Kundalini Yoga shows the same infinite space as all black holes, universes, and living beings

It is not known where a living being went after death. Similarly, it is not known in which universe a galaxy has gone after coming out of a black hole. Just as there are innumerable subtle universes in the form of innumerable living beings in the same infinite space, in the same way there can be innumerable gross universes in the same infinite space. Take out as many copies of infinite space as you want. Each copy is as complete as the original, not a duplicate, because more than one infinite space is not possible. Similarly, there is no existence or independent existence of anything other than the only one experiential-form infinite space. Whatever wave, particle etc. is felt in the virtual form in the infinite space, it is felt with its base infinite-space, not independently. Means it’s felt by infinite space as a virtual wave inside itself. If those virtual artifacts had their own independent existence, then every inanimate object such as chair, stone, picture, statue etc. would be alive, as shown in many animation films. The world, thoughts etc. are virtual waves in that sky-soul, which are not real at all. That’s why only one option remains that only one infinite space is shown as all living beings and universes. This is explained in the scriptures by a verse or shloka, “Om purnamadaḥ purnamidam purnāt purnamuduchyate, purnasya purnmadaya purnmevavasishyate“. It means that ‘that’ means the supreme element named Om is complete, means infinite space form, ‘this’ means soul is also infinite space, even after ‘this’ infinite space leaves ‘that’ infinite space, the same infinite space remains in ‘that’, there is no reduction in it. How can anyone extract anything from the void of infinite space? Because all infinite space is one, therefore all living beings are also one. Just as the mental universes of the living beings located at different places inside different bodies are ‘one space form‘, in the same way, the gross universes located at different places, although appearing in the same space, but having different independent local existence, have each independent infinite space along with them as their soul. This proves the point of multiverse itself. Just as the subtle universes are innumerable in the form of living beings, similarly the gross universes are also innumerable. Although everyone has their own infinite space, so everyone is an infinite space form, and someday they will merge into it. Although we have always merged, but we will be seen merging virtually. In the same way as there is liberation of the subtle universe in the form of a living being, in the same way it must have happened in the case of gross universe as well. It is a different matter that the prideful soul of the gross universe i.e. Brahma is already unattached, non-dual and liberated in his life, as stated in the scriptures. The scriptures themselves believe in the multiverse. They say that Brahma is innumerable like the innumerable living entities. Probably they says that every living being crossing the progressive order of development near the last stage of the journey of life definitely becomes Brahma. It is in this context that it is said in the Gita that the soul is neither born nor destroyed. Meaning that man never dies. The same is being proved from the above scientific facts that the infinite and void sky can neither be created nor destroyed. Yes, it is definitely that the confused infinite space in the form of soul can be united with the original infinite space i.e. the Supreme Soul by removing its virtual illusion in the form of ignorance through Kundalini Yoga. The union is already there, just the cloud of virtual illusion has to be removed.

कुण्डलिनी योग से एक ही अनंत अंतरिक्ष सभी ब्लैक होलों, ब्रह्माण्डों, और जीवों के रूप में दिखाई देता है

एक जीव मरने के बाद कहाँ गया कुछ पता नहीं चलता। इसी तरह एक गलेक्सी ब्लेक होल से निकलकर कौन से ब्रह्माण्ड में गई पता नहीं चलता। जैसे एक ही अनंत अंतरिक्ष में अनगिनत जीवों के रूप में अनगिनत सूक्ष्म ब्रह्माण्ड हैं, उसी तरह एक ही अनंत अंतरिक्ष में अनगिनत स्थूल ब्रह्माण्ड भी तो हो सकते हैं। अनंत अंतरिक्ष की जितनी मर्जी कॉपीयां निकाल लो। हरेक कॉपी मूल की तरह सम्पूर्ण होती है, डुप्लीकेट नहीं, क्योंकि एक से ज्यादा अनंत अंतरिक्ष संभव ही नहीं। इसी तरह एकमात्र अनुभवरूप अनंत अंतरिक्ष के इलावा किसी की स्वतंत्र सत्ता या अस्तित्व ही नहीं है। लहर, कण आदि जो कुछ भी अनंत आकाश में आभासी रूप में महसूस होता है, वह अपने आधार अनंत-आकाश के साथ ही सत्तावान महसूस होता है, स्वतंत्र रूप से नहीं। या ऐसा कह लो कि अनंत अंतरिक्ष को वह अपनी आभासी लहरों के रूप में अपने में ही महसूस होता है। अगर उन आभासी कलाकृतियों का अपना स्वतंत्र अस्तित्व होता, तब तो हरेक जड़ वस्तु जैसे कि कुर्सी, पत्थर, चित्र, मूर्ति आदि जीवित होती, जैसा कि कई एनिमेशन फिल्मों में दिखाया जाता है। जगत, विचार आदि तो उस आकाश-आत्मा में आभासी तरंगें हैं, जो दरअसल हैं ही नहीं। इसलिए एक ही चारा बचता है कि एक ही अनंत अंतरिक्ष को ही सभी जीवों और ब्रह्माण्डों के रूप में दिखाया जाए। यह शास्त्रों में एक श्लोक के द्वारा समझाया गया है, “ॐ पूर्णमद: पूर्णमिदम पूर्णात पूर्णमुदुच्यते, पूर्णस्य पूर्णमादाय पूर्णमेवावशिष्यते”। इसका मतलब है कि ‘वह’ मतलब ॐ नाम वाला परम तत्त्व पूर्ण है, मतलब अनंत अंतरिक्षरूप है, ‘यह’ मतलब जीव भी अनंत अंतरिक्ष है, ‘उस’ अनंत अंतरिक्ष से ‘इस’ अनंत अंतरिक्ष के निकल जाने के बाद भी ‘वह’ अनंत अंतरिक्ष ही बचा रहता है, उसमें कोई कमी नहीं आती। शून्यरूप अनंत अंतरिक्ष से कोई कुछ निकाल ही कैसे सकता है। क्योंकि सभी अनंत अंतरिक्ष एक ही हैं, इसलिए सभी जीव भी एक ही हैं। जैसे भिन्न-भिन्न स्थानों पर स्थित जीवों के मानसिक ब्रह्माण्ड ‘एक अंतरिक्ष रूप‘ ही हैं, उसी तरह भिन्नभिन्न स्थानों पर स्थित स्थूल ब्रह्माण्ड एक ही अंतरिक्ष में दिखते हुए भी, अलग-अलग स्वतंत्र सत्ता रखते हुए भी, अलग-अलग स्थानीय रूप रखते हुए भी, अलग-अलग अनंत अंतरिक्ष की सत्ता साथ में समेटे हुए हैं। इससे मल्टीवर्स की बात खुद ही सिद्ध हो जाती है। जैसे जीवों के रूप में सूक्ष्म ब्रह्माण्ड अनगिनत हैं, वैसे ही स्थूल ब्रह्माण्ड भी अनगिनत हैं। हालांकि सबके साथ अपना अनंत अंतरिक्ष है, इसलिए सब एक अनंत अंतरिक्ष रूप ही हैं, और कभी उसमें जाके मिल जाएंगे। वैसे तो हमेशा मिले हुए ही हैं पर वर्चुअली मिलते दिखेंगे। इस तरह से जैसे जीव के रूप में सूक्ष्म ब्रह्माण्ड की मुक्ति होती है, उसी तरह स्थूल ब्रह्माण्ड के रूप में भी जरूर होती होगी। यह अलग बात है कि स्थूल ब्रह्माण्ड का अभिमानी आत्मा अर्थात ब्रह्मा पहले से ही अनासक्त, अद्वैतपूर्ण और जीवनमुक्त है, जैसा शास्त्रों में कहा गया है। शास्त्र खुद मल्टीवर्स को मानते हैं। वे कहते हैं कि अनगिनत जीवों की तरह ब्रह्मा भी अनगिनत हैं। सम्भवतः उनका कहना है कि हरेक जीव विकास के उत्तरोत्तर क्रम को लाँघते हुए जीवनयात्रा के अंतिम पड़ाव के निकट ब्रह्मा भी जरूर बनता है। इसी संदर्भ में गीता में आता है कि आत्मा न तो कभी पैदा होती है, और न नष्ट होती है। मतलब कि आदमी कभी नहीं मरता। यही तो उपरोक्त वैज्ञानिक तथ्यों से भी सिद्ध हो रहा है कि अनंत व शून्य आकाश को न तो बनाया जा सकता है, और न ही नष्ट किया जा सकता है। हाँ यह जरूर है कि जीव-आत्मा रूपी भ्रमित अनंताकाश कुण्डलिनी योग से अपने अज्ञानरूपी आभासी भ्रम को दूर करके ओरिजनल अनंताकाश अर्थात परमात्मा के साथ एकाकार हो सकता है। एकाकार पहले से ही है, बस आभासी भ्रम का बादल हटाना है।

कुण्डलिनी योग ड्यूल नेचर ऑफ़ मैटर से कण प्रकृति को कुंठित करके तरंग प्रकृति को बढ़ाता है

दोस्तों, मैं पिछली पोस्ट में बता रहा था कि ब्लैक होल ब्रह्माण्ड का सूक्ष्म शरीर होता है। गेलेक्सी को आप उसका स्थूल शरीर मान लो, और उसके केंद्र में स्थित ब्लैक होल उसका सूक्ष्म शरीर है। हरेक जीव एक आसमान है, और उसमें एक अलग ब्रह्माण्ड है। सब स्वतंत्र हैं और एकदूसरे को नष्ट नहीं कर सकते। हो सकता है कि इसी तरह एक ही आसमान में अनगिनत स्वतंत्र ब्रह्माण्ड भी हों।

आदमी कभी नहीं मरता

ये मैं ही नहीं कह रहा हूँ बल्कि वैज्ञानिक भी इस बात की आशंका जता रहे हैं कि आदमी दरअसल मरता नहीं है, पर मरने के बाद ब्लैक होल में चला जाता है और वहाँ से होकर किसी दूसरे ब्रह्माण्ड में पहुंच जाता है। यह वही बात है जो शास्त्र कहते हैं कि आदमी मरने के बाद सूक्ष्म शरीर बन जाता है और नया जन्म ले लेता है। नया जन्म नया ब्रह्माण्ड ही है, क्योंकि जितने जीव उतने ब्रह्माण्ड। हरेक जीव एक अनंत अंतरिक्ष है, और उसमें विचारों व अनुभवों का समूह ही भरापूरा ब्रह्माण्ड है। रोचक बात यह है कि स्थूल ब्रह्माण्ड की तरह सूक्ष्म मानसिक ब्रह्माण्ड भी अनंत अंतरिक्ष में ही बनता है, जीव के शरीर या मस्तिष्क में नहीं, जैसा कि अक्सर माना जाता है। मस्तिष्क तो केवल अंतरिक्ष में उन आभासी तरंगों को पैदा करने वाली मशीन भर है, जिन्हें वह अंतरिक्ष अपने अंदर महसूस कर सकता है। योगवासिष्ठ जैसे शास्त्रों में इसे ऐसे समझाया गया है कि आसमान में लटकते घड़े के अंदर कैद आसमान ही जीव है। वह भ्रम से ही अलग प्रतीत होता है, असलियत में वह एक ही अनंत आसमान से अभिन्न है। घड़े के अंदर के आसमान में आभासी तरंगें बनती रहती हैं, जिनसे जीव मोहित हुआ रहता है। मैं पिछली पोस्ट के संदर्भ में बता दूँ कि अनंत आकाश के छोटे से हिस्से में आसक्ति के साथ तरंगों को आत्म-आकाश से अलग अनुभव करने से पूरे चमकीले आत्म-आकाश को अपने में अंधेरा महसूस होता है। दरअसल यह भ्रम होता है। इससे मृत्यु के बाद भी उन तरंगों से बनी क्वांटम फ्लकचूएशन्स पर आसक्ति बनी रहती है, जिससे वह भ्रमजनित अंधेरा बना रहता है, जैसा सम्भवतः मैंने सूक्ष्मशरीर में अनुभव किया था। यह ऐसे ही है, जैसे क्वांटम फिसिक्स में मूल तत्त्वों को कण रूप में देखने पर वे अपने तरंग जैसे अनंत रूप को त्याग कर सीमित कणों के रूप में व्यवहार करते हैं। मतलब अनंत ऊर्जा एक कण के रूप में सीमित हो जाती है। इसको ऐसे समझ लो कि अनंत अंतरिक्ष की लाइट ऑफ़ हो जाती है, और केवल कणों के रूप में ही सीमित प्रकाश बचा रहता है। अँधेरे आसमान में चमकते हुए कण। जब हम उन्हें अपने असली ‘अनंत आसमान की तरंग’ के रूप में देखते हैं, तब वे वैसे ही अंतरिक्ष की तरंग के रूप में व्यवहार करते हैं। मतलब वो तरंग इसीलिए प्रकाशमान है, क्योंकि वह जिस अंतरिक्ष में बनी है, वो खुद प्रकाशमान है। मतलब तरंग के साथ पूरे अनंत अंतरिक्ष की लाइट ऑन रहती है। जल में बनी तरंग तभी रंगीन हो सकती है, अगर वह जल भी रंगीन हो। अगर जल काला हो, तो उससे बनने वाली तरंग रंगीन हो ही नहीं सकती। जबकि तरंग को कण के रूप में मतलब जल से अलग स्वतंत्र रूप में तभी महसूस कर सकते हैं, अगर आधारभूत जल का रंग खत्म कर दिया जाए, पर तरंग का रंग रहने दिया जाए। पर ऐसा संभव नहीं है। इसलिए आधाररूपी तरंग-माध्यम का रंग आभासी रूप में अर्थात झूठमूठ में अर्थात भ्रम पैदा करके गायब करना पड़ता है, जादूगर की भ्रम पैदा करने वाली ट्रिक की तरह। इसलिए पदार्थ का असली रूप तरंग होते हुए भी वे भ्रम से कणरूप जान पड़ते हैं। सिंपल सी बात है। मतलब कि आध्यात्मिक अज्ञान क्वांटम फिसिक्स के अज्ञान पर आधारित प्रतीत होता है।

Kundalini Yoga prefers the wave nature by ignoring the particle nature from the dual nature of matter

Friends, I was telling in the previous post that black hole is the subtle body of the universe. Consider the Galaxy as its gross body, and the black hole at its center as its subtle body. Every living being is a sky, and there is a separate universe in it. All are independent and can never destroy each other. It is possible that in the same way there are countless independent gross universes in the same sky.

A man never dies

Not only I am saying this, but scientists are also expressing apprehension that man actually does not die, but after death goes into a black hole and passes through it to another universe. This is the same thing that the scriptures say that after death a man becomes a subtle body and takes a new birth. New birth is a new universe, because as many souls as many universes. Every living being is an infinite space, and the collection of thoughts and experiences in it is the whole universe. Interestingly, like the gross universe, the subtle mental universe is also created in infinite space itself, and not in the body or mind of the living being, as is often believed. The brain is just a machine for generating those virtual waves in space that space can feel within itself. In scriptures like Yogavasistha, it is explained that the soul is like the sky imprisoned inside the pot hanging in the sky. It appears to be separate only by illusion, in reality it is one with the infinite sky. Virtual waves keep on forming in the sky inside the pitcher, by which the living being is fascinated. Let me refer to the previous post that with attachment to a small part of the infinite sky, means experiencing the waves as separate from the self-sky, the whole bright self-sky feels dark in itself. Actually it is an illusion. This leads to attachment to the quantum fluctuations created by those waves too even after death, leading to the illusory darkness that I probably experienced in the astral body. It is similar to how in quantum physics, when fundamental elements are viewed in particle form, they abandon their wave-like infinite form and behave as finite particles. Meaning infinite energy becomes confined in the form of a particle. Think of it as the light of infinite space is turned off, and only finite light remains in the form of particles. Glowing particles in the dark sky. When we see them as their true ‘waves of the infinite sky’ form, they behave that way as waves of space. Meaning that wave is luminous because the space in which it is created is itself luminous. Means the light of the entire infinite space remains on along with the light of wave. A wave made in water can be colored only if that water is also colored. If the water is black, then the wave created by it cannot be colourful. When that wave is to be felt as a particle, meaning independent of water, then the color of the basic water needs to be destroyed, but the color of the wave needs to be allowed to remain. But this is not possible. Therefore the color of the wave-medium that’s water has to be made to disappear in virtual form, ie, by creating an illusion, like a magician’s illusionary trick. That’s why even though the real form of matter is waves, they seem to be particles by illusion created by attachment and duality. It’s a simple matter. Meaning that spiritual ignorance seems to be based on quantum ignorance in physics.

कुण्डलिनी योग विज्ञान ब्लैक होल में भी झाँक सकता है

शिव की तरह शक्ति भी शाश्वत है

दोस्तों, मैं पिछली पोस्ट में बता रहा था कि शक्ति कहाँ से आती है। शाक्त कहते हैं कि शिव की तरह शक्ति भी शाश्वत है। यह मानना ही पड़ेगा, क्योंकि अगर शक्ति नाशवान है, तब वह सृष्टि के प्रारम्भिक शून्य आकाश में कहाँ से आती है। अगर शिव को ही एकमात्र अविनाशी और मूल तत्त्व माना जाए तो एक नया स्पष्टीकरण है। सूक्ष्मशरीर रूपी क्वांटम फ्लकचूएशनस आत्मा में रिकॉर्ड हो जाती हैं। उन क्वांटम फ्लकचूएशनस के अनुसार ही आत्मा में अंधेरा होता है। मतलब क्वांटम फ्लकचूएशनस की किस्म और मात्रा के अनुसार ही आत्मा का अंधेरा भिन्नता रखता है। यह नियम व्यष्टि और समष्टि, दोनों ही मामलों में लागू होता है। इसे ही कारण शरीर कहते हैं। आत्मा का वही अंधेरा फिर सृष्टि के प्रारम्भ में अपने अनुसार पुनः  क्वांटम फ्लकचूएशन पैदा करता है। मतलब कारण शरीर या कारण ब्रह्माण्ड सूक्ष्मशरीर या सूक्ष्म ब्रह्माण्ड के रूप में आ जाता है। उससे फिर स्थूल शरीर या स्थूल ब्रह्माण्ड बन ही जाता है। पर प्रश्न फिर भी बचा ही रहता है। फौरी तौर पर तो यही उत्तर बनता है कि अँधेरे अंतरिक्ष के रूप में शक्ति अर्थात कारण शरीर तो रहता है, पर अनुभव के रूप में उसका अपना अस्तित्व नहीं होता, अनुभव के रूप में वह परमात्मा शिवरूप ही होता है। या कह लो कि शक्ति शून्य शिव से एकाकार हो जाती है।

सृष्टि के प्रारम्भ में शक्ति शिव से अलग होकर सृष्टि की रचना प्रारम्भ करती है

जैसे सरोवर का जल हमेशा हिलता रहता है वैसे ही अंतरिक्ष में हमेशा सूक्ष्म तरंगें उठती रहती हैं। दोनों में कभी हवा आदि से लहरें ज्यादा बढ़ जाती हैं। यही एनर्जी से कण का उदय है। अंतरिक्ष में ये तरंगें आकाशीय पिंडों के आपस में टकराने से बनती हैं। यह तो वैज्ञानिक भी बोलते हैं कि जब अंतरिक्ष में ज्यादा उथलपुथल मचती है, तो नए ग्रहों व सितारों आदि का ज्यादा निर्माण होता है। पर शुरुआत के शून्य अंतरिक्ष में यह उथलपुथल कैसे मचती है, यह खोज का विषय है।

ब्लैक होल में ब्रह्माण्ड के जन्म और मृत्यु का राज छिपा हो सकता है

तारा जब मरता है तो वह सिंगुलेरिटी तक कंम्प्रेस होकर ब्लैक होल बन जाता है। वह सिंगुलेरिटी अव्यक्त आकाश में विलीन हो जाती है, क्योंकि किसी चीज के छोटा होने की अंतिम सीमा शून्य आकाश में जाकर ही खत्म होती है। मतलब वह पहले स्बसे छोटा मूलकण बनता है। उसकी ग्रेविटी बहुत ज्यादा होती है। मतलब वह क्वांटम ग्रेविटी है। इसमें एक मूलकण से सृष्टि बनने का राज अर्थात बिग बैंग का राज छिपा हुआ है। जब एक मूलकण के अंदर पूरा तारा समा सकता है तो उससे पूरे तारे का उदय भी तो हो सकता है। वह पुनः-रचना व्हाइट होल के माध्यम से हो सकती है। तभी कहते हैं कि ब्लेक होल सृष्टि रचना की फैक्ट्री हो सकता है। हो सकता है कि सृष्टि के अंत में ग्रेविटी हावी होकर पूरे ब्रह्माण्ड या पूरी सृष्टि को ही ब्लैक होल बना कर खत्म कर दे। फिर पूरा अंतरिक्ष ही ब्लैक होल अर्थात अव्यक्त आकाश अर्थात अंधकारपूर्ण आकाश अर्थात मूल प्रकृति बन जाएगा। हालांकि उसमें पूरी सृष्टि उच्च दबाव में समाई होगी। अब ये नहीं पता कि वह किस रूप में उसमें होगी। जब उस परम ब्लैक होल का अंधकाररूप दबाव एक निश्चित मात्रा या समय सीमा को लांघेगा, तब प्रलय का अंत हो जाएगा और उसमें दबे अव्यक्त पदार्थ प्रकाशमान तरंगों के रूप में बाहर अर्थात परम व्यक्त अर्थात परम पुरुष की ओर प्रस्फुटित होने लगेंगे। इसे ही प्रकृति और पुरुष अर्थात यिन और यांग के बीच आकर्षण और सम्भोग कहा जाता है। इससे शिशु रूप में नई सृष्टि का पुनर्जन्म और विकास होगा। सम्भवतः इसीलिए शास्त्रों में अनेक स्थानों पर मन के विचारों मुख्यतः कुण्डलिनी छवि को भी पुत्र कह कर सम्बोधित किया जाता है। उदाहरण के लिए देव कार्तिकेय, सगर-पुत्र आदि। स्वाभाविक है कि सृष्टि पहले की तरह ही बनेगी क्योंकि पिछली सृष्टि के दबे पदार्थ ही उसे बना रहे हैं। नई सृष्टि बनने की प्रक्रिया और क्रम भी पुरानी की तरह ही होगा क्योंकि अक्सर देखा जाता है कि जिस क्रम में कोई चीज टूट कर नष्ट होती है, वह लगभग उसी क्रम और प्रक्रिया में आगे से आगे जुड़ते हुए पुनः निर्मित होती है। यह भी हो सकता है कि बिग क्रन्च होने की बजाय बिग बैंग ही चलता रहे, जिससे अंत में सभी मूलकण भी एकदूसरे से दूर छिटक कर आकाश में विलीन हो जाएं। पर बनेगा तो तब भी ब्लैक होल जैसा ही। उसमें भी सब कुछ यहाँ तक कि प्रकाश भी टूट कर मूल अंतरिक्ष के अँधेरे में गायब हो जाएगा।

आदमी का सूक्ष्म शरीर भी एक ब्लैक होल ही है

आदमी भी तो ऐसे ही मरता है। सारे जीवन भर मानसिक ब्रह्माण्ड का निर्माण करता है। अंत में सब कुछ अँधेरनुमा ब्लैकहोल जैसे अव्यक्त में समा जाता है। आदमी के नए जन्म पर उसके नए मानसिक ब्रह्माण्ड का निर्माण इसी मानसिक या सूक्ष्म ब्लैकहोल से होता है। मतलब जैसी सूचना उस अँधेरे में दर्ज होती है, नया ब्रह्माण्ड भी वैसा ही बनता है। तभी तो कहते हैं कि आदमी का नया जन्म उसके पुराने जन्मों के अनुसार ही होता है।

ब्लैक होल में प्रकाश तो अनगिनत सितारों जितना समाया हो सकता है, पर वह दबा हुआ या अव्यक्त होता है। यह मृत्यु के बाद जीवात्मा के सूक्ष्म शरीर अर्थात प्रेतात्मा की तरह है। उसमें अनेक जन्मों के जगत का प्रकाश समाहित होता है, पर वह दबा हुआ सा अर्थात अनभिव्यक्त सा होता है। ऐसा लगता है कि वह प्रकाश बाहर उमड़ने को बेताब है।

हरेक जीव एक ब्रह्माण्ड और ब्लैक होल के रूप में जन्म और मृत्यु को प्राप्त होता रहता है

ब्लैक होल का अनुभवात्मक विवरण

मैं पिछली पोस्ट में बता रहा था कि जीवात्मा का पुनर्जन्म एक मां के गर्भ में होता है। यह अनेक सम्भावनाओं में से एक है। जीवात्मा सूर्य-आदि मार्गों से भी जा सकती है, चंद्रादि मार्ग से भी, स्वर्ग भी जा सकती है और नर्क भी, किसी भी ग्रह या लोक-परलोक को जा सकती है, मुक्त भी हो सकती है, और बद्ध भी रह सकती है। इसका असली अनुभव तो ज्ञानी ऋषियों ने ही किया था, जिसका वर्णन उन्होंने वेद-शास्त्रों में किया है। हम तो उन्हींके अनुभवों की वैज्ञानिक विवेचना करने की कोशिश करते हैं। मेरा अनुभव तो यही है कि मैंने एकबार अपने मृत परिचित की जीवात्मा को अनुभव किया था। वह ब्लैक होल की तरह थी, मतलब उसमें उस आदमी का पूरा व्यक्तित्व समाया हुआ था, जो उसकी जीवित अवस्था से भी ज्यादा अनुभव हो रहा था, उसके पिछले सभी जन्मों के प्रभाव के साथ, पर फिर भी सबकुछ अंधेरनुमा ही था, हालांकि अंतहीन खुले आसमान की तरह। वैसे ही, जैसे ब्लैक होल में पूरा विश्व समाया होता है। ऐसा लग रहा था जैसे उनका जीवित अवस्था का प्रकाशमान जगत अर्थात उनका जीवनयात्रा की शुरुआत से लेकर अब तक का पूरा पिछला व्यक्तित्व किसी दबाव से दबा था, इससे वह अवस्था कज्जली या चमकीली काली थी, मतलब चेतना व सेल्फ अवेयरनेस अर्थात आत्मजागरूकता से भरा अंधेरा था वह, जड़ता या मूढ़ता से भरा नहीं, और शान्तियुक्त आनंद भी था उसमें, हालांकि प्रकाश की कमी से आनंद अधूरा था। ऐसा ही जैसे किसी को सुखचैन तो दो पर अँधेरी कोठरी में बंद रखो। शायद यह एक जानवर जैसा बंधन है जो एक अंधेरे कमरे में बंधा हुआ है, लेकिन अच्छी तरह से खिलाया और पानी पिलाया जाता है, इसलिए भगवान को पशुपति नाथ या जानवरों का स्वामी कहा जाता है। ऐसा लग रहा था कि वह दबा हुआ बैकग्राउंड प्रकाश पूरे जोर व विस्फोट से बाहर को फैलना चाहता हो अभिव्यक्ति के रूप में। सम्भवतः ब्लैक होल भी ऐसा ही होता है। इवेंट होरीजन के साथ देखने पर तो वह वैसा ही लगता है। इवेंट होरीज़ोन को आप आदमी के स्थूल शरीर जैसा या अभिव्यक्त रूप जैसा कह लो, और ब्लैक होल को इसके सूक्ष्म शरीर या दबे रूप जैसा। इवेंट होरीज़ोन में पूरा दृश्य जगत प्रकाशमान और स्थूल होता है, जबकि ब्लैक होल के अंदर वह सूक्ष्मता और अँधेरे में चला जाता है, रहता वहाँ भी पूरा ही है। विचित्र अवस्था होती है सूक्ष्म शरीर की। फिर वो जीवात्मा कई दिन बाद दिव्य जैसी अवस्था में टहलते हुए महसूस हुई। सम्भवतः वह स्वर्ग या मुक्ति की तरफ जा रही थी। मैंने इसका सविस्तार वर्णन एक पुरानी पोस्ट में किया है। मैं इस अनुभव के दौरान तांत्रिक कुण्डलिनी योग का गहन अभ्यास कर रहा था। सम्भवतः इसी ने मुझे उस दिव्य अनुभव के योग्य बनाया था। वह शुभचिंतक प्रेतात्मा थी। इसी तरह एकबार मुझे योगाभ्यास के बीच में ही कुछ अशुभ प्रेतात्माओं के सूक्ष्म शरीरों का अनुभव भी हुआ था। वे हिंसक व गुस्सैल व रक्तपिपासु जैसे लग रहे थे। दरअसल सूक्ष्म शरीर अपनी आत्मा के अंदर या आत्मा के रूप में महसूस होते हैं। वह एक अहसास होता है, जिसके लिए विचारों का घोड़ा दौड़ाने की जरूरत नहीं होती। आपको चीनी की मिठास क्या विचार बताते हैं। नहीं, वह एक अपना अंदरूनी अहसास होता है। उसके साथ पीछे से अच्छे विचार आए, वह अलग बात है। उसी तरह उन दुष्ट प्रेतों के अहसास के साथ कुछ हड्डीनुमा, लाल आँखों वाले व बड़े नुकीले दांतों व गुस्से वाले चित्र तो मन में बने, पर वे तो अहसास का पीछा करने वाले विचार होते हैं, अहसास नहीं। सूक्ष्म शरीर तो एक अहसास ही होता है, बिना किसी भौतिक रूपरंग का। मस्तिष्क एक थिएटर मेन की तरह होता है, जो अहसास या मूड के अनुसार चित्र बना लेता है। मैंने गुरु स्मरण से उस घटिया अहसास को शांत किया। वह अहसास 10-20 सेकंड जितना ही रहा होगा। उसके एक-दो दिन बाद एक बुरी घटना टलने की खुशखबरी मिली। इसी तरह मैंने बताया था कि किस तरह जीव का जन्म होता है। यह भी मैं शास्त्रों में लिखी बातों को वैज्ञानिक अमलीजामा पहना रहा था, कुछ अपना हल्का अनुभव भी है, हालांकि वह गहरा या निर्णायक अनुभव नहीं है। एक उपनिषद में तो एक जगह यहाँ तक कहा गया है कि जीवात्मा बादलों तक पहुंच कर बारिश के जल में घुलकर जमीन पर आ जाती है, फिर जड़ों से होकर अन्न के पौधे में घुस जाती है। जब कोई आदमी उस अन्न के दाने को खाता है, तो उसके शरीर से होकर उसके वीर्य में पहुंच जाती है। उससे उसकी पत्नि के गर्भ में प्रविष्ट होकर जन्म ले लेती है।

जो भौतिक विज्ञान की पहुंच से परे हो, वहाँ आध्यात्मिक योग-विज्ञान से ही पहुंचा जा सकता है

भौतिक वैज्ञानिक ब्लैक होल के अँधेरे में झाँकने में अस्मर्थ हैं। पर योग विज्ञान इशारा कर रहा है कि उसमें सभी पदार्थ अदृष्य आत्मा अर्थात अदृष्य आसमान के रूप में विद्यमान रहते हैं, जिन्हें आसमान रूप आत्मा के द्वारा सीधा अनुभव तो किया जा सकता है पर भौतिक इन्द्रियों के द्वारा नहीं। जीव का सूक्ष्म शरीर भी वैसा ही होता है।

ब्लैक होल ब्रह्माण्ड-शरीर अर्थात ब्रह्मा का सूक्ष्म शरीर व कारण शरीर है

एलियन हरेक भौतिक पदार्थ के रूप में उपस्थित रहकर हमारे सबसे निकट होते हुए भी सबसे दूर हैं

उपरोक्त तथ्यों से तो यही सिद्ध होता है। देहरहित सूक्ष्मशरीर व कारण शरीर के बीच मुझे कोई ज्यादा अंतर नहीं लगता। दोनों में ही क्वांटम फ्लकचूएशनस आत्मा में रिकॉर्ड हो जाती हैं। यही मामुली सा अंतर है कि सूक्ष्मशरीर थोड़े समय के लिए रहता है, क्योंकि उसको स्थूल रूप में प्रकट करने के लिए भौतिक सृष्टि का वजूद होता है, जबकि कारण शरीर लम्बे समय तक बना रहता है, क्योंकि उस समय सृष्टि की प्रलयावस्था होती है, और कहीं कुछ भी भौतिक रूप में नहीं होता। इसके अलावा, कारण शरीर पूरी तरह से शांत दिखाई देता है क्योंकि इसमें किसी भी क्वांटम लहर की उतार-चढ़ाव को आकर्षक भूतिया अभिव्यक्ति के रूप में लंबे समय तक अनुभव नहीं किया जाता है, जैसा कि कभी-कभी सूक्ष्म शरीर के मामले में होता है। इसका मतलब है कि आम जीव की तरह ब्रह्मा नाम के जीव का अस्तित्व भी है, जैसा शास्त्रों में कहा गया है। ब्रह्माण्ड ही उसका शरीर है। यह अलग बात है कि वह इससे बद्ध नहीं होता। प्रलय के समय ब्रह्मा की आत्मा में ब्रह्माण्ड रिकॉर्ड हो जाता है। सृष्टि के समय वह फिर अपने पुराने स्थूल रूप में प्रकट हो जाता है। पर शास्त्र कहते हैं कि ब्रह्मा प्रलय के समय अपनी मृत्यु के साथ मुक्त हो जाता है। फिर नई सृष्टि के लिए वो रेकॉर्डिंग कहाँ रहती है। मतलब साफ है कि वह जीवनमुक्त हो जाता है, विदेहमुक्त नहीं। मतलब उसका शरीर और जन्म-मृत्यु का चक्र बना रहता है, पर मुक्ति के अहसास के साथ। पर जीवनमुक्त तो वह पहले भी था। ऐसा शायद यह दर्शाने के लिए लिखा गया है कि जीव और ब्रह्मा की गति एक जैसी है। ब्रह्मा और जीव में कोई अंतर नहीं। जीवनमुक्त के बारे में जो कुछ भी सोच लो, वह सही ही होता है, क्योंकि वह किसी से प्रभावित ही नहीं होता। यह ऐसे ही है जैसे कुछ अंतरिक्ष वैज्ञानिक अंदेशा जता रहे हैं कि हमें एलियन इसलिए नहीं दिखते क्योंकि वे भौतिक पदार्थों के रूप में ढल गए हैं, और ऐसे बन गए हैं कि वे हर जगह हैं भी और नहीं भी। पूरा ब्रह्माण्ड भी ऐसा ही एक विशालकाय एलियन हो सकता है। सम्भवतः इस बात को जानकर ही सभी चीजों को देवता मानने की और उनको विभिन्न रूपों में पूजने की परम्परा शुरु हुई थी। ऐसे जीवनमुक्त लोग ही तो होते हैं। फिर शास्त्र कहते हैं कि कोई भी जीव तरक्की करते हुए ब्रह्मा बन सकता है। इसका मतलब मुझे यही लगता है कि ब्रह्मा की तरह पूर्ण जीवनमुक्त बन सकता है, न कि असली ब्रह्मा।

शिव अगर सरोवर है तो शक्ति उसमें हलचल पैदा करने वाला हवा का झोँका है

मान लेते हैं कि सरोवर में जल की हलचल की तरह अंतरिक्ष में क्वांटम फ्लकचूएशनस हमेशा विद्यमान रहती हैं, जिसे हम अव्यक्त कहते हैं। यह भी मान लेते हैं कि महाप्रलय के समय अंतरिक्ष एक पूर्ण शांत जल-सरोवर की तरह हो जाता है, जिसमें बिल्कुल भी हलचल नहीं रहती, मतलब क्वांटम फ्लकचूएशनस भी थम जाती हैं। इसे परम अव्यक्त भी कह सकते हैं और परम व्यक्त या परमात्मा भी। जैसे हवा के झोंके से जल की सतह पर बार-बार उसी किस्म की तरंगों के पैटर्न  उसी क्रम में बनते रहते हैं, उसी तरह अंतरिक्ष में भी उसी किस्म की सृष्टि उसी निश्चित क्रम में बारबार बनती रहती है। पर फिर भी अंत में प्रश्न यही बचता है कि प्रलय के अंत में जब सब कुछ शून्य होता है, तब वह ऊर्जा या शक्ति कहाँ से आती है, जो उस हलचल को बढ़ा देती है। शून्य में वो हवा का झोंका कहाँ से आता है, जो शुरुआती हलचल को पैदा करता है। बाद में तो यह भी मान सकते हैं कि हलचल से हलचल खुद ही आगे से आगे बढ़ती रहती है। अंतरिक्ष में चलने वाला वह हवा का झोंका ही वह शक्ति है, जिसे शाक्त सम्प्रदाय वाले लोग शिव की तरह शाश्वत और अविनाशी मानते हैं। शिव अगर निश्चल अंतरिक्ष है, तो शक्ति उसमें हलचल पैदा करने वाला हवा का झोंका है।

Kundalini yoga science can peep into black holes too

Shakti is eternal like Shiva

Friends, in the previous post I was telling from where the shakti comes. Shakta sect says that like Shiva, Shakti is also eternal. It has to be accepted, because if Shakti is perishable, then from where does it come in the initial void of creation. If Shiva is considered to be the only indestructible and original element, then there is a new explanation. The quantum fluctuations of the subtle body get recorded in the soul. There is darkness in the soul according to those quantum fluctuations. Means the darkness of the soul varies according to the type and quantity of quantum fluctuations. This rule is applicable in both individual and macro cases. This is called the causal body. The same darkness of the soul again creates quantum fluctuations according to itself in the beginning of the universe. Means the causal body or the causal universe comes in the form of a subtle body or a subtle universe. From that then the gross body or the gross universe is formed. But still the question remains. Immediately, this answer is made that cosmic Shakti i.e. the cosmic causal body remains in the form of dark space, but it does not have its own existence in the form of experience of illusion of darkness by any soul, and that unaffected Supreme Soul is only Shiva. Or say that Shakti as dark zero becomes one with Shiva.

At the beginning of the creation, Shakti separates from Shiva and starts the creation of the universe

Just like the water of the lake always keeps moving, in the same way subtle waves always keep rising in the space. In both, sometimes the waves increase more due to wind etc. This is the rise of particle from energy. These waves in space are created by the collision of celestial bodies. Scientists also say that when there is more upheaval in space, more new planets and stars etc. are formed. But how this upheaval takes place in the zero space of the beginning is a matter of research.

The secret of the birth and death of the universe may be hidden in the black hole

When a star dies, it compresses to a singularity and becomes a black hole. That singularity dissolves into the unmanifested sky, because the final limit to the smallness of something ends in nothingness. Meaning it first becomes the smallest fundamental particle. Its gravity is very high. Meaning it is quantum gravity. The secret of the creation of the universe from a single particle, that is, the secret of the Big Bang is hidden in it. When a whole star can fit inside a single particle, then the whole star can also emerge from it. That re-creation can happen through a
. That is why it is said that a black hole can be a factory of creation. It is possible that at the end time of the universe, gravity dominates and destroys the entire universe by making it a black hole. Then the whole space itself will become black hole i.e. unmanifest sky i.e. dark sky i.e. original nature or mool prakriti. However, the whole universe will be contained in it under high pressure. Now it is not known in what form it will be there. When the pressure in the form of darkness of that ultimate black hole will cross a certain amount or time limit, then the holocaust will end and the unmanifest substances buried in it will start erupting out in the form of luminous waves i.e. moving towards the ultimate manifestation that’s the ultimate Purusha. This is called the attraction and sexual intercourse between Prakriti and Purusha, i.e. Yin and Yang. This will lead to the rebirth and development of the new creation in infant form. It is natural that the world will be created in the same way as it was before because only the buried matter of the previous world is creating it. The process and order of new creation will also be like the old one because it is often seen that in the order in which a thing breaks down and gets destroyed, it gets re-created in almost the same order and process by connecting further. It is also possible that instead of the Big Crunch, the Big Bang continues, so that in the end all the fundamental particles also get scattered away from each other and merge into the sky. But even then black hole type will be formed. In that too everything, even light, will disintegrate and disappear into the darkness of the original space.

The subtle body of man is also a black hole

Man also dies like this. He builds up the mental universe throughout life. In the end everything merges into the unmanifest like a dark blackhole. On the new birth of that man, his new mental universe is created from this mental or individual blackhole. Meaning, as the information is recorded in that darkness, the new universe also becomes like that. That’s why it is said that a man’s new birth is according to his old births.

Light can be included in a black hole as much as countless stars, but it is suppressed or latent. It is like the subtle body of the soul i.e. the ghost after death. The light of the world of many births is contained in it, but it is suppressed, that is, unexpressed. It seems that the light is desperate to come out.

Every living being receives birth and death in the form of a universe and a black hole

Empirical Description of Black Holes

I was telling in the previous post that the soul is reborn in the womb of a mother. This is one of many possibilities. The soul can go through the sun-etc routes, it can also go through the lunar path, it can go to heaven as well as hell, it can go to any planet or the other world, it can be liberated, and it can remain bound. The real experience of this was done by the wise sages only, which they have described in the Vedas and scriptures. We try to explain their experiences scientifically. My experience is that once I had encountered the soul of a close acquaintance. It was like a black hole, meaning it contained the man’s entire personality, I experiencing them more than his living time state, even with the effects of all his past lives, but still everything was dark, though like an endless open sky. Just like the whole world is contained in a black hole. It seemed as if the luminous world of his living state i.e. his whole previous personality till now from eternity was suppressed by some pressure, due to this that state was kajjali that’s mascara like or shiny black, meaning it was having consciousness and self-awareness not as fully darkness, inertness or foolishness as generally thought. It was not having ordinary physical light although having consciousness type of experiential light, and so there was also a peaceful joy in it, although the joy was incomplete because of the lack of well expressed light. Looked just like giving someone happiness but keeping him locked in a dark room. Perhaps it’s this bondage like animal tied in a dark room but well fed and watered that’s why God is called as pashupati nath or master of animals. It was as if that suppressed background light wanted to burst out in full force and explosion in the form of expression. Probably black holes are also like this. That’s what it looks like when viewed with Event Horizon. You can call the event horizon as the gross body or manifestation form of man, and the black hole as its subtle body or suppressed form. In the event horizon, the entire visible world is bright and gross, while inside the black hole it goes into subtlety and darkness, remaining there as well. The subtle body is in a strange state. Then after many days that soul was felt walking in a divine like state. Probably she was going towards heaven or liberation. I have explained this in detail in an earlier post. I was deeply practicing Tantric Kundalini Yoga during this experience. Perhaps this is what made me worthy of that divine experience. She was a well wisher spirit. Similarly, once in the middle of my yoga practice, I also had the experience of the subtle bodies of some inauspicious spirits. They looked violent and angry and bloodthirsty. Actually the subtle bodies are felt by one inside his soul or in the form of his soul directly. It is a feeling, for which there is no need to run the horse of thoughts. Do thoughts tell you the sweetness of sugar? No, it is an inner feeling. Good ideas and thoughts can come from behind with it, that’s a different matter. Similarly, with the feeling of those evil spirits, some bone-like, red-eyed and big sharp teeth and angry pictures were formed in the mind, but they were thoughts chasing feelings, not feelings itself. The astral body is just a feeling, without any physical form. The brain is like a theater man, which creates pictures according to the feeling or mood. I pacified that bad feeling by remembering Guru. That feeling must have been for 10-20 seconds only. After a day or two, we got the good news of a bad incident being averted. In the same way I had told in the previous post how the soul is born. This too, I was giving scientific explanation to the things written in the scriptures, with some of my own light experience, although it is not a deep or conclusive experience. In one Upanishad, it has even been said at one place that after reaching the clouds, the soul dissolves in the rain water and comes to the ground, then enters the food plant through the roots. When a man eats the grain of that plant, it passes through his body and reaches his semen. From him enters the womb of his wife and takes birth.

That which is beyond the reach of physical science can be reached only through spiritual science

Physicists are unable to peer into the darkness of a black hole. But Yoga science is pointing out that all the substances exist in it in the form of invisible soul, that is, particular invisible sky, which can be directly experienced by the soul in the form of special dark sky, but not through physical senses. The subtle body of the living being is also like that.

Black hole is the subtle body and causal body of the universe-body i.e. Brahma

Aliens are closest to us yet farthest by being present in every physical form

This is proved by the above facts. I don’t see much of a difference between the disembodied subtle body and the causal body. In both the quantum fluctuations get recorded in the soul. The only slight difference is that the subtle body lasts for a short time, because the material creation exists to manifest it in a gross form, while the causal body lasts for a long time, because at that time there is annihilation of creation, and Nothing happens in physical form anywhere. Also, causal body appears fully calm because it has not remaining any quantum fluctuations in the form of flashy ghostly expression for so long as that occasionally happens in case of subtle body. This means that a living entity named Brahma also exists like an ordinary living being, as stated in the scriptures. The universe itself is his body. It is a different matter that he is not bound by it. At the time of annihilation, the universe gets recorded in the soul of Brahma. At the time of creation, it again appears in its old gross form. But the scriptures say that Brahma becomes liberated with his death at the time of annihilation. Then where does that recording remain for the new world? The meaning is clear that he becomes Jivanmukt or lively liberated, not Videhmukt or liberated after death. Means his body and the cycle of birth and death always remain, but with the feeling of liberation. But he was Jivanmukt earlier also. This is probably written to show that the movement of the Jiva and Brahma is the same. There is no difference between Brahma and Jiva. Whatever you think about Jivanmukt, it is right, because he is not influenced by anyone. It’s like some space scientists are speculating that the reason we don’t see aliens is because they’ve been molded into physical objects, and made to be either they are and they aren’t together. The entire universe could also be one such giant alien. Probably knowing this, the tradition of considering all things as deities and worshiping them in different forms started. Only people who are liberated in life are like this. Then the scriptures say that any living being can progress to become Brahma. This means to me that one can become a complete Jivanmukta like Brahma, not the real Brahma.

If Shiva is a lake, then Shakti is a gust of wind that stirs it

Let us assume that like the movement of water in a lake, quantum fluctuations always exist in space, which we call latent creation. Let’s also assume that at the time of Mahapralaya, space becomes like a completely calm water-lake, in which there is no movement at all, which means quantum fluctuations also stop. Just as the same type of wave patterns are formed again and again in the same order on the surface of the water due to a gust of wind, in the same way, the same type of creation in space also gets formed again and again in the same definite order. But still the question remains in the end that when everything is zero at the end of holocaust, where does that energy or power come from, which starts or increases that movement. Where does that gust of wind come from in the void, which creates the initial movement. Later on, it can also be accepted that due to upheaval, the upheaval itself continues to move forward. That gust of wind that shakes the space is the shakti, which the people of the Shakta community believe to be eternal and indestructible like Shiva. If Shiva is the still space, then Shakti is the gust of wind that creates movement in it.

कुण्डलिनी योग से ही ब्रह्माण्ड एक देवता या विशालकाय एलियन बनता है

शून्य में विद्युत्चुंबकीय तरंग

दोस्तों, मैं पिछली पोस्ट में बता रहा था कि विद्युत्चुंबकीय क्षेत्र या तरंग से मानसिक दुनिया बनती है। तो फिर यह क्यों न मान लिया जाए कि बाहर का भौतिक संसार भी इन्हीं तरंगों से बनता है। यही अंतर है कि मानसिक संसार में ये तरंगें अस्थिर होती हैं, और आँखों आदि इन्द्रियों के माध्यम से बाहर से लाई जा रही सूचनाओं के अनुसार लगातार बदलती रहती हैं, पर बाहर के स्थूल जगत में ये किसी बल से स्थिरता पाकर स्थायी मूलकणों की तरह व्यवहार करने लगती हैं, जिनसे दुनिया आगे से आगे बढ़ती जाती है। दिमाग़ में तो विद्युत्चुंबकीय तरंग मूलाधार से आ रही ऊर्जा से बनती है, पर बाहर शून्य अंतरिक्ष में यह ऊर्जा कहाँ से आती है, यह खोज का विषय है।

फील्ड से कण और कण से फील्ड का उदय

क्वांटम फील्ड थ्योरी सबसे आधुनिक और स्वीकृत है। इसके अनुसार हरेक कण और बल की एक सर्वव्यापी फील्ड मौजूद होती है। फील्ड मतलब प्रभाव क्षेत्र, कण की फील्ड मतलब कण का प्रभाव क्षेत्र। अंतरिक्ष शून्य नहीं बल्कि इन फील्डों से भरा होता है। फील्ड मतलब पोटेंशल, तरंग व कण बनाने की योग्यता। यह फील्ड एक सबसे हल्के स्तर की लहर होती है। मुझे लगता है यह ऐसे है कि जब एक कंकड़ एक जल-सरोवर में गिराया जाता है तो एक मुख्य लहर के साथ छोटी लहरों के झुंड के रूप में विक्षोभ पैदा होता है। मुख्य बड़ी तरंग कण के समान है और छोटी तरंगें उसके क्षेत्र या फील्ड के समान हैं। जिस क्षेत्र तक इन सूक्ष्म तरंगों का अनुभव होता है, वह कण के रूप में स्थित उस मुख्य तरंग का फील्ड का दायरा होता है। जब इलेक्ट्रोन की फील्ड में किसी पॉइंट को एनर्जी मिलती है तो वहां फील्डरूपी छोटी लहर का एम्प्लीचूड या आयाम बढ़ जाता है, और वहाँ एक कण का उदगम होता है। वह इलेक्ट्रोन है। ये आधारभूत फील्ड सबसे छोटे कण क्वार्क से भी सूक्ष्म होती हैं। इसी तरह इलेक्ट्रोन के चारों तरफ भी एक फील्ड बनती है। मतलब इलेक्ट्रोन रूपी बड़ी लहर के चारों तरफ भी एक सूक्ष्म लहरों का क्षेत्र बन जाता है। वह प्रोटोन से भी इसी इलेक्ट्रोमेग्नेटीक फील्ड से ही दूर से आकर्षित होकर उससे जुड़ जाता है। इस आकर्षण की फील्ड तरंगों से भी विशेष सूक्ष्म कण सम्भवतः फोटोन पैदा होता है, जो इस आकर्षण को क़ायम करता है। इस तरह फील्ड से कण और कण से फील्ड पैदा होकर बाहर की स्थूल संसार रचना को आगे से आगे बढ़ाते रहते हैं।

अव्यक्त से व्यक्त और व्यक्त से अव्यक्त का उदय

मन भी तो क्वांटम फील्ड की तरह होता है। इसमें हरेक किस्म का संकल्प अदृष्य रूप अर्थात अदृष्य लहर के रूप में रहता है। इसे सांख्य दर्शन के अनुसार अव्यक्त कहते हैं। जब इसे मूलाधार से एनर्जी मिलती है, तब इस मानसिक क्वांटम फील्ड की लहरें बड़ी होने लगती हैं, जो स्थूलकण रूपी चित्रविचित्र संसार पैदा करती हैं। उससे और फील्ड पैदा होती है, जिससे और विचार पैदा होते हैं। इस तरह यह सिलसिला चलता रहता है और आदमी के विचार रुकने में ही नहीं आते। अव्यक्त से व्यक्त और व्यक्त से अव्यक्त पैदा होकर भीतरी मानसिक संसार रचना को आगे से आगे बढ़ाते रहते हैं।

क्वांटम भौतिक विज्ञान और आध्यात्मिक मनोविज्ञान के बीच समानता

प्रकृति या अव्यक्त ही वह हल्के स्तर की आधारभूत लहर है। अव्यक्त व्यक्त से ही बना है, अव्यक्त मतलब हल्के स्तर का व्यक्त। हालांकि उसके मूल में भी निश्चेष्ट या अवर्णनीय पुरुष ही है। अंत के पैराग्राफ में बताऊंगा कि निश्चेष्ट या गतिहीन पुरुष क्यों कुछ काम नहीं कर पाता। क्यों उसे मूक दर्शक की तरह माना जाता है, जो अपनी उपस्थिति मात्र से प्रकृति की मदद तो करता है, पर खुद कुछ नहीं करता। सारा काम प्रकृति ही करती है। पुरुष अर्थात शुद्ध आत्मा एक चुंबक की तरह है जिसकी तरफ खिंच कर ही प्रकृति से सब काम अनायास ही खुद ही होते रहते हैं। इसीलिए कहते हैं कि जो भगवान के सहारे है, उसका जीवन खुद ही अच्छे से कट जाता है। पर भगवान असली और अच्छी तरह से समझा हुआ होना चाहिए, जो कुण्डलिनी योग से ही संभव है। जैसे हमारा हरेक कर्म और विचार संस्कार रूप से पहले से ही सूक्ष्म रूप में हमारी अव्यक्त प्रकृति के रूप में मौजूद होता है, जिसे सूक्ष्म शरीर कहते हैं, उसी तरह हरेक क्वांटम कण भी अपनी क्वांटम फील्ड के रूप में पहले से ही मौजूद होता है। व्यष्टि मूलाधार मतलब शारीरिक मूलाधार से मिल रही शक्ति से व्यष्टि अव्यक्त मतलब शरीरबद्ध अव्यक्त या व्यष्टि फील्ड में क्षोभ पैदा होता है, जिससे विभिन्न लहरों के रूप में विचारों मतलब व्यष्टि मूलकणों का उदय होता है। इसी तरह समष्टि मूलाधार अर्थात ब्रह्माण्डव्याप्त मूलाधार अर्थात मूल प्रकृति से उत्पन्न शक्ति से समष्टि क्वांटम फील्ड में क्षोभ पैदा होता है, जिससे समष्टि मूलकण पैदा होते हैं। पर समष्टि जगत में ये शक्ति कहाँ से आती है? दार्शनिक तौर पर तो मूल प्रकृति को समष्टि मूलाधार मान सकते हैं, क्योंकि दोनों में मूल शब्द जुड़ा है, और दोनों ही सब सांसारिक रचनाओं के मूल आधार या नींव के पहले पत्थर हैं हैं, पर इसे वैज्ञानिक रूप से कैसे सिद्ध करेंगे? व्यष्टि के मूलाधार की तरह समष्टि मूलाधार में भी कोई सम्भोग क्रिया और उससे उत्पन्न सम्भोग-शक्ति होनी चाहिए। तो उसे पुरुष और प्रकृति के बीच सम्भोग क्यों न माना जाए, जिसका इशारा शास्त्रों में किया गया है।

संतानोत्पत्ति की प्रक्रिया तांत्रिक कुण्डलिनी योग का भौतिक मार्ग ही है

दरअसल जीवों का जो अव्यक्तरूप सूक्ष्म शरीर है, वह मरने के बाद और भी सूक्ष्म हो जाता है, क्योंकि उस समय उसे स्थूल शरीर से बिल्कुल भी ऊर्जा नहीं मिल रही होती है। वह एक घने अँधेरे आत्माकाश की तरह हो जाता है, जिसका अंधेरा उसमें छिपे हुए अव्यक्त जगत के अनुसार होता है। वह अव्यक्त जगत भी व्यक्त जगत के अनुसार ही होता है। इसीलिए सब जीवों के सूक्ष्म शरीर उनके स्थूल स्वभाव के अनुसार अलग-अलग होते हैं। इस तरह से बहुत से जीवों के अव्यक्त आत्माकाश जब समष्टि अव्यक्ताकाश मतलब मूल प्रकृति के साथ कंधे से कंधा मिलाकर एक निश्चित सीमा से ज्यादा अव्यक्त भाव अर्थात अंधकारमय आकाश बना देते हैं, तब वहाँ से एक शक्ति की लहर पुरुष की तरफ छलांग लगाती है। इसी से क्वांटम फील्ड में लहरों का एम्प्लीच्युड आदि बढ़ने से मूलकणों का उदय और सृष्टि का विस्तार शुरु होता है। यह ऐसे ही है जैसे कभी कोई आदमी अपनी सहन-सीमा से ज्यादा ही गम या अवसाद के अँधेरे में डूबने लग जाए, तो वह सम्भोग की सहायता से अपने मूलाधार के अँधेरे में डूबे अपने अव्यक्त मानसिक जगत को ऊपर चढ़ती हुई शक्ति के साथ सहस्रार की तरफ भेजने की कोशिश करता है, ताकि उसके विचारों का मानसिक संसार पुनः प्रकाशित होने लगे। शक्ति तो खुद एक वाहक या बल है, जो अव्यक्त जगत को व्यक्त बनाने में मदद करती है। शास्त्रों में भी यही कहा है कि जब जीवों के कर्म, फल देने को उन्मुख हो जाते हैं, अर्थात जब जीव अंधकार से ऊबने जैसे लगते हैं, तब वे प्रलय के बाद पुनः सृष्टि को प्रारम्भ करने की प्रेरणा देते हैं। यह सामूहिक अर्थात समष्टि सृष्टि और प्रलय है। व्यक्तिगत सृष्टि और प्रलय तो हरेक जीव के जन्म और मरण के साथ चली ही रहती है। सहज व प्राकृतिक मृत्यु के बाद कुछ समय तो जीव चैन की बंसी बजाता हुआ अव्यक्त में आराम करता है, फिर जल्दी ही उससे ऊब जाता है। इसलिए उस अव्यक्तरूप जीव को व्यक्त करने के लिए शक्ति पुरुष की तरफ बढ़ने की कोशिश करना चाहती है। देखा जाए तो शक्ति जाती कहीं नहीं है, क्योंकि पुरुष, प्रकृति और शक्ति तीनों व्यष्टि मूल प्रकृति में साथ-साथ ही रहते हैं। ऐसे ही जैसे अव्यक्त, व्यक्त और उनको बनाने वाली शक्ति मस्तिष्क में ही रहते हैं, पर अव्यक्त जगत मूलाधार से ऊपर चढ़ता हुआ महसूस होता है, क्योंकि पुरुष या मस्तिष्क की शक्ति को प्रेरित करने वाला विशेष सेकसुअल बल मूलाधार से ऊपर चढ़ता है। उसके लिए सम्भोग के माध्यम से एक आदमी और एक औरत का आपसी मिलन जरूरी होता है। संयोगवश उस मृत जीव की जीवात्मा किसी सम्भोगरत आदमी और औरत के जोड़े के मिश्रित मूलाधार में स्थित अव्यक्त जगत से मेल खाती है। दोनों का मिश्रित अव्यक्त जगत संभोग-शक्ति के माध्यम से ऊपर उठते हुए दोनों के हरेक चक्रोँ में दबी हुई भावनाओं व छिपे हुए विचारों को अपने साथ ले जाकर सहस्रार में आनंद के साथ व्यक्त हो जाता है, और एकदूसरे के सहस्रार चक्रोँ में आपस में मिश्रित ही बना रहता है। आदमी के सहस्रार से वह मिश्रित जगत आगे के चैनल से शक्ति के साथ नीचे उतरकर वीर्य में रूपांतरित होकर औरत के गर्भ में प्रविष्ट होकर एक बालक का निर्माण करता है। इसीलिए बालक में माता और पिता दोनों के गुण मिश्रित होते हैं। इसीलिए मांबाप के व्यवहार का बच्चों पर गहरा असर पड़ता है, क्योंकि तीनों की एनर्जी आपस में जुड़ी होती है। इसीलिए व्यवहार में देखा जाता है कि सम्भोग सुख के साथ प्रेम से रमण करने के आदी दम्पत्ति की संतानेँ बहुत तरक्की करती हैं, भौतिक रूप से भी और आध्यात्मिक रूप से भी। इसके विपरीत आपस में अजनबी जैसे रहने वाले दंपत्तियों के बच्चे अक्सर कुंठित से रहते हैं। यह अलग बात है कि कई अच्छी किस्मत वाले लोग इधरउधर से गुजारा कर लेते हैं। हाहा। अनुभवी तंत्रयोगी सम्भोग की, जगत को व्यक्त करने वाली कुण्डलिनी शक्ति को अपने सहस्रार में केवल एक ही ध्यानचित्र पर फोकस करते हैं, और उसे वीर्य रूपी बीज में नीचे न उतारकर लम्बे समय तक वहीं रोककर रखते हैं, जिससे वह मानसिक चित्र जागृत हो जाता है। इसे ही तांत्रिक कुण्डलिनी जागरण कहते हैं।

पूरा ब्रह्माण्ड ही एक एलियन

इन उपरोक्त तथ्यों का मतलब है कि ब्रह्माण्ड भी एक विशालकाय जीव या मनुष्य की तरह व्यवहार करता है। इससे वैदिक उक्ति, “यत्पिंडे तत् ब्रह्मान्डे” यहाँ भी वैज्ञानिक रूप से सिद्ध हो जाती है। इसका मतलब है कि जो कुछ भी छोटी चीज जैसे शरीर में है, वही ब्रह्माण्ड में भी है, अन्य कुछ नहीं। पिंड यहाँ शरीर को ही कहा है, अन्य किसी चीज को नहीं, क्योंकि किसीकी मृत्यु के बाद जब उसे श्राद्ध आदि के द्वारा खाने-पीने की चीजें दी जाती हैं, उसे पिंडदान कहते हैं। क्योंकि अगर हरेक छोटी चीज के बारे में कहना होता तो अंडे, खंडे आदि दूसरे शब्द ज्यादा बेहतर होते, पिंडे नहीं। दूसरा, पंजाबी भाषा में वह स्थान जहाँ लोग सामूहिक रूप से एकसाथ रहते हैं, जिसे गाँव कहते हैं, वह पिंड कहलाता है। मूल प्रकृति ब्रह्माण्ड का मूलाधार है, और चेतन पुरुष या परमात्मा इसका सहस्रार या उसमें कुण्डलिनी जागरण है। चित्रविचित्र संसारों की रचना के रूप में ही इसका जीवनयापन या कर्मयोग या इसका कुण्डलिनी जागरण की तरफ बढ़ना है। ऐसा यह अद्वैत के साथ करता है। शास्त्रों में ऐसा ही लिखा है कि ब्रह्मा खुद कहते हैं कि वे अद्वैतभाव के साथ सृष्टि की रचना करते हैं, जिससे वे जन्ममरण के बंधन में नहीं पड़ते। इसलिए यही इसका कुण्डलिनी योग है। अद्वैत और कुण्डलिनी योग आपस में जुड़े हुए हैं। सृष्टि का संपूर्ण निर्माण ही इसका कुण्डलिनी जागरण है। जैसे कुण्डलिनी जागरण के बाद आदमी को लगता है कि उसने सबकुछ कर लिया, इसी तरह सबकुछ कर लेने के बाद ब्रह्मा को कुण्डलिनी जागरण होता है, यह इसका मतलब है। इसके बाद सृष्टि निर्माण से उपरत होकर इसका संन्यास लेना ही सृष्टि विस्तार का धीमा पड़ना और रुक जाना है। देहांत के बाद इसका परम तत्त्व में मिल जाना ही प्रलय है। शास्त्रों में इसीलिए देव ब्रह्मा की कल्पना की गई है, सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड ही जिसका शरीर है। आजकल विज्ञान भी इस अवधारणा पर विश्वास करने लग गया है। इसीलिए एक वैज्ञानिक थ्योरी यह भी सामने आ रही है कि हो सकता है कि पूरा ब्रह्माण्ड ही एक विशालकाय एलियन हो।

जिसे हम अंधेरनुमा शून्य या अव्यक्त कहते हैं, वह भी खाली नहीं बल्कि सीमित उतार-चढ़ाव वाली जगतरूपी तरंगों से भरा होता है

अगर चैतन्यमय आत्माकाश या परमात्मा में कोई बहुत ज्यादा स्थित हो जाए या लगातार आत्माकाश में ही स्थित रहने लगे तो वह कुछ काम भी नहीं कर सकता। वह पराश्रित व नादान सा रहता है संन्यासी की तरह। इसका मतलब है कि उस समय उसमें व्यक्त दुनिया अव्यक्त आकाश के रूप में नहीं रहती। मतलब वह शुद्ध आत्माकाश बन जाता है। मतलब उसके आत्माकाश में क्वांटम फील्ड नाम की बिल्कुल भी वाइब्रेशनस नहीं रहतीं। वह पूर्ण चिदाकाश बन जाता है। इसी वजह से स्थूल ब्रह्माण्ड में भी उस जगह आकाश खाली होता है, जहाँ वाइब्रेशन नहीं होतीं। अन्य स्थान ग्रहों-सितारों से भरे होते हैं। वर्चुअल पार्टिकल तो बनते रहते हैं थोड़ी-बहुत वाइब्रेशन से। मतलब थोड़ा-बहुत काम-वाम तो वे संन्यासी भी कर लेते हैं, पर कोई निर्णायक कार्य-अभियान या व्यापार-धंधा नहीं चला पाते। हाँ, एक बीच वाला हरफनमौला तरीका भी है कि तांत्रिक योग से आत्माकाश में लगातार कंपन बनाते भी रहो और मिटाते भी रहो, और सबकुछ करते हुए भी उससे अछूते बने रहो।

Kundalini yoga makes the universe a giant alien or Devata

electromagnetic wave in vacuum

Friends, I was telling in the previous post that the mental world is created by electromagnetic field or waves. Then why not assume that the physical world outside is also made of these waves. The only difference is that in the mental world, these waves are unstable, and keep on changing according to the information being brought from outside through the senses like eyes, but in the gross world outside, after getting stability from some force, they behave like permanent particles. Through this the world keeps moving forward. In the brain, the electromagnetic wave is created by the energy coming from the Muladhara, but from where this energy comes in the empty space outside, it is a matter of search.

Origin of field from particle and particle from field

Quantum field theory is the most modern and accepted one today. According to this, there exists an omnipresent field of every particle and force. Space is not empty but filled with these fields. Field means potential. Field means ability to create particle and the effect of particle. I think it as small accompanied waves with a main wave when a pebble is dropped in to a water body. The main big wave is like a particle and small waves are as its field. The area up to which these subtle waves are felt is the field area of that main wave as particle. This field is a lightest level wave. When a point in the electron field receives energy, the amplitude of this subtle wave increases, and a particle is generated there. That is electron. These fundamental fields are smaller than the smallest particle that’s quark. Similarly, a field is also formed around the electron. It also connects with the proton through the electromagnetic field itself. In the field of this attraction also a special particle is probably produced that’s photon, which establishes this attraction. In this way, by creating particles from fields and fields from particles, they both continue to move forward along with the physical world outside.

The rise of the manifest from the unmanifest and the unmanifest from the manifest

Mind is also like a quantum field. In this, every type of resolution remains in the form of unmanifest i.e. invisible wave. It is called Avyakt according to Samkhya philosophy. When it gets energy from Mooladhara, then the subtle waves of this mental quantum field start getting bigger, which creates a bizarre mental world as counterparts of gross particles in outside world. From that more fields are born, from which more thoughts are born. In this way this cycle goes on and the thoughts of the man do not come to stop. Being the unmanifest born from the manifest and manifest from the unmanifest, the inner mental world continues to move forward like the physical world outside.

Similarities Between Quantum Physics and Spiritual Psychology

Mool prakriti or Avyakt is the basic wave of lightest level. Avyakt is made of unmanifest only, avyakt means subtle level of vyakt or manifest. However, in its origin also, there is a waveless indescribable Purusha or soul. In the last paragraph, I will explain why a fully actionless man is unable to do any work. Why is he considered like a silent spectator, who helps nature by his mere presence, but does nothing himself. Nature or prakriti does all the work. Purush means pure soul is like a magnet by pulling towards which all the work gets done spontaneously by nature. That’s why it is said that the one who is dependent on God, his life ends well by itself. But God must be real and well understood, which is possible only through Kundalini Yoga. Just as our every action and thought is pre-existing in a subtle form in the form of unmanifested nature called the subtle body, similarly every quantum particle is pre-existing in the form of its own quantum field. Shakti coming from Vyashti Muladhar means individual Muladhara creates disturbance in the Vyashti Avyakt means individual Avyakt or Vyashti quantum field, due to which thoughts in the form of different waves i.e. Vyashti Mool or fundamental particles emerge. In the same way, due to the shakti or energy generated from the cosmic Muladhara that is, the universe-pervading Muladhara, disturbance is created in the cosmic quantum field, due to which the fundamental particles are born. But where does this energy come from in the universe? Philosophically and psychologically, the basic nature or mool prakriti can be considered as the universal basis or cosmic Muladhara, because the word mool means origin is attached to both, and both are the first stones of the basic foundation or adhar of all worldly creations whether inside or outside, but how will it be proved physically scientifically? Like the Muladhara of the individual, there should be some sex act and sex power generated from it in the cosmic Muladhara. So why not consider it as sex between cosmic Purusha and cosmic prakriti, which is indicated in the scriptures.

The process of childbirth is the minor physical path of Tantric Kundalini Yoga

Actually, the unmanifest subtle body of the living beings becomes even more subtle after death, because at that time it is not getting any energy from the gross body at all. It becomes like a thick dark soul-space whose darkness varies according to the unmanifest world hidden in it. That unmanifest world also varies according to the manifest world. That is why the subtle bodies of all living beings differ according to their living time gross nature. In this way, when the unmanifest soul-space of many living beings joins shoulder to shoulder with the collective unmanifest i.e. basic nature or mool prakriti to form the united unmanifest spirit i.e. darkness of the soul-sky beyond a certain limit, then from there a wave of energy jumps towards the Purusha. Due to this an increase in the amplitude of waves in the basic quantum field occurs resulting in to the rise of the fundamental particles and the beginning of the expansion of the world. It is like when a man starts sinking into the darkness of sorrow or depression beyond his tolerance limit, then with the help of sex, his unmanifest mental world drowned in the darkness of Muladhara rises up with shakti to the Sahasrar, so that the mental world of his thoughts can start re-illuminating. It is also said in the scriptures that when the actions of the living beings become oriented to bear fruit, that is, when the living beings seem to be bored with the darkness, then they appear physically collectively in the world being remade after the annihilation. It gives inspiration to start the world again. It is a universal ie collective creation and holocaust. Individual creation and destruction go on with the birth and death of every living being. After spontaneous or ordinary natural death, the soul rests in the unmanifest for some time playing the flute of peace, then soon gets bored of it. That’s why Shakti hidden or unmanifest in it wants to try to move towards Purusha to express that unmanifested soul. In fact, shakti does not move anywhere, because Purush, Prakriti and Shakti all three live together in Purusha or brain. The unmanifest, the manifest and the shakti that creates them remain in the brain or Purusha or soul, but the unmanifested world is felt to rise up from the Muladhara or individual mool prakriti, because the special sexual force that drives the shakti of the brain rises up from the Muladhara or individual mool prakriti. For that a mutual meeting of a man and a woman is necessary through sex. Coincidentally, the nature of that dead soul matches with the unmanifested world situated in the mixed Mooladhara of a specific sexualized man and woman couple. The mixed unmanifest world in Muladharas of both rising up through the power of sex, taking with it the suppressed feelings and hidden thoughts throughout all the chakras, manifests with joy in Sahasrara, and mixed with each other in both Sahasrara Chakras. From the man’s Sahasrar, that mixed world descends with the Shakti through the front channel, transforms into semen and enters the woman’s womb to create a child. That is why the qualities of both mother and father are mixed in the child. That is why the behavior of the parents has a deep impact on the children, because the energy of all three is interlinked. That’s why it is seen in practice that the children of a couple who enjoy sexual pleasure with love progress a lot, materially as well as spiritually. On the contrary, the children of couples living like strangers often remain frustrated. It is a different matter that many people with good fortune make a living from here and there. Haha. Experienced tantra yogis focus the Kundalini shakti of sexual intercourse on only one meditation picture in their Sahasrara instead of expressing the whole world with it, and keep it there for a long time without lowering it down into the seed in the form of semen, so that it becomes mental birth of a child that’s the kundalini image wakes up. This is called Tantric Kundalini awakening.

the whole universe is an alien

These above facts mean that the universe also behaves like a giant organism or human being. Due to this the Vedic saying, “Yatpinde tat brahmande” is proved scientifically here also. It means that whatever is there in a small thing like body, it is also there in the universe, nothing else. Here only the body is called Pind, not anything else, because after someone’s death, when his soul is given food and drink through Shradh etc., it is called Pinda-daan. Because if every little thing had to be including in the word Pinda then other words like Ande, khande etc. would have been better, not Pinda. Secondly, in Punjabi language the place where people live collectively in a close group that’s the village is called Pinda. Moola Prakriti is the foundation or Muladhara of the universe, and Chetan Purusha or Paramatma is its Sahasrara or Kundalini awakening in it. In the form of the creation of picturesque worlds, its living or Karmayoga has to move towards Kundalini awakening. It does this with Advaita. It is written in the scriptures that Brahma himself says that he creates the world with non-duality, so that he does not fall in the bondage of birth and death. That’s why this is his Kundalini Yoga. Advaita and Kundalini Yoga are interrelated. The creation of the whole universe in totality is its Kundalini awakening. As a man feels after Kundalini Jagran that he has done everything, similarly Brahma gets Kundalini Jagran after doing everything, this is what it means. After this, taking retirement from it is the slowing down and stopping of the expansion of the universe. After death, its mixing in the ultimate element or supreme soul is the holocaust. That’s why in the scriptures, God Brahma has been imagined, whose body is the whole universe. Nowadays science has also started believing in this concept. That is why a scientific theory is also emerging that the whole universe may be a giant alien.

What we call dark void or unmanifest is also not empty but is full of cosmic waves with limited ups and downs

If someone becomes too much situated in the conscious soul-space or the Supreme Soul or if he remains constantly in the soul-space, then he cannot do any work. He remains dependent and innocent like a monk. This means that at that time the manifested world in him is no longer in the form of unmanifested sky. Means they become pure soul. It means that there are no vibrations called quantum field in their soul space at all. It becomes complete Chidakash or waveless conscious sky. For this reason, even in the gross universe too, the sky is empty at that place, where there are no vibrations. Other places are filled with planets and stars. Virtual particles keep on being created due to a little vibration. Means, even those sannyasins do a little bit of work, but they are not able to run any decisive work-campaign or world-business. Yes, there is an intermediate all-round way that through Tantric Yoga, continuously keep creating and destroying vibrations in the soul space to get the benefits of both.

कुण्डलिनी योग भी एक लहर ही है

दोस्तों, मैं पिछली पोस्ट में एक विचार-प्रयोग के माध्यम से बता रहा था कि सृष्टि के अंत में कैसे गुरुत्वाकर्षण सभी चीजों को निगल जाएगा। कई वैज्ञानिक भी ऐसा ही अंदाजा जता रहे हैं, जिसे बिग क्रन्च नाम दिया गया है।

साथ में मूलकण के तरंग स्वभाव के बारे में भी बात चली थी। हवा, पानी आदि भौतिक तरंगों के मामले में देखने में आता है कि क्रेस्ट और ट्रफ एकसाथ नहीं बन सकते। जब क्रेस्ट बनाने के लिए जल सतह से ऊपर की तरफ उठेगा, तो उसी समय उसी जगह पर वह ट्रफ के रूप में सतह के नीचे नहीं डूब सकता। पर आकाश की तरंग के मामले में ऐसा हो सकता है, क्योंकि यह आभासी है, और इसके लिए किसी भौतिक वस्तु या माध्यम की जरूरत नहीं है। इसीलिए एकसाथ त्रिआयामी क्रेस्ट और ट्रफ बनने से मूलतरंग मूलकण की तरह भी दिखती है, और उसके जैसा व्यवहार भी करती है, जैसा कि पिछली पोस्ट में चित्रोक्त किया गया है। मूलकण रूपी तरंग ऐसे ही क्रेस्ट और ट्रफ बनाते हुए आगे से आगे बढ़ती रहती है, क्योंकि प्रकृति और पुरुष हर जगह विद्यमान हैं, और प्रकृति से पुरुष की तरफ दौड़ हर जगह चली रहती है। इसीलिए मूलकण कई जगह एकसाथ दिखाई देते हैं। पिछले क्रेस्ट से अगला ट्रफ बनता है, और पिछले ट्रफ से अगला क्रेस्ट, क्योंकि प्रकृति को सीमेट्री प्यारी है। इस तरह अनगिनत तरंगों के रूप में अंतरिक्ष में अनगिनत सूक्ष्म लूप बन जाते हैं। मतलब पूरा आकाश लूपों में बंटा हुआ सा लगता है। क्वांटम लूप थ्योरी भी यही कहती है कि अंतरिक्ष सपाट न होकर सूक्ष्मतम टुकड़ों में बंटा है। उससे छोटे टुकड़े नहीं हो सकते। पर अगर सिद्धांत से देखा जाए तो हरेक चीज टूटते हुए सबसे छोटी जरूर बनेगी। वह विशेषता से रहित शून्य आसमान ही है। जिसे अंतरिक्ष का क्वांटम लूप कहा गया है, वह दरअसल शून्य अंतरिक्ष का अपना स्वाभाविक रूप नहीं है, बल्कि अंतरिक्ष में आभासी मूलकण है। इससे इन सभी बातों का उत्तर मिल जाता है कि तरंग कण के जैसे क्यों व्यवहार करती है, स्टैंडिंग वेव और प्रॉपेगेटिंग वेव कैसे बनती है आदि। कोई भी लहर वास्तव में ध्यानरूप ही है, जैसा पिछली पोस्ट में बताया गया है। इड़ा, पिंगला और सुषुम्ना नाड़ियाँ लहर के रूप में ही चलती हैं। लहर में कोई चीज आगे नहीं बढ़ती, लहर बनाने वाली चीज केवल अपने स्थान पर आगे-पीछे या ऊपर-नीचे कांप कर अपनी पूर्ववत जगह पर आ जाती है। केवल लहर आगे बढ़ती है। वैसे भी शून्य जैसे अंतरिक्ष में कोई चीज है ही नहीं प्रकट होने को। इसलिए एकमात्र लहर का ही विकल्प बचता है। वहाँ तो अपनी जगह पर कांपने के लिए भी कोई चीज नहीं है। इसलिए झूठमूठ में ही कंपन दिखाया जाता है। यह नहीं पता कि कैसे। प्रकाश जिसको ईश्वररूप या दैवरूप माना जाता है, लहर के रूप में ही चलता है। इसी तरह अग्नि भी।

नाड़ी की गति भी लहर के रूप में ही होती है

नाड़ी में संवेदना लहर के रूप में आगे बढ़ती है। इसमें सोडियम-पोटाशियम पम्प काम करता है। सोडियम और पोटाशियम आयन अपनी ही जगह पर नाड़ी की दीवार से अंदर-बाहर आते-जाते रहते हैं, और संवेदना की लहर आगे बढ़ती रहती है।

लहर सूचना को आगे ले जाती है

तालाब में कहीं पर कंकड़ मारने से उसके पानी पर लहर पैदा होकर चारों तरफ फैल जाती है। उससे जलीय जंतु संभावित खतरे से सतर्क हो जाते हैं। जमीन पर चलने से उस पर एक लहर पैदा हो जाती है, जिसे सांप आदि जंतु पकड़कर सतर्क हो जाते हैं या भाग जाते हैं। वायु से आवाज के रूप में सूचना संप्रेषण के बारे में तो सभी जानते हैं। मूलाधार से संवेदना की लहर सहस्रार तक जाती है, जिससे सहस्रार सतर्क अर्थात क्रियाशील हो जाता है। सतर्क कालरूपी शत्रु से होता है, जो हर समय मौत के रूप में आदमी के सामने मुंह बाँए खड़ा रहता है। इसलिए सहस्रार अद्वैत के साथ सांसारिक अनुभूतियों के रूप में जागृति या आध्यात्मिक जीवनयापन के लिए प्रयास करता है। वैसे दुनियादारी में सफलता भी सहस्रार से ही मिलती है, क्योंकि वही अनुभूति का केंद्र है।

जीवात्मा विद्युतचुंबकीय तरंगों की सहायता से अपने अंदर आभासी संसार को महसूस करता है

नाड़ी में चार्जड पार्टिकलस की गति से आसपास के आकाश में विद्युत्चुंबकीय तरंग बनती है। उस तरंग से सहस्रार के आत्म-आकाश में आभासी तरंगें बनती महसूस होती हैं। इसीलिए कहते हैं कि आत्मा का स्थान सहस्रार है। यह आश्चर्य की बात है कि अनगिनत स्थानों पर विद्युत्चुंबकीय तरंगों से आकाश में अनगिनत आभासी कलाकृतियाँ बनती रहती हैं, पर वे केवल जीवों के मस्तिष्क के सहस्रार में ही आत्मा को महसूस होती हैं। अगर उसकी बनावट व उसकी कार्यप्रणाली की सही जानकारी मिल जाए तो हो सकता है कि कृत्रिम जीवकृत्रिम मस्तिष्क का निर्माण भी विज्ञान कर पाए।

Kundalini Yoga is also a wave

Friends, in the previous post I was telling through a thought-experiment how gravity will swallow all things at the end of creation. Some Scientists are also making a similar guess, which has been named Big Crunch.

Along with this, there was also talk about the wave nature of the fundamental particles. In the case of physical waves like wind, water etc. it is seen that crest and trough cannot form simultaneously. When water rises above the surface to form a crest, it cannot sink below the surface as a trough at the same location at the same time. But this can happen in the case of a sky wave, because it is virtual, and does not require any physical object or medium. That’s why the three dimensional fundamental wave looks and behaves like a fundamental particle, as illustrated in the previous post. The wave in the form of particles keeps moving forward making such three dimensional crest and trough, because prakriti and Purusha are present everywhere, and the race from prakriti to Purusha goes on everywhere. That is why fundamental particles appear together in many places. The next trough is formed from the previous crest, and the next crest from the previous trough, because nature loves symmetry. In this way, in the form of countless waves, countless subtle loops are formed in space. Means the whole sky seems to be divided into loops. Quantum loop theory also says that space is not flat but divided into the smallest pieces. There cannot be smaller pieces than that. But if it is seen from the principle, then everything will definitely become the smallest after breaking. It is nothing but the empty sky without attributes. What has been called the quantum loop of space is not actually the natural form of void space, but a virtual fundamental particle in space. This gives the answer to all these things that why wave behaves like a particle, how standing wave and propagating wave are formed etc. Any wave is actually a form of meditation. Ida, Pingala and Sushumna nadis move in wave form only. Actually nothing moves in a wave, the thing making the wave just comes back to its original place by vibrating back and forth or up and down. Only the wave moves forward. Anyway there is nothing in the space like zero to appear. So the only option left is wave. Even there is nothing to tremble at its place to make a space wave. That’s why vibrations are shown only in falsehood. Don’t know how. Light, which is considered to be God or devata, moves only in the form of waves. So is Agni.

The movement of the nadi is also in the form of a wave

Sensation in the nadi moves forward in the form of waves. The sodium-potassium pump works in this. Sodium and potassium ions keep coming in and out of the nerve fibre wall at their own place, and the wave of sensation continues to move forward.

wave carries information

If a pebble is thrown somewhere in the pond, a wave is created on its water and spreads everywhere. Due to this, aquatic animals become alert from the possible danger. By walking on the ground, a wave is created on it, by which animals like snakes become alert or run away. Everyone knows about the transmission of information in the form of sound waves through the air. From Mooladhara, the wave of sensation goes to Sahasrara, due to which Sahasrara becomes alert i.e. active. The alert is from the enemy as passing time, which always stands in front of the man in the form of inevitable death early or late. Hence Sahasrara strives for awakening or spiritual lifestyle in the form of worldly experiences with Advaita. Actually worldly goals too are achieved with the healthy Sahasrar because it’s the site of feeling.

The soul feels the virtual world inside itself with the help of electromagnetic waves

The movement of charged particles in the nadi creates an electromagnetic wave in the surrounding sky. That wave is felt virtually dividing the self-sky of Sahasrar in to varying patterns according to the em waves being made through varying physical experiences brought about by senses. That is why it is said that the place of the soul is Sahasrar. It is surprising that innumerable virtual artifacts are created in the sky by electromagnetic waves at innumerable places, but they are felt by the soul only in the Sahasrara of the brain of the living being. If we get the correct information about its structure and its functioning, then it is possible that science will also be able to create an artificial organism and artificial brain.