रहा था कि साँस रोकने वाले प्राणायाम से स्ट्रोक और दिल के रोगों से बचाव हो सकता है। मेरा अनुमान सही निकला। मैं इस हफ्ते एक ऑनलाइन आध्यात्मिक बैठक में शामिल हुआ। उसमें यह रिसर्च दिखा रहे थे जिसके अनुसार श्वास व्यायाम से व साँस भरते समय पूरी छाती फैलाने से रक्तचाप कम हो जाता है। हालाँकि मुझे लगता है कि साँस रोकने से रक्तचाप ज्यादा नीचे गिरता है। जब मैं खाली श्वास व्यायाम करता था, तब मुझे इसका अहसास नहीं हुआ, पर जब प्राणायाम साँस रोककर करने लगा तो मेरा रक्तचाप 70-100 तक गिर गया। सामान्य स्तर 80-120 होता है। जब मैंने बैठक में विशेषज्ञ से पूछा कि क्या ऐसा हो सकता है, तो उन्होंने कहा कि इतना नीचे गिरना तो सामान्य है, पर बहुत ज्यादा नहीं गिरता। बड़ा कुछ बता रहे थे कि रक्तवाहिनी की दीवार में यह रसायन निकलता है, वह अभिक्रिया होती है आदि। मुझे वह ज्यादा समझ नहीं आया। मैं तो काम की बात पकड़ता हूँ। सबसे बड़ी प्रयोगशाला या प्रमाण तो अनुभव ही है। अध्यात्म के क्षेत्र में विज्ञान अनुभव तक ही ज्यादा सीमित रहे, तो ज्यादा अच्छा है। यदि वैज्ञानिक प्रयोग से प्रमाण मिल गया, तो लोग अपने अनुभव के प्रमाण का प्रयोग कम भी कर सकते हैं। मैं वैज्ञानिक प्रयोगों के खिलाफ नहीं हूं, पर यदि कोई किसी बात को सिद्ध करने के लिए अपने अनुभव का हवाला न देकर केवल वैज्ञानिक प्रयोग का हवाला दे, तो उसमें जीवंतता नहीं दिखाई देती। जिसको योग के महत्त्व का पता है, वह बिना वैज्ञानिक प्रयोग के व केवल औरों के अनुभव को प्रमाण मानकर खुद भी उसको अनुभव करने की कोशिश करेगा। फिर मैं बता रहा था कि बड़े पैमाने पर जागृति प्राप्त करने के लिए योगा से भरी हुई वैदिक जीवन परंपरा को अपनाना कितना जरूरी है। एक न एक दिन सभी को जागृत होना पड़ेगा। कब तक सच्चाई को नजरअंदाज करते रहेंगे। बिल्ली के पंजे में फंसा कबूतर अगर आंख बंद कर दे, तो बिल्ली भाग नहीं जाती।

मस्तिष्क के सभी भाव प्राण के रूप में कुन्डलिनी रूपी भगवान को अर्पित हो जाते हैं

जो गीता में भगवान यह कहते हैं कि अपने सभी क्लेश, विचार, सुख, दुख मुझे अर्पण कर। यह कुंडलिनी योग की तरफ इशारा है। भगवान इसमें कुंडलिनी है। प्राण अपान की टक्कर में जो मस्तिष्क का विचार-कचरा व ऊर्जा कुंडलिनी पर डाला जाता है, उससे कुंडलिनी चमकती है। यही वह अर्पण करना या हवन करना है। प्राण को अपान में हवन करने वाला गीता वाला श्लोक भी यही इशारा करता है। प्राण वाला मस्तिष्क-विचार निचले चक्रों पर स्थित अपान वाली कुंडलनी पर डाला जाता है। उससे कुंडलिनी आग भड़कती है। प्राण का प्राण में हवन भी वहीँ लिखा है। उसमें मन में सभी कुछ प्राण है। भगवान के रूप में कुन्डलिनी हृदय चक्र पर है। मन और हृदय दोनों ही स्थानों पर प्राण है। मैंने पिछली पोस्ट में कहा था कि चक्र के ऊपर कुंडलिनी का ज्योतिर्लिंग और शिवबिन्दु के साथ ध्यान करना चाहिए। शायद इसीलिए उन स्थानों का नाम चक्र पड़ा हो, क्योंकि जब पीठ वाले चक्र पर ज्योतिर्लिंग या शिवलिंग का ध्यान करते हैं, तो उसके काऊंटरपार्ट अगले चक्र पर शिवबिन्दु प्रकट हो जाता है। चक्र खोखले पहिए को भी कहते हैं। 

कुन्डलिनी से ही एक आदर्श जागृति शुरु होनी चाहिये, और कुन्डलिनी पर ही खत्म

मैं यह भी बता रहा था कि यदि ऊर्जा की नदी मूलाधार से मस्तिष्क में पहुंचती है, और उस समय मस्तिष्क में कुंडलिनी प्रभावी न हो, तो वहां के विचार या चित्र बड़ी स्पष्टता से कौंधते हैं, पर जागृत नहीं होते। पर यदि वहाँ ऊर्जा काफी अधिक और ज्यादा समय के लिए बनी रहे, तो जागृति भी हो जाती है। उसमें सभी चीजों के साथ अपना पूर्ण जुड़ाव महसूस होता है, जिसे पूर्ण अद्वैत कहते हैं। पर कोई विशेष चित्र पहचान में नहीं आता, जिससे पूर्ण जुड़ाव शुरु हुआ हो। वह इसलिए भी पहचान में नहीं आता क्योंकि आदमी ने कुंडलिनी के रूप में विशेष मानसिक चित्र साधना के लिए बनाया ही नहीं होता है। मतलब वह कुंडलनी साधना कर ही नहीं रहा होता है। बेशक आध्यात्मिकता को अभिव्यक्त करने के लिए बाद में मन में कुन्डलिनी मजबूत हो जाती है, पर वह कामचलाऊ व अस्थायी लगती है मुझे। स्थायी और असली कुन्डलिनी तो वही लगती है मुझे, जिससे मस्तिष्क में जागृति शुरु होती हुई, और जिसमें खत्म होती हुई दिखती है। उस कुन्डलिनी के स्मरण से वह शुरु होती है। फिर जागृति खत्म होते ही कुन्डलिनी मस्तिष्क से नीचे उतरकर आज्ञाचक्र पर आते दिखती है, और वहाँ से नीचे अनाहत चक्र पर। फिर उसे सभी चक्रों पर आसानी से घुमा सकते हैं। वैसे तो हर प्रकार की जागृति फायदेमंद है, पर मैं कुन्डलिनी से शुरु होने वाली जागृति को सर्वोत्तम कहूँगा।

कुन्डलिनी ऊर्जा का प्रवाह बारी-2 से शरीर के दाएं, बाएं और मध्य भाग में चलता रहता है, नथुनों से बहने वाले श्वास की तरह

योगासन इसलिए किए जाते हैं ताकि कहीं न कहीं कुंडलिनी एनर्जी पकड़ में आ जाए। यह ऊर्जा पूरे शरीर में है। पर यह कभी किसी चक्र पर तो कभी किसी दूसरे चक्र पर ज्यादा प्रभावी होती है। इसलिए पूरे शरीर के जोड़ों के बैंड या मोड़ आदि से यह कहीं न कहीं पकड़ में आ ही जाती है। मुझे इस हफ्ते नया प्रेक्टिकल अनुभव मिला है। ये जो बारी बारी से शरीर के बाएं और दाएं, दोनों किनारों का योगासन किया जाता है, वह बाईं और दाईं मुख्य नाड़ी से ऊर्जा को ऊपर चढ़ाने के लिए किया जाता है। इससे ऊर्जा संतुलित होकर खुद ही बीच वाली नाड़ी में आ जाती है। सीधे ही ऊर्जा को बीच वाली नाड़ी से चढ़ाना कठिन होता है। बाईं नाड़ी को इड़ा, दाईं को पिंगला और बीच वाली नाड़ी को सुषुम्ना कहते हैं। उदाहरण के लिए, जब मैं शलभासन को बाईं भुजा और दायाँ पैर उठाकर करता हूँ, उस समय कुन्डलिनी ऊर्जा इड़ा नाड़ी से ऊपर चढ़कर बाएँ मस्तिष्क को जाती है। वहां से उसे मैं आज्ञा चक्र की ओर तिरछा रीडायरेक्ट करता हूँ। इससे वह नीचे उतरकर और फिर मूलाधार से ऊपर चढ़कर सुषुम्ना में आने की कोशिश करती है। जब उसे दाईं भुजा और बायाँ पैर उठाकर करता हूँ, तब पिंगला से ऊपर चढ़ कर दाएँ मस्तिष्क को जाती है। उसे रीडायरेक्ट करने से लगभग वैसा ही होता है। एक हल्की सी अवेयरनेस आज्ञा चक्र पर भी रखता हूँ। उससे वह ऊर्जा केंद्रीय रेखा में आने की कोशिश करती है। आज्ञा चक्र नाम ही इसलिए पड़ा है क्योंकि यह कुंडलिनी शक्ति को सीधा बीच वाली नाड़ी में चलने की आज्ञा देता है। साथ में, मूलाधार संकुचन पर भी हल्की सी मानसिक नजर रखता हूँ। फिर ऊर्जा को जाने देता हूँ अपनी मर्जी से, वह जहाँ जाना चाहे। मैं देखता हूँ कि वह फिर बड़ी विवेक बुद्धि से खुद ही वहाँ जाती है, जहाँ ऊर्जा की कमी है। वह कमी पूरा होने पर उसके विपरीत भाग में चली जाती है, ताकि ऊर्जा संतुलन बना रहे। फिर बीच वाले चैनल में आ जाती है। वहाँ से वह शरीर के दोनों तरफ के हिस्सों को कवर करने लगती है। ये सभी पीठ व मस्तिष्क के हिस्से होते हैं। वह किसी पाईप में पानी की गश की आवाज की तरह चलती है। इसीलिए नाड़ी नाम भी नदी से ही बना है। शरीर के अगले भाग के हिस्से तब कवर होते हैं, यदि मैं हल्का सा ध्यान तालू को छूती हुई उलटी जीभ पर भी रखूं। तब वह आगे की नाड़ी से नीचे उतरकर नाड़ी लूप में घूमने लगती है।

साँस भरकर रोकने से कुन्डलिनी ऊर्जा पीठ में ऊपर चढ़ती है

योगासन इसीलिए बने हैं, ताकि उनसे नाड़ियों में बहती ऊर्जा का अनुभव होए, तथा उस बहती ऊर्जा से पूरा शरीर सिंचित होकर स्वस्थ रह सके। कर्मयोगी की ऊर्जा तो काम करते हुए खुद भी बहती रहती है, हालाँकि योगा द्वारा बहाव जितनी नहीं। इसकी सख्त जरूरत तो ध्यानयोगी को थी, क्योंकि उन्हें ध्यान लगाने के लिए ज्यादातर समय बैठे रहना पड़ता था। वैसे यह स्पष्ट है कि यदि भौतिक रूप से क्रियाशील रहने वाले लोग भी योगा करे, तो उन्हें भी बहुत लाभ होगा। मैंने इस हफ्ते नई बात नोट की। सांस भर कर रोकने से कुण्डलिनी ऊर्जा अच्छे से पीठ से ऊपर चढ़ रही थी, और वह मस्तिष्क में गशिंग पैदा कर रही थी। यही बात उपरोक्त बैठक में भी बता रहे थे कि साँस भरते हुए सेरेब्रोस्पाइनल फ्लुड रीढ़ की हड्डी में ऊपर चढ़ता है। कई वैज्ञानिक प्रकार के लोग बोलते हैं कि कुंडलनी ऊर्जा इसी के थ्रू जाती है। पर संशय होता है, क्योंकि कुंडलनी ऊर्जा तो एकदम से ऊपर चढ़ती है, पर सीएसएफ धीरे धीरे चलता है। हो सकता है कि जब वह मस्तिष्क में पहुंच जाता हो, तभी ऊर्जा के ऊपर चढ़ने का आभास होता हो। इसीलिए तो कुछ समय तक श्वास या अन्य योग अभ्यास करने के बाद ही ऊर्जा ऊपर चढ़ती महसूस होती है, एकदम से नहीं। इसीलिए  सांस रोककर योग करने को कहते हैं। हालांकि इसके लिए शायद पहले सांस लेते हुए योग करने का काफी लम्बा अभ्यास का अनुभव चाहिए होता है। सांस भरकर रोककर दरअसल  पिछले मणिपुर चक्र में गड्ढा बनने से ऊर्जा के प्रवाह की दिशा पीठ में ऊपर की ओर होती है। फिर थोड़े ध्यान से वह ऊर्जा गति पकड़ती है। सांस लेने व छोड़ते रहने से ऊर्जा अपनी दिशा लगातार बदलती रहती है, इससे ऊर्जा को पर्याप्त वेग नहीं मिल पाता। सांस भरने से वह ऊपर की ओर चढ़ती है, और सांस छोड़ते हुए नीचे की तरफ उतरती है।

बाइकिंग कुन्डलिनी योगा

मैं इस हफ्ते एक दिन साईकिल पर अपने काम गया। मैंने महसूस किया कि साईकिल की सीट का अगला नुकीला हिस्सा सिद्धासन में पैर कि एड़ी का काम करता है। जब मैं फिसल कर आगे को होता था, तब मेरी कुण्डलिनी ऊर्जा लूप में घूमने लगती थी। इसलिए मोटरसाइकिल पर भी सबसे आगे, फ्यूल टैंक से सट कर बैठने को कहा जाता है। यह मूलाधार पर तेज दबाव के कारण मोटरसाइकिल की सवारी को सुखद बनाता है। दरअसल प्राण तो इधर उधर के दृश्य मस्तिष्क में पड़ने से पहले ही सक्रिय था। मेरे सिर पर लगे हेलमेट ने उसे और ज्यादा सक्रिय कर दिया था। सीट के द्वारा मूलाधार पर दबाव पड़ने से अपान भी सक्रिय हो गया। मस्तिष्क या प्राण पर तो पहले से ही ध्यान था। मूलाधार पर संवेदना से अपान पर भी ध्यान चला गया। अपान पीठ से ऊपर चढ़ने लगा, तो प्राण आगे से नीचे उतरने लगा। कुण्डलिनी चक्र पूरा होकर प्राण और अपान का मिलन भी हुआ। इससे संगम हुआ और कुण्डलिनी लाभ मिला। बाइकिंग कुन्डलिनी योगा पर मैंने एक पहले भी पोस्ट लिखी है। बाइसाइकिल खासकर स्पोर्ट्स वाली और हल्की बाईसाईकिल से मूलाधार चक्र बहुत बढ़िया क्रियाशील होता है। बाइकिंग के बाद जो कई दिन तक आनन्द व हल्कापन सा छाया रहता है, वह इसी वजह से होता है। ध्यान रहे कि साइक्लिंग वाले दिन न ज्यादा, और न कम खाएं। योग के लिए भी ऐसा ही कहा जाता है। वास्तव में ज्यादा पेट भरने से साँसें भी ढंग से नहीं चलतीं, और कुन्डलिनी ऊर्जा भी ढंग से नहीं घूमती। कम खाने से कमजोरी आ सकती है। पेट पर बोझ महसूस नहीं होना चाहिए। मैंने तो यहाँ तक देखा है कि संतुलित मात्रा में खाने के बाद यदि आधा रोटी या दो चार चम्मच चावल भी ज्यादा खा लो, तो भी पेट पर बोझ आ जाता है। इसलिए एकबार भोजन से तृप्ति का एहसास होने पर उठ जाना चाहिए। बाइकिंग योगा जैसा लाभ हमेशा लिया जा सकता है, यदि आदमी को मूलाधार नियंत्रित करने में महारत हासिल हो जाए। यदि केवल मूलाधार को ही ऊपर की तरफ संकुचित करेंगे, तो थकान ज्यादा महसूस होती है। यदि आगे से पीछे तक के मूलाधार क्षेत्र को हल्का सा संकुचित करेंगे तो उसमें मूलाधार भी शामिल हो जाता है, स्वाधिष्ठान चक्र भी, और थकान भी कम महसूस होती है। प्रभाव भी ज्यादा पैदा होगा। निचले क्षेत्र के किसी भी भाग का संकुचन हो, तो भी काम कर जाता है। पर ध्यान रहे, कोई खास दिमागी काम करते हुए जैसे ड्राईविंग या मशीनरी ऑपरेट करते समय ध्यान मस्तिष्क पर ही रहना चाहिए। इससे ऐसा होगा कि मस्तिष्क की अतिरिक्त ऊर्जा नीचे चली जाएगी, जिससे फालतू विचारों से निजात मिलेगी और कार्यकुशलता में इजाफा होगा। यदि पूरा ध्यान नीचे जाने दिया, तो कार्यकुशलता में गिरावट आ सकती है। मैं देखता हूँ कि अविभाज्य प्राणों का विभाजन भी कितनी वैज्ञानिकता से किया गया है। यदि मस्तिष्क ज्यादा क्रियाशील हो तो प्राण व अपान के मिलान से प्राण के साथ कुंडलिनी अनाहत चक्र पर पहुंच जाती है। इसीलिए प्राणों का क्षेत्र ऊपर से नीचे अनाहत चक्र तक कहा गया है। यदि नीचे के, मूलाधार के आसपास के क्षेत्र ज्यादा क्रियाशील हों, और मस्तिष्क विचारशून्य सा हो, तो दोनों के मिलान से कुंडलनी नाभि चक्र पर स्वाधिष्ठान चक्र पर अभिव्यक्त होती है। इसीलिए कहा गया है कि अपान का क्षेत्र नीचे से ऊपर की ओर मणिपुर चक्र तक है। वैसे तो वहाँ समान प्राण का अधिकार बताया गया है, पर वह भी अपान का ही एक हिस्सा लगता है, या वहां अपान प्राण से ज्यादा ताकतवर लगता है। समान नाम ही इसलिए पड़ा है क्योंकि वहां प्राण और अपान का लगभग समान योगदान प्रतीत होता है।

मूलाधार पंप कुन्डलिनी योग का सर्वप्रमुख औजार है

मैंने यह भी नोट किया कि सिर्फ मूलाधार पंप से कुन्डलिनी को आगे के और पीछे के चक्रों पर आसानी से घुमा सकते हैं। पहले कुन्डलिनी मस्तिष्क से हृदय चक्र तक उतरती है। जरूरत के अनुसार चलाए गए मूलाधार पंप से काफी देर वहाँ स्थिर रहती है। फिर वहां से नीचे मणिपुर चक्र को उतरती है। वहाँ भी इसी तरह काफी देर स्थिर रहके वह स्वाधिष्ठान चक्र तक नीचे उतरती है। मैंने महसूस किया कि वह वह वहाँ से सीधे ही पीठ से ऊपर चढ़कर मस्तिष्क में गशिंग पैदा करती है। वैसे कहते हैं कि मूलाधार चक्र से कुन्डलिनी वापिस मुड़ती है। वैसे भी मूलाधार पंप से वह लगातार सक्रिय बना ही रहता है। आज्ञा चक्र पर हल्का ध्यान लगाने से वह गशिंग और भी ज्यादा हो जाती है, और केंद्रीय रेखा में भी आ जाती है। मुझे लगता है वह गशिंग रक्तवाहिनियों में दौड़ रहे रक्त की आवाज होती है। रक्त वाहिनियाँ भी नाड़ी या नदी की तरह होती हैं। वहाँ पर अन्य विचार भी होते हैं, हालाँकि मूलाधार पंप से उनकी ताकत पहले ही कुन्डलिनी को लग चुकी होती है। इसलिए वे कमजोर होते हैं। फिर जब फिर से मूलाधार पंप लगाया जाता है, तो वह कुन्डलिनी फिर मूलाधार चक्र तक पहुंच जाती है, और फिर पीठ से ऊपर चढ़ जाती है। काफी तरोताजा महसूस होता है। इस तरह यह क्रम काफी देर तक चलता है। अब और देखता हूँ कि और आगे क्या होता है। हाँ, फिर थोड़ी देर कुन्डलिनी मस्तिष्क में क्रियाशील रही, मतलब वह सहस्रार चक्र पर आ गई। जब सहस्रार चक्र थक गया तब वह आगे से आज्ञा चक्र को उतर गई। लगभग 5-10 मिनट तक कुन्डलिनी एक चक्र पर रही। जब चक्र लगातार सिकुड़न लगा कर थक जा रहा था, तब कुन्डलिनी अगले चक्र पर आ रही थी। मैं रिवोल्विंग और बैक पीछे को एक्सटेंड होने वाली चेयर पर आराम से अर्धसुषुप्त सी पोजिशन में लेटा था। जरूरत के हिसाब से हिल भी रहा था। जब मैं कोई अन्य काम कर रहा होता था, या उठकर चल रहा होता था, तब कुन्डलिनी एक ही चक्र पर ज्यादा देर ठहर रही थी। ऐसा इसलिए क्योंकि चक्र पर लगातार सिकुड़न न होने से वह चक्र थक नहीं रहा था। 5 मिनट बाद आज्ञा चक्र शिथिल हो गया, और कुन्डलिनी विशुद्धि चक्र को उतर गई। इस बार अगले चक्र के साथ पिछले चक्र भी एकसाथ क्रियाशील हो रहे थे, ऐसा लग रहा था कि एक लाइन से जुड़कर दोनों चक्र एक हो गए थे। चक्र पर कुन्डलिनी भी ज्यादा स्पष्ट लग रही थी। एक चक्र से दूसरे चक्र को कुन्डलिनी का गमन ज्यादा स्पष्ट अनुभव हो रहा था। शायद ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि कुन्डलिनी के पहले राऊंड से सभी चक्र तरोताजा व अनवरुद्ध हो गए थे। इस बार उल्टी जीभ को तालु से टच करने से कुन्डलिनी विशुद्धि चक्र पर ज्यादा स्पष्ट थी। लगभग 5 मिनट बाद वह अनाहत चक्र को उतर गई। वहाँ वह मूलाधार पम्प के बिना भी बड़ी देर तक स्पष्ट चमक रही थी। चक्र ऐसे तो लगते नहीं मुझे जैसे कोई सीमांकित पहिया हो। मुझे तो सामान्य क्षेत्र के केंद्र का ही भान होता है। जैसे अनाहत चक्र, हृदय के क्षेत्र का लगभग केंद्र। हाँ, कई बार उस क्षेत्र की सिकुड़न से एक बिंदु जैसा जरूर प्रतीत होता है उस क्षेत्र के बिल्कुल केंद्र में, जहाँ सिकुड़न और ऐंठन सबसे ज्यादा और पिनपॉइंटिड सी प्रतीत होती है। शायद इसी बिंदु को चक्र कहते हैं। हालाँकि यह तेज और काफी देर के ध्यान से बनता है। इस पर कुन्डलिनी तेज चमकती है। आमतौर पर तो कुन्डलिनी ध्यान चक्र क्षेत्र में ही होता है, एगजेक्ट चक्र पर नहीं। जैसे रथ के एक हिस्से का पूरा भार उस हिस्से के पहिए पर रहता है, वैसे ही शरीर के एक पूरे चक्र क्षेत्र की ताकत उस क्षेत्र के चक्र में होती है। उसको तन्दरुस्त करके पूरा क्षेत्र तन्दरुस्त हो जाता है। लगभग 5 या 7 मिनट बाद अनाहत चक्र के थकने पर मेरा पेट अंदर को सिकुड़ता है और एक साँस की हल्की गैस्प सी निकलती है। इसके साथ ही कुन्डलिनी मणिपुर या नाभि चक्र पर पहुंच जाती है। वहाँ लगभग 10 मिनट रही। उसके थकने से कुन्डलिनी शक्ति नीचे कहीं उतरती है। उस को थोड़े ध्यान से ढूंढने पर वह स्वाधिष्ठान चक्र पर सैटल हो गई। फिर वह पीठ से सहस्रार को चढ़ने लगी व आगे से उतरकर वहीं पहुंचने लगी। मूलाधार पंप का रोल यहाँ ज्यादा अहम हो गया। गशिंग के साथ वह लगभग 5 मिनट तक सहस्रार व स्वाधिष्ठान चक्र के बीच झूलती रही। फिर वह मूलाधार चक्र पर टिक गई। फिर वह दुबारा सहस्रार में सेटल हो गई। मस्तिष्क में कुन्डलिनी के इलावा अन्य भी हल्के फुल्के विचार रहते हैं। पर कुन्डलिनी ही ज्यादा प्रभावी रहती है, और उनकी शक्ति भी कुन्डलिनी को मिलती रहती है। अन्य चक्रों पर तो केवल कुन्डलिनी ही रहती है। लगभग 5 मिनट सहस्रार में रहकर वह फिर नीचे उतरने लगी। वह इसी क्रम में पहले आज्ञा चक्र को, फिर विशुद्धि चक्र को उतरी। मुझे फिर किसी जरूरी काम से उठना पड़ा। लगभग डेढ़ घण्टे के करीब यह सिलसिला चलता रहा। मैंने यह भी देखा कि जब कुंडलिनी अपने दूसरे और तीसरे दौर में आधार चक्रों में थी, तब एक मामूली सी जननांग सनसनी पैदा हुई थी, जिसमें एक मामूली सा तरल पदार्थ निकलता महसूस हुआ। एकबार मैंने नोट किया कि मस्तिष्क की यादों की झोली से एक आसक्ति से युक्त आदमी का चित्र प्रकट हुआ। वह मूलाधार पंप से भी नीचे नहीं उतर रहा था। कई बार पंप लगाने पड़े। औसत से ज्यादा ऊर्जा खर्च करनी पड़ी। उसके नीचे उतरने से उसकी शक्ति कुन्डलिनी को लग गई और वह चमकने लगी। इसीलिये कहा जाता है कि कुन्डलिनी योग के अभ्यास से पहले काफी समय तक दैनिक जीवन में अनासक्ति व अद्वैत का अभ्यास होना चाहिए। इससे मन के दोष खुद ही खत्म हो जाते हैं। इससे योग करना भी काफी आसान और मनोरंजक हो जाता है। यही बात मैं पिछ्ली पोस्ट में कह रहा था कि सबसे पहले योग प्रशिक्षण लेने के इछुक को मैं शरीरविज्ञान दर्शन पुस्तक पढ़ने की और उसे कुछ सालों तक जीवन में ढालने की सलाह देता हूँ। उससे जब सच्चाई का पता चलता है, तो आदमी खुद ही अपने शौक से कुन्डलिनी योग सीखने लगता है। वह किसी बाध्यता या डर से ऐसा नहीं करता। इससे वह जल्दी और पूरा सीख जाता है। इसलिए कार्य की सफलता में सबसे बड़ा निर्णायक दृष्टिकोण होता है। 90% योग तो इस सकारात्मक दृष्टिकोण से हो जाता है। बाकि का 10% कुंडलिनी योग से पूरा होता है। मेरे साथ भी ऐसा ही हुआ, तभी बता रहा हूँ। दरअसल मानवतावादी लाइफस्टाइल व दृष्टिकोण भी नहीं बदलना है। लाइफस्टाइल व दृष्टिकोण तो समसामयिक परिस्थितियों के अनुसार अपनाना ही पड़ता है। केवल यह करना है कि अपनी वर्तमान हालत पर अद्वैत दृष्टिकोण का अतिरिक्त चोला पहनाना है बस। बदलना कुछ नहीं है। आप जैसे हो, बहुत अच्छे हो।

कुन्डलिनी ही बारडो की भयानक अवस्था से बचाती है

आज भी पहले भी वर्णित किए गए एक मित्र द्वारा भेजा गया गीता का श्लोक मेरे दिल को छू गया। मैं उसे यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ।
प्रयाणकाले मनसाचलेनभक्त्या युक्तो योगबलेन चैव ।भ्रुवोर्मध्ये प्राणमावेश्य सम्यक्स तं परं पुरुषमुपैति दिव्यम् ॥८- १०॥वह भक्ति युक्त पुरुष अन्तकाल में भी योगबल से भृकुटी के मध्य में प्राण को अच्छी प्रकार स्थापित करके, फिर निश्चल मन से स्मरण करता हुआ उस दिव्य रूप परम पुरुष परमात्मा को ही प्राप्त होता है॥10॥इसका अर्थ मुझे यही लगता है, जो मैंने ऊपर वर्णित किया है। मस्तिष्क के विचारों पर ध्यान के साथ भौंहों के बीचोंबीच स्थित आज्ञाचक पर भी ध्यान लगने दो। इससे प्राण केंद्रीय नाड़ी लूप में चलने लगता है, और मस्तिष्क में फालतू विचारों का स्थान कुन्डलिनी ले लेती है। प्राण के साथ कुंडलिनी भी होती है। केंद्रीय चैनल में, कुंडलिनी हमेशा प्राण के साथ रहती है। क्योंकि केंद्रीय चैनल अद्वैत चैनल है, और कुंडलिनी हमेशा अद्वैत के साथ होती है। कुंडलिनी ही तो परमात्मा तक ले जाती है। मुझे लगता है कि हर कोई परमात्मा तक पहुंच सकता है, पर ज्यादातर लोग मृत्यु के बाद के अंधेरे से घबराकर जल्दी ही नया शरीर धारण कर लेते हैं। हालाँकि अच्छा बुरा शरीर उन्हें अपने कर्मों के अनुसार मिलता है। शरीर के चुनाव में शायद उनकी मर्जी नहीं चलती। पर कुंडलिनी योगी को कुंडलिनी के प्रकाश से सहारा मिलता है। इसलिए वह लंबे समय तक परमात्मा में मिलने के लिए प्रतीक्षा कर सकता है। बुद्धिस्ट लोग भी लगभग ऐसा ही मानते हैं। वे मृत्यु के बाद की डरावनी अवस्था को बारडो कहते हैं।

कुन्डलिनी डीएनए को भी रूपांतरित कर देती है

मुझे लगता है कि कुंडलिनी आदमी का डीएनए भी रूपांतरित कर देती है। कुंडलिनी जागरण से ऐसा ज्यादा होता है। यदि मन के विचारों को नीचे उतारा जाए तो वे नीचे के सभी चक्रों पर कुंडलिनी में रूपांतरित हो जाते हैं। वैसे भी शरीर के हरेक सेल में दिमाग होता है। इन बातों की ओर वैज्ञानिक प्रयोग भी कुछ इशारा करते हैं।

कुंडलिनी इंजिन के ईंधन और ऊर्जा स्पार्क प्लग की चिंगारी की तरह है, जो जागृति-विस्फोट पैदा करते हैं, और जिनके लिए ध्यान, शिवबिन्दु, मानवरूप देवमूर्ति, शिवलिंग, ज्योतिर्लिंग, साँस रोकने, मस्तिष्क दबाव, स्वयं शिक्षा, सकारात्मक सोच,अनवरत अभ्यास, निष्कामता, लगन, धैर्य, व व्यवस्थित दृष्टिकोण महत्त्वपूर्ण है

मित्रो, पिछली पोस्ट में मैं कुंडलिनी जागरण और उसमें अनुभव होने वाले जुड़ाव के बारे में बात कर रहा था। वह जुड़ाव कुंडलिनी से शुरु होना चाहिये। इसका अर्थ है कि आदमी को सर्वप्रथम कुंडलिनी के साथ अपना पूर्ण जुड़ाव महसूस होना चाहिए, पूर्ण आनन्द व अद्वैत के साथ। उस पैदा हुए अद्वैत से तो फिर सभी चीजों के साथ अपना जुड़ाव महसूस होगा। हालाँकि यह जुड़ाव सेकंडरी होगा, प्राथमिक तो कुंडलिनी के साथ ही माना जाएगा। ऐसा होने से ही कुंडलिनी चित्र सर्वाधिक महत्वपूर्ण बन पाएगा, और स्थाई तौर पर क्रियाशील रहेगा। इसका मतलब आप यह समझो कि ऊर्जा साधना/चक्र साधना/नाड़ी साधना आप करते रहो, क्योंकि ये साधनाएं वक्त पड़ने पर कुंडलिनी के काम आएँगी। पर जगाने का प्रयास मानवरूप कुंडलिनी का ही करो। ऊर्जा को कुंडलिनी के पीछे चलना चाहिए, कुंडलिनी को ऊर्जा के पीछे नहीं। इस बारे में मैं अपना अनुभव बताता हूँ। मैं प्रतिदिन कुंडलिनी ध्यान के साथ ऊर्जा साधना करता था। एकदिन अच्छा अवसर मिलते ही मुझे एकदम से अचानक ही कुंडलिनी की बहुत तेज याद आई, और मैं उसमें खोने लगा। तभी मेरी ऊर्जा भी कुंडलिनी का साथ देने के लिए मूलाधार से पीठ से होकर ऊपर चढ़ी और मस्तिष्क में पहुंच गई। मुझे ऐसा लगा क्योंकि मेरा मूलाधार क्षेत्र पूरी तरह से शिथिल हो गया था, हालांकि वह ऊर्जा इतनी तेजी से ऊपर चढ़ी कि उसे महसूस करने का मौका ही नहीं मिला। इसलिए भी मैं ऊर्जा के पीठ से ऊपर चढ़ने का अंदाजा लगा रहा हूँ, क्योंकि मैं लगभग एक महीने से तांत्रिक विधि से कुंडलिनी को पीठ से ऊपर चढ़ाने का अच्छा अभ्यास कर रहा था। इसलिए भी क्योंकि उस समय वहाँ पर महिलाओं का नाच गाना हो रहा था। उससे भी मूलाधार की ऊर्जा उद्दीप्त हुई। यौन माध्यम से उद्दीप्त ऊर्जा पीठ से ही ऊपर चढ़ती है। वह ऊर्जा मस्तिष्क में पहुंच कर कुंडलिनी से जुड़ गई जिससे कुंडलिनी जागरण हो गया। बोलने का मतलब है कि कुंडलिनी तो खुद ही जागृत होने जा रही थी। उसे केवल ऊर्जा की अतिरिक्त आपूर्ति चाहिए थी। यह इसी तरह है जैसे कि गैस इंजन में पहुंच गई थी, बस उसे धमाका करने के लिए स्पार्क प्लग से एक चिंगारी की जरूरत थी। यदि चिंगारी न मिले तो इंजन में शक्ति का धमाका न होए। इसी तरह, यदि मैं ऊर्जा साधना न कर रहा होता तो कुंडलिनी को ऊर्जा न मिलती, और वह बिना जागृत हुए ही मस्तिष्क से नीचे लौट आती। ऐसा कुंडलिनी का ऊपर-नीचे आने-जाने का चक्र सबके अंदर चलता रहता है, बस ऊर्जा की चिंगारी नहीं दे पाते अधिकांश लोग। कइयों के साथ ऐसा होता है कि ऊर्जा की नदी तो मस्तिष्क में पहुंच जाती है, पर वहाँ कुंडलिनी नहीं होती। उससे मन में बहुत स्पष्टता के साथ चित्र कौंधते हैं, पर जागते नहीं। यह ऐसे ही है कि इंजन में गैस नहीं है, पर स्पार्क लगातार मिल रहे हैं। उससे चिंगारी की थोड़ी चमक तो पैदा होएगी, पर धमाके जितनी विशाल चमक नहीं। इसलिए मुख्य लक्ष्य कुंडलिनी को ही बनाओ, पर ऊर्जा साधना भी करते रहो। यह ऐसा है कि आपने कुंडलिनी की इतनी गहरी याद पैदा करनी है कि आप उसमें कुछ पलों के लिए खो जाओ। यही कुंडलिनी जागरण है। ऐसा समझो कि गुरु या देवता की याद इतनी गहरी पैदा करनी है, जितनी गहरी एक प्रणय प्रेम में डूबे हुए एक प्रेमी को अपनी प्रेमिका की खुद ही पैदा हो जाती है। पर गुरु या देवता की गहरी याद आपके अंदर खुद पैदा नहीं होगी, क्योंकि वहां पर यौन आकर्षण नहीं है। इसलिए आपको यौन आकर्षण जैसा मजबूत आकर्षण पैदा करने के लिए तांत्रिक तकनीकों का सहारा लेना पड़ेगा। इसके लिए उपरोक्त ऊर्जा साधनाएं आपके काम आएँगी। फिर आप कहेंगे कि फिर यौन प्रेमी को ही क्यों न कुंडलिनी बना लिया जाए। पर यह श्रेष्ठ तरीका नहीं है। पहली बात, यौन विकार के कारण यौन कुंडलिनी को जगाना असम्भव के समान है। दूसरी बात, कोई नहीं चाहेगा कि अगला जन्म स्त्री का मिले, क्योंकि स्त्री को पुरुष से ज्यादा कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है। आदमी जैसा सोचता है, वह अगले जन्म में वैसा ही बन सकता है। यह अलग बात है कि आजकल के वैज्ञानिक युग में स्त्री व पुरुष समान हैं, बल्कि कई जगह तो स्त्री पुरुष से ज्यादा मजे में है। पर ऐसा युग हमेशा नहीं रहेगा। आज के जैसी वैज्ञानिक सुविधाओं का युग तो असीमित काल का मात्र एक नगण्य जैसा अंश प्रतीत होता है। ये सुविधाएं भी हर जगह उपलब्ध नहीं होतीं। ये दृश्य सत्य पर आधारित मेरे अपने अनुभवात्मक विचार हैं, इसमें लैंगिक भेदभाव वाली कोई बात नहीं है, और न होनी चाहिए। ये पर्सनल ब्लॉग है, ख्याति या पैसे के लिए नहीं। वैसे भी, दुनिया में नजर भी आता है और तंत्र सम्प्रदायों में भी यह मान्यता है कि स्त्री केवल पुरुष की सहायता ही कर सकती है कुन्डलिनी जागरण में, स्वयं जागृत नहीं हो सकती। यदि वह यह सहायता करती है, तो अगले जन्म में वह पुरुष बन कर जागृत हो जाती है। वैसे तो तन्त्र सम्प्रदायों में भी बहुत सी महान तांत्रिक महिलाएं हुई हैं, जिन्होनें अपने पुरुष साथी को भी जागृत किया है, और वे खुद भी जागृत हुई हैं। विशेष प्रयास करने वाले अपवाद के मामले तो हर जगह ही मिल जाते हैं। देवी माता का ध्यान तो बहुत से योगी करते ही आए हैं। योगी रामकृष्ण परमहंस माँ काली के उपासक थे। उन्हें ध्यान में काली माता स्पष्ट भौतिक रूप में दिखती थीं। वे उनसे खेलते, बातें करते। पर एक साधारण स्त्री और देवी स्त्री में फर्क है। शायद इसीलिए स्त्री को गुरु बनाए जाने के बारे में शास्त्रों में बहुत कम बताया गया है। वैसे परिवर्तन व विभिन्नता संसार का नियम है। आदमी को जैसे भी उपयुक्त लगे, वैसे ध्यान का अभ्यास करना चाहिए। साथ में कहा था कि संयोगवश या शक्तिपात आदि से जो बिना प्रयासों के जागृति प्राप्त होती है, वह अल्प व अस्थायी होती है। अल्प का मतलब कि उससे पूर्ण संतुष्टि नहीं मिलती। ऐसा मन करता है कि एकबार और जागृति मिल जाए। उससे बना कुण्डलिनी चित्र भी कुछ वर्षों के बाद मिटने लगता है। हालांकि ऐसी जागृति आदमी को पूर्ण जागृति को प्राप्त करने के लिए प्रेरित करती है। इससे आदमी योग अभ्यास करने लगता है।

बिंदु शक्ति मूलाधार से सहस्रार की तरफ निर्देशित की जाती है

कुंडलिनी को बिंदु की शक्ति मूलाधार से स्वयं ही मिलती है। यदि किसी को बिंदु नाम से कुंडलिनी का अपमान लगे, तो शिवबिन्दु व ज्योतिर्लिंग या शिवलिंग नाम से ध्यान किया जा सकता है। इससे कुंडलिनी का अपमान भी नहीं होगा, और आदमी को शिव का स्वरूप भी मिलेगा। एकसाथ दो लाभ। एक और बढ़िया तरीका है कि अद्वैत के चिंतन को ही शिवबिंदु का नाम दे दो। इससे जैसे ही कुंडलिनी मन में आएगी, उसे एकदम से बिंदु की शक्ति मिल जाएगी। वैसे भी इस अद्वैतपूर्ण शरीर का मालिक शिव ही है। आदमी तो झूठमूठ का अहंकार करके इसका मालिक बन जाता है। इस तथ्य को शरीरविज्ञान दर्शन पुस्तक में वैज्ञानिक रूप से सिद्ध किया गया है। कुंडलिनी चक्रों पर शिवबिन्दु के ध्यान से सभी 12 चक्र शिव के बारह ज्योतिर्लिंग बन जाते हैं। ज्योतिर्लिंग शब्द में ज्योति का अर्थ कुंडलिनी की चमक से है। यही 12 ज्योतिर्लिंगों का आध्यात्मिक रहस्य है। इसीलिए मूलाधार को संकुचित करते रहने व वहाँ सिद्धासन में पैर की ऐड़ी का दबाव देने को कहते हैं। दरअसल बिंदु शक्ति को ले जाने वाली वज्र नाड़ी स्वाधिष्ठान चक्र व मूलाधार चक्र से होकर पीठ के बीचोंबीच ऊपर चढ़ती है। वह जननांग से शुरु होती है। इसका वर्णन मैंने एक पुरानी पोस्ट में किया है कि कैसे उस कुन्डलिनी नाड़ी को कुंडली लगाए नागिन की तरह दिखाया गया है, और कैसे वह कुन्डली खोलकर खड़ी हो जाती है। दरअसल कुन्डलिनी नागिन के आकार में नहीं है, जैसा कई लोग समझते हैं। यह कुन्डलिनी शक्ति को ले जाने वाली नाड़ी है। कुन्डलिनी नाम इसलिये पड़ा है, क्योंकि वह कुंडली लगाई हुई नागिन के जैसी नाड़ी में कैद रहती है। यह संस्कृत शब्द है। मूलाधार पर दबाव से वह नाड़ी क्रियाशील हो जाती है। इससे जाहिर है कि मूलाधार में जो शक्ति का निवास बताया गया है, वह बिंदु रूप में ही है। उसी बिंदु शक्ति को सहस्रार तक ले जाना होता है जागरण के लिए। वह धीरे धीरे करके रास्ते के सभी चक्रों को जागृत करते हुए भी वहाँ पहुंच सकती है, और सीधी भी। यह अभ्यास के प्रकार पर निर्भर करता है। साधारण अभ्यास से वह धीरे धीरे ऊपर पहुंचती है, पर तांत्रिक अभ्यास से एकदम सीधी सहस्रार में। उस बिंदु शक्ति को केवल आदमी ही ऊपर चढ़ा सकता है, अन्य जीव नहीं। क्योंकि केवल आदमी ही योगाभ्यास कर सकता है। साथ में, विशाल बिंदु शक्ति को झेलने लायक मस्तिष्क केवल आदमी के पास ही है, अन्य जीवों के पास नहीं।

साँस रोकने के बहुत से लाभ हैं

योगा वाली साँसों पर भी पिछली पोस्ट में व्यावहारिक चर्चा कर रहा था। दरअसल जो ड्रैगन को साँसों की आग उगलते हुए दिखाया गया है, वह कुंडलिनी की आग का ही प्रतीक है। उस साँस से जो कुंडलिनी नाड़ी लूप में घूमते हुए चमकती है, उसीको रहस्यात्मक आग के रूप में दर्शाया गया है। आदमी का वास्तविक आकार भी एक ड्रैगन के रूप जैसा ही है। यदि हम रीढ़ की हड्डी और मस्तिष्क को लें, तो एक नाग या ड्रैगन जैसा आकार बनता है। आदमी का असली रूप रीढ़ की हड्डी और मस्तिष्क में ही समाया हुआ है। बाहर के अन्य अंग तो मात्र बाहरी छिलकों की तरह है। इसका वर्णन मैंने एक पुरानी पोस्ट में किया था। यह मैंने कहीं पढ़ा नहीं और न ही इसका प्रमाण है मेरे पास, जो नीचे लिखा है। ऐसा लगता है कि साँस रोकने से रक्त वाहिनियों की दीवारों का लचीलापन बढ़ता है। क्योंकि उनकी मांसपेशियों को मजबूती मिलती है। खुद भी महसूस होता है, जब साँस रोकने से दिमाग की नसों में भारीपन व कड़ापन सा महसूस होता है। पर ऐसा सावधानी से करना चाहिए। बहुत ज्यादा या बहुत देर तक नहीँ। इसीलिए जिन आसनों में पेट अंदर को दबता है, उन्हें साँस बाहर निकालकर रोककर करने को कहते हैं। जैसे कि शीर्षासन, सर्वांगासन, हलासन, नौकासन आदि। जिनमें पेट बाहर को फूलता है, उनमें साँस अंदर भरकर रोकने को कहते हैं। जैसे कि शलभासन, मकरासन, भुजंगासन आदि। वैसे नियंत्रित अवस्था में तो किसी भी आसन में सांस को भरकर या बाहर निकालकर अपनी रुचि के अनुसार रोककर रख सकते हैं। शीर्षासन, सर्वांगासन व हलासन में विशेष ध्यान रखना पड़ता है, क्योंकि उनमें मस्तिष्क में बहुत दबाव पैदा होता है। अगर साँस रोकने से विशेषकर योग के दौरान खून की नसों का लचीलापन बढ़ता है, तो इससे जाहिर है कि इससे स्ट्रोक, व दिल के रोगों से कुछ राहत मिल सकती है। जब तक रिसर्च से प्रूव नहीं होता, तब तक ऐसा विश्वास करके श्वास रोककर योग करते रहने में कोई बुराई नहीं है। वैसे भी यह तो वैज्ञानिक प्रयोगों से स्पष्ट हो चुका है कि साँस रोकने से दिमाग में ऑक्सीजन का स्तर बदलता रहता है। इसका सीधा सा मतलब है कि खून की नसें सिकुड़ती और फैलती रहती हैं। जाहिर है कि उनके सिकुड़ने से ऑक्सीजन का स्तर घटेगा, और फैलने से बढ़ेगा। कुंडलिनी जागरण के समय मस्तिष्क में काफी दबाव महसूस होता है। उस दबाव को सहने के लिए भी इससे दिमाग की नसें तैयार रहती हैं।

सिर का दबाव ऐसा लगता है कि माथे के किनारों वाली दिमाग की नसें फूली हुई हैं। ऐसे आसन जिसमें सिर शरीर से नीचे हो, उनमें ऐसा ज्यादा लगता है। अभी हाल ही में मेरे एक रिश्तेदार लड़के की ब्रेन हेमरेज से मृत्यु हुई। वह सिर्फ 30 साल का था। अंतर्मुखी, लाडला, परिवार पर ज्यादा ही निर्भर और परिवार के इलावा दूसरों से कम घुलने-मिलने वाला था। कुछ दिनों से उसके सिर में हल्का सा दर्द रह रहा था, और खून की उल्टी के साथ बेहोशी से आधा घण्टे पहले वह सिर की नसों को छूकर बता रहा था कि उसे लग रहा था कि उसकी दिमाग की नसें फूल रही थीं। उसकी माँ को तो हाथ से छूने पर वैसा कुछ नहीं लगा। इसलिए उसे सोकर आराम करने को कहा। आईसीयू में डॉक्टरों ने उसके बचने के सिर्फ 5% चांस बताए। उसका मस्तिष्क बहते और जमे खून के दबाव से पत्थर की तरह सख्त हो गया था। वह सिर्फ डेढ़ दिन ही आईसीयू में जिंदा रह सका। उसे 5 दिन पहले कोरोना वैक्सीन, एस्ट्रोजेनिका आधारित कोविशील्ड भी लगा था। डॉक्टरों ने कहा कि उसे ज्यादा ही इम्मयूनिटी पैदा हो गई थी। इससे डरने की जरूरत नहीं। इससे डरकर वैक्सीन लगाना बन्द नहीं करना चाहिए, जब तक कोई बेहतर वैक्सीन नहीं आ जाती। इससे बहुत सी जानें बची हैं। इसकी तुलना में तो साईड इफेक्ट नगण्य ही हैं। हाँ, सावधान रहकर हर स्थिति के लिए तैयार रहना चाहिए। अगर साइड इफेक्ट लगे, तो डॉक्टर से सम्पर्क में रहना चाहिए। ऐसे जीवनघातक दुष्प्रभाव की संभावना लाखों में केवल 1-2 को ही होती है। अब तो यह भी सामने आया है कि यदि गलती से इंजेक्शन माँस की बजाय खून की नस में लगे, तो भी खून में क्लॉट बन सकते हैं। मैं यह इसलिए बता रहा हूँ कि अगर योग, व्यायाम आदि से उसके दिमाग की नसों में ज्यादा फुलाव को झेलने की शक्ति होती, तो शायद रक्तस्राव न होता या कम रक्तस्राव होता, या एमरजेंसी ट्रीटमेंट से जान बच जाती।

बिंदु का अर्थ एक सुई की नोक जितना स्थान भी होता है

इसे अंग्रेजी में पॉइंट कहते हैं। यह पैन को एक स्थान पर रखकर उसकी स्याही का निशान लगाने से बनता है। पिछली पोस्ट में मैंने बताया था कि बिंदु का अर्थ बूँद होता है। पर इसका दूसरा अर्थ पॉइंट भी होता है। कुंडलिनी भी वास्तव में असीमित क्षेत्र के मन का एक सूक्ष्म स्थान होता है। यदि कागज के एक पृष्ठ या पूरी पुस्तक पर लिखे लेख को मन मान लिया जाए, तो कुंडलिनी सिर्फ एक पॉइंट जितने स्थान में आ जाएगी। एक पॉइंट से पूरे लेख के बारे में जानकारी मिल जाती है कि कौन सा पैन इस्तेमाल हुआ है, और कौन सी स्याही। यहाँ तक भी पता चल सकता है कि लेखक का हस्तलेख कैसा है। इसी तरह एक कुंडलिनी से पूरे मन के स्वभाव का अनुमान लग जाता है। जैसे एक बिंदु के पूर्ण ज्ञान से पूरा लेख नियंत्रित किया जा सकता है, इसी तरह एक कुंडलिनी के संपूर्ण ज्ञान से पूरा मन नियंत्रित हो जाता है। मैं यह उपमा दोनों के बीच में बाहरी सादृश्यता को देखकर दे रहा हूँ, भीतरी को नहीं।

योग सीखने की चीज नहीं, अभ्यास की चीज है

मुझे कई लोग बोलते हैं कि मुझे योग सिखा दो। जिसे 20 सालों को करते हुए मैं थोड़ा सा सीखा हूँ, उसे किसीको एकदम से कैसे सिखा सकता हूँ। योग वास्तव में कोई एक विशेष क्षेत्र की विद्या नहीं है, जिसे एकदम से सिखाया जा सके। यह एक विचारधारा है, एक जीवन दर्शन है, एक लाइफस्टाइल है। यह मन की एक अद्वैतमयी सोच है। इसे आप सकारात्मक सोच भी कह सकते हैं। उस सोच को बना कर रखने और बढ़ाने के लिए आप जो मर्जी तरीका चुन सकते हैं। बहुत से तरीकों का भी एकसाथ इस्तेमाल कर सकते हैं। इसलिए पहले सोच पैदा करना जरूरी है। जिसके अंदर सोच ही नहीं है, वह उसे बना के क्या रखेगा, और उसे बढ़ाएगा क्या। सोच तो आदमी के अपने वश में है। इसीलिए प्रकृति ने आदमी को फ्री विल उन्मुक्त चिंतन शक्ति दी है। योग कोई सोच जबरदस्ती नहीं पैदा कर सकता। योग का सहारा उस सोच को बढ़ाने के लिए लिया जा सकता है। जिसके अंदर यह सोच है, उसे कुछ सिखाने की जरूरत ही नहीं। सोच अपना रास्ता खुद ढूंढती है। उन्हें सोच बनाने के लिए मैं शरीरविज्ञान दर्शन पुस्तक पढ़ने को कहता हूँ। उसके बाद उनकी तरफ से कोई संदेश ही नहीं आता। यदि संदेश आता, तो मैं उन्हें कहता कि अब इस सोच को पक्का करने के लिए कुछ सालों तक इस सोच के साथ कर्मयोग के रास्ते पर चलो। सोच को आप कुंडलिनी भी मान सकते हो, क्योंकि दोनों ही मन के विचार हैं। फिर जब कुछ वर्षों के बाद उनका संदेश आता तो मैं उन्हें कुंडलिनी योग के बारे में बताता, व उसके बारे में व्यावहारिक पुस्तकें सुझाता, बेशक वे मेरी लिखी हुई ही हों। यही असली तरीका है योग सीखने का। मैं भी ऐसे ही सीखा हूँ। यदि कोई व्यायाम की तरह का शारीरिक योग ही सीखना चाहे, तो उसके लिए आज बहुत से साधन हर जगह उपलब्ध हैं, ऑनलाइन भी और ऑफलाइन भी। असली योग सीखने में समय लगता है, पूरी उम्र भी लग सकती है। 

आर्यसभ्यता की देवमूर्ति परम्परा से कुन्डलिनी साधना

आर्यन सभ्यता की रीति रिवाजों को देखकर उस समय की महान आध्यात्मिक वैज्ञानिकता वाली सोच का पता चलता है। शिव, गणेश आदि देवता बिल्कुल स्थाई व अजर अमर बना दिए गए थे। मूर्ति कला अपने चरम पर थी। इतनी जीवंत व आकर्षक मूर्तियां बनती थीं, जिनके आगे असली आदमी लज्जित हो जाते थे। असली आदमी, गुरु या प्रेमी से अधिक आसान तो देव मूर्तियों पर ध्यान लगाना होता था। उदाहरण के लिए यदि किसी के मन में शिव मूर्ति का रूप जागृत हो जाए, तो वह कभी नहीं भूल सकता था। वह इसलिए क्योंकि वह मूर्ति विशेष सहेज कर मन्दिर में हमेशा के लिए रखी जाती थी। वैसे भी देश के हरेक स्थान पर शिव मंदिर होने से शिव रूपी कुंडलिनी का कभी विस्मरण नहीं होता था। असली आदमी का तो सीमित जीवन होता है, पर ये देवमूर्तियाँ तो धर्म परंपरा से जुड़कर शाश्वत हो गई हैं। असली आदमी का तो वियोग भी हो सकता है। फिर ध्यान कैसे लगाए। देवमूर्तियां तो हर जगह और हर समय विद्यमान हैं। इसीलिए इनको बहुत सुंदर बनाया जाता था। स्वर्णमूर्ति सर्वश्रेष्ठ मानी जाती थी। क्योंकि वह सबसे आकर्षक, चमकदार और दीर्घजीवी होती थी। मैंने कई इतनी सुंदर मूर्तियां इतने जीवंत और सुंदर रूप में देखी हैं, कि आजतक मेरे मन में जीवंत हो जाती हैं। सोचो, जब एक बार देखने पर ही वे मन पर इतनी गहरी छाप छोड़ सकती हैं, तो बार बार उनका ध्यान करने से वे क्यों मन में जागृत नहीं होएंगी। यदि न भी जागृत होए, तो भी वे आदमी को अनासक्ति व अद्वैत के साथ जीना सिखाती हैं। वे हर हाल में फायदा ही करती हैं। वैसे  भी देव मूर्ति तभी अस्तित्व में आई जब किसीने सबसे पहले उसको मन में जागृत किया और उसे दुनिया के सामने रखा।

कुंडलिनी वाला भला केवल मानसिक कुन्डलिनी ही कर सकती है, कोई स्थूल भौतिक रूप नहीं

आदमी का भला करना तो कुंडलिनी का स्वभाव है, चाहे वह पत्थर के रूप वाली ही क्यों न हो। इसीलिए यह कहावत बनी है कि मानो तो पत्थर में भी भगवान मिल जाते हैं। पर इसका श्रेय कुंडलिनी को न दिया जाकर देवता को दिया जाने लगा। इससे लोगों के मन में देवताओं के प्रति विश्वास बढ़ता गया, जो आज तक है। हालांकि वैज्ञानिक तौर पर मानव भलाई के सारे काम कुंडलिनी कर रही थी। देवताओं को श्रेय दिया जाना उचित भी है, क्योंकि वे वैसे भी भौतिक रूप से भी लोगों का भला करते रहते हैं। जैसे सूर्यदेव रौशनी देते हैं, और जलदेव पानी। हालांकि कुंडलिनी वाला भला तो कुंडलिनी ही कर रही है, देवता नहीं। दोनों प्रकार की भलाई को अपने अपने असली रूप में देखना चाहिए, इकट्ठे जोड़कर नहीं, तभी कुंडलिनी के बारे में भ्रम दूर होगा। इसी तरह, एक आदमी का भला प्रेमी के रूप से बनी उसके मन की कुंडलिनी करती है, उसका प्रेमी नहीं। अगर प्रेमी ही भला कर रहा होता, तो शादी के बाद परस्पर आकर्षण खत्म या कम न होकर बढ़ता। पर होता उल्टा है। दरअसल शादी के बाद जब प्रेमी का भौतिक रूप हर वक्त उपलब्ध हो जाता है, तब मन में उसके रूप की बनी हुई कुंडलिनी मिटने लगती है। इससे कुंडलिनी वाले लाभ खत्म हो जाते हैं। पर आदमी दोष देता है प्रेमी को। प्रेमी तो जैसा पहले था, वैसा ही होता है। इसीलिए भगवान कृष्ण कहते हैं कि राधा उनकी सबसे प्रिय है। राधा से विवाह नहीं, सिर्फ उनका प्रेम ही होता है। बात स्पष्ट है कि कृष्ण के मन में राधा के रूप से बनी शाश्वत कुंडलिनी के कारण ही कृष्ण को राधा सबसे प्रिय है। यदि दोनों का विवाह हो जाता, तो शायद वैसा न होता। क्योंकि भौतिक रूप से तो उनकी पत्नी रुक्मिणी सबसे सुंदर हैं। दरअसल असली और सच्चा प्यार सिर्फ और सिर्फ कुंडलिनी से ही होता है, किसी भौतिक वस्तु से नहीं। “किसीकी याद के सहारे जीना” भी इसी कुंडलिनी के द्वारा किए जाने वाले भले का उदाहरण है। भला सुखी जीवन से बड़ा भला और क्या हो सकता है। शिव का दूसरा रूप पर्वत भी है, जो मैंने एक कविता पोस्ट में सिद्ध किया है। पर्वत आदमी का बहुत भला करते हैं। ये पानी, हवा, ठंडक, फल आदि देते हैं। इसलिए लोगों का देवताओं पर आसानी से ध्यान जम जाता है। इसीलिए ज्यादातर मामलों में देवताओं को ध्यान कुंडलिनी बनाया जाता था। इससे संसार में मानवता भी पनपी रहती थी। वैसे भी कुंडलिनी ही भगवान तक ले जाती है। भगवान तक पहुंचने के लिए सीधी उड़ान सेवा नहीं दिखाई देती। लगता यह अजीब है, पर यह सत्य है। यह मूर्ति विज्ञान है, जिसे जो नहीं समझेगा, वह तो दुष्प्रचार करेगा ही।

Kundalini is like engine fuel and energy is like ignition from spark plug that produce awakening blast and these are assisted by dhyana, Shivbindu, human form Deity, Shivling, Jyotirlinga, Breath hold, Brain Pressure, Self-learning, Positive Thinking, Relentless Practice, Selflessness, Perseverance, Patience, and systematic approach

Friends, in the previous post I was talking about Kundalini awakening and the merger that’s felt during it. That merger should start with the Kundalini. This means that one must first feel one’s complete merger with the Kundalini, with complete bliss and non-duality. With Advaita born from that, one will then feel his merger with all things. This happens so rapidly, so appears together in real time. Although this association with all things would be secondary, the primary would be with Kundalini only. Only then will the Kundalini picture of mind become the most important, and it will remain active permanently. This means that you should keep on doing energy sadhna/chakra sadhna/nadi sadhna, because these sadhnas will be useful for Kundalini when the time comes. But try to awaken the human form of Kundalini, not energy. Energy awakens itself when time comes. Energy should follow the Kundalini, Kundalini should not be behind the energy. I tell my experience about this. I used to do energy meditation with Kundalini meditation every day. One day, as soon as I got a good opportunity, all of a sudden I got very strong remembrance of Kundalini, and I started getting lost in it. Then my energy also climbed up through the back from the muladhara to support the Kundalini and reached the brain. I felt so because my muladhar area became fully shrunken, although that energy climbed up so rapidly that I couldn’t feel that. That’s why I am anticipating the energy ascending through the back, because I had been doing a good practice of raising the Kundalini through the back adopting the Tantric method for almost a month. Also because at that time there was dancing and singing of women. Therefore, the energy of the muladhar chakra was stimulated. The energy stimulated through the sexual means rises up through the back. That energy then joined Kundalini in the brain, which led to Kundalini awakening. It means to say that Kundalini itself was going to be awakened. All she needed was an additional supply of energy. It’s as if the gas got into the engine, it just needed a spark from the spark plug to make it explode. If there is no spark, the engine would not explode. Similarly, if I had not been doing energy cultivation, the Kundalini would not have received energy, and would have returned from the brain without being awakened. Such an up-and-down cycle of Kundalini goes on inside everyone, most of the people just cannot give the spark of energy. It also happens with many that the river of energy reaches the brain, but there is no Kundalini there. With it, pictures flash in the mind with great clarity, but do not wake up. It is like that there is no gas in the engine, but sparks are continuously being produced. It will produce a small light of spark, but not as huge as a bang. That’s why make Kundalini the main target, but keep on doing energy sadhna also. It is such that you have to create such a deep remembrance of Kundalini that you get lost in it for a few moments. This is Kundalini awakening. Understand that the memory of the guru or the deity has to be created so deep, as deep as a lover who is immersed in the love of his consort, feels for her itself without any efforts. But the remembrance of the guru or the deity will not arise in you so strong itself, because there is no sexual attraction there. So you have to resort to tantric techniques to create strong attraction like sexual attraction. For this the above mentioned energy practices will be useful for you. Then you will say that then why should not the sexual lover be made Kundalini. But it’s not the best way. Firstly, it is impossible to awaken the sexual Kundalini because of sexually originated physical disorders. Secondly, no one would like the next birth to be that of a woman, because a woman has to face more difficulties than a man. As a man thinks, he can become so in the next life. It is a different matter that in today’s scientific age, men and women are equal, even in many places, women are more upside than men. But such an era will not last forever. The age of scientific facilities like today seems to be just a negligible part of unlimited time. These facilities are also not available everywhere. These views are my own experiential views based on truth, there is nothing gender discrimination in it, and there should not be. This is personal blog, not for fame or money. Anyway, it is also visible in the world and in Tantra sects also it is believed that woman can only help man in Kundalini awakening, she cannot awaken herself. If she gives this help, then in the next life she becomes a man and awakens. By the way, there have been many great tantric women in the Tantric sects, who have awakened their male companions, and they themselves have also been awakened. Cases of exceptions carrying out special efforts are found everywhere. Many yogis have meditated on the Mother Goddess. Yogi Ramakrishna Paramhansa was a worshiper of Maa Kali. In his meditation, Kali Mata was clearly visible in physical form. He used to play with her, talk to her. But there is a difference between an ordinary woman and a goddess. Perhaps that is why very little is said in the scriptures about making a woman a guru. Although woman assist man highly in awakening and to some extent vice versa. Well, change and variation are the laws of the world. Meditation or dhyana should be practiced in whatever way a person feels suitable. Along with it, it was said that the awakening which is attained by chance or by shaktipat etc. without self effort, is short and temporary. It does not give complete satisfaction. It feels like getting one more awakening. The Kundalini picture made from it also starts disappearing after a few years. However, such awakening motivates a man to attain full awakening. Due to this man starts practicing yoga.

Bindu power is redirected from mooladhar to sahasrara chakra

Kundalini gets the power of the bindu itself from Muladhara. If someone feels insult of Kundalini by the name Bindu, then dhyana can be done by the name Shivbindu and Jyotirlinga or Shivling. This will not insult the Kundalini, and the man will also get the form of Shiva. Two benefits at once. Another great way is to name the contemplation of Advaita as Shivbindu. With this, as soon as Kundalini comes in the mind, she will get the power of the bindu immediately. Anyway, Shiva is the owner of this non-dual body. A man becomes the master of it by false arrogance. This fact has been scientifically proven in the book sharirvigyan Darshan. All the 12 chakras become the twelve Jyotirlingas of Shiva by the meditation of Shivbindu on the Kundalini chakras. In the word Jyotirlinga, Jyoti means the radiance of Kundalini. This is the spiritual secret of the 12 Jyotirlingas. That is why it is said to keep constricting up the muladhara and give pressure from the heel of the foot in Siddhasana there. In fact, the Vajra Nadi, carrying the bindu power, climbs up the middle of the back through the Swadhisthana Chakra and the Muladhara Chakra. It starts with the genitals. I have described this in an old post, how that Kundalini Nadi is shown as a serpent holding a Kundali or coil, and how it stands up by opening its coil. Actually, Kundalini is not in the shape of a serpent, as many people understand. This is the nadi that carries Kundalini energy. The name Kundalini is so named because she is imprisoned in the nadi like a serpent with a coil. This is a Sanskrit word. That nerve channel becomes active by the pressure on the muladhara. It is clear from this that the power which has been told to reside in Muladhara is in bindu form only. That same bindu energy has to be taken up to Sahasrar for awakening. It can reach there by slowly awakening all the chakras on the way, and also straight. It depends on the type of yoga exercise. With simple practice, it gradually reaches the top, but with tantric practice, it goes very straight to Sahasrar directly bypassing all intermediate chakras. Only human can raise that bindu power, not other living beings. Because only human can practice yoga. At the same time, only human has a developed brain capable of withstanding the huge bindu power, not other living beings.

There are many benefits of holding your breath

I was also discussing practically on yoga breaths in the previous post. In fact, the dragon which is shown breathing fire, it is a symbol of Kundalini fire. The kundalini from that breath that glows in the loop channel is depicted as mystical fire. The actual shape of man is also similar to that of a dragon. If we take the spinal cord and the brain, a serpent or dragon-like shape is formed. The true form of man is contained in the spinal cord and the brain. The other parts on the outside are just like the outer peels. I described this in an earlier post. I have not read this anywhere and not I have proof of special benefit of holding breath as described below. Holding the breath seems to increase the flexibility of the blood vessel walls. Because their muscles get stronger. It is also felt itself, when by holding the breath, there is a feeling of heaviness and stiffness in the vessels of the brain. But this should be done with caution. Not too much or for too long. That is why in the asanas in which the stomach presses inside, one is asked to hold the breath by exhaling. Such as Shirshasana or head stand, Sarvangasana or shoulder stand, Halasana or plough pose, Naukasana or boat pose etc. In which the stomach expands to the outside, it is said to stop breathing after filling air in. Such as Shalabhasana or grasshopper pose, Makarasana or crocodile pose, Bhujangasana or snake pose etc. By the way, in a controlled state, by inhaling or exhaling the breath in any posture, you can hold it according to your interest. Special care has to be taken in Shirshasana, Sarvangasana and Halasana, because in them a lot of pressure is created in the brain. If holding the breath increases the flexibility of the blood vessels, especially during yoga, then it is obvious that it can provide some relief from stroke, and heart diseases. As long as research does not prove it, there is no harm in doing yoga by holding your breath believing so. Anyway, it has become clear from scientific experiments that by hold of breathing, the level of oxygen in the brain keeps changing. It simply means that the blood vessels keep on contracting and dilating. Obviously their shrinking would decrease the oxygen level, and expanding would increase. During Kundalini awakening, a lot of pressure is felt in the brain. It also prepares the blood vessels of the brain to bear that pressure. During feeling of head pressure, it seems that the vessels of the brain along the sides of the forehead are under pressure. In such postures in which the head is below the body, it seems more like this. Recently a relative of my boy died of brain hemorrhage. He was only 30 years old. Introverted, lovable, too dependent on family he was. He was less acquainted with others other than close family members. For a few days he had been suffering from slight pain in his head, and half an hour before he fainted with vomiting of blood, he was touching some vessel of the head and telling that he felt that the blood vessel of his brain was bloating. Touching by his mother with her hand did not feel like anything. So he asked him to sleep and rest. The doctors in the ICU told only 5% chance of his survival. His brain had become hard as a stone under the pressure of the flowing and compressed blood. He could survive in the ICU for only one and a half days. He also got the Corona Vaccine, astrogenica based Covishield 5 days ago. The doctors said that he had developed too much immunity. No need to be afraid of it. Fearing this, vaccination should not be stopped until a better vaccine is found. Many lives have been saved by this. In comparison, the side effects are negligible. Yes, one should be prepared for every situation by being careful. If side effects occur, the doctor should be consulted. The chances of such life-threatening side effects are only in one digit number out of million. Now, it is new thing to hear that if by mistake injection goes intravenous instead of intramuscular route, then it can also lead to clot formations in the blood. I’m saying this because if by yoga, exercise, etc. he had the ability to withstand more swelling in the blood vessels of his brain, then there might have been no bleeding or there would have been less bleeding, or emergency treatment would have saved his life.

Bindu also means space as much as the tip of a pen

It is called point in English. It is made by keeping the pen at one place and marking its ink. In the previous post I mentioned that Bindu means drop. But it also has another meaning point. Kundalini is also a small place of the mind of a truly unlimited field. If the article written on a page of paper or the whole book is taken as the mind, then the Kundalini will come in only one point. A single point gives information about the entire article, which pen is used, and which ink. It can even be known how the author’s handwriting is. Similarly, a Kundalini gives an idea of the nature of the whole mind. Just as with the perfect knowledge of a point the whole article can be controlled, similarly by the perfect knowledge of a Kundalini the whole mind is controlled. I am giving this analogy by looking at the external resemblance between the two, not the inner one.

Yoga is not a matter of learning, it is a matter of practice

Many people tell me to teach me yoga. What I have learned a little while doing since 20 years, how can I teach it to someone at once. Yoga is not really a discipline of a particular field, which can be taught immediately. It is an ideology, a philosophy of life, a lifestyle. This is a non dualistic thinking of the mind. You can also call it positive thinking. You can choose any way you want to maintain and enhance that thinking. Multiple methods can also be used together. That’s why it is necessary to create thinking first. He who does not have any thought, what will he keep of it, and what will increase of it. Thought is in the control of man. That is why nature has given free will to man. Yoga cannot force any thought. Yoga can be resorted to increase that thinking. He who has this thinking inside, does not need to be taught anything. Thought finds its own way. To make them think, I ask them to read the book Physiology Philosophy or sharirvigyan darshan. After that there is no message from their side. If the message had come, I would have told them that now to make this thinking firm, for a few years follow the path of Karmayoga with this thinking. You can also consider thinking as Kundalini, because both are thoughts of the mind. Then after a few years, when again his message came, I would tell him about Kundalini Yoga, I would suggest practical books about it, even if they were written by me. This is the real way to learn yoga. I have learned the same way. If someone wants to learn physical yoga like exercise, then today many tools are available everywhere, online as well as offline. Learning real yoga takes time, it can take a whole life.

Aryan civilization helping in kundalini meditation through idol worshipping rituals

Looking at the customs of the ancient Aryan civilization, the great spiritual scientific thinking of that time is revealed. The deities like Shiva, Ganesha etc. were made absolutely permanent and immortal. Sculpture was at its peak. Such lively and attractive sculptures were made, in front of which real men would be ashamed. It was easier to meditate on the idols of God than a real man, guru or lover. For example, if the form of Shiva idol was awakened in one’s mind, then he could never forget it. That is because that idol was specially saved and kept in the temple forever. Anyway, due to the presence of Shiva temples in every place of the country, the Kundalini in the form of Shiva was never forgotten. The real man has a limited life, but these idols have become eternal by joining the religious tradition. The real man may even be lost. Then how to meditate? Deities are present everywhere and at all times. That’s why they were made so beautiful. Swarnamurti or golden idol was considered the best. Because that was the most attractive, shiny and long-lived. I have seen many such beautiful sculptures in such a lively and beautiful form, that till today they come alive in my mind. Think, when that can leave such a deep impression on the mind just by seeing that once, then why will that not be awakened in the mind by meditating on that again and again. Even if not awakened, idol teaches a man to live with non-attachment and non-duality. They always give benefit. Anyway, the deity idol came into existence only when someone first awakened it in the mind and placed it in front of the world.

Kundalini type good can be done by mental kundalini only, not by any gross physical object

It is the nature of Kundalini to do good to man, even if it is in the form of a stone. That’s why there is a saying that as if God can be found everywhere even in a stone. But the credit for this was not given to Kundalini but was given to the deity. This increased the faith to the gods in the minds of the people, which is till today. Although scientifically, Kundalini was doing all the work of human good. It is also appropriate to give credit to the gods, because they continue to do good to people in material terms anyway, like providing sunlight, air, water etc. Although the Kundalini type benefit is from the Kundalini only, not the deity. Both the types of goodness should be seen in their true form, not combined together, only then the confusion about Kundalini will be removed. Similarly, the Kundalini of a man’s mind formed in the form of a lover does the good of a man, not his lover. If the lover was doing good, then after marriage, mutual attraction would not end or diminish but increase. But the opposite happens. In fact, after marriage, when the physical form of the lover becomes available at all times, then the Kundalini created in the mind starts to disappear. Due to this the benefits of Kundalini end. But the man blames the lover. The lover is as it was before. That is why Lord Krishna says that Radha is his dearest. There is no marriage of Krishna with Radha, only love between them happens. It is clear that Radha is dearest to Krishna only because of the eternal Kundalini formed in the form of Radha in mind of Krishna. If both had been married, it might not have been so. Because physically his wife Rukmini is the most beautiful. Actually real and true love comes only from Kundalini and not with any material object. “Living with the help of someone’s remembrance” is also an example of the good done by this Kundalini. What is more good than life itself. Another form of Shiva is a mountain, which I have proved in a poem post. Mountains do a lot of good to man. They give water, air, coolness, fruits etc. That’s why people get easily focused on the deities. That is why in most cases the deities were made to be meditated as a Kundalini. Due to this humanity also flourished in the world. Anyway, only Kundalini leads to God. There appears no direct flight service to reach God. It sounds strange, but it’s true. This is a science of idolatry, which one who does not understand, he will definitely spread false propaganda.

Kundalini or dhyana-bindu requires scientific thinking, deep exploration, practice, patience, loving contacts, study-discussions, and guru-gods-great men-incarnations and their mental images formed in the mind

Friends, I had said in the previous post that how to breathe. Let’s continue this a little more. It’s been almost four years since I’ve been doing yoga consistently and dedicatedly. Even before that, I have been doing light yoga everyday for about 15 years. Now I feel that I have learned to breathe. Well, I’m still learning. Learning never ends. It is easy to say that breathing is called yoga. But it requires long practice. Now I have understood why after inhaling it is asked to stop the breath for some time. At first I thought it was useless work. In fact, when there is a collision between prana and apana due to breathing, then it takes some time for that conflict to reach its peak. At that time, there is also the contemplation of conflict along with it, then you get more benefits. Due to this, the Kundalini energy starts moving in the energy loop by climbing up and down with a powerful shock. It refreshes instantly. Similarly, inhale slowly and for a long time, so that prana and apana mix well. Breathe out slowly too, because it takes time for the Kundalini energy to descend. Kundalini moves along with material substances in the physical bodily channels. Therefore, it will take time for the flow of nadis to reach from one place to another. Similarly, after exhaling completely, hold the breath for as long as possible. Due to this, the Kundalini descends completely and gets deposited on the Swadhishthana chakra, and as soon as the Mooladhara is constricted up, it descends down to the Mooladhara and ascends from the back to the Sahasrara. From there it descends with prana almost to the heart chakra while inhaling. There she collides with the apana coming from below and starts shining brightly. Then when the chest and abdomen descend while exhaling, it also descends and reaches the Swadhishthana Chakra. Again the same previous process repeats. In this way, like an automatic machine, this kundalini cycle continues, and the man remains engrossed in bliss. By touching the inverted tongue with the soft palate, the flow becomes better. Watching the abdomen and chest move up and down helps in meditation. Many people keep moving the Kundalini between the navel and the mooladhara. Many times there are such situations or such body postures, in which the breath moves from the chest instead of the stomach. At that time the chest expands on inhalation, which pulls the Kundalini mixed apana up from below. With the inhaling breath, Kundalini mixed prana descends from top to bottom to the chest. There the Kundalini becomes more pronounced by the clash of the two in the chest, and at the same time the stress caused by fatigue etc. also goes away. Similarly, many times the inhalation causes both the chest and the stomach to swell forward simultaneously. This also creates a good stretch on the Kundalini energy.

Kundalini rises up through the sushumna itself, although other nadis also contribute to it

When the Kundalini energy rises up from my back, I do not stop it, be it at any nadi or place. Actually the central line of the back is the Sushumna Nadi. It is also connected to the other two main corner lines or nadis of the back. Take any other channel line or point, it is connected to all. In fact all the nadis are connected with each other like a net of nadis. That’s when I feel Kundalini energy anywhere in my back, I don’t stop that experience. Only with this I keep a peek at the front Ajna chakra and Mooladhara constriction. By doing this, the Kundalini slowly slips and comes into the Sushumna, and goes up to the Sahasrar and goes down from there and then starts moving in a loop. Just keep such attention. What happens many times is that if the Kundalini energy is on the left side in the back or head, then by doing the above meditation it first moves to the right, then balances and fits into the middle sushumna. However, this lasts only for a short time, because the velocity of energy keeps on decreasing rapidly. It should not be confused with Kundalini awakening. This is a simple movement of energy, although a similar phenomenon occurs in awakening, but it is at its peak. The movement of such energy goes on in everyone. But not everyone recognizes it, nor pays attention to it. That’s how a man stays alive. Probably Pranavidya can also make alive a dead creature with the flow of this prana. I had heard from an old friend that at the Kumbh Mela in Allahabad, he had seen a tantric yogi bring a dead bird alive with pranavidya. Its truth is not known, but there are many stories related to it in Hindu Puranas. Sanjeevani Vidya may also have been the same prana science, through which the demon guru Shukracharya used to bring alive the demons who died in the war fought with the gods. There is definitely some scientific fact in the basis of such allegorical stories. These are made to attract people towards yoga. But many people start denying science and yoga by taking its opposite meaning. Similarly yawning is also a flow of energy. Only then does the fatigue go away with it. How does a man help the Kundalini energy reach the brain by raising the hands, straightening the back and neck, making a pit in the line of the navel, opening the mouth, closing the eyes, constricting the front ajna chakra point. The difference is that the yogi goes deep into what it is, how it happened, why it happened and how can it become more so that benefit can be obtained. Even before Newton, many people had seen an apple falling from the tree, but only Newton went deep into it. Common man leaves it as simple. A yogi is also a scientist, especially a psychologist. Yawning is a wonderful gift of refreshing from nature.

At the time of confluence both the components that mix together need to be taken care of along with the process of confluence

In the previous post I was talking about confluence times and places like Sandhya etc. One has to pay attention to them in the same way as there is paid at time of the confluence of prana and apana, then only benefit is received. In this way, the rooster gets up before the morning sandhyas time, why does that not get the benefit of the confluence. Because there is no his faith in confluence. If a man does not understand the technical aspect, then at least he must have faith. In fact, in the state of meditation on the dim natural light of the dusk or dawn, attention should also be kept on the full brightness of the day and the complete darkness of the night, only then there will be a collision of day and night, and mixed together with the glow of Kundalini, bliss is created. Similarly, there are many frogs and fish living in the water of the confluence of Allahabad, they are not liberated. The same thing happens there too. It is not only about confluence only but also about every religious ritual. This shows how important the knowledge of the scientific and technical aspect of religion is. It is the job of this website to find that knowledge.

Yoga itself teaches yoga better

I got some new practical experiences this week about yoga-asanas. They were there earlier too, but were not so clear. Earlier I used to take quick and shallow breaths. This time I took air deeply and slowly like pranayama. In a way, Pranayama also started happening with asanas. Two benefits at once. Earlier I used to take short, quick and shallow breaths 20-30 times in a pose. But now I was able to take it only 2-3 times. There was such a difference. Yoga teaches itself over time. So keep doing it as it feels right. Although I read somewhere in the blog that yoga guru Iyengar used to teach yoga asanas together with meditative pranayama. Now the whole truth has been revealed. Still have to be careful. Don’t exceed your happy tolerance limit of breath holding. Most of my time is spent in yoga practice. It is also necessary for me. I can’t be healthy without it. I have ankylosing spondylitis, an autoimmune disease. In this, the man should always be in action. To avoid jamming the joints of the body, especially the joints of the chest and back, and to overcome fatigue, regular exercise should be done. Kundalini meditation, pranayama are beneficial to prevent depression, and other mental defects. This is its main treatment. Because of this, I was able to learn a little yoga. Any excuse is good to persuade the mind.

Kundalini, Karmayoga and Vigyan or science are related to each other in an intimate relationship

People often say that spirituality is not a subject of science. I say that it’s absolutely necessary. Till Kundalini awakening, it is too much, but even after that it is enough necessary. After Kundalini awakening, individual science is replaced by universal or cosmic science. Due to this, one starts getting favorable conditions unintentionally, and itself starts getting good for him. This happens because of the divine power of Kundalini. However, it also has its limitations and constraints. This eases the burden of personal science a bit. To receive Kundalini and to keep it active, karma yoga is needed. The better the Karma Yoga, the greater the quality and specialty of the work. It is science that gives quality, specialty and highness to actions. That’s why spirituality and science go well together. I used to be a freak of science myself. Where no one imagined science, I would fit science in there too. My teachers used to tell me jokingly that friend, you fight science everywhere. Because science is necessary for Kundalini, that is why people of science-oriented, especially in modern type of civilization, people are more Kundalini curious. But most of them understand only the science of external yoga related to health. They underestimate the science of meditation. All the scientists can become great Kundalini yogis if a small part of the mind and energy they devote to the outer sciences, devote to the inner sciences. But now slowly we are understanding Kundalini science as psychology. That is why there is no satisfactory translation of dhyana in international language. The word meditation or concentration has to work. Actually meditation is a method of facilitating dhyana, not real dhyana. Similarly, concentration means focusing the mind on material objects and for a short time, not on a single mental kundalini as a single mental picture for too long or the whole life. Therefore, the most important word dhyana should be included in the dictionary of it. Only one Sanskrit word ‘Dhyana’ encompasses all yoga. If it is, then it is yoga. If it is not there, then there is no yoga. Dhyana and Kundalini are synonymous to each other in a sense. The rest of the things in yoga are only auxiliary to dhyana. I was reading in a blog around the first World Yoga Day in which a materialistic gentleman was proudly saying that the materialistic people of today, especially those of the modern type of civilization, would be confined to the external parts of yoga. They will not go to the depths of dhyana. So now I think how will there Kundalini awakening then happen. It cannot happen without dhyana. In the lot, rare people get dhyana itself by natural coincidence. But to achieve massive awakening, one has to do dhyana artificially. The well does not go to the thirsty, the thirsty has to go to the well. If a thirsty man does not go to the well, then the life of the man is in danger, nothing will happen to the well. Similarly, if people do not adopt dhyana, then there is a loss to people, not to dhyana. Therefore, the lifestyle itself has to be made meditative or dhyana like. Such was the lifestyle in the ancient Vedic tradition. It may seem that such a lifestyle is strange, but it is also the truth. Truth cannot be denied.

By considering Kundalini as a bindu, its meditation becomes easy

In the previous post I had described the bindu as Kundalini form. Kundalini is meditated in the form of a drop or bindu of transmuted sexual essence, so that the power of the bindu located in the Muladhara region continues to reach the Kundalini. It is felt that the Kundalini has been connected to the main bindu source located on the Muladhara area through a Nadi, no matter where the Kundalini may be. It seems that the bindu energy is strengthening the ascending Kundalini. This is also called distilled sexual energy. While doing this bindu meditation for a while, the lust with genial sensation is lost and get used up to strengthen Kundalini. Although the power of the bindu reaches the whole brain, but the Kundalini itself is considered as the bindu during meditation so that the Kundalini picture remains most effective, and other thoughts are suppressed before it. Bindu is a fluid substance, so it has good flow. It also increases the flow of Kundalini. Together I was telling that if the true meaning of Kundalini is understood, then more than half of the journey of Yoga is covered. A rare person who is lucky enough to have good and purposeful love contacts gets a Kundalini picture in his mind. Of course, it may bring profit in the world and give peace of mind, but it is very difficult to awaken it. Sometimes the long appearance and sudden disappearance of a strong image of a sexual lover in mind can lead to direct enlightenment without Kundalini awakening. But this happens in very rare cases. To awaken, one has to regularly meditate on the image of a favorite and imaginary deity, aged and qualified Guru etc. It is easy, because their apparent physical form is not present, so it does not interfere with mental meditation. Many left-handed tantrics take the help of sex partners to strengthen their image in their mind. Some get this support on their own due to good deeds of past lives. The love contacts of worldliness inculcate the habit of keeping people’s pictures in mind, which makes it easier for him to meditate on Kundalini while doing yoga. It is the same as if we are doing Kundalini meditation on the Anahata chakra by holding our breath, we do not stop the thoughts of the mind, but with its meditation we also meditate on the Muladhara chakra. Due to this, the power of the mind descends itself and starts shining in the form of Kundalini on the Anahata Chakra. By placing the hand on the heart, it becomes easier to meditate on the Kundalini, and in Siddhasana from the heel of the foot pressing up the Muladhara Chakra. Similarly, while meditating on each chakra, it can be made easier by placing a hand or fingers there.

Universal Authenticity of Patanjali Yoga Sutras

I had no selfish motive behind finding Kundalini. I didn’t even feel the need for it, because I was already living an awakened life of non-dualism with great joy. It happened that by chance I got some extra time. I was a hard worker, always doing something or the other. In that spare time I started reading about spirituality. I understood Patanjali Yoga, but with a more natural form of love affairs. I could not understand how by artificial yoga practice a strong picture of someone could be made in the mind. In love, it becomes itself. So I read more yoga books, discussed on online yoga forums, and continued to practice yoga along with. For once I was disappointed and started questioning the authenticity of the Patanjali Yoga Sutras. Then on forum, an old gentleman of Indian origin in America interrupted me a bit angrily, “How can you say that? People have been taking advantage of that book for hundreds of years. You shouldn’t say that”. I defended myself by giving a false explanation that I did not doubt Patanjali, but I was referring to those who misinterpret the Patanjali Yoga Sutras. This made him satisfied. Perhaps this discussion also helped me get to the bottom of this book. I also read Tantra’s books, and took their help too. Still I was happy. Even if you know about Kundalini, it is fine, and so even if you do not know it. But the hard work paid off, and it was revealed. Of course I couldn’t bear it for long. If I could bear it, I might not have been able to tell you anything. Everything is part of a divine plan. Then I came to know that in Patanjali Yoga Sutras, it is completely correct. Although it is practically difficult for the layman to understand. So let me help you a little bit. It was also discovered that bookish knowledge about yoga spreads more in the general society, not the practice of yoga. But much of yoga is practical yoga practice.

Kundalini awakening should be the main goal, not energy awakening or sushumna awakening

I think the Kundalini awakening that most people claim is actually energy awakening or sushumna awakening. That is why they describe Kundalini less, and more about energy. Kundalini awakening can happen even without sushumna awakening. Although the energy ascends through the sushumna, it remains in the background, not in the experience. The river of energy that flows from Mooladhara to Sahasrar at once and that
comes in their experience, that is the awakening of Sushumna. When so much energy will come together in the brain, then some or the other picture will flash there with sparkle. A similar picture flashed in my mind once, when I had a momentary awakening of Sushumna. I have described it in detail in an old post. That picture was of a local temple. It was a very alive picture, but not like awakening. Then the Kundalini picture also shone, but that too was not as much as that’s while awakening. While awakening, one feels himself fully merged with the image along with profound bliss and nonduality. Most people do more of energy sadhana, and less of Kundalini sadhana. Although these two are related to each other, but the main goal should be Kundalini. Kundalini is that human picture, which always accompanies like a true friend. It gives company not only in this world but also in the hereafter, because it is subtle, whose reach is everywhere. This is what promotes love and humanity. Have you ever seen a river of luminous energy, pictures and strange designs of light comforting someone by becoming a friend? Such light experiences without the mind’s full association with any human form are symptoms of energy awakening or channel awakening or sushumna awakening. I feel that there are rare cases of experience of direct and complete merger or complete samadhi with these things, and there appears no immediate benefit with incomplete merger. Yes, it is definite that it helps a lot in Kundalini sadhana, if anyone wants to take help. Although, there is complete merger indirectly with associated objects in every awakening due to nonduality, but the main and primary object of merger that’s preferred is human form, out of this best being the god form and second to it the guru form. In sudden enlightenment without artificial meditation efforts also, primary merger of soul with associated objects whatever flow in mind while awakening is there. If that enlightenment happened due to help of any individual may be love related, then that one grows in his mind as kundalini later on itself, giving all benefits of Kundalini meditation. However, this type of sudden awakening without self efforts as with Shaktipat appears less powerful and less stable. Actually, associated objects are not the main goals. The main goal is the human form of Kundalini. Because man’s true companion is man, therefore the deity in human form is made Kundalini in most cases. A qualified guru or a great man or avatars like Krishna can also be made as a Kundalini. A particular sect has a particular deity because the collective meditation of the same deity gives strength to each other. Such as Shaivism, Shakta Sampradaya or sect, social groups worshiping god Ganapati etc. In Raj yoga, there are no chakras and energy channels attended much. Only Kundalini dhyana is done in mind. There in also, Kundalini awakening and Kundalini activation happen similarly. That is why it became very important to describe Kundalini in detail. Seeing this need, this website came to the world.

कुन्डलिनी या ध्यान-बिंदु के लिए विज्ञानवादी सोच, गहन अन्वेषण, अभ्यास, धैर्य, प्रेमपूर्ण संपर्कों, अध्ययन-चर्चाओं, और गुरु-देवताओं-महापुरुषों-अवतारों औरमन में बने उनके मानसिक चित्रों की आवश्यकता

दोस्तों, मैंने पिछली पोस्ट में कहा था कि साँसें कैसे लेनी चाहिए। इसीको थोड़ा और जारी रखते हैं। मुझे लगातार समर्पित योग करते हुए लगभग चार साल हो गए हैं। उससे पहले भी मैं लगभग 15 सालों से हल्का फुल्का योग प्रतिदिन करता आ रहा हूँ। अब जाकर मुझे लगता है कि मैं साँस लेना सीखा हूँ। वैसे अभी भी सीख ही रहा हूँ। सीखना कभी खत्म नहीं होता। कहना तो आसान है कि सांस लेने को ही योग कहते हैं। पर इसमें लम्बे अभ्यास की आवश्यकता होती है। अब समझा हूँ कि साँस भरने के बाद सांस को कुछ देर रोकने के लिए क्यों कहते हैं। पहले तो मैं इसे फिजूल का काम समझता था। दरअसल जब साँस भरने से प्राण और अपान का आपस में टकराव हो रहा होता है, तो उस टकराव को चरम तक पहुंचने के लिए थोड़ा सा वक़्त लगता है। उस समय साथ में टकराव का चिंतन भी होता रहे, तो और ज्यादा लाभ मिलता है। उससे कुंडलिनी ऊर्जा शक्तिशाली झटके के साथ ऊपर को चढ़कर आगे से नीचे उतरकर एनर्जी लूप में घूमने लगती है। वह एकदम से तरोताजा कर देती है। इसी तरह, साँस को धीरे-धीरे और लंबे समय तक अंदर भरें, ताकि प्राण और अपान अच्छे से आपस में मिल जाए। सांस को भी धीरे धीरे करके बाहर छोड़े, क्योंकि कुंडलिनी ऊर्जा को नीचे उतरते हुए समय लगता है। कुन्डलिनी भौतिक नाड़ियों में भौतिक द्रव्यों के साथ ही तो चलती है। इसलिए नाड़ियों के प्रवाह को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचने के लिए समय तो लगेगा ही। इसी तरह साँस पूरा छोड़ने के बाद जितनी देर सम्भव हो, उतनी देर सांस को रोककर रखें। इससे कुंडलिनी पूरा नीचे उतरकर स्वाधिष्ठान चक्र पर जमा हो जाती है, और जैसे ही मूलाधार को संकुचित करते हैं, वह मूलाधार को उतरकर पीठ से सहस्रार को चढ़ जाती है। वहाँ से वह साँस भरते समय प्राण के साथ लगभग हृदय चक्र तक नीचे उतरती है। वहां वह नीचे से आ रहे अपान से टकराकर तेज चमकने लगती है। फिर जब सांस छोड़ते समय छाती व पेट नीचे को उतरते हैं, तो वह भी नीचे उतरकर स्वाधिष्ठान चक्र पर पहुंच जाती है। फिर से वही पिछली प्रक्रिया रिपीट होती है। इस तरह से एक ऑटोमेटिक मशीन की तरह यह कुंडलिनी चक्र चलता रहता है, और आदमी आनन्द में मग्न रहता है। उलटी जीभ को नरम तालु से टच करके रखने से प्रवाह ज्यादा अच्छा हो जाता है। पेट व छाती को ऊपर नीचे जाते देखते हुए ध्यान करने में अतिरिक्त सहायता मिलती है। कई लोग तो कुन्डलिनी को नाभि और मूलाधार के बीच में ही घुमाते रहते हैं। कई बार ऐसी परिस्थितियां या शरीर के ऐसे पोस्चर होते हैं, जिसमें पेट से न चलकर साँस छाती से चलती है। उस समय साँस भरने पर छाती फूलती है, जो कुंडलिनी मिश्रित अपान को नीचे से ऊपर खींचती है। अंदर जाती हुई साँस के साथ कुंडलिनी मिश्रित प्राण ऊपर से नीचे छाती तक उतर जाता है। छाती में दोनों के टकराव से वहाँ कुंडलिनी ज्यादा स्पष्ट हो जाती है, और साथ में थकान से पैदा तनाव भी दूर हो जाता है। इसी तरह, कई बार अंदर जाती साँस से छाती और पेट दोनों एकसाथ आगे को फूलते हैं। इससे भी कुंडलिनी ऊर्जा पर अच्छा खिंचाव बनता है।

कुंडलिनी सुषुम्ना से ही ऊपर चढ़ती है, यद्यपि अन्य नाड़ियाँ भी इसमें सहयोग करती हैं

जब मेरी पीठ से कुंडलिनी ऊर्जा ऊपर चढ़ती है, तो मैं उसे रोकता नहीं, बेशक वह किसी भी नाड़ी पर या स्थान पर हो। दरअसल पीठ की केंद्रीय रेखा ही सुषुम्ना नाड़ी है। यह पीठ की अन्य दोनों मुख्य किनारे की रेखाओं या नाड़ियों से भी जुड़ी होती है। और भी कोई भी नाड़ी रेखा या बिंदु हो, सबसे जुड़ी होती है। वास्तव में सभी नाड़ियाँ आपस में नाड़ी जालों से जुड़ी होती हैं। तभी तो जब मुझे पीठ में कहीं भी कुंडलिनी ऊर्जा का आभास होता है, तो मैं उस अनुभव को रोकता नहीं हूँ। केवल इसके साथ अगले आज्ञा चक्र पर औऱ मूलाधार संकुचन पर तिरछी नजर बना कर रखता हूँ। ऐसा करने से धीरे से कुंडलिनी फिसलकर सुषुम्ना में आ जाती है, और ऊपर सहस्रार तक जाकर वहाँ से नीचे जाती है और फिर लूप में घूमने लग जाती है। बस ऐसा ध्यान बना रहना चाहिए। कई बार क्या होता है कि यदि कुंडलिनी ऊर्जा पीठ या सिर में बाईं तरफ हो, तो उपरोक्त ध्यान करने से वह पहले दाईं तरफ जाती है, फिर संतुलित होकर बीच वाली सुषुम्ना में फिट हो जाती है। हालांकि ऐसा थोड़े समय ही रहता है, क्योंकि ऊर्जा का वेग जल्दी से घटता रहता है। इसको कुण्डलिनी जागरण समझ कर भ्रमित नहीँ होना चाहिए। यह तो साधारण सी ऊर्जा की गति है, हालाँकि जागरण में भी ऐसा ही घटनाक्रम होता है, पर वह चरम पर होता है। ऐसी ऊर्जा की गति सभी में चली रहती है। पर सब इसे नहीं पहचानते, और न ही इस पर ध्यान देते हैं। इसी से तो आदमी जिंदा रहता है। सम्भवतः प्राणविद्या भी इसी प्राण के प्रवाह से मृत जीव को जिंदा कर सकती है। मैंने एक पुराने दोस्त से सुना था कि उसने इलाहाबाद के कुम्भ मेले में एक तन्त्रयोगी को एक मृत पक्षी को प्राणविद्या से जिंदा करते देखा था। इसके सच झूठ का तो पता नहीं पर हिंदु पुराणों में इससे संबंधित बहुत सी कथाएं हैं। संजीवनी विद्या भी शायद यही प्राण विद्या रही होगी, जिससे राक्षसगुरु शुक्राचार्य देवताओं से लड़े युद्ध में मरे राक्षसों को जिंदा किया करते थे। ऐसी रूपक कथाओं के आधार में कोई न कोई वैज्ञानिक तथ्य जरूर होता है। ये लोगों को योग की तरफ आकर्षित करने के लिए बनाई होती हैं। पर कई लोग इसका उल्टा मतलब लेकर विज्ञान और योग को नकारने लग जाते हैं। ऐसे ही जम्हाई लेना भी ऐसा ही ऊर्जा का प्रवाह है। तभी उससे थकान दूर होती है। आदमी कैसे हाथ ऊपर उठाकर, पीठ व गर्दन को सीधा करके, नाभि की सीध में गड्ढा बनाकर, मुँह खोलकर, आंखें भींचकर, आज्ञाचक को सिकोड़कर कुंडलिनी ऊर्जा को पीठ में ऊपर चढ़कर मस्तिष्क तक पहुंचने में मदद करता है। यही फर्क है कि योगी इसकी गहराई में जाता है कि यह क्या है, कैसे हुआ, क्यों हुआ और इससे कैसे अधिक लाभ प्राप्त किया जा सकता है। न्यूटन से पहले भी बहुत से लोगों ने पेड़ से सेब गिरते देखा था, पर उसकी गहराई में न्यूटन ही गया। आम आदमी इसे साधारण समझ कर छोड़ देता है। योगी भी एक वैज्ञानिक होता है, खासकर मनोवैज्ञानिक। जम्हाई तरोताजा करने वाला कुदरत का नायाब तोहफा है।

संगम के समय संगम के साथ संगम करने वाले दोनों घटकों पर ध्यान देने की आवश्यकता

पिछली पोस्ट में मैं संध्या आदि संगम कालों और स्थानों के बारे में बात कर रहा था। उन पर ऐसे ही ध्यान देना पड़ता है जैसे प्राण और अपान के टकराव पर, तभी लाभ मिलता है। ऐसे तो मुर्गा संध्या से पहले ही उठ जाता है, उसे संध्या का लाभ क्यों नहीं मिलता। क्योंकि उसकी संध्या में श्रद्धा नहीं है। आदमी यदि तकनीकी पहलू को न समझे, तो कम से कम श्रद्धा तो होनी ही चाहिए। दरअसल संध्या के मध्यम प्रकाश पर ध्यान की स्थिति में दिन की पूरी चमक और रात के पूरे अंधेरे पर भी ध्यान जाता रहना चाहिए, तभी संध्या में दिन और रात की आपस में टक्कर होगी, और आपस में मिश्रित होकर कुंडलिनी की चमक के साथ आंनद पैदा करेंगे। इसी तरह इलाहाबाद के संगम के पानी में बहुत से मेंढ़क और मछलियां रहती हैं, उनकी तो मुक्ति नहीं होती। वहाँ भी ऐसे ही होता है। यह हरेक संगम के बारे में तो है ही, साथ में हरेक धार्मिक रीत के बारे में भी है। इससे पता चलता है कि धर्म के वैज्ञानिक तकनीकी पहलू का ज्ञान कितना जरूरी है। यही ज्ञान ढूंढना इस वेबसाइट का काम है।

योग को खुद योग ही बेहतर सिखाता है

योग-आसनों के बारे में मुझे इस हफ्ते कुछ नए व्यावहारिक अनुभव मिले। मिले तो पहले भी थे, पर इतने स्पष्ट नहीं थे। पहले मैं जल्दी-जल्दी और उथले साँस लेता था। इस बार प्राणायाम की तरह गहरे और धीरे लिए। एकप्रकार से प्राणायाम भी आसनों के साथ होने लगा। एकसाथ दो लाभ। पहले मैं एक पोज़ में 20–30 बार छोटी, जल्दी और उथली साँसें लेता था। पर अब सिर्फ 2-3 बार ही ले पाया। इतना ज्यादा फर्क था। समय के साथ योग खुद अपने आप को सिखाता है। इसलिए जैसे ठीक लगे, वैसे करते रहना चाहिए। हालाँकि मैंने कहीं ब्लॉग में पढ़ा था कि योग गुरु अय्यंगर योग आसनों के साथ ही प्राणायाम भी सिखाते थे। अब पूरी सच्चाई का पता चला। फिर भी सावधान रहना पड़ता है। अपनी सुखपूर्वक सामर्थ्य को नहीं लांघना चाहिए। मेरा ज्यादातर समय योग अभ्यास में ही बीत जाता है। मेरे लिए यह जरूरी भी है। मैं इसके बिना स्वस्थ नहीं रह सकता। मुझे एनकाइलॉजिंग स्पॉन्डिलाइटिस, एक ऑटोइम्यून डिसीज है। इसमें आदमी हमेशा हरकत में रहना चाहिए। शरीर के जोड़ों खासकर छाती और पीठ के जोड़ों को जाम होने से बचाने के लिए व थकान पर काबू पाने के लिए नियमित व्यायाम होता रहना चाहिए। अवसाद, व अन्य मानसिक दोषों से बचाव के लिए कुंडलिनी ध्यान, प्राणायाम से लाभ मिलता है। यही इसका मुख्य उपचार है। इसीके बहाने मैं थोड़ा बहुत योग सीख पाया। मन को मनाने के लिए कोई बहाना अच्छा रहता है।

कुन्डलिनी, कर्मयोग और विज्ञान आपसी अंतरंग रिश्ते से जुड़े हैं

लोग अक्सर बोलते हैं कि अध्यात्म विज्ञान का विषय नहीं है। मैं कहता हूँ कि बिल्कुल है। कुंडलिनी जागरण तक तो बहुत ज्यादा है, पर उसके बाद भी काफी है। कुन्डलिनी जागरण के बाद व्यक्तिगत विज्ञान की जगह सार्वभौमिक या ब्रह्मांडीय विज्ञान ले लेता है। इससे उसे अनायास ही अनुकूल परिस्थितियां मिलने लगती हैं, और खुद ही उसका भला होने लगता है। ऐसा कुन्डलिनी की ईश्वरीय शक्ति के कारण होता है। हालाँकि इसकी भी अपनी सीमाएं और बाध्यताएं हैं।  इससे व्यक्तिगत विज्ञान का बोझ थोड़ा हल्का हो जाता है। कुन्डलिनी को प्राप्त करने के लिए और उसे क्रियाशील रखने के लिए कर्मयोग की जरूरत पड़ती है। कर्मयोग उतना ही अच्छा होगा, जितनी अधिक काम की गुणवत्ता व विशेषता होगी। विज्ञान ही कर्मों को गुणवत्ता, विशेषता व उच्चता प्रदान करता है। इसलिए अध्यात्म और विज्ञान साथ-साथ ठीक चलते हैं। मैं खुद विज्ञान का एक सनकी खिलाड़ी हुआ करता था। जहाँ कोई विज्ञान की कल्पना नहीं करता था, मैं वहाँ भी विज्ञान को फिट कर लेता था। मेरे अध्यापक मुझे मजाक में कहते कि दोस्त तू तो हर जगह विज्ञान लड़ा देता है। क्योंकि विज्ञान कुंडलिनी के लिए जरूरी है, इसीलिए विज्ञानपरक खासकर पाश्चात्य प्रकार वाली सभ्यता के लोग कुंडलिनी जिज्ञासु होते हैं। पर उनमें से अधिकांश लोग स्वास्थ्य संबंधी बाहरी योग के विज्ञान को ही समझते हैं। वे ध्यान के विज्ञान को कम समझते हैं। वे जितना दिमाग और एनर्जी बाहरी विज्ञान पर लगाते हैं, उसका थोड़ा भी हिस्सा अगर भीतरी विज्ञान पर लगाएं, तो सारे महान कुंडलिनी योगी बन जाएं। पर अब मनोविज्ञान के रूप में धीरे धीरे कुंडलिनी विज्ञान को समझ रहे हैं। इसीलिए तो ध्यान का कोई संतुष्टिजनक अनुवाद अंग्रेजी में नहीं मिलता। मेडिटेशन या कंसन्ट्रेशन शब्द से काम चलाना पड़ता है। दरअसल मेडिटेशन ध्यान को सुगम बनाने वाली पद्धति है, असली ध्यान नहीं। इसी तरह, कंसन्ट्रेशन का मतलब भौतिक वस्तुओं पर और थोड़े समय तक मन को केंद्रित करना है, एकमात्र मानसिक कुंडलिनी पर नहीँ, और बहुत लंबे समय या पूरे जीवन भर एक ही मानसिक चित्र पर नहीं। इसलिए ध्यान शब्द को अंग्रेजी के शब्दभंडार में शामिल किया जाना चाहिए। संस्कृत का केवल एक ध्यान शब्द ही सारे योग को समेटे हुए है। यह है, तो योग है। यदि यह नहीं है, तो योग नहीँ है। योग की बाकी चीजें तो केवल ध्यान की सहायक भर ही हैं। ध्यान और कुंडलिनी को पर्यायवाची शब्द मान सकते हैं। प्रथम विश्व योगदिवस के आसपास एक ब्लॉग में पढ़ रहा था जिसमें एक भौतिकवादी सज्जन बड़े गर्व से कह रहे थे कि आजकल के भौतिकवादी लोग, खासकर पाश्चात्य प्रकार वाली सभ्यता के लोग योग के बाहरी अंगों तक ही सीमित रहेंगे। वे ध्यान की गहराई तक नहीं जाएंगे। तो अब मैं सोचता हूँ कि फिर उनका कुंडलिनी जागरण कैसे होगा। ध्यान के बिना हो ही नहीँ सकता। बीच-2 में तो विरले लोगों को कुदरती संयोग से खुद भी ध्यान लग जाता है। पर बड़े पैमाने पर जागृति प्राप्त करने के लिए कृत्रिम रूप से ध्यान लगाना ही पड़ेगा। कुआं प्यासे के पास नहीँ जाता, प्यासे को कुएँ के पास जाना पड़ता है। यदि प्यासा आदमी कुएँ के पास न जाए, तो आदमी की जान को ही खतरा है, कुएँ को कुछ नहीं होगा। इसी तरह यदि लोग ध्यान को न अपनाए, तो लोगों का नुकसान है, ध्यान का नहीँ। इसलिए लाइफस्टाइल ही ध्यान वाला बनाना पड़ेगा। प्राचीन वैदिक परम्परा में ऐसा लाइफस्टाइल था। लगता तो ऐसा जीवन चरित्र अजीब है, पर सत्य भी यही है। सत्य को नकारा नहीँ जा सकता। 

कुन्डलिनी को बिंदु मानने से उसका ध्यान आसान हो जाता है

पिछली पोस्ट में मैंने बिंदु को कुंडलिनी रूप बताया था। कुंडलिनी का ध्यान बिंदु के रूप में इसलिए किया जाता है ताकि मूलाधार क्षेत्र में स्थित बिंदु की शक्ति कुंडलिनी को मिलती रहे। इससे महसूस होता है कि कुंडलिनी मूलाधार क्षेत्र पर स्थित मुख्य बिंदु स्थान से किसी नाड़ी के माध्यम से जुड़ गई है, बेशक कुंडलिनी कहीं पर भी क्यों न हो। ऐसा लगता है कि बिंदु ऊर्जा ऊपर चढ़ती हुई कुन्डलिनी को पुष्ट कर रही है। इसे ही आसुत यौन ऊर्जा भी कहते हैं। इससे यौनलिप्सा शांत हो जाती है, क्योंकि उसकी ऊर्जा को कुंडलिनी ने सोख लिया होता है। वैसे तो बिंदु की शक्ति पूरे मस्तिष्क को मिलती है, पर कुंडलिनी का ही ध्यान बिंदु के रूप में इसलिए किया जाता है, ताकि कुंडलिनी चित्र सबसे अधिक प्रभावी बना रहे, और दूसरे विचार इसके आगे दबे रहें। बिंदु एक द्रव पदार्थ है, इसलिए इसका प्रवाह अच्छा होता है। यह कुन्डलिनी के प्रवाह को भी बढ़ा देता है। साथ में मैं बता रहा था कि यदि कुंडलिनी का सही अर्थ समझ में आ गया, तो योग का आधे से अधिक सफर तय हो जाता है। जिस किसी बिरले खुशकिस्मत आदमी को अच्छे प्रेम संपर्क मिलते हैं, उसके मन में खुद ही कुंडलिनी चित्र बन जाता है। वह बेशक दुनियादारी में लाभ दिलाए और मन का चैन दे, पर उसे जगाना बहुत मुश्किल होता है। कई बार यौन प्रेमी के मजबूत चित्र के संयोग और वियोग से सीधा आत्मज्ञान भी मिल सकता है, बिना कुंडलिनी जागरण के। पर ऐसा बहुत ही विरले मामले में होता है। जगाने के लिए तो किसी पसंदीदा व काल्पनिक देवता, पुराने और ब्रह्मलीन गुरु आदि के मानसिक रूप के चित्र को कुंडलिनी बनाकर उसका नियमित ध्यान करना पड़ता है। यह आसान होता है, क्योंकि उनका प्रत्यक्ष भौतिक रूप विद्यमान नहीं होता, इसलिए वह ध्यान में बाधा नहीं पहुंचाता। कई वाममार्गी तांत्रिक अपने मन में इनके चित्र को मजबूत बनाने के लिए यौनसाथी का सहारा लेते हैं। कइयों को यह सहारा पिछले जन्मों के अच्छे कर्मों के कारण खुद ही मिल जाता है। दुनियादारी के प्रेम संपर्कों से आदमी को लोगों के चित्रों को मन में खुशी से रखने की आदत पड़ी होती है, जिससे उसे योग करते हुए कुंडलिनी ध्यान आसान लगता है। यह ऐसे ही होता है, जैसे यदि हम साँस रोककर अनाहत चक्र पर कुंडलिनी ध्यान कर रहे हों, तो हम मस्तिष्क के विचारों को नहीं रोकते, बल्कि उसके ध्यान के साथ मूलाधार चक्र का भी ध्यान करते हैं। इससे मस्तिष्क की शक्ति खुद ही नीचे उतरकर अनाहत चक्र पर कुण्डलिनी के रूप में चमकने लगती है। हृदय पर हाथ रखकर वहाँ कुंडलिनी का ध्यान आसान हो जाता है, और सिद्धासन में पैर की एड़ी से मूलाधार चक्र का। इसी तरह, हरेक चक्र पर ध्यान करते समय वहाँ हाथ या अंगुली लगाकर उसे आसान किया जा सकता है।

पतंजलि योगसूत्रों की सार्वभौमिक प्रामाणिकता

कुन्डलिनी खोजने के पीछे मेरा कोई स्वार्थ नहीं छिपा था। मुझे उसकी जरूरत भी नहीं लगती थी, क्योंकि मैं पहले से ही भरपूर आनन्द के साथ अद्वैत भाव वाला जागृत जीवन जी रहा था। हुआ यह कि संयोगवश मुझे कुछ अतिरिक्त समय मिल गया। मेहनती तो मैं था ही, हर समय कुछ न कुछ करता रहता था। उस अतिरिक्त समय में मैंने अध्यात्म के बारे में पढ़ना शुरु किया। पतंजलि योग मुझे समझ आ गया था, पर इश्क-विश्क के और प्राकृतिक रूप वाला। मैं यह नहीं समझ पा रहा था कि बनावटी योगाभ्यास से किसीका मजबूत चित्र मन में कैसे बनाया जा सकता है। प्यार-मुहब्बत में तो वह खुद ही बन जाता है। इसलिए मैंने और भी योग की पुस्तकें पढ़ीं, ऑनलाइन योग मंचों पर चर्चाएं कीं, और साथ में योगाभ्यास भी करता रहा। एक बार तो मैं निराश होकर पतंजलि योगसूत्रों की प्रामाणिकता पर ही प्रश्नचिह्न लगाने लग गया था। फिर मंच पर एक अमेरिका में बसे भारतीय मूल के एक वृद्ध सज्जन ने मुझे थोड़े गुस्से में टोकते हुए बोला था, “आप ये कैसे कह सकते हैं? सैंकड़ों सालों से लोग उस पुस्तक से फायदा उठाते आए हैं। आपको ऐसा नहीं कहना चाहिए”। मैंने झूठा स्पष्टीकरण देते हुए अपना बचाव किया था कि मैंने पतंजली के ऊपर संदेह नहीं किया था, पर मैं उनके बारे में कह रहा था, जो पतंजली योगसूत्रों की गलत व्याख्या करते थे। इससे वे संतुष्ट हो गए। शायद इस चर्चा ने भी मुझे इस पुस्तक की तह तक जाने में मदद की हो। तंत्र की पुस्तकें भी पढ़ीं, और उसका भी सहारा लिया। फिर भी मैं मस्त रहता था। कुन्डलिनी का पता चले तो भी ठीक, न पता चले तो भी ठीक। पर मेहनत रँग लाई, और उसका पता चल गया। बेशक मैं उसे ज्यादा देर नहीं झेल पाया। यदि झेल लेता तो शायद आप लोगों को कुछ बताने लायक  रहता ही नहीं। सब एक दिव्य योजना का हिस्सा है। फिर मुझे पता चला कि पतंजलि योगसूत्रों में बिल्कुल पूरा का पूरा सही लिखा है। यद्यपि उसे व्यावहारिक रूप से आम आदमी के लिए समझना मुश्किल है। इसलिए इसमें थोड़ी मदद कर देता हूँ। यह भी पता चला कि आम समाज में योग के बारे में किताबी ज्ञान ज्यादा फैलता है, योगाभ्यास नहीं। पर योग का अधिकांश हिस्सा व्यावहारिक योगाभ्यास ही है। 

कुंडलिनी जागरण मुख्य ध्येय होना चाहिए, ऊर्जा जागरण या सुषुम्ना जागरण नहीं

मुझे लगता है कि अधिकांश लोग जो कुन्डलिनी जागरण का दावा करते हैं, वह वास्तव में ऊर्जा जागरण या सुषुम्ना जागरण होता है। इसीलिए वे कुन्डलिनी का वर्णन कम, और ऊर्जा का वर्णन ज्यादा करते हैं। कुन्डलिनी जागरण तो बिना सुषुम्ना जागरण के भी हो सकता है। हालांकि ऊर्जा तो सुषुम्ना से होकर ही ऊपर चढ़ती है, पर वह बैकग्राउंड में रहती है, अनुभव में नहीं आती। एकदम से जो ऊर्जा की नदी उनकी पीठ से होकर मूलाधार से सहस्रार तक उनके अनुभव में आती है, वह सुषुम्ना जागरण ही है। जब इतनी ऊर्जा मस्तिष्क में एकसाथ आएगी, तो कोई न कोई चित्र तो वहाँ चमक से कौंधेगा ही। ऐसा ही चित्र एकबार मेरे मस्तिष्क में भी चमका था, जब मेरा क्षणिक सुषुम्ना जागरण हुआ था। इसका विस्तृत वर्णन मैंने एक पुरानी पोस्ट में किया है। वह चित्र एक स्थानीय मन्दिर का था। वह बहुत जीवन्त चित्र था, पर जागरण जैसा नहीं। फिर कुन्डलिनी चित्र भी चमका, पर वह भी जागरण जितना नहीँ था। जागरण के दौरान आदमी कुंडलिनी चित्र के साथ अपना पूर्ण जुड़ाव महसूस करता है, और साथ में महान आनंद व अद्वैत का अनुभव होता है। ज्यादातर लोग ऊर्जा साधना ज्यादा करते हैं, और कुन्डलिनी साधना कम। हालाँकि ये दोनों आपस में जुड़े हैं, पर मुख्य ध्येय तो कुन्डलिनी ही होना चाहिए। कुंडलिनी ही वह मानवीय चित्र है, जो एक सच्चे मित्र की तरह हमेशा साथ देता है। लोक में तो देता ही है, परलोक में भी देता है, क्योंकि यह सूक्ष्म है, जिसकी पहुंच हर जगह है। यही प्रेम और मानवता को बढ़ावा देता है। क्या आपने किसी प्रकाशमान ऊर्जा की नदी को, प्रकाश के चित्र-विचित्र डिसाईनों को किसी का मित्र बन कर सान्त्वना देते देखा है। मन की किसी मनुष्याकृति से पूर्ण जुड़ाव के बिना इस तरह के प्रकाश के अनुभव ऊर्जा जागरण या नाड़ी जागरण या सुषुम्ना जागरण के लक्षण हैं। मेरे को लगता है कि इन चीजों से पूर्ण जुड़ाव या पूर्ण समाधि बहुत कम अनुभव होता है, यदि हो भी जाए तो विशेष लाभ नहीं मिलता। हाँ, इतना जरूर है कि इससे कुंडलिनी साधना में बहुत मदद मिलती है, यदि कोई मदद लेना चाहें तो। मुझे लगता है कि इन चीजों के साथ प्रत्यक्ष और पूर्ण विलय या पूर्ण समाधि के अनुभव के दुर्लभ मामले हैं, और अपूर्ण विलय के साथ कोई तत्काल लाभ नहीं दिखता है। यद्यपि अद्वैतता के कारण प्रत्येक जागृति में अप्रत्यक्ष रूप से संबंधित वस्तुओं के साथ पूर्ण विलय होता है, लेकिन विलय की मुख्य और प्राथमिक वस्तु तो पसंदीदा मानव रूप ही होना चाहिये, इसमें से सबसे अच्छा ईश्वर रूप है, और दूसरे स्थान पर गुरु रूप है। कृत्रिम ध्यान प्रयासों के बिना अचानक ज्ञानोदय में, जागृति के समय मन में जो कुछ भी विचार या चित्र प्रवाहित होते हैं, उन संबंधित वस्तुओं के साथ आत्मा का प्राथमिक विलय होता है। यदि वह आत्मज्ञान किसी व्यक्ति की सहायता से हुआ है, वह प्रेम सम्बन्धी हो सकता है, तो वह मन में बाद में, कुंडलिनी ध्यान के सभी लाभ देते हुए कुंडलिनी के रूप में विकसित होता है। हालांकि, शक्तिपात आदि के द्वारा, स्वयं के प्रयासों के बिना इस प्रकार का अचानक जागरण कम शक्तिशाली और कम स्थिर प्रतीत होता है। वास्तव में, संबद्ध वस्तुएं या विचार मुख्य लक्ष्य नहीं हैं। ये मुख्य ध्येय नहीं हैं। मुख्य ध्येय तो मनुष्याकृति कुंडलिनी ही है। क्योंकि आदमी का सच्चा साथी आदमी ही होता है, इसलिए मानवरूप में देवता को ही ज्यादातर मामलों में कुंडलिनी बनाया जाता है। योग्य गुरु या महापुरुष या कृष्ण आदि अवतार भी कुंडलिनी बनाए जा सकते हैं। एक खास सम्प्रदाय का एक खास देवता इसलिए होता है, क्योंकि एक ही देवता के सामूहिक ध्यान करने से एक-दूसरे को ध्यान का बल मिलता है। जैसे कि शैव सम्प्रदाय, शाक्त सम्प्रदाय, गणपति के उपासक समाज समूह आदि। राज योग में कोई चक्र नहीं होते हैं, और ऊर्जा चैनल भी नहीं होते हैं। मन में केवल कुंडलिनी ध्यान किया जाता है। वहाँ भी कुण्डलिनी जागरण और कुण्डलिनी सक्रियता इसी प्रकार होती है।इसीलिए कुन्डलिनी का विशद वर्णन करना बहुत जरूरी हो गया था। इसी जरूरत को देखते हुए यह वेबसाइट संसारपटल पर आई।

O my Mountain king Karol【a devotional song-poem】

The King Mountain Karol rising with the Sun {photo by Jaswinder kaur}
O My mountain king Karol
you are so wonderful soul.
When this world rejected
you happily adopted.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
When this world rejected
you happily adopted.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
O my Mountain king Karol.

Whenever wake up in the morning
you're the only smiling being.
Whenever wake up in the morning
you're the only smiling being.
Hooding up sun-lamp on your head
lighting up pretty world with red.
Holding up sun-lamp on your head
lighting up pretty world with red.
Offered the water for the sun
Offered the water for the sun
you took bath with sun my dad.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
When this world rejected
you happily adopted.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
When this world rejected
you happily adopted.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
O my Mountain king Karol.

Whenever tired of big work load
lift up my big head off road.
Whenever tired of big work load
lift up my big head off road.
Seeing you steady 'n untired
I can't stop working on board.
Seeing you steady 'n untired
I can't stop working on board.
Holy spring of karmyoga
Holy spring of karmyoga
rush-flowing from you my lord.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
When this world rejected
you happily adopted.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
When this world rejected
you happily adopted.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
O my Mountain king Karol.

All the relatids have gone changed
whole world too has been estranged.
All the relatids have gone changed
whole world too has been estranged.
Screened the whole circle of friends
time enslaved them in his hands.
Screened the whole circle of friends
time enslaved them in his hands.
Happy to have a friend like you
Happy to have a friend like you
mind-sweet in the form of thou.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
When this world rejected
you happily adopted.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
When this world rejected
you happily adopted.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
O my Mountain king Karol.

Hold up seat at top abodes
you're the deity of all gods.
Hold up seat at top abodes
you'r the deity of all gods.
Rise up from the muladhar root
thrilled on the sahasrar nodes.
Rise up from the muladhar root
thrilled on the sahasrar nodes.
All the gods together with you
All the gods together with you
made just cute one looks like thou.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
When this world rejected
you happily adopted.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
When this world rejected
you happily adopted.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
O my Mountain king Karol.

Hairy herbs are inside thou
snake peacock 'n human crow.
Hairy herbs are inside thou
snake peacock 'n human crow.
Ganges streams and Water-fall
third eye the grue-some pit-fall .
Ganges streams and Water-fall
third eye the grue-some pit-fall.

Pretty look has crown of moon
draws always this my mind soon.
Pretty look has crown of moon
draws always this my mind soon.
Sub-mountain up to the base
Nandi bull being ready for race.
Sub-mountain up to the base
Nandi bull being ready for race.

Lightening looks Gaura on you
thundering glistening beats damru.
Lightening looks Gaura on you
thundering glistening beats damru.
Thys terrain with thunder-storms
looks Natarajan dancing norms.
Thys terrain with thunder-storms
looks Natarajan dancing norms.

Tiger skin cloth cloud flower
mist being as pure pyre shower.
Tiger skin cloth cloud flower
mist being as pure pyre flower.
Ganpat god rained with reasons
tridents mixture of seasons.
Ganpat god rained with reasons
tridents mixture of seasons.

Thys mind-pleasing look with norm
Thys mind-pleasing look with norm
matches just one that's Shiva form.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
When this world rejected
you happily adopted.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
When this world rejected
you happily adopted.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
O my Mountain king Karol
you are so wonderful soul.
O my Mountain king Karol.
-Hridayesh Bal🙏🙏bhishm

हे! पर्वतराज करोल [भक्तिगीत-कविता]

King Mount Karol 【Parvatraj Karol】 rising with Sun
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
जब जग ने ठुकराया
तू-ने अपनाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
जब जग ने ठुकराया
तू-ने अपनाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
हे! पर्वतराज करोल।

सुबह-सवेरे जब भी उठता
तू ही सबसे पहले दिखता।
सुबह-सवेरे जब भी उठता
तू ही सबसे पहले दिखता।
सूरज का दीपक मस्तक पर
ले के जग को रौशन करता।
सूरज का दीपक मस्तक पर
ले के जग को रौशन करता।
सूरज को डाले जल से तू
सूरज को डाले जल से तू
सूरज संग नहाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
जब जग ने ठुकराया
तू-ने अपनाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
जब जग ने ठुकराया
तू-ने अपनाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
हे! पर्वतराज करोल।

काम बोझ से जब भी थकता
सर ऊपर कर तुझको तकता।
काम बोझ से जब भी थकता
सर ऊपर कर तुझको तकता।
दर्शन अचल वदन होने से
काम से हरगिज़ न रुक सकता।
दर्शन अचल वदन होने से
काम से हरगिज़ न रुक सकता।
कर्मयोग का पावन झरना
कर्मयोग का पावन झरना
पल-पल तूने बहाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
जब जग ने ठुकराया
तू-ने अपनाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
जब जग ने ठुकराया
तू-ने अपनाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
हे! पर्वतराज करोल।

बदल गए सब रिश्ते नाते
बदल गया संसार ये सारा।
बदल गए सब रिश्ते नाते
बदल गया संसार ये सारा।
मित्र-मंडली छान के रख दी
हर-इक आगे काल के हारा।
मित्र-मंडली छान के रख दी
हर-इक आगे काल के हारा।
खुशकिस्मत हूँ तेरे जैसा
खुशकिस्मत हूँ तेरे जैसा
मीत जो मन का पाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
जब जग ने ठुकराया
तू-ने अपनाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
जब जग ने ठुकराया
तू-ने अपनाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
हे! पर्वतराज करोल।

सबसे ऊंचे पद पर रहता
कहलाए देवों का दे-वता।
सबसे ऊंचे पद पर रहता
कहलाए देवों का दे-वता।
उठकर मूल अधार से प्राणी
रोमांचित मस्तक पर होता।
उठकर मूल अधार से प्राणी
रोमांचित मस्तक पर होता।
सब देवों ने मिलकर तेरा 
सब देवों ने मिलकर तेरा
प्यारा रूप बनाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
जब जग ने ठुकराया
तू-ने अपनाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
जब जग ने ठुकराया
तू-ने अपनाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
हे! पर्वतराज करोल।

जटा बूटियाँ तेरे अंदर
नाग मोरनी मानुष बंदर।
जटा बूटियाँ तेरे अंदर
नाग मोरनी मानुष बंदर।
गंगा नद नाले और झरने
नेत्र तीसरा भीषण कन्दर।
गंगा नद नाले और झरने
नेत्र तीसरा भीषण कन्दर।

चन्द्र मुकुट पर तोरे सोहे
बरबस ही मोरा मन मोहे।
चन्द्र मुकुट पर तोरे सोहे
बरबस ही मोरा मन मोहे।
उपपर्वत नीचे तक जो है
नंदी वृष पर बैठे सो है।
उपपर्वत नीचे तक जो है
नंदी वृष पर बैठे सो है।

बिजली सी गौरा विराजे
कड़कत चमकत डमरू बाजे।
बिजली सी गौरा विराजे
कड़कत चमकत डमरू बाजे।
आंधी से हिलते-डुलते वन
नटराजन के जैसे साजे।
आंधी से हिलते-डुलते वन
नटराजन के जैसे साजे।

बाघम्बर बदली का फूल
धुंध बनी है भस्म की धूल।
बाघम्बर बदली का फूल
धुंध बनी है भस्म की धूल।
गणपत जल बन बरसे ऊपर
ऋतु मिश्रण का है तिरशूल।
गणपत जल बन बरसे ऊपर
ऋतु मिश्रण का है तिरशूल।

मन-भावन इस रूप में तेरे
मन-भावन इस रूप में तेरे
शिव का रूप समाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
जब जग ने ठुकराया
तू-ने अपनाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
जब जग ने ठुकराया
तू-ने अपनाया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
हे! पर्वतराज करोल
तेरा अद्भुत साया।
हे! पर्वतराज करोल।
-हृदयेश बाल🙏🙏bhishm