Could Dusshara-tragedy of Amritsar be avoided-

Probably could have been avoided, or at least it could have minimally happened, if the following four fundamental principles once divulged by Premyogi vajra were kept in tune with a knot-

Not a big religion than humanity, not a big worship than work.

Not a bigger guru than a problem, not a big monastery from a householder.

Now we analyze all the phrases –

Not a big religion with humanity – It does not mean that religion should not be accepted. But it means that religion should not overpower humanity. If they were playing the religious rituals of Burning Ravana, then it does not mean that the security of themselves and others should be ignored. Humanity is hidden only in the safety and well-being of all living beings, especially humans. History is filled with inhuman atrocities in the name of religion, and it continues to be in sporadic form even today. If this phrase is settled in the heart by everyone, then it should be stopped immediately.

Do not worship more than work – This phrase does not mean that worship should not be done. It means that work should not be hindered due to worship, but help should be given only in the work. Then gradually the work begins to become a pooja / worship. The work of the people who visited Dussehra was that they would allow the ceremony to be done in a grand and secure manner, but in the worship of Ravana-combustion, they forgot that work, and made a great mistake in security. If this phrase was seated deep in their minds, then perhaps giving them correct directions, maybe giving them correct directions.

Not a big master than the problem – It does not mean that the master should not be respected. Guruseva / serving master is the biggest identity of humanity. This phrase means that even blind devotion should not be done towards a guru too. There should be a deep look at the problems because they also keep guiding. In fact, the gurus also learn direction from the problems. What sometimes happens is that the master ignorant of the problem is giving wrong directions. Even if the organizers of the ceremony asked to come to the maximum number of people, even if there was less space at the venue, then people should not have come, or should have gone back after seeing the problem of more crowds. Who ones would have been angry with this act, they would have lived. Seeing the problem of absence of the police should also have to go back. Surprisingly, people climbed to the railway tracks, yet they did not see the problem of running fast train probably coming soon. For the overall security, the future problem should also be assessed. Most of the incidents happen in the future by ignoring the problem that can be seen in the future, because the problem in front is visible to everyone. People would have guessed that they would go away after seeing the car. They did not think that one problem could also be that the speed of the train was very fast, and they could not even run away seeing it. They would have also thought that they would run away by listening to the vehicle’s voice. But their limited intellect was unable to assess the potential problem that the voice of the vehicle can not be heard even between the firecrackers and the noise of the people, as happened. They also thought that if they were standing on the track for a few seconds to avoid falling down Ravana, then what would happen to them? But they could not even assess the potential problem that at times, very rare incidents happen, and in those very few seconds, the carriage can reach there, and it had reached. Then comes, give priority to problems. To avoid the big problem, a small problem should be taken. If they were also troubled by the burning heat of Ravana, then that problem should have been taken to prevent the possible life-threatening problem by going on the track. Many times it takes a lot of time to make a decision, so the brain should be prepared for that time too. If this above phrase was always held, it would probably not be an accident. Another thing about “honee / destined” is By the way, it can be very weak if you try, if it can not be avoided. Then, like the diffuse bomb, it also becomes defused. No place is free from the problem, so always be alert while keeping the mind. Most of the scientific discoveries and inventions have been done while learning from the problems. It also means that if one doesn’t walk on the true path indicated by a true master, then problems try to make him walk on the same. It also means that when a man becomes troubled and disappointed from all around, then he prefers recluse and starts yoga meditation, which brings to him spiritual fruit immediately. The same happened to Premyogi vajra, hero of this hosting website and there said eBook. It also means that in most of the cases the defective man fires long spiritual speeches. Experiential and conduct full master only teaches through his conduct, speaking minimally only through signs. One of the many meanings of this phrase is that if anyone don’t walk in line with the humanity, then he is turned right way towards humanity by various types of problems.

Not a big monastery from a householder – This phrase means that there is no big meeting place, no religious place, bigger than a householder. If this thing was sitting in their mind, they would not leave their family and not run away to the problematic area, but perform religious rituals in their hometown / neighborhood. Even if they went away, they would have kept themselves safe by keeping their family in their mind in their strong desire to return back.

If you liked this post then please follow this blog providing your e-mail address, so that all new posts of this blog could reach to you immediately via your e-mail

क्या अमृतसर का दशहरा-हादसा टल सकता था-

शायद टल सकता था, या कम तो जरूर ही हो सकता था, यदि प्रेमयोगी वज्र द्वारा कभी उद्गीरित निम्नलिखित चार मूलभूत सिद्धांतों को गांठ बाँध कर याद रखा जाता-

मानवता से बड़ा धर्म नहीं, काम से बढ़ कर पूजा नहीं।

समस्या से बड़ा गुरु नहीं, गृहस्थ से बड़ा मठ नहीं।।

अब हम एक-२ करके सभी वाक्यांशों का विश्लेषण करते हैं-

मानवता से बड़ा धर्म नहीं- इसका अर्थ यह नहीं है कि धर्म को नहीं मानना चाहिए। अपितु इसका अर्थ है कि धर्म मानवता के ऊपर हावी नहीं हो जाना चाहिए। यदि वे रावण-दहन की धार्मिक रस्म को निभा रहे थे, तो इसका मतलब यह नहीं है कि अपनी और औरों की सुरक्षा को नजरअंदाज कर देना चाहिए था। मानवता सभी जीवधारियों की, विशेषतः मनुष्यों की सुरक्षा व हितैषिता में ही तो छिपी हुई है। इतिहास धर्म के नाम पर अमानवीय अत्याचारों से भरा पड़ा है, और आज भी छिटपुट रूप में ऐसा होता रहता है। यदि इस वाक्यांश को सभी के द्वारा ह्रदय में बसा लिया जाए, तो इस पर तुरंत रोक लग जाए।

काम से बढ़ कर पूजा नहीं- इस वाक्यांश का यह अर्थ नहीं है कि पूजा नहीं करनी चाहिए। इसका अर्थ यह है कि पूजा के कारण काम में बाधा नहीं पहुंचनी चाहिए, अपितु काम में सहायता ही मिलनी चाहिए। फिर धीरे-२ काम भी पूजा ही बनने लगता है। दशहरा देखने आए लोगों का काम था कि वे समारोह को भव्य रूप से व सुरक्षित रूप से संपन्न होने देते, परन्तु रावण-दहन रुपी पूजा के चक्कर में वे उस काम को ही भूल गए, और सुरक्षा में भारी चूक कर बैठे। यदि यह वाक्यांश उनके मन में गहरा बैठा होता, तो शायद उन्हें सही दिशा-निर्देश देता।

समस्या से बड़ा गुरु नहीं- इसका अर्थ यह नहीं है कि गुरु का सम्मान नहीं करना चाहिए। गुरुसेवा तो मानवता की सबसे बड़ी पहचान है। इस वाक्यांश का यही अर्थ है कि अंधभक्ति तो गुरु की भी नहीं करनी चाहिए। समस्याओं पर भी गहरी नजर रहनी चाहिए, क्योंकि वे भी दिशा-निर्देशित करती रहती हैं। वास्तव में गुरु भी समस्याओं से ही दिशा-निर्देशन सीखते हैं। कई बार क्या होता है कि वास्तविक समस्या से अनजान गुरु गलत दिशा-निर्देश दे रहे होते हैं। यदि समारोह-स्थल पर कम जगह होने के बावजूद समारोह के आयोजकों ने अधिक से अधिक संख्या में लोगों से आने के लिए कहा था, तो लोगों को आना नहीं चाहिए था, या अधिक भीड़ की समस्या को देखकर वापिस चले जाना चाहिए था। जिसने नाराज होना होता, वह होता रहता। पुलिस की गैरमौजूदगी की समस्या को देखकर भी वापिस चले जाना चाहिए था। हैरानी की बात है कि लोग रेल की पटड़ी पर चढ़ गए, फिर भी उन्हें तेजी से दौड़कर आने वाली समस्या नहीं दिखी। सम्पूर्ण सुरक्षा के लिए भविष्य की समस्या का आकलन भी करके रखना चाहिए। ज्यादातर हादसे भविष्य में हो सकने वाली समस्या को नजरअंदाज करके ही होते हैं, क्योंकि सामने खड़ी समस्या तो सबको दिख ही जाती है। लोगों ने यह अनुमान लगाया होगा कि वे गाड़ी को देखकर हट जाएंगे। उन्होंने यह नहीं सोचा कि एक समस्या यह भी हो सकती है कि गाड़ी की रप्तार बहुत तेज हो, और वे उसे देख कर भी भाग न सकें। उन्होंने यह भी सोचा होगा कि गाड़ी की आवाज को सुनकर वे भाग जाएंगे। परन्तु उनकी सीमित बुद्धि उस संभावित समस्या का आकलन नहीं कर पाई कि पटाखों व लोगों के शोर के बीच में गाड़ी की आवाज नहीं भी सुनाई दे सकती है, जैसा कि हुआ भी। उन्होंने यह भी सोचा होगा कि जल कर गिरते हुए रावण से बचने के लिए यदि वे कुछ सेकंडों के लिए पटरी पर खड़े होते हैं, तो उससे क्या होगा। परन्तु वे उस संभावित समस्या का भी आकलन नहीं कर पाए कि कई बार संयोगवश बहुत दुर्लभ घटनाएं भी हो जाती हैं, और उन्हीं चंद सैकंडों में भी गाड़ी वहां पहुँच सकती है, और वह पहुँची भी। फिर आता है, समस्याओं को प्राथमिकता देना। बड़ी समस्या से बचने के लिए छोटी समस्या को झेल लेना चाहिए। यदि जलते रावण की गर्मी से वे परेशान भी हो रहे थे, तो उस परेशानी को पटरी पर जाने से संभावित जीवनघाती समस्या को रोकने के लिए झेल लेना चाहिए था। कई बार निर्णय लेने के लिए बहुत कम समय मिलता है, इसलिए दिमाग को वैसे समय के लिए भी तैयार करके रखना चाहिए। यदि इस उपरोक्त वाक्यांश को हरदम धारण किया गया होता, तो शायद यह हादसा न होता। “होनी” की बात और है। वैसे अपने प्रयास से होनी को बहुत क्षीण तो किया ही जा सकता है, यदि टाला नहीं जा सकता। फिर डिफ्यूज बम्ब की तरह होनी भी डिफ्यूज हो जाती है। कोई भी स्थान समस्या से मुक्त नहीं है, इसलिए दिमाग लगाते हुए सदैव सतर्क रहना चाहिए। सभी वैज्ञानिक आविष्कार आदि समस्याओं से सीखकर ही हुए हैं। इसका एक अर्थ यह भी है कि यदि कोई सद्गुरु की बताई हुई सही राह पर नहीं चलता है, तो समस्याऐं उसे सही राह पर चलवाने का प्रयास करती हैं। इसका यह मतलब भी है कि जब व्यक्ति चारों ओर से समस्याओं व अपेक्षाओं का शिकार हो जाता है, तब वह एकांत के आश्रय से योगसाधना करता है और आध्यात्मिक उत्कर्ष को प्राप्त करता है। यही प्रेमयोगी वज्र के साथ भी हुआ, जो इस मेजबानी-वेबसाइट व वहां उल्लेखित ई-पुस्तक का नायक है। इसका एक अर्थ यह भी है कि अधिकांशतः दोषपूर्ण व्यक्ति ही खाली लम्बे-2 उपदेश देता है, असली गुरु तो अनुभवपूर्ण होता है, और अपने आचरण से ही सिखाता हुआ इशारों में ही बातें करता है। इस अनेकार्थक छंद का एक अर्थ यह भी है कि यदि कोई व्यक्ति मानवता के रास्ते पर नहीं चलता है, तब अनेक प्रकार की समस्याएं उसे सही रास्ते पर लाने का प्रयास करती हैं।

गृहस्थ से बड़ा मठ नहीं- इस वाक्यांश का यह अर्थ है कि गृहस्थ से बड़ा कोई सभा-स्थल नहीं, कोई धार्मिक-स्थल नहीं। यदि यह बात उनके मन में बैठी होती, तो वे अपने परिवार को छोड़कर वैसे समस्याग्रस्त क्षेत्र की ओर पलायन न करके अपने घर-पड़ौस में ही धार्मिक रस्म निभाते। और यदि चले भी जाते, तो भी अपने परिवार में वापिस लौटने की तीव्र ख्वाहिश रखते हुए अपने को सुरक्षित बचा कर रखते।

यदि आपने इस लेख/पोस्ट को पसंद किया तो कृपया इस वार्तालाप/ब्लॉग को अनुसृत/फॉलो करें, व साथ में अपना विद्युतसंवाद पता/ई-मेल एड्रेस भी दर्ज करें, ताकि इस ब्लॉग के सभी नए लेख एकदम से सीधे आपतक पहुंच सकें। धन्यवादम।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s