Non duality- अद्वैत

Only chanting non duality doesn’t solve any purpose but only wastes one’s time. All time non dual attitude is to be made for which Body science philosophy is best for our own body is nearest to us.

अद्वैत

केवल अद्वैत का जप करना किसी भी उद्देश्य को हल नहीं करता है, बल्कि केवल समय ही बर्बाद करता है। हर समय अद्वैत रवैया बना कर रखना पड़ता है, जिसके लिए शरीरविज्ञान दर्शन हमारे लिए सबसे अच्छा है, क्योंकि हमारा अपना शरीर ही हमारे सर्वाधिक निकट है।

Published by

demystifyingkundalini by Premyogi vajra- प्रेमयोगी वज्र-कृत कुण्डलिनी-रहस्योद्घाटन

I am as natural as air and water. I take in hand whatever is there to work hard and make a merry. I am fond of Yoga, Tantra, Music and Cinema. मैं हवा और पानी की तरह प्राकृतिक हूं। मैं कड़ी मेहनत करने और रंगरलियाँ मनाने के लिए जो कुछ भी काम देखता हूँ, उसे हाथ में ले लेता हूं। मुझे योग, तंत्र, संगीत और सिनेमा का शौक है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s