Website creation, management and development, part-11

The categories and tags of the post are not useful in Google search. They only search the post in WordPress dot com. Both categories and tag keywords should not be more than fifteen. By filtering out posts with more than fifteen keywords, WordPress put those into spam. The main keyword is in the category, while tag has all the sub keywords of that main keyword. For example, for the post related to Kundalini awakening, “Kundalini” is fit for the keyword category, while the “Kundalini awakening” is fit for tag.

It can also be that only the categories of keywords are given for a post, not the tag. WordPress dot com considers both of them alike. Even if no category or tag is given, it still finds the keyword from the main content of the post.

Now the tag button under the website’s reader button does not mean that the keywords written in it will only find posts with the tags of that keyword. In fact, the name “keyword” appears better than “tag”.

Now talk about the difference between the free and purchased website plans. The free domain name for the website is WordPress.com after the name of the website. This suffix does not appear in the website with the payment plan. This is the difference, nothing else. For example, the domain name of the free version of this website will be, demystifyingkundalini.wordpress.com; while the domain name of its paid version will be, demystifyingkundalini.com

My website’s domain name (demystifyingkundalini) is safe in both cases, and any other cannot take it. One advantage in the paid version is that it offers valuable email and chat support for customers. Together, the company does not take responsibility for the security of data in free website plan. Therefore, one has to keep doing backup regularly in case of free plan.

All the information related to the website development related to this series (No. 1 to 12), some of which I have also received from Customer Care Support has also been allocated there. Therefore, it is not less than a boon for the creator of the free website.

Now comes the multilingual website. The first method is to insert both languages’ ​​pages and posts in the same website. For this, the names of the menu items and widgets will be kept in both Hindi and English. Links to pages and posts will be inserted from one language to another. Now blog posts can be written in two types in this website. In the first method, a post is first written in the original language, and then it is rewritten in the same post below it in the translated language. A page Jump link is provided at the top of the post, so that clicking on it sends the visitor to the translated language.

In another way, separate posts are created for original Hindi, and for its English translated form. The link is inserted in both posts to get to each other. This method seems to be something more good for the search engine rankings. I prefer this style most for bilingual website. Although the followers of a particular language continue to receive the second language post. The way to avoid this is to create a separate website for the translated language. You can also create free website. Links are inserted to go from one website to another. Probably the new website opens from the main website menu, because the newer website is built on the setting of the parent website. For example, if the main website is demystifyingkundalini.com, then demystifyingkundalinieng.wordpress.com can be made as another website. The domain name is to be changed little or more. Together, that domain name should also be available. However, I think that English and Hindi both are complimentary to each other in a single website particularly in Indian condition.

Google is strict in terms of translation. It is not easily satisfied with the quality of English. That is why it is said that it does not accept machine translation or Google-translation. However, I believe that if a basic translation from Google is corrected by hand, then the translation is accepted.

कृपया इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें (वेबसाईट का निर्माण, प्रबंधन व विकास, भाग-11)

OCR, Optical Recognition System, a boon to modern publishing

Readers will think that what is the purpose of self-publishing and website-creation in the Kundalini-website. In fact, Kundalini-seeker should also have practical experience of self-publishing and website building. This is because, after the Kundalini-activation or Kundalini-awakening, the mind becomes like a flood of thoughtfulness. In that case, the person can create an excellent book and an excellent website. Together, it can also avoid the negativity of the worklessness. The same happened with Premyogi vajra.

I encountered the OCR technique when I was trying to make an e-book form of a paper book written by my father about seven years ago.  The name of that book was ‘Solan ki sarvhit saadhna/सोलन की सर्वहित साधना’. Fortunately, the publisher found out the soft copy of that book. This saved me from scanning the book. Together, there is probably less inaccuracy in the e-book made with soft copies. That book was in PDF format. At first, I started taking the help of Online PDF Converter. I tried a variety of converters, as well as the Google Drive Converter. However, the word file that was coming after being converted by all of those was completely flawed. The book was looking like a Chinese book, not the original Hindi book. Then I used the PDF Element. There was facility for only few pages in free plan. The pages were extracted from the PDF file to the word file, but the pages were along with original decorations like straps, palettes, flowers etc. I was not able to remove those things of decoration. Some things were removable in word, but not all. It was also a labor intensive work. Even the quality of the letters was not better. I thought that may be something would be done with the plan of purchase. However, when I saw the value of it, I left it completely behind. Because its minimum annual price was about INR 3000-4000.

For several months, my plan was lying in cold storage. Then when I got some free time, I searched on Google. I had read about the OCR before, but I never fully understood it. Then I found out in a web post that the book has to be scanned for it so that every page of the book comes in the form of a separate picture. As soon as I was preparing for the scan of the book, I came to know that if the book is available as a PDF file, it could be converted directly into a picture file. I tried many online converters by searching on Google with keywords ‘PDF Image Extraction’. Among those converters, I found the best available converter on Smallpdf.com. Extractor on ilovepdf.com is also good. I uploaded whole of the book-file in one go. After conversion whole of the converted book-file was downloaded. In it, the entire book-file came in the download folder of the computer in the form of serial wise pictures (jpg images). All the pictures were in a zipped (compressed) folder. By making that folder unzipped (with WinZip etc. software), all images came in a simple folder.

Then I started finding online app on Google that could convert those pictures into the word doc (OCR app). There were many OCRs that did not offer Hindi language facility. Finally, I found the best online OCR for Hindi available on the website http://www.i2ocr.com. That was free. However, I was trying to upload the folder containing books, but it did not happen. Then I tried to upload all the pictures together by selecting all the pictures. However, even that did not happen. Then I found out in a web post that Batch Extraction OCRs are commercial, and are not available freely. Therefore, I had to convert pictures one by one. Like the book-pictures, the converted doc files also came folded serial wise in a folder.

Then I copied all the doc files into a single doc file in right sequence. However, the word-lines were unequal in length in the doc file, which were not being corrected even with the command of Justify alignment. Then I read in a web post that in the ‘Find’ section of ‘find-replace’ of MS Word, type the ^ p in the find section(^ symbol is printed by pressing the shift key and 6 number numeric key together), and insert a single blank space in the replace section. With the command of ‘Replace All’, all becomes all right. That is what happened. Thus, the e-book was prepared in this way.

It should be noted that if there are plenty of small word files to be clubbed together, then help of ‘insert’ of ms word should be taken. On clicking ‘insert’ button, search the ‘object’ button and click on triangle at corner of this. Now click ‘text from file’ on dropdown menu. A new browse-window will pop up. Select word files on it to be clubbed. Keep in mind that files will be clubbed in order of selection. It means, first file in selected group will come first in combined word file and so on. I advise to club only maximum of 10 files at a time for I feel it can produce error if very large number of files is selected together. In fact, many files were not being downloaded in word format after converting. I was doing OCR in Hindi language. Those files were being downloaded in the text format. However, the files with the text format were opening only in Notepad, not in wordnote. It is a loss to download text files that those cannot be clubbed together by giving commands like insert-object etc. as in word files. One has to copy-paste every file separately.

There were two words attached to each other without space in that book at many places. For example, the words ‘fruit is’ of the original book became ‘fruitis’. With a little manual correction, it was all right. Page break, line break, heading shape etc. were provided at the appropriate places by keeping the paper book in front, so that the e-book looks like a completely original book. Some pictorial pages of cover and initial part of book were inserted directly into the e-book. For editing these cover photos, I used online photo editor of ‘photojet’. However, one needs to share it on face book before downloading the edited image. Online editor of pixlr.com is also good. Instead of copying images directly, the help of ‘Insert- picture’ of MS Word was taken, because copying image directly to the word file does not cause that to appear in the e-book at all times.

Before scanning the book, see how much old the book is. OCR of old books is not available. Opening the book’s bindings is required so that each page is scanned separately. By scanning the bound book by folding it, the scans are not good for paper-margins, so they cannot get good OCR. Later on, you can re-bind the book. Scanning the double page does not even make the OCR. The page will have to be placed on the scanner accordingly, as usually a single page is placed. The length of the page is placed in the direction of the length of the scanner. The page should be written like a normal book page, that is, the lines of letters cover the width of the page. The more straightforward the page on the scanner, the better the OCR. Therefore, the page should be attached to the backside plastic boundary of scanner-glass length. The page itself comes directly straight with this. In lengthwise, page should come in the middle of the scanner.

Further technique is recognizing hand-written text by the OCR. This is called ‘hand text recognition’. However, it has not evolved completely. Search is on. However, this technique works by inserting letters one by one in predefined boxed compartments in the paper format. That is why the introduction-forms in recruitment etc. are hand-filled in the boxed format.

If you liked this post then please click the “like” button, share it, and follow this blog while providing your e-mail address, so that all new posts of this blog could reach to you immediately via your e-mail. Do not forget to express your opinion in the comments section.

कृपया इस पोस्ट को हिंदी में पढ़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें (ओसीआर, ऑप्टिकल रिकोग्निशन सिस्टम, आधुनिक प्रकाशन के लिए एक वरदान)

वेबसाईट का निर्माण, प्रबंधन व विकास- Website creation, management and development

वेबसाईट का निर्माण, प्रबंधन व विकास  (please browse down or click here to view this post in English)।

मैंने अपनी पुस्तक को लिख कर तैयार कर लिया था। चार-पांच बार पढ़कर सभी अशुद्धियों को भी ठीक कर दिया था। पिछली पोस्टों में मैं यह बताना भूल गया कि मुझे क्विक प्रिंट से भी बहुत सहायता मिली। क्विक प्रिंट की सुविधा पोथी डॉट कॉम द्वारा दी जाती है। उसमें पुस्तक को साधारण तरीके से प्रिंट करके शीघ्रतापूर्वक उसे लेखक के बताए पते पर पहुंचा दिया जाता है। उसमें बुक की वर्ड फाईल को ज्यादा फोर्मेट करने की आवश्यकता नहीं होती। केवल पेज के मार्जिन ही सुविधानुसार निर्धारित किए जाते हैं। वर्ड के डिफाल्ट पेज मार्जिन (मतलब स्वयं के) चारों ओर 1 इंच (2.54 सेंटीमीटर) होते हैं। इनसाईड मार्जिन तो यह ठीक है, पर अन्य किनारों के लिए यह मर्जिन अधिक है, जिससे कागज़ की बर्बादी होती है। यह असली पुस्तक तो होती नहीं, केवल करेक्शन के लिए ही निकाली गई होती है। इसलिए अन्य मार्जिन्स को आप 1 या आधा सेंटीमीटर पर भी सेट कर सकते हो। संभवतः कहीं प्रिंट करते समय शब्द न कट जाएं, इसलिए कम से कम 1 सेंटीमीटर तो होना ही चाहिए। इसी तरह यदि करेक्शन करने के लिए अधिक स्थान चाहिए, तो आप लाइन स्पेसिंग को 1.5 पर भी सेट कर सकते हो। अन्य कुछ भी करने की आवश्यकता नहीं होती। फिर उस वर्ड फाईल को गूगल ड्राईव की सहायता से पीडीएफ में बदल दिया जाता है। उस पीडीएफ फाईल को ही पोथी डॉट कॉम पर अपलोड कर दिया जाता है। वास्तव में प्रिंट फॉर्म में करेक्शन करना कम्प्युटर में सीधे करेक्शन करने से बहुत आसान, सटीक, सुविधाजनक व त्वरित होता है। पुस्तक के अतिरिक्त कोई  भी डोक्युमेंट पोथी डॉट कोम से मंगाया जा सकता है, घर बैठे-२ ही, वह भी मनचाही गुणवत्ता व बाईंडिंग में। 2 बार क्विक प्रिंट बुक में करेक्शन करने के बाद जब मैं आश्वस्त हो गया, तब मैंने बुक को फुल प्रिंट के लिए फोर्मेट किया, और उसकी डिलीवरी के लिए डिमांड दे दी। फुल प्रिंट बुक को भी मैंने दो बार करेक्ट करने के बाद ही फाईनल समझा। अब जाकर मेरी पुस्तक पूर्ण रूप से तैयार हुई थी। वेबसाईट तो मैंने बहुत पहले से बना ली थी, यद्यपि वेबसाईट का युद्धस्तर पर निर्माण तो पुस्तक की पूर्णता के बाद ही शुरू हुआ, क्योंकि तब मुझे अतिरिक्त समय उपलब्ध हो गया था।

वेबसाईट-निर्माण का मेरा सफर निम्नलिखित प्रकार का था। मुझे जब पुस्तक के प्रचार की आवश्यकता महसूस हुई, तब मैंने एक लेंडिंग पेज बनाने की सोची। जैसा कि पिछली पोस्टों में भी मैंने बताया है कि लेंडिंग पेज एक ऐसा वेबपेज (वेबसाईट का पेज) होता है, जिस पर पुस्तक के बारे में सम्पूर्ण विवरण हो, संभावित पाठकों को पुस्तक पढ़ने के लिए प्रेरित किया जा रहा हो, और जिस पर उस पुस्तक को बेचने वाली व्यापारिक वेबसाईट का लिंक-पता दर्ज हो। गूगल पर सर्च करने पर लैंडिंग पेज के लिए बहुत सी सशुल्क पेशकशें दी जा रही थीं। कोई कम खर्चे वाली थीं, तो कुछ अधिक खर्चे वाली। फिर भी मुझे तो वह खर्चा अधिक ही लगा, और साथ में लैंडिंग पेज की उतनी साज-सज्जा की आवश्यकता भी मुझे महसूस नहीं हुई, जितनी का वे दावा कर रहे थे। मुझे तो एक साधारण लैंडिंग पेज ही चाहिए था। उसके लिए सर्वोत्तम व मुफ्त का तरीका तो मुझे वेबसाईट-निर्माण का ही लगा। वास्तव में बहुत सी कम्पनियां मुफ्त की वेबसाईट बनाने का ऑफर देती हैं, जैसे कि वर्डप्रेस डॉट कॉम, जिम्डो डॉट कॉम आदि-२। इनमें वर्डप्रेस डॉट कॉम काफी जानी-मानी व गुणवत्तापूर्ण वेबसाईट-निर्मात्री कंपनी है। इसलिए मैंने उसे ही चुना। 10 मिनट में ही सिंपल स्टेप्स में वह बन कर तैयार हो गई। पहले तो मुझे पता ही नहीं चला कि उसमें करना क्या था। मैंने एक-दो पोस्टें लिखीं, जो न जाने कहाँ खो जाती थीं। कभी दिख जाती थीं। फिर धीरे-२ मुझे आभास हुआ कि मुझे किसी मुफ्त की थीम को एक्टिवेट करना था। वेबसाईट-थीम वास्तव में वेबसाईट का दिल होती है। यह निर्धारित करती है कि वेबपेज कैसा दिखेगा। उस पर फोटो कौन सी होगी, विभिन्न बटन कहाँ-२ व कौन-२ से ऑप्शन होंगे।

थीम को एक्टिवेट करने से मेरा वेबसाईट-निर्माण का लगभग 90% काम पूरा हो गया था। बाकि का 10% काम तो अब उसमें विभिन्न विजेट (जैसे कि कोपीराईट का, लीगल डिस्क्लेमर का, शेयरिंग का आदि-2) को एप्लाई करना था। कई थीमों में केवल साईडबार-विजेट-एरिया ही होता है, फुटबार-विजेट-एरिया नहीं। धीरे-२ वह काम भी होता रहा। सर्वप्रथम मुख्य काम तो वेबपेज पर लिखित सामग्री को डालना था। मैंने अपनी ई-पुस्तक से ही पुस्तक-परिचय आदि को कोपी करके होमपेज पर पेस्ट कर दिया। होमपेज को ही मैंने लेंडिंग पेज बना दिया। इसके लिए होमपेज को स्टेटिक पेज बनाना पड़ता है। उससे वह स्थिर बना रहता है, और समय-२ पर डाली गई पोस्टें उस पर नहीं आतीं, अपितु एक अलग पेज “माय पोस्ट पेज” पर छपती रहती हैं। क्या आपको भी वेबसाईट बनाते हुए ऐसी ही समस्याएँ पेश आईं? —-मेरी अगली ब्लॉग पोस्ट पर जारी—–   

यदि आपने इस लेख/पोस्ट को पसंद किया तो कृपया इस वार्तालाप/ब्लॉग को अनुसृत/फॉलो करें, व साथ में अपना विद्युतसंवाद पता/ई-मेल एड्रेस भी दर्ज करें, ताकि इस ब्लॉग के सभी नए लेख एकदम से सीधे आपतक पहुंच सकें।

 

Website creation, management and development

I had prepared my book in written form. After reading four to five times, I also cured all the impurities. In the previous post, I forgot to mention that I got many help from Quick Print. Quick print is provided by Pothi.com. In this service, the book is readily printed and delivered to the address given by the author. There is no need to format the book’s Word file in it. Only the margins of the pages are determined according to convenience. Word default page margins (mean of themselves) are around 1 inch (2.54 centimeter). Inside margins, this is fine, but this margin is higher for other edges, which causes waste of paper. This is not the real book, it is only for correction. Therefore, you can also set other margins to 1 or half centimeters. It may be that the words are not cut when printing, so at least 1 centimeter should be there. Similarly, if you need more space to perform correction, you can also set the line spacing to 1.5. There is no need to do anything else. Then that Word file is converted to PDF with the help of Google Drive. That PDF file is uploaded to Pothi.com. In fact, correction of print forms is very easy, accurate, convenient and quick than to correct / edit document in the computer. Apart from the book, any document can be sent to Pothi.com, sitting at home, that too in the desired quality and binding. After making a correction in a quick print book, when I was convinced, I formatted the book for full print, and put demand for delivery of it. I considered the full print book as finished product only after reading and correcting it twice. Now my book was fully prepared by me. The website was created very long ago, although the creation of the website at war level started only after the completion of the book, because then I had an extra time available.

My journey to website building was the following type. When I felt the need to publicize the book, I thought of making a landing page. As I have mentioned earlier in the previous posts, the landing page is a web page, which has full details about the book, potential readers are being encouraged to read the book, and on which there is entered the link-address of the business website that sells the book. There were many paid offers for landing pages when searching on Google. There were some less costly, then some were more expensive. Even then, I found that the expenditure was more expensive, and I did not even need the decoration of the landing page, as much as they were claiming. I just wanted a simple landing page. The best and free way for me was to create a website. In fact, many companies offer to create free websites, such as WordPress.com, Zimdo.com etc. Among them WordPress.com is a well-known and quality website-maker company. That is why I chose that. In 10 minutes website became ready in the simple steps. At first, I did not know what to do in it. I wrote a few posts, which were not shown fully and anywhere they were lost. Were ever seen again. Then slowly I realized that I had to activate any free theme. Website-theme is actually the heart of the website. It determines how a web page will look. What will be the photo on it, where different buttons will have options?

Activated by the theme, almost 90% of my website-building work was completed. The remaining 10% of the work was to be applied to various widgets (like copyright, legal disclaimer, sharing etc.). Many themes only have Sidebar-Widget-Area, Footer-Widget-Area not. Slowly that work was also going on. First, the main task was to put content written on the web page. I copied book-introduction etc. from my e-book and pasted it on the homepage. I made the landing page only for the home page. For this, the homepage has to be made static page. From that LP / HP remains stable, and the posts put on time after time do not come to that, but website keep those on a different page, “My Post Page”. Did you have similar problems while creating the website? —- Continued on my next blog post —–   

If you liked this post then please follow this blog providing your e-mail address, so that all new posts of this blog could reach to you immediately via your e-mail.

सभी मित्रों के बीते वर्ष को सहर्ष विदाई व उनको नववर्ष 2019 की बहुत-2 शुभकामनाएं- Nice farewell to all the friends’ last year and many New Year wishes for them

सभी मित्रों के बीते वर्ष को सहर्ष विदाई व उनको नववर्ष की बहुत-2 शुभकामनाएं (please browse down to view this post in English)।

मेरा बीता वर्ष, 2018 निम्न प्रकार का रहा-

अपनी टाटा टियागो कार में लगभग 3000 किलोमीटर का सपरिवार सफ़र तय किया, जिसमें से अधिकाँश उन्नत उच्चमार्गों का सफर था। पीवीआर सिनेमा में 4 हिंदी फिल्में सपरिवार देखीं, 102 नोट आऊट, संजू, हनुमान वर्सस अहिरावना (थ्री डी एनीमेशन) व सिम्बा। मेरे माता-पिता तीर्थधाम यात्रा का जल चढ़ाने कन्याकुमारी / रामेश्वरम गए। अपने पुराने घर का नवीनीकरण करवाया गया। श्री मद्भागवत सप्ताह श्रवण यज्ञ का अनुष्ठान अपने घर में करवाया गया। मेरी पूज्य व वृद्ध पितामही जी का स्वर्गवास हुआ। मेरे बेटे को पहली कक्षा में ए-1 रहने पर पारितोषिक दिया गया। मेरी पत्नी के द्वारा नए सिलाई के प्रशिक्षण-कोर्स का प्रारम्भ किया गया। मुझे क्वोरा टॉप राईटर (क्वोरा शीर्ष लेखक)- 2018 का सम्मान मिला। मेरे द्वारा कुण्डलिनीयोग का प्रतिदिन का 1 घंटे का सुबह का व एक घंटे का सांय का अभ्यास एक दिन के लिए भी नहीं छोड़ा गया। इसके कारण मेरा वर्ष 2017 का कुण्डलिनीजागरण का अनुभव जारी रहा, महान आनंद के साथ। प्रेमयोगी वज्र की सहायता से इस मेजबानी वेबसाईट (https://demystifyingkundalini.com/home-3/) को पूर्णतः विकसित किया। इस वेबसाईट के लिए 139 शेयर, 30 लाईक्स, 4772 वियूस, 3099 विसिटर व 46 फोलोवर मिले। इस वेबसाईट के लिए मैंने लगभग 31 पोस्टें लिखीं व प्रकाशित कीं। प्रेमयोगी वज्र की सहायता से “शरीरविज्ञान दर्शन- एक आधुनिक कुण्डलिनी तंत्र (एक योगी की प्रेमकथा)” नामक पुस्तक लिखी। उसके लिए 13 सशुल्क डाऊनलोड व 80 निःशुल्क डाऊनलोड प्राप्त हुए। उसके लिए अमेजन पर एक सर्वोत्तम रिव्यू / समीक्षा (5 स्टार) भी प्राप्त हुआ। साथ में, उसे गूगल बुक पर भी दो उत्तम व 5 स्टार रिव्यू प्राप्त हुए। दूरदर्शन के कार्यक्रमों में तेनालीरामा, तारक मेहता का उल्टा चश्मा, मैं मायके चली जाऊंगी, रियल्टी शोज व जी न्यूज (मुख्यतः डीएनए) का आनंद उठाया। अपने पोर्टेबल मिनी जेबीएल स्पीकर पर गाना एप के माध्यम से लगभग 2000 मधुर ओनलाईन गाने सुने। काटगढ़ मंदिर व टीला मंदिर के सपरिवार दर्शन किए। अपने किन्डल ई-रीडर पर 3 पुस्तकें पढ़ीं। पोस्ट पढ़ने के लिए धन्यवाद।

यदि आपको इस पोस्ट से कुछ लाभ प्रतीत हुआ, तो कृपया इसके अनुसार तैयार की गई उपरोक्त अनुपम ई-पुस्तक (हिंदी भाषा में, 5 स्टार प्राप्त, सर्वश्रेष्ठ व सर्वपठनीय उत्कृष्ट / अत्युत्तम / अनौखीरूप में निष्पक्षतापूर्वक समीक्षित / रिव्यूड ) को यहाँ क्लिक करके डाऊनलोड करें। यदि मुद्रित पुस्तक ही आपके अनुकूल है, तो भी, क्योंकि इलेक्ट्रोनिक डीवाईसिस / फोन आदि पर पुस्तक का निरीक्षण करने के उपरांत ही उसका मुद्रित-रूप / print version मंगवाना चाहिए, जो इस पुस्तक के लिए इस लिंक पर उपलब्ध है। इस पुस्तक की संक्षिप्त रूप में सम्पूर्ण जानकारी आपको इसी पोस्ट की होस्टिंग वेबसाईट / hosting website पर ही मिल जाएगी। धन्यवाद।

यदि आपने इस लेख/पोस्ट को पसंद किया तो कृपया इस वार्तालाप/ब्लॉग को अनुसृत/फॉलो करें, व साथ में अपना विद्युतसंवाद पता/ई-मेल एड्रेस भी दर्ज करें, ताकि इस ब्लॉग के सभी नए लेख एकदम से सीधे आपतक पहुंच सकें। धन्यवादम।

 

Nice farewell to all the friends’ last year and many New Year wishes for them.

My last year, 2018 was of the following type:

Travelled around 3,000 km in my Tata Tiago car with family, most of which were the journey of advanced highways. In PVR cinema saw 4 Hindi films with family, 102 Not out, Sanju, Hanuman Versus Ahiravana (Three D Animation) and Simmba. My parents went to Kanyakumari / Rameshwaram for carrying water for pilgrimage. My old home was renovated. Shreemad Bhaagvat Shravan Yagna’s week long ritual was performed in my house. My devoted and old grandmother went to heaven. My son was rewarded for being A1 in the first grade. New sewing training-course was started by my wife. I got the Quora Top Writer- the honour of 2018. I did not leave the Kundalini Yoga practice for 1 hour of morning and one hour of evening everyday even for one day. Due to this my experience of KundaliniJagran of 2017 continued, with great bliss. With the help of Premyogi Vajra, this hosted website (https://demystifyingkundalini.com/) was fully developed. For this website, 139 shares, 30 likes, 3099 visitors, 46 followers and 4772 views were obtained. I wrote and published about 31 posts for this website. With the help of Premyogi Vajra, I wrote a book called “Shareervigyaan darshan- ek aadhunik kundalini tantra (ek yogi ki premkatha)”. For that 13 paid downloads and 80 free downloads were received. For that, a great review (5 stars) was also received on Amazon. Along with, two good and 5 star reviews were also obtained on Google book for that. In Doordarshan’s programs, Tenalirama, Tarak Mehta ka Ulta Chashma, main maayake chali jaaoongee, realty shows and Zee news (mainly DNA) were enjoyed well. Two thousands of melodious online songs have been heard through Gaana App on my portable mini JBL speaker. Visiting the Katgarh Temple and the Tila Temple with family by me. Read 3 books on my Kindle e-Reader. Thanks for reading.

If you have found some benefit from this post, please download here the above mentioned e-book (in Hindi language, 5 star rated, reviewed in unbiased way as the best, excellent and must read by everyone) made with steps as told above. If only print version suits you, then too print version should only be got after testing that’s e- version on the electronic devices / phone etc., that is available on this link for this book. You can also find the complete information about this book, both in English as well as Hindi languages on the hosting website of this post. Thank you.

If you liked this post then please follow this blog providing your e-mail address, so that all new posts of this blog could reach to you immediately via your e-mail.

प्रिंट पुस्तक की ओर- Towards the print book

प्रिंट पुस्तक की ओर (please browse down or click here to view post in English)

जैसा कि पिछली ब्लॉग पोस्टों / blog posts में मैंने बताया है कि भारत में केवल 10% पाठक ही ई-पुस्तकों को पढ़ते हैं। अधिकाँश पाठकों को निराश न होना पड़े, इसके लिए पुस्तक के प्रिंट वर्जन / print version को पोथी डॉट कॉम स्वयंप्रकाशन के प्लेटफोर्म / self publishing platform of pothi.com  से छापने का निर्णय लिया गया। कभी वह एम एस वर्ड की डॉक्स सी फाईल / Doxc file of MS word को सीधे ही ले लेता था, तो कभी उसे पीडीएफ / PDF में कन्वर्ट / convert करके अपलोड / upload करने की हिदायत देता था। वर्ड फाईल को पीडीएफ में कन्वर्ट करने से पहले प्रिंट बुक के लिए फोर्मेट / format करना जरूरी होता है, क्योंकि पीडीएफ फाईल की फोर्मेटिंग को हम बदल नहीं सकते। इसी तरह वर्ड फाईल को पीडीएफ फाईल में बदलना आसान होता है, पर पीडीएफ फाईल को पुनः वर्ड फाईल में पूरी शुद्धता से बदलना लगभग असंभव सा ही होता है। उसके लिए सब्सक्रिप्शन / subscription पर पीडीएफ एलिमेंट / PDF element को खरीदना पड़ता है। उससे पीडीएफ फाईल को वर्ड फाईल में कन्वर्ट किया जा सकता है। हालांकि उससे आसान, कारगर व मुफ्त का विकल्प ओसीआर है। ओसीआर (ऑप्टिकल रिकोग्निशन सिस्टम) के बारे में आप मेरी अलग से वेबपोस्ट पढ़ सकते हैं। कमियाँ तो रह ही जाती हैं। इसलिए किसी भी लेख की मूल वर्ड फाईल को जरूर बेक अप / स्टोर / back up करके रख लेना चाहिए।

प्रिंट के हिसाब से वर्ड फाईल को अलग से फोर्मेट करना पड़ता है, क्योंकि ई-बुक का फोर्मेट प्रिंट बुक के लिए नहीं चलता। पहले मैं वर्ड के ‘पेज सेटअप / page setup’ पर गया। वहां पर ‘मार्जिन / margin’ टेब / tab को प्रेस / press किया। अपर / upper मार्जिन व बोटम / bottom मार्जिन को ०.5 इंच, अन्दर के / इनसाइड मार्जिन को ०.75 इंच, बाहर के / आऊटसाईड मार्जिन को ०.4 इंच, व गटर को ०.3 इंच रखा। गटर पुस्तक के आमने-सामने के पृष्ठों के बीच की नाली होती है, जिसमें कई बार अक्षर दब जाते हैं। इसीलिए उसे पर्याप्त चौड़ा रखा जाता है। मेरे द्वारा ‘मिरर मार्जिन / mirror margin’ सेलेक्ट किया गया। मिरर मार्जिन किताबों के लिए विशेष होते हैं। इसमें किताब के आमने-सामने वाले पृष्ठ एक-दूसरे के दर्पण-चित्र की तरह दिखते हैं। उसी पेज सेटअप पर पोर्ट्रेट व व्होल डोक्यूमेंट / portrait and whole document को सेलेक्ट किया। साथ में, हेडर / header- ०.2″ फ्रॉम टॉप / from top, व फूटर footer- ०.2″ फ्रॉम बोटम / from bottom रखा। यह पृष्ठ-सेटअप 300 पृष्ठों वाली मेरी पुस्तक के लिए पर्याप्त है। पृष्ठ संख्याओं में परिवर्तन के साथ, केवल अंदर के मार्जिन और गटर थोड़े-बहुत बदलते हैं, अन्य मार्जिन नहीं। याद रहे कि माइक्रोसोफ्ट वर्ड के 2007 व उसके ऊपर के वर्जन में डिफाल्ट पेज मार्जिन्स चारों ओर 1 इंच (2.54 cm) होता है।

क्रमबद्ध की गई सूचना निम्नलिखित स्क्रीनशॉट चित्र पर देखें-

Screenshot_2018-12-06-12-31-55

फिर में ‘पेपर / paper’ टेब पर गया। पहले कस्टम साईज / custom size सेलेक्ट किया गया। फिर पेपर वाईडथ /  paper width को 6″ व पेपर हाईट को 9″ रखा, क्योंकि 6″x 9″ की पुस्तकें सर्वाधिक लोकप्रिय हैं। उस पर ये सेटिंग्स / settings खुद ही लागू थीं- ‘फर्स्ट पेज-डिफाल्ट ट्रे सेलेक्टड / first page default selected, बोथ फॉर फर्स्ट एंड अदर पेजिज / both for first and other pages तथा व्होल डोक्यूमेंट / whole document।

तब में ‘लेआऊट / layout’ टेब / tab पर गया। सेक्शन स्टार्ट / section start- ओड पेज / odd page। इसका तात्पर्य है कि पुस्तक का प्रारंभ ओड पेज (1,3 आदि) से होगा, जो पुस्तकों में अच्छा लगता है। इसमें पुस्तक के बाएँ पृष्ठ पर ईवन नंबर / even number (2,4 आदि) होता है, और दाएं पृष्ठ पर ओड नंबर की पेज संख्या। वर्ड डोक्यूमेंट की शीर्ष-पट्टी में स्थित हेडर बटन (पुस्तक का शीर्षतम रिक्त स्थान) में जाकर, हेडर में पुस्तक के शीर्षक का नाम लिख दिया गया, और पुस्तक के फूटर में (पुस्तक का निम्नतम रिक्त स्थान) उपशीर्षक का। उससे प्रत्येक पेज पर वे नाम वैसे ही आ गए। एक महत्त्वपूर्ण बात और है। यदि हम वर्ड फाईल में embed fonts ऑप्शन को चालू करें, तो वह पीडीएफ फाईल में सर्वोत्तम तरीके से कन्वर्ट हो जाती है। उससे पीडीएफ को पुनः वर्ड फाईल में कन्वर्ट करना भी आसानी से संभव हो जाता है। इसके लिए word option में जाकर save – embed fonts – embed only the characters used in the document (best for reducing file size), इन बटनों को इसी उपर्युक्त क्रम में दबाएँ। फिर उस फोर्मेटिड बुक रुपी वर्ड डोक्युमेंट को एवरनोट में स्टोर कर दिया गया, ताकि वह भविष्य में भी काम आता। फिर उस वर्ड डोक्युमेंट को ओनलाईन पीडीएफ कन्वर्टर / online pdf converter से पीडीएफ में कन्वर्ट कर दिया गया। परन्तु उसमें बहुत सी गलतियाँ थीं, विशेषतः बहुत से अक्षरों की बनावट दोषपूर्ण थीं, जो मुझे पुस्तक को पढ़ते हुए चेक करते हुए पता चला। अंततः मैंने गूगल ड्राईव / google drive के पीडीएफ कन्वर्टर का प्रयोग किया। उसमें हिंदी के सभी अक्षर व चिन्ह पूर्णतया शुद्ध निकले। इसके लिए हमें डोक्युमेंट को गूगल ड्राईव पर अपलोड करना पड़ता है। फिर ‘ओपन विद / open with’ दबाकर पीडीएफ कन्वर्टर एप / app को क्लिक / click करना चाहिए। यदि वह लिस्ट / list में न आए, तो “कनेक्ट न्यू / मोर एप / connect new or more app” को क्लिक करके पीडीएफ कन्वर्टर को सर्च / search करना चाहिए, और उसे लिस्ट में जोड़ देना चाहिए। इसी तरह यदि हम ओपन विद की लिस्ट में गूगल ट्रांसलेट / google translate को क्लिक करें, तो उससे हम डोक्युमेंट को किसी भी भाषा में ट्रांसलेट कर सकते हैं। यद्यपि वह ट्रांसलेशन दोषपूर्ण होती है, इसलिए बाद में उसे हाथ से करेक्ट / correct करना पड़ता है। फिर भी इससे बहुत से समय की व दिमाग की भी बचत हो जाती है। शर्त यह है कि एक बार में अधिक से अधिक लगभग वर्ड के 80 पेज ही ट्रांसलेट हो सकते हैं। इसलिए पुस्तक को टुकड़ों में ट्रांसलेट करना पड़ता है। ओपन विद पीडीएफ कन्वर्टर को क्लिक करके एक विंडो / window आती है, उसमें फिर से ब्राऊस / browse करके कम्प्युटर / computer की किसी ड्राईव / drive में स्टोर्ड उस बुक डोक्युमेंट / stored that book document को  फिर से अपलोड करना पड़ता है। तभी “कन्वर्ट / convert” नाम का क्लिकेबल बटन / clickable button आता है। फिर उस पीडीएफ डोक्युमेंट को खोल लें। उसके शीर्ष पर दाईं तरफ एक डाऊन एरो / down arrow का निशान होगा। उसको क्लिक करने से वह डोक्युमेंट कम्प्युटर के डाऊनलोड फोल्डर / download folder में डाऊनलोड हो जाएगा। उस डोक्युमेंट में वही सेटिंगज / फोर्मेटिंग रहेंगी, जो उसके उत्पादक वर्ड डोक्युमेंट में रखी गई थीं।

अब पोथीडॉटकोम / pothi.com में जाएं। लॉग इन / login करने के बाद कहीं पर प्रिंट ओन डिमांड / print on demand बटन पर जाकर उसमें दिए गए निर्देशों का पालन करें, और बुक को पब्लिश कर लें। 1-2 दिन में वह खरीदी जाने के लिए तैयार हो जाएगी। नए-2 स्वयंप्रकाशक के लिए कवर को अपलोड करने से अच्छा तो इनबिल्ट कवर डिजाईनर की सहायता लेना ही ठीक रहता है। उसके लिए अच्छा सा कवर-फोटो / cover photo or image अपलोड करें। वह कवर फोटो पुस्तक के अंतिम पृष्ठ की पिछली तरफ लग कर बेक कवर back cover बन जाएगा। फ्रंट कवर / front cover पर पुस्तक के शीर्षक, उपशीर्षक, लेखक आदि का नाम लिखें। साथ में, पुस्तक की रिब / rib (पुस्तक की बाईंडिंग वाली केंद्रीय व पीछे की ओर की पट्टी) पर भी शीर्षक व लेखक का नाम लिखें।

प्रिंट ऑन डिमांड से चाहो तो जितना मर्जी बुक की कॉपियां छपवा सकते हो, यहाँ तक कि अकेली पुस्तक भी। परंतु इससे सामूहिक / पारंपरिक छपाई की अपेक्षा पुस्तक कुछ अधिक महंगी पड़ती है। फिर भी इसके अनेक लाभ होतेे हैं। इससे कागज की बर्बादी नहीं होती, क्योंकि जरूरत पड़ने परही पुस्तक को छपाया जाता है, और एडवांस में पुस्तक को छपाने की आवश्यकता नहीं होती। इससे कुल लागत खर्च में भी बहुत कमी आती है, व पबलिशर की मनमानी भी नहीं चलती।

यदि आपको इस पोस्ट से कुछ लाभ प्रतीत हुआ, तो कृपया इसके अनुसार तैयार की गई उपरोक्त अनुपम ई-पुस्तक (हिंदी भाषा में, 5 स्टार प्राप्त, सर्वश्रेष्ठ व सर्वपठनीय उत्कृष्ट / अत्युत्तम / अनौखीरूप में समीक्षित / रिव्यूड ) को यहाँ क्लिक करके डाऊनलोड करें। यदि मुद्रित पुस्तक ही आपके अनुकूल है, तो भी, क्योंकि इलेक्ट्रोनिक डीवाईसिस / फोन आदि पर पुस्तक का निरीक्षण करने के उपरांत ही उसका मुद्रित-रूप / print version मंगवाना चाहिए, जो इस पुस्तक के लिए इस लिंक पर उपलब्ध है। इस पुस्तक की संक्षिप्त रूप में सम्पूर्ण जानकारी आपको इसी पोस्ट की होस्टिंग वेबसाईट / hosting website पर ही मिल जाएगी। धन्यवाद।

यदि आपने इस लेख/पोस्ट को पसंद किया तो कृपया इस वार्तालाप/ब्लॉग को अनुसृत/फॉलो करें, व साथ में अपना विद्युतसंवाद पता/ई-मेल एड्रेस भी दर्ज करें, ताकि इस ब्लॉग के सभी नए लेख एकदम से सीधे आपतक पहुंच सकें। धन्यवादम।

ई-रीडर व ई-बुक्स के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहां क्लिक करें।

Towards the print book

As I mentioned in the previous blog posts, only 10% of readers in India read e-books. Most readers did not have to be disappointed, for this it was decided to print the print version of the book with the Pothi.com’s self publication platform. Sometimes that used to take MS Word’s Doxc file directly, then that had ever instructed to upload it in PDF format. Before converting word files into PDFs, it is necessary to format that for a print book, because we cannot change the formatting of PDF file. Likewise, it is easy to convert the word file to a PDF file, but it is almost impossible to convert the PDF file to a word file fully again. For that, the PDF Element has to be bought on the subscription. Herein document can be converted to a PDF file from a word file. Better, more effective and free option is using OCR. Read my separate webpost on OCR (OPTICAL RECOGNITION SYSTEM). However, the shortcomings still remain. Therefore, the original word file of any article must be backed up / stored properly.

Word file has to be formatted separately according to the print, as the format of the e-book will not be available for the print book. First I went to the ‘page setup’ of the word. Pressed the ‘margin’ tab on there. Fixed top margin and bottom margin to 0.5″, Inside Margin 0.75 in., Outside margin 0.4 inches, and gutter was kept 0.3 inches. Gutter of book is the drain between the face-to-face pages, in which the letters are suppressed little or more. That is why it is kept wide enough. I selected ‘Mirror Margin’. Mirror margins are special for books. In this, face-to-face pages of the book look like each other’s mirror-picture. Select the ‘Portrait’ and ‘Whole Document’ on the same page setup. Together, Header-0.2″ From Top, and Footer-0.2″ from Bottom. This page setup is enough for my book with 300 pages. With change in page numbers, only the inside margin and gutter vary little or more, not the other margins. Remember that the default page margins in Microsoft Word 2007 and above are 1 inch (2.54 cm) wide all around.

See below the consolidated information on a screenshot-

Screenshot_2018-12-06-12-31-55

Then went on the ‘paper’ tab. The first custom selection was selected. Then the paper Width kept 6″ and paper height as 9″, because the books of 6″x 9″ are the most popular. These settings were applied to them themselves – ‘First page – Default tray selected, Both for the first and other pages’ and the ‘Whole document’.

Then went to the ‘layout’ tab. Section Start- Odd Page. This means that the book will start with Odd Page (1,3 etc.), which is good in books. It contains the Even numbers (2,4 etc.) on the left page of the book, and the page numbers of the odd category on the right page. In the Header button located in the top-bar of the Word document, the title of the book was written in the header, and the subtitle of the book is in the footer (the lowest spacing of the book) . From that on each page, those names came in the same way. Word document converted to PDF will be best if “embed font” option is enabled in MS Word while saving the parent word document. With this, converting pdf file to word file becomes possible easily. For this, ‘word option’ button is to be clicked, and then save – embed fonts – embed only the characters used in the document (best for reducing file size), these buttons are to be pressed in this above sequence.

Then that formatted book was stored in Evernote so that it could work in the future. Then the Word document was converted to PDF from the online PDF Converter. But there were many mistakes in it, especially the text of many letters was faulty, which showed me on checking while reading the book. Eventually I used Google Drive’s PDF Converter. In it all the Hindi letters and symbols are completely pure. For this, we have to upload the document to Google Drive. Then press the ‘Open with the PDF Converter’ button. If it does not come in the list, then you should search the PDF converter by clicking the “Connect New / More App”, and add it to the list. Similarly, if we click on Google Translate in the list of ‘Open With’, we can translate the document in any language. Although the translation is faulty, it has to be corrected by hand afterwards. Yet it also saves a lot of time and brains. The condition is that approximately more than 80 pages of the word cannot be translated at a time. Therefore, the book has to be translated into pieces. Clicking ‘Open with PDF Converter’ comes a window, then has to browse it again and upload that stored book document in a drive of a computer. Only then clickable button named “convert” comes. Then open that PDF document. On top of it there will be a down arrow on the right. Clicking that will download it in the ‘download’ folder of the computer. That document will have the same settings / formatting, which was placed in its raw word document.

Now go to Pothi.com. After logging in, go to the ‘print on demand button’ anywhere and follow the instructions given in it, and publish the book. In 1-2 days that will be ready to be bought. Than uploading the cover by the newer self publisher, it is better to get help from an inbuilt cover designer. Upload a nice cover photo for that. The cover photo will become a back cover at the last page of the book. Enter the name of the book’s title, subtitle, author etc. on the front cover. Together, write the name of the title and author on the book’s rib (the central and rear side band of the book).

You can print copies of the book as much as you want, even the only book too with print on demand service. But this type book is more expensive than mass / traditional printing. Yet it has many benefits. This is not a waste of paper, as the book is printed only when it is needed immediately to read, and there is no need to print the book in Advance. It also highly reduces the total cost of investment, and also the publisher does not have the arbitrariness.

If you have found some benefit from this post, please download here the above mentioned e-book (in Hindi language, 5 star rated, reviewed as the best, excellent and must read by everyone) made with steps as told above. If only print version suits you, then too print version should only be got after testing that’s e- version on the electronic devices / phone etc., that is available on this link for this book. You can also find the complete information about this book, both in English as well as Hindi languages on the hosting website of this post. Thank you.

If you liked this post then please follow this blog providing your e-mail address, so that all new posts of this blog could reach to you immediately via your e-mail.

Know in full detail about e-readers and e-books here.

 

टाईपिंग आर्ट / टंकण कला- एक अद्भुत शौक; Typing art- a wonderful hobby

टाईपिंग आर्ट / टंकण कला- एक अद्भुत शौक (PLEASE BROWSE DOWN OR CLICK HERE TO VIEW POST IN ENGLISH)

लोग सोचते हैं कि टाईपिंग सीखने के लिए किसी विशेष प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है। व्यावसायिक टाईपिंग / professional typing के लिए यह बात कुछ हद तक सही हो सकती है, पर व्यक्तिगत टाईपिंग के लिए अपनी उपयुक्तता के अनुसार, जैसे मर्जी टाईप / type किया जा सकता है। कई लोग मात्र दो उँगलियों से (एक-२ अंगुली दोनों हाथों की) भी बहुत तेज टाईप कर लेते हैं। ऐसे लोगों में बहुत से तो व्यावसायिक टंकण-कर्ता / professional typists भी होते हैं। अंगरेजी में टाईपिंग करते समय वाक्य के पहले अक्षर को कैपिटल में लिखने की आवश्यकता नहीं होती, क्योंकि बाद में टैक्स्ट को सेलेक्ट करके यह काम एकसाथ किया जा सकता है। उसके लिए एम एस वर्ड के टॉप मीनू बार में एक चेंज केस का बटन (Aa) होता है। उसके ऑप्शन सेंटेंस केस को क्लिक करके डोकुमेंट के सेलेक्टड टेक्स्ट के सभी वाक्यों का प्रथम अक्षर खुद ही केपिटल हो जाता है। टाईप करते हुए, पैराग्राफ / paragraph की पहली लाइन को इंडेंट-स्पेस / indent-space देने के लिए कीबोर्ड / keyboard की टैब की / tab key नहीं दबानी चाहिए, क्योंकि टेब की से बनी हुई स्पेस को ईबुक में स्वीकार नहीं किया जाता। एंटर बटन / enter key केवल नए पैराग्राफ को शुरू करने के लिए ही दबाना चाहिए, अन्यथा नहीं। कईयों को टाईप करते हुए हरेक लाइन के अंत में एंटर की दबाने की गलत आदत होती है। उससे एम एस वर्ड / ms word हरेक लाइन को एक नए पैराग्राफ की तरह लेता है, जिससे पैराग्राफ से सम्बंधित बहुत सी सेटिंग्स / settings गड़बड़ा जाती हैं। पैराग्राफ की पहली लाइन के इंडेंट (पेज के लिखित भाग के बाएँ किनारे से उस विशेष लाईन के प्रारम्भ की दूरी) को पैराग्राफ की सेटिंग से निर्धारित करना चाहिए। उसके लिए इंडेंटेशन / indentation ऑप्शन में जा कर स्पेशल / special के अंतर्गत फर्स्ट  लाइन / first line को सेलेक्ट करना चाहिए, और उसकी इंडेंट स्पेसिंग को 0.5 सेंटीमीटर पर एडजस्ट / adjust कर देना चाहिए। इससे प्रत्येक पैराग्राफ की पहली लाइन 0.5 सेंटीमीटर अन्दर से ही शुरू होगी। वास्तविक पुस्तक के शुरू होने से पहले के पुस्तक-परिचय आदि के भाग में फर्स्ट लाइन इंडेंट अच्छा नहीं लगता, इसलिए उस भाग को सेलेक्ट / select करके फर्स्ट लाइन इंडेंट को शून्य कर देना चाहिए। वहां पर एक पैराग्राफ को दूसरे पैराग्राफ से विभक्त करने के लिए, पैराग्राफज / paragraphs के बीच में अतिरिक्त स्पेस / additional space (लाईनों के बीच में स्पेस से ज्यादा) दे देना चाहिए। इसके लिए पैराग्राफ सेटिंग के इंडेंटस एंड स्पेसिंग / indents and spacing बटन के ऑप्शन स्पेसिंग / spacing के अंतर्गत बिफोर या आफ्टर / before or after को सेलेक्ट करके उसमें यथावश्यक इंडेंट स्पेसिंग भर दी जाती है। कई बार ऐसा करते हुए, पूरे डोकुमेंट / document की पैराग्राफ सेटिंग भी वैसी ही हो जाती है। उसको दूर करने के लिए बार-२ अनडू / undo बटन को दबाते हुए उस नई सेटिंग को सेलेक्ट किए गए, पुस्तक के प्रारम्भिक भाग तक ही सीमित कर देना चाहिए। एमएस वर्ड का फाईन्ड एंड रिप्लेस / find and replace फंक्शन / function भी बहुत लाजवाब होता है। पूरे बुक-डोक्युमेंट / book-document में बारम्बार हुई किसी भी शब्द / लेख की गलती एक बार में ही वहां से दूर हो जाती है। यहाँ तक कि कॉमा, पूर्णविराम-डंडे के पहले या बाद के स्पेस को भी वहां से ठीक किया जा सकता है। पैराग्राफ के अतिरिक्त ब्रेक को भी इससे एकसाथ ठीक किया जा सकता है। एंटर दबाने से एक पैराग्राफ ब्रेक बनता है। इसको हटाने के लिए फाइंड में ^p^p टाईप करें, व रिप्लेस में ^p टाईप करें। गूगल हिंदी इनपुट / google hindi input में हिंदी के पूर्णविराम-डंडे का चिन्ह नहीं होता, इसलिए अंग्रेजी के डॉट से काम चलाना पड़ता है। हम फाईन्ड एंड रिप्लेस फंक्शन में फाईन्ड / find के स्थान पर डॉट / dot व रिप्लेस / replace के स्थान पर पूर्णविराम-डंडे / full stop bar  को टाईप करके ‘रिप्लेस आल’ / replace all के बटन को क्लिक करते हैं, तो पूरी पुस्तक-फाईल की हजारों रिप्लेसमेंटे / replacements पलक झपकते ही हो जाती हैं। एमएस वर्ड में अंग्रेजी भाषा के लिए तो इनबिल्ट / inbuilt ‘स्पेलिंग एंड ग्रामर’ / spelling and grammer बना होता है, जिसकी मदद से करेक्शन / correction की जा सकती है, पर हिंदी के लिए ऐसा सोफ्टवेयर / software अभी बना नहीं है। हिंदी टाईपिंग के लिए सबसे अच्छा तरीका है कि बिना मोनिटर स्क्रीन / monitor screen को देखे ही, कीबोर्ड को देखते हुए टाईप करते रहें। कुछ पैराग्राफ टाईप हो जाने पर, उन्हें पढ़ते हुए एकसाथ करेक्शन / correction कर लो। इससे टाईपिंग की स्पीड / speed भी बढ़ जाती है। Ctrl और A कुंजी दोनों को एक साथ दबाकर पूरा दस्तावेज़ चुना जाता है। पाठ / लेख / टेक्स्ट की प्रतिलिपि बनाने के लिए Ctrl और C कुंजी दबाए जाते हैं, और कॉपी किए गए टेक्स्ट को चिपकाने के लिए V कुंजी के साथ Ctrl कुंजी को दबाया जाता है। टाइप किए गए पदार्थ को हटाने के लिए ‘पूर्ववत करें / अनडू / undo’ बटन दबाएं। लेख को बेहतर या बड़े आकार में देखने के लिए शीर्ष मेनू पट्टी से फ़ॉन्ट आकार को न बदलें, क्योंकि ऐसा करने से हर बार फ़ाइल सेटिंग बदलती रहेगी, जो कुछ झंझट पैदा करेगी। बेस बार से ज़ूम करके केवल सिंगल बैठक के लिए ही फ़ॉन्ट आकार बढ़ेगा, फॉण्ट सेटिंग में बदलाव नहीं होगा। हर बार जब आप उस फ़ाइल का उपयोग करते हैं, तो भ्रम से बचने के लिए मामले के अनुसार ईबुक या प्रिंट बुक को सेटिंग्स / settings / फोर्मेटिंग / formatting के साथ बैकअप में स्टोर करके रखें, ताकि आपको बार-२ सेटिंग्स को एप्लाई न करना पड़े। कई बार तो पुरानी सेटिंग्स याद भी नहीं रहती, जिन्हें ढूँढने में काफी समय लग जाता है। किसी दूसरे से टाईपिंग कराने की बजाय खुद टाईप करना अच्छा रहता है। औरों को हस्तलेख पढ़ने में कठिनाई हो सकती है, और वे लेख को परिष्कृत भी नहीं कर सकते। खुद टाईपिंग करते हुए, पुस्तक की कमियां भी ध्यान में आती रहती हैं, पुस्तक को विस्तार मिलता रहता है, नए-2 विचार उमड़ते हैं, और पुस्तक पर अच्छी पकड़ बनती है। टाईपिंग भी एक होबी / hobby की तरह ही है। उसे करते हुए मजा आता है, तनाव हल्का हो जाता है, और मन भी शांत हो जाता है। इसी तरह का लाभ दूसरों से अपनी बुक को पब्लिश / publish करवाने की बजाय सेल्फ-पब्लिशिंग / self publishing के माध्यम से खुद पब्लिश करने से मिलता है।

यदि आपको इस पोस्ट से कुछ लाभ प्रतीत हुआ, तो कृपया इसके अनुसार तैयार की गई उपरोक्त अनुपम ई-पुस्तक (हिंदी भाषा में, 5 स्टार प्राप्त, सर्वश्रेष्ठ व सर्वपठनीय उत्कृष्ट / अत्युत्तम / अनौखीरूप में समीक्षित / रिव्यूड ) को यहाँ क्लिक करके डाऊनलोड करें। यदि मुद्रित पुस्तक ही आपके अनुकूल है, तो भी, क्योंकि इलेक्ट्रोनिक डीवाईसिस / फोन आदि पर पुस्तक का निरीक्षण करने के उपरांत ही उसका मुद्रित-रूप / print version मंगवाना चाहिए, जो इस पुस्तक के लिए इस लिंक पर उपलब्ध है। इस पुस्तक की संक्षिप्त रूप में सम्पूर्ण जानकारी आपको इसी पोस्ट की होस्टिंग वेबसाईट / hosting website पर ही मिल जाएगी। धन्यवाद।

यदि आपने इस लेख/पोस्ट को पसंद किया तो कृपया इस वार्तालाप/ब्लॉग को अनुसृत/फॉलो करें, व साथ में अपना विद्युतसंवाद पता/ई-मेल एड्रेस भी दर्ज करें, ताकि इस ब्लॉग के सभी नए लेख एकदम से सीधे आपतक पहुंच सकें। धन्यवादम।

ई-रीडर व ई-बुक्स के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहां क्लिक करें।

Typing art- a wonderful hobby

 

People think that special training is needed to learn typing. For professional typing, this may be true to some extent, but for personal typing, according to one’s suitability, one can type with any style. Many people just type just with two fingers (one of each hand) faster than others. Many of these are even professional typists. While typing in English, the first letter of the sentence does not need to be written in the capital, as later it can be done together by selecting the text. For that, there is a change case button (Aa) in MS Word’s top menu bar. By clicking on its Option “Sentence Case”, the first letter of all the sentences of the selected text of the document gets itself capitalized. While typing, to give the indent-space to the first line of paragraph, do not press the tab key on the keyboard, because space made by this key is not accepted in ebook. Enter key should only be pressed to start new paragraphs, otherwise not. Adopted by several people, it is the wrong habit of pressing Enter at the end of each line. From this, MS Word takes each line as a new paragraph, so that many settings related to the paragraph are messed up. Indent of the first line of the paragraph (the distance of the beginning of that special first line from the left edge of the written part of the page) should be determined by the paragraph setting. For this, going to the indentation option, the ‘first line’ should be selected under ‘special’, and its indented spacing should be adjusted at 0.5 centimeters. From this, the first line of each paragraph will start from 0.5 centimeters inside. The first line indent does not look good in the part of book-introduction etc. before the start of the actual book, so that the first line indent should be zero by selecting that part. Therefore to divide one paragraph from the second paragraph of that initial part, there should be an extra space (more than the space between the adjacent lines) between adjacent paragraphs. For this, ‘indents and spacing’ of the paragraph setting is selected and then the option ‘spacing’ under that and ‘before’ or ‘after’ under that, and then the indent spacing is filled in as required. In many cases, while doing this the paragraph setting of the entire document becomes the same. To remove it, pressing the ‘undo’ icon again and again as per manipulative need limit that new setting to the initial part of the book as was selected. ‘Find and replace’ function  of MS Word is also very great. The mistake of any word / article recurrent in the entire book-document goes away at a time. Even the extra or less space before or after comma, full stop etc. can also be cured from there.  Extra paragraph made with pressing extra enter key can also be corrected with this. Type ^p^p  in the find section and ^p in replace section. Google Hindi input does not have a full-stop punctuation of Hindi, hence the dot in English has to be run. In the Find and Replace Function, we click the ‘Replace All’ button by typing the full stop bar of Hindi in place of the replace and dot in place of find button, so thousands of replacements of the file are in the blink of an eye. In MS Word, there is inbuilt ‘spelling and grammar’ for the English language, which can make corrections. This software for Hindi is not created anymore. The best way to type in Hindi is by not watching the monitor screen, just keep typing while watching the keyboard. After some paragraphs are typed, make a correction with them while reading them altogether. This also increases the speed of typing.  Whole document is selected by pressing Ctrl and A keys both together. Ctrl and C keys are pressed together for copying the text, and Ctrl key with V key is pressed for pasting the copied text. To remove typed matter press ‘undo’ button. Don’t change font size from top menu bar for better viewing and typing for that will change file setting every time, but zoom from base bar for that will increase font size for single sitting only. Keep documents in backup along with settings / formatting for eBook or print book as per the case to avoid confusion every time you use that file. It’s a good idea to type yourself instead of making typing by someone else. Others may have difficulty reading handwriting, and they cannot refine the article. While typing yourself, the drawbacks of the book also come in mind, the book gets expanded, the new ideas get energized, and the book gets a good grip. Typing is also like a hobby. It is fun to do it, the tension gets relaxed, and the mind also becomes calm. Instead of publishing the book with others, these above psychic benefit are received in a pronounced form from publishing the book by one / writer through his own / self-publishing.

In the next post we will share the self experienced matters during a website development.

If you have found some benefit from this post, please download here the above mentioned e-book (in Hindi language, 5 star rated, reviewed as the best, excellent and must read by everyone) made with steps as told above. If only print version suits you, then too print version should only be got after testing that’s e- version on the electronic devices / phone etc., that is available on this link for this book. You can also find the complete information about this book, both in English as well as Hindi languages on the hosting website of this post. Thank you.

If you liked this post then please follow this blog providing your e-mail address, so that all new posts of this blog could reach to you immediately via your e-mail.

Know in full detail about e-readers and e-books here.

मेरे द्वारा संकलित व पूर्ववर्णित ई-पुस्तक का प्रचाराभियान- Promotion of a compiled and predefined ebook by me

मेरे द्वारा संकलित व पूर्ववर्णित ई-पुस्तक का प्रचाराभियान (please browse down or click here to view post in English)-

मैंने उस ई-पुस्तक को पूर्णरूप से निर्मित होने से पहले ही केडीपी किन्डल पर डाल दिया था। नई तैयार लिखित सामग्री को मैं प्रतिदिन उस पर अपडेट कर लिया करता था। मैंने उस पुस्तक को किन्डल अनलिमिटिड में ज्वाइन कराया हुआ था, जिसके अनुसार किन्डल अनलिमिटिड के उपभोक्ता उस पुस्तक को मुफ्त में डाऊनलोड कर सकते थे। इस तरह से, पूर्ण निर्माण होने तक मेरी पुस्तक का कुछ प्रचार स्वयं ही हो गया था। वैसे मेरी किस्मत अच्छी रही जो किसी ने अधूरी पुस्तक की समीक्षा / रिव्यू नहीं डाली, क्योंकि उससे पुस्तक की कमियाँ पाठकों के समक्ष उजागर हो सकती थीं। मेरी पुस्तक को सर्वोत्तम समीक्षा तब मिली, जब वह पूर्ण रूप में पाठकों के समक्ष प्रस्तुत हुई। लैंडिंग पेज / landing page भी मैंने बहुत पहले ही बना दिया था। लैंडिंग पेज एक वेबसाईट / website का वेबपेज / webpage, मुख्यतया होमपेज / homepage होता है, जिसमें पुस्तक के बारे में सम्पूर्ण जानकारी लिखी होती है, तथा उस पुस्तक के ऑनलाइन बुक-स्टोर / online book store का भी लिंक / link दिया होता है। इच्छुक पाठक उस लिंक पर क्लिक करके बुक स्टोर में पहुँचते हैं, और वहां से उस पुस्तक को खरीद लेते हैं। लैंडिंग पेज एक प्रकार से पुस्तक की दुकान ही होती है, और बुक स्टोर का बुक-डिटेल पेज / book detail page एक प्रकार का कैश-काऊंटर होता है। जब भी कभी पुस्तक के लिए एड-केम्पेन (प्रचाराभियान) / ad campaign चलाई जाती थी, तब उसमें लैंडिंग पेज का ही लिंक दिया गया होता था, सीधा बुक-स्टोर का नहीं। वह इसलिए क्योंकि बुक-स्टोर में पुस्तक के बारे में बहुत कम प्रारम्भिक जानकारी होती है, और वह पाठक को पुस्तक खरीदने के लिए अधिक प्रोत्साहित नहीं करता। लैंडिंग पेज में एक प्रकार से सम्पूर्ण पुस्तक ही संक्षिप्त रूप में विद्यमान होती है। मैंने तो सम्पूर्ण वेबसाईट ही पुस्तक के निमित्त कर दी थी। इससे उन पाठकों को भी लाभ मिलता था, जो किसी कारणवश विस्तृत पुस्तक को खरीद नहीं सकते थे, या पढ़ नहीं सकते थे। मैंने गूगल की एड-केम्पेन लगा कर देखी, पर उससे मुझे कोई विशेष लाभ प्रतीत नहीं हुआ। मैं क्वोरा पर प्रश्नों के उत्तर लिखा करता था। उत्तर के अंत में मैं अपनी वेबसाईट का लिंक भी लगा दिया करता था। उससे मेरी वेबसाईट पर ट्रेफिक / traffic तो काफी बढ़ गई थी, पर पुस्तक की खरीद नहीं हो पा रही थी। फेसबुक पर अपनी वेबसाईट के बारे में पोस्ट डाल कर भी बहुत कम ट्रेफिक आ रही थी। मैंने अपने सभी सोशल मीडिया अकाऊंट / social media account पर अपने वेबसाईट का लिंक लगा रखा था। पुस्तक के किन्डल अनलिमिटिड / kindle unlimited में होने की वजह से मुझे 3 महीने में 5 दिनों के लिए मुफ्त पुस्तक के रूप में उस पुस्तक के प्रचार का अवसर मिला हुआ था। उससे लगभग 40 के करीब निःशुल्क पुस्तकें पाठकों के द्वारा डाऊनलोड कर ली जाती थीं। उसके बाद 4-5 सशुल्क पुस्तकें भी बिक जाती थीं। रीडरशिप के अनुसार किण्डल अनलिमिटेड का फंड वितरित होता रहता है। मैंने एक बार किन्डल अनलिमिटिड को बंद कराकर पोथी डॉट कोम / pothi.com पर भी पुस्तक को डाला। निःशुल्क रूप में तो वहां से 2 महीने के अन्दर 15 पुस्तकें उठ गईं, पर सशुल्क रूप में एक भी नहीं। इसी के साथ ही मैंने स्मैशवर्ड / smashword, डी2डी / D2D आदि अन्य ई-बुक साईटों पर भी उस पुस्तक को डाला हुआ था। उनमें से तो एक भी पुस्तक डाऊनलोड / download नहीं हुई। अतः मैंने इन सभी साईटों से पुस्तक को हटा लिया, और उसे किन्डल अनलिमिटिड में पुनः ज्वाइन / join करा दिया। किन्डल अनलिमिटिड में रहते हुए किसी दूसरे प्लेटफोर्म / platform पर पुस्तक को पब्लिश / publish नहीं कर सकते हैं। वास्तव में किन्डल ही ई-पुस्तकों का नेता है, विशेषकर भारत में। भारत में लगभग 70% से अधिक ई-पुस्तकें अमेजन / amazon के किन्डल-स्टोर के माध्यम से ही खरीदी जाती हैं। वैसे भारत में कुल पुस्तकों का केवल लगभग 10% हिस्सा ही ई-पुस्तकों के रूप में पढ़ा जाता है। फेसबुक की एड-केम्पेन से मुझे सर्वाधिक बिक्री मिली। उसमें ग्राहकों को सुविधानुसार लक्षित किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, मैं अपने ग्राहकों को योग, ई-बुक लवर, किन्डल ई-रीडर आदि शब्दों तक ही सीमित कर देता था। उसमें स्थान को भी लक्षित किया जा सकता है। मैं अपनी पुस्तक को हिंदीभाषी प्रदेशों व क्षेत्रों तक ही सीमित कर देता था। इसी तरह, मैं 25-45 वर्ष के आयु-वर्ग के लोगों को ही लक्षित करता था। पुरुष व स्त्री दोनों को लक्षित करता था। उसमें एक रुपए से लेकर जितने मर्जी रुपए को खर्च करने का निर्देश दिया जा सकता है। डेबिट कार्ड / क्रेडिट कार्ड का डिटेल मैंने उसमें डाल दिया था। फेसबुक / facebook खुद उससे समयानुसार पैसे निकाल लेता था। उसकी ख़ास बात है की उस एड को किसी के द्वारा देखने पर पैसे नहीं कटते, अपितु तभी कटते हैं, जब कोई उस एड के लिंक पर क्लिक करके लैंडिंग पेज पर पहुँचता है। एक क्लिक लगभग डेढ़ रुपए से लेकर पांच रुपए तक की होती है, डिवाईस / device के अनुसार व अन्य अनेक परिस्थितियों के अनुसार। मोबाईल न्यूजफीड / mobile newsfeed पर संभवतः सबसे महँगी होती है। इसको भी हम सेट / set कर सकते हैं कि किस-2 एप / app (फेसबुक, मेसेंजर या इन्स्टाग्राम) पर कितनी-2 एड दिखानी है। अन्यथा फेसबुक स्वयं ही सर्वोत्तम अनुपात बना कर रखता है। बाद में तो मैंने फेसबुक पेज (बिजनेस परपस / business purpose) भी मुफ्त में बना लिया। उस पर एड डालना और भी आसान हो गया। मैंने अपने वेबसाईट-ब्लॉग / website-blog को अपने फेसबुक पेज के साथ कनेक्ट / connect कर दिया था। उससे जब भी मैं कोई ब्लॉग-पोस्ट अपनी वेबसाईट पर डालता था, तब वह स्वयं ही उसी समय मेरे फेसबुक-पेज पर भी शेयर / share हो जाती थी। फेसबुक पेज पर एक ऑप्शन / option उस पोस्ट को बूस्ट करने के लिए आता था। एक बार मैंने कौतूहलवश उस बूस्ट-बटन / boost button को दबा दिया। कुछ घंटों बाद मुझे अपनी वेबसाईट पर एकदम से बढ़ी हुई ट्रेफिक मिली। उस सम्बंधित पोस्ट को 45 शेयर मिले हुए थे। वह ट्रेफिक फेसबुक से आ रही थी। जब मैंने फेसबुक खोलकर एड-स्टेटस का पता किया, तो वह उस पोस्ट के लिए एक्टिवेटड / activated थी। लगभग 400 रुपए खर्च हो चुके थे। उस पोस्ट को 32 लाईक्स मिल चुके थे, और उसे 15000 लोगों ने (हरियाणा के, अपने आप सेट) देख लिया था। साथ में मेरी 3-4 पुस्तकें भी बिक चुकी थीं। वह तो बड़े घाटे का सौदा लगा, क्योंकि उन पुस्तकों से 70-80 रुपए की ही कमाई हो पाई थी। मैंने तुरंत उस पोस्ट- बूस्ट की एड को बंद करवा दिया। फिर मुझे इंटरनेट से अतिरिक्त जानकारी मिली की एड-केम्पेन पोस्ट-बूस्ट से कहीं अधिक बेहतर व कम खर्चीली होती है। यह भी पता चला कि पुस्तक प्रचार से अधिकांशतः उतनी कमाई नहीं होती है, जितना उस पर खर्चा आता है।

अगली पोस्ट में हम वेबसाईट निर्माण से सम्बंधित स्वानुभूत जानकारी को साझा करेंगे।

यदि आपको इस पोस्ट से कुछ लाभ प्रतीत हुआ, तो कृपया इसके अनुसार तैयार की गई उपरोक्त अनुपम ई-पुस्तक (हिंदी भाषा में, 5 स्टार प्राप्त, सर्वश्रेष्ठ व सर्वपठनीय उत्कृष्ट / अत्युत्तम / अनौखीरूप में समीक्षित / रिव्यूड ) को यहाँ क्लिक करके डाऊनलोड करें। यदि मुद्रित पुस्तक ही आपके अनुकूल है, तो भी, क्योंकि इलेक्ट्रोनिक डीवाईसिस / फोन आदि पर पुस्तक का निरीक्षण करने के उपरांत ही उसका मुद्रित-रूप / print version मंगवाना चाहिए, जो इस पुस्तक के लिए इस लिंक पर उपलब्ध है। इस पुस्तक की संक्षिप्त रूप में सम्पूर्ण जानकारी आपको इसी पोस्ट की होस्टिंग वेबसाईट / hosting website पर ही मिल जाएगी। धन्यवाद।

यदि आपने इस लेख/पोस्ट को पसंद किया तो कृपया इस वार्तालाप/ब्लॉग को अनुसृत/फॉलो करें, व साथ में अपना विद्युतसंवाद पता/ई-मेल एड्रेस भी दर्ज करें, ताकि इस ब्लॉग के सभी नए लेख एकदम से सीधे आपतक पहुंच सकें। धन्यवादम।

ई-रीडर व ई-बुक्स के बारे में विस्तार से जानने के लिए यहां क्लिक करें।

Promotion of a compiled and predefined ebook by me-

I had put that e-book on the KDP platform of Amazon kindle even before it was fully formed. I used to update the new written material on it every day. I had joined that book in Kindle Unlimited, according to which consumers of Kindle Unlimited could download that book for free. In this way, till the complete construction,  my book had got enough exposure. Before my book has been complete, luckily I did not get any review of that incomplete book, because the book’s shortcomings could be exposed to the readers. My book got the best review when it was presented to the readers in full form. I had made the landing page too long ago. The landing page is a website’s webpage, mainly homepage, in which the complete information about the book is written, and also links to the online Book Store of that book are provided there. Interested readers reach the book store by clicking on the link, and buy that book from there. Landing pages are a book shop, and Book Store’s Book-Detail page is a type of cash-counter. Whenever the ad-campaign was run for the book, it was given a link to the landing page tthere, not a direct one to book-store. That’s because book-store has very little initial information about the book, and it does not encourage readers to buy the book more. In a way, the entire book in a landing page is in short form. I had made the entire website just for the sake of the book. It also benefited those readers, who could not buy or read a detailed book for some reason. I looked at Google’s ad-campaign, but it did not seem to be a special advantage to me. I used to write answers to queries on quora. At the end of the reply, I used to link my website too. From that the traffic on my website had increased a lot, but the book was not able to be bought. Posting about my website on Facebook was also very low to attract traffic. I had put a link to my website on all my social media accounts. Because of the book’s kindle unlimited, I had the opportunity to publicize that book in the form of a free book for 5 days in 3 months. Nearly 40 free books were downloaded by the readers. After that 4-5 paid books were also sold. Kindle unlimited fund is distributed according to the readership. I once put the book on Pothi.com by closing the Kindle Unlimited. In the free form, 15 books got up within two months from there, but none in the paid form. At the same time, I had inserted that book on other e-book sites like Smashword, D2D etc. None of books were downloaded from those. So I removed the book from all these sites, and rejoined it in Kindle Unlimited. Self publisher can not publish the book on another platform while being in kindle unlimited. In fact, Kindle is the leader of e-books, especially in India. More than about 70% of e-books in India are purchased through the Amazon Kindle Store. In India, only about 10% of the total books are read as e-books. I got the best sale from Facebook’s ad-campaign. Customers can be targeted according to convenience. For example, I used to limit my clients to the words like Yoga, eBook lover, Kindle e-Reader etc. Location can also be targeted in it. I used to restrict my book to Hindi-speaking states and regions. Similarly, I used to target people aged 25-45 years of age. I targeted both men and women. It can be instructed to spend rupees from one rupee to as much as you like. I had put the details of debit card / credit card in it. Facebook itself withdraw money from time to time. His special thing is that he does not deduct money from anyone watching the ad, but only when he gets to the landing page by clicking the link of that ad. One click ranges from about 1.5 rupees to five rupees, according to the device and many more conditions. Mobile Newsfeed is probably the most expensive. We can also set this to show how much fraction of ad to show on which app (Facebook, Messenger or Instagram). Otherwise Facebook itself maintains the best ratio. Later on, I also created the Facebook Page (Business Purpose) for free. It was even easier to add an ad to it. I had connected my website-blog to my Facebook page. Whenever I used to post a blog-post on my website, it would have been shared on my Facebook page at the same time. An option on the Facebook page came to boost the post. Once upon a time I suppressed that boost-button. After a few hours, I found the tremendous traffic on my website. 45 related shares were received in that respective post. That traffic was coming from Facebook. When I opened Facebook and found the ad-status, it was activated for that post. About 400 rupees had been spent. That post had received 32 likes, and it was seen by 15,000 people (Haryana, the self set). Along with my 3-4 books were also sold. It was a big loss deal, because those books were able to earn only Rs. 70-80. I immediately stopped the post’s Boost. Then I got additional information from the Internet that the ad-campaign is far better and less expensive than Post-Boost. I also came to know that the book promotion is not as much as earning as much as it costs.

In the next post we will share the self experienced matters during a website development.

If you have found some benefit from this post, please download here the above mentioned e-book (in Hindi language, 5 star rated, reviewed as the best, excellent and must read by everyone) made with steps as told above. If only print version suits you, then too print version should only be got after testing that’s e- version on the electronic devices / phone etc., that is available on this link for this book. You can also find the complete information about this book, both in English as well as Hindi languages on the hosting website of this post. Thank you.

If you liked this post then please follow this blog providing your e-mail address, so that all new posts of this blog could reach to you immediately via your e-mail.

Know in full detail about e-readers and e-books here.