(Please click here to read this Website in English)

हमारे अपने शरीर के अन्दर प्रेम-प्रकरण

हर पल हमारे शरीर के भीतर अनगिनत प्रेम-सम्बंधित मामले और विवाह उदीयमान होते रहते हैं। इसी तरह, स्थूल दुनिया की तरह ही, प्रिय व सुकोमल बच्चों का भी हमारे देहदेश के अंदर अच्छी तरह से पालन किया जाता रहता है। हमारे शरीर के अंदर होने वाले विवाह (क्लासिक स्वेमवार प्राथा-बाहरी वेबसाइट / विकिपीडिया) के लिए कई प्रतियोगिताओं का आयोजन होता रहता है, जहां पर विभिन्न प्रतियोगी सफलता प्राप्त करने के लिए संघर्ष कर रहे होते हैं। प्रतिस्पर्धियों को चट्टानी इलाकों और पहाड़ों के साथ-२, एक बहुत लंबे और कष्टप्रद मार्ग/ट्रैक पर दौड़ना पड़ता है। इस दौड़ के दौरान, भूख और प्यास के कारण कई लोग मर जाते हैं। कई स्पर्धी जंगली जानवरों के द्वारा मार दिए जाते हैं। आतंकवादियों के संदेह से सुरक्षा बलों के द्वारा कई लोगों की हत्या कर दी गई होती है। उनमें से कई, पहाड़ की किसी न किसी जोखिम-भरी सतह से गिर जाते हैं, और कई प्रकार की जहरीली जड़ी-बूटियों और जहरीले फलों को खाने के बाद कई लोग मर जाते हैं। उनमें से केवल एक कुमार ही उस सुंदर राजकुमारी से शादी करने में सफल हो पाता है।

हमारे अपने शरीर के अंदर हड़ताल, गुस्सा और युद्ध

अनगिनत संख्या में युद्ध, इस शरीर-देश के अंदर और बाहर चल रहे हैं, हर पल। घृणा से भरे कई दुश्मन, लंबे समय तक सीमा दीवारों के बाहर जमे रहते हैं, और शरीर-मंडल/देश पर आक्रमण करने के सही अवसर की प्रतीक्षा कर रहे होते हैं। जब किसी भी कारण से इस जीवित मंडल की सीमा-बाड़ क्षतिग्रस्त हो जाती है, तो वे दुश्मन सीमा पार कर जाते हैं। वहां पर वे रक्षा विभाग की पहली पंक्ति के द्वारा हतोत्साहित कर दिए जाते हैं, जब तक कि रक्षा-विभाग की दूसरी पंक्ति के सैनिक उन दुश्मनों के खिलाफ कड़ी नफरत और क्रोध दिखाते हुए, वहां पहुँच नहीं जाते। फिर महान युद्ध शुरू होता है। अधिकांश मामलों में, शरीर-देश जीत जाता है। लेकिन कुछ असाधारण मामलों में, उन गंदे दुश्मनों ने युद्ध जीत लिया, और शरीर-देश के आंशिक या देहदेश के पूरे हिस्से को नियंत्रण में ले लिया। फिर उस देहदेश ने उन आक्रमणकारी व कचरा दुश्मनों को, विदेशी सहायता से नष्ट कर दिया। कई बार, वे शत्रु आक्रमित राष्ट्र को नष्ट कर देते हैं, ताकि वे अपनी स्वतंत्र और गंदी इच्छा के वश में होकर, पूरे राष्ट्र को नष्ट करके, एकसाथ ही उसका उपभोग कर सकें।

हमारे अपने स्वयं के शरीर के भीतर सार्वजनिक प्रताड़नाएँ और क्रांतियाँ

कई बार, शरीर-देश के अंदर देशनिवासियों के कुछ समूह इतने परेशान हो जाते हैं कि वे अपने देश के खिलाफ विद्रोह कर देते हैं। वे कई साधारण नागरिकों को भी राष्ट्र-विरोधी लोगों में बदल देते हैं। कभी-कभी, वे बाहरी दुश्मनों के साथ सांठगांठ करके, उनके साथ एक हो जाते हैं। बदले में, देहदेश-सरकार उन्हें प्यार से व अन्य  साधनों से शांत करने की कोशिश करती है, लेकिन जब वे क्रांति को नहीं छोड़ते हैं, तो सुरक्षा बलों के पास सशस्त्र संघर्ष में उन्हें मारने के अलावा कोई विकल्प नहीं होता है। शरीर-देश जीतता है, कभी-कभी क्रांतिकारी शरीर का नियंत्रण हासिल कर लेते हैं, और अपने बदसूरत व क्षणिक लाभ के लिए उसे नष्ट कर देते हैं।

हमारे अपने शरीर के अंदर ईर्ष्या

जब कुछ गरीब और पीड़ित नागरिक, जो हमारे उस देहदेश के भीतर हैं, जिसके हम स्वयं राजा हैं, वे अमीर नागरिकों के प्रति ईर्ष्यापूर्ण हो जाते हैं, तो वे एक सशस्त्र संघर्ष शुरू कर देते हैं, और उस देश के सभी संसाधनों का उपभोग मनमानी व बर्बादी के साथ करने लग जाते हैं; जबकि वे समाज के लिए बिना किसी उपयोगी काम के निष्क्रिय अतः हानिपूर्ण बने रहते हैं।

हमारी अपनी खुद की निकाय के अंदर इच्छाएं और चुनाव

हमारे देहदेश (शरीर-देश) के देहपुरुष (हमारे शरीर-देश के नागरिक/शरीर-कोशिकाएं) भी हमारे जैसे खाद्य पदार्थ, पेय पदार्थ और अन्य पर्यावरणीय आराम चाहते हैं। ये इच्छाएं अच्छी तरह से पूरी होती हैं। विकल्प/चुनाव के भाव भी उनके द्वारा दिखाए जाते हैं। एक विशेष जाति, नस्ल या धर्म के देहशत्रु (देहदेश के दुश्मन), हमला करने के लिए विशेष देहपुरुषों को ही पसंद करते हैं, दूसरे उनसे भी कमजोर देहपुरुषों को छोड़ते हुए। इसी तरह, एक विशेष देहपुरुष केवल एक विशेष देहपुरुष-श्रेणी के साथ ही शादी का सम्बन्ध बनाता है, तथा अन्य समाजों के खूबसूरत लोगों को भी इनकार कर देता है।

हमारे अपने स्वयं के शरीर के अंदर लालच

देहराक्षस बहुत लालची हैं। वे एक भी दूसरे विचार के बिना, सभी संसाधनों का एकसाथ व मनमर्जी से उपभोग करने के लिए, लालच के वशीभूत होकर, आक्रमित किए गए देहदेश को नष्ट कर देते हैं।

हमारे अपने शरीर के अंदर भ्रम

भ्रम के कारण, राजकुमार देहपुरुष देहदेश-स्वयंवर (देहदेश में विवाह करने के लिए एक लड़की/रानी द्वारा जीवन साथी के स्वतंत्र-चयन की प्रक्रिया) में देहदेशराजकुमारी के लिए मर जाते हैं।

हमारे अपने स्वयं के शरीर के अंदर मद

कभी-कभी, देहसेनिक मद व अहंकार के पागलपन से भर जाते हैं, और अपने स्वयं के देहेदेश के नैष्ठिक देहपुरुषों को ही नुकसान पहुंचाने लग जाते हैं, और उन्हें मारने लग जाते हैं।

हमारे अपने शरीर के अंदर मित्रता

देहपुरुष अपने स्वयं के लाभ के लिए, अपने दोस्तों को अच्छी तरह से खिलाते-पिलाते हैं, और उनकी देखभाल करते हैं। बदले में, उनके दोस्त उनके लिए एक चमत्कारी तरीके से काम करते हैं, और उनके लिए आवश्यक वस्तुओं का निर्माण करते हैं।

हमारे अपने शरीर के अंदर परिवार नियोजन

इसके कारण, देहेदेश के अंदर जनसंख्या घनत्व को सबसे अधिक लाभदायक स्तर पर स्थिर व एकसमान रखा जाता है।

हमारे अपने स्वयं के शरीर में सफाई

देहेदेश के अंदर एक परिपूर्ण स्वच्छता रखी गई है।

सामाजिक कार्यशाला हमारे अपने स्वयं के शरीर में

हमारे अपने शरीर के अंदर एक महान सामाजिक कानून और व्यवस्था मौजूद है। अधिकारियों के कई चरण हैं, अर्थात अधिकारियों के ऊपर अधिकारियों की लम्बी सूचि विद्यमान होती है। वे सभी परिस्थिति के अनुसार अपने उच्च अधिकारियों के आदेशों का पालन करते रहते हैं।

हमारे अपने शरीर के अंदर श्रम-विभाजन

देहपुरुषों के कुछ समूह किसान हैं, कुछ ड्राइवर हैं, कुछ इंजीनियर आदि हैं। ऐसा शरीर-समाज को शीर्ष दक्षता के साथ चलाने के लिए होता है।

हमारे अपने स्वयं के शरीर के अंदर समूहीकरण

देहपुरुष हमेशा अलगाव में नहीं, समूहों में काम करते हैं। समूह के कारण, वे प्रभावी ढंग से सहयोग करते हैं, जिसके कारण उनके काम की गुणवत्ता और ताकत नाटकीय रूप से सुधर जाती है।

हमारे अपने स्वयं के शरीर में विशेषज्ञता

हमारे अपने शरीर के अंदर विशेषज्ञता और अति-विशेषज्ञता (सुपर-स्पेशलाइजेशन) का काफी प्रभावी ढंग से व एक विकसित रुझान है। जो देहपुरुष उपचार कार्य कर रहे हैं, वे स्वास्थ्य के क्षेत्र में विशिष्ट हैं। इसी तरह, ड्राइवर ड्राइविंग आदि में विशिष्ट होते हैं। सभी देहपुरुष सभी कलाओं को जानते हैं, और एक साथ काम करते हैं, लेकिन केवल उस काम में ही विशिष्ट होते हैं, जिसे वे नियमित रूप से करते हैं।

राजा, मंत्री और उच्च अधिकारी हमारे अपने स्वयं के शरीर के अंदर

वे सूक्ष्म देश में भी उसी तरह मौजूद हैं, जैसे वे स्थूल-देश में मौजूद हैं।

हमारे अपने स्वयं के शरीर के अंदर सभी अन्य लोगों का व प्रक्रियाओं का अस्तित्व

खेल, प्रशिक्षण, सम्मलेन, योजनाएं, दुःख-निवारण समितियां, चुटकुले, सार्वजनिक शिकायतें, खतरे, जन्म, विकास, परिपक्वता, मौत आदि-२; अन्य सभी जीवन-गतिविधियाँ; और भावनाएं हमारे अपने शरीर के भीतर होती रहती हैं, जैसे कि एक बड़े राष्ट्र के बड़े समाज में होती हैं। ये सब कुछ सूक्ष्म-देश/हमारे शरीर के अंदर उसी तरह से मौजूद हैं, जैसे कि ये स्थूल-देश या दुनिया या यहां तक ​​कि ब्रम्हांड/सृष्टि/अंतरिक्ष में मौजूद हैं।

मानसिक रूप से और शारीरिक रूप से लगातार बदलते होने के बावजूद, देहपुरुष हमेशा अपरिवर्तनीय-ताओ की तरह अपरिवर्तनीय हैं। शरीर-विज्ञान-दर्शन (शविद) ताओवाद की तरह है, हालांकि उससे अधिक ईश्वरवादी, यथार्थवादी और व्यावहारिक रूप में। यद्यपि शविद ईश्वर को मानवता, देहपुरुषरूप/अद्वैतरूप/द्वैताद्वैतरूप व अनायास/मानवतापूर्ण प्रकृति से अलग नहीं मानता, जो कि अन्य धर्मों/दर्शनों से कुछ हट कर है।

वास्तव में जो कुछ भी संभव/कल्पनागम्य है, वह सभी कुछ हमारे अपने देहदेश में विद्यमान है, यद्यपि इस देश के निवासी पूर्णरूप से अनासक्ति व अद्वैत से भरे हुए हैं।

अग्रपृष्ठ- एकश्लोकी शविद; कुण्डलिनीयोग, यौनयोग व आत्मज्ञान का अनुभूत विवरण

पूर्वपृष्ठ- शरीरविज्ञान दार्शनिकों की विशेष पूजा