अटल जी को श्रद्धा सुमन

अटल जी की याद में कुछ पंक्तियाँ- मैं अटल जी के सम्मान में कुछ पंक्तियाँ लिखना चाहूंगा- उठ जाग होनहार, प्रकाश हो या अंधकार। बाँध तरकस पीठ पर, भर तीर में फुंकार। झुका दे शीश दोनों का, कर ना पाए फिर कभी भी वार। उठ जाग होनहार, प्रकाश हो या अंधकार