I think as if natural psychic drugs have become developed spontaneously to solve some specific purpose at this time. If these are taken at right time and in right schedule during the meditation, it can help in Kundalini awakening. But the present research is not concluding enough. In ancient days, sages used to consume bhaang(Hindi), a narcotic plant to get psychic help in their meditation. Perhaps they knew the right doze, right course and right time of that’s use. People today misuse psychotropic drugs, so get harm instead of any benefit. Premyogi vajra(The hero of demystifyingkundalini) had used a prescribed psychotropic drug continuously for one month that produced a change in his personality. He started meditation after one year of that’s use and got a kundalini awakening. I think, these drugs prime a person for meditation by making him cool, peaceful and satisfied. These qualities are there in meditating being too. This appears as the only role of these drugs for the success is only achieved through the meditation itself. May be that these drugs give additional boost to the meditation if used properly and cautiously, avoiding their side effects. Enough research is there to be done regarding this.

Rest of the detail can be found at Quora, Advising someone who has got kundalini awakening with drugs but relapsing.

ध्यान के साथ PSYCHOTROPIC / अवसादरोधी ड्रग्स / दवाएं

मुझे लगता है कि इस समय कुछ विशिष्ट उद्देश्य को हल करने के लिए ही प्राकृतिक मानसिक दवाएं स्वचालित रूप से विकसित हो गई हैं। यदि ध्यान के दौरान सही समय पर, सही मात्रा में और सही schedule / नियम के साथ इन्हें लिया जाता है, तो ये कुंडलिनी-जागृति में मदद कर सकती हैं। लेकिन वर्तमान शोध पर्याप्त निष्कर्ष नहीं निकाल पा रहा है। प्राचीन दिनों में ऋषि विशेषतः शैव सम्प्रदाय के योगी-बाबा लोग भांग (हिंदी), एक नशीले पदार्थ के पौधे का उपयोग करते थे, ताकि वे उससे ध्यान में मानसिक सहायता प्राप्त कर सकते। शायद वे उसके सही उपयोग, उसके उपयोग के सही तरीके, और उसके उपयोग के सही समय को जानते थे। लोग आज मनोविज्ञान दवाओं का दुरुपयोग करते हैं, इसलिए किसी भी लाभ के बजाय अक्सर नुकसान ही प्राप्त करते हैं। प्रेमयोगी वज्र (डेमिस्टिफाइंगकुंडलिनी / demystifyingkundalini के नायक) ने एक महीने के लिए एक निर्धारित मनोविज्ञान दवा का उपयोग किया था, जिसने उसके व्यक्तित्व में बदलाव कर दिया था। फिर उन्होंने उसके उपयोग के एक वर्ष बाद ध्यान-साधना / कुण्डलिनी-साधना को शुरू किया, और अंततः कुंडलिनी-जागृति प्राप्त की। मुझे लगता है, ये दवाएं एक व्यक्ति को शांत, अवसादरहित और संतुष्ट बना कर, ध्यान-साधना में उसकी मदद करती हैं। ये गुण ध्यान-साधना करने वालों में भी विद्यमान होते हैं। ऐसा लगता है कि इन दवाओं का यही प्रेरणादायक व सहायक रोल होता है, क्योंकि आध्यात्मिक सफलता तो केवल ध्यान-साधना के माध्यम से ही हासिल की जाती है। हो सकता है कि ये दवाएं ध्यान के लिए अतिरिक्त बढ़ावा भी दें, अगर इनके दुष्प्रभावों से परहेज करते हुए, कोई इनका सही ढंग से और सतर्कता से उपयोग करता है। इसके बारे में पर्याप्त शोध किया जाना अभी बाकि है।

शेष विवरण क्वोरा में मिल सकता है, जो कि उसे एक सलाह के रूप में है, जिसकी कुंडलिनी अवसादरोधी दवाओं के साथ जागृत हो गई हो, लेकिन वह फिर से दवा के दुष्प्रभाव में आ गया हो।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s